Tuesday, October 23, 2018

Blog

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

  • डॉ॰ वेद प्रताप वैदिक (जन्म: 30 दिसम्बर 1944, इंदौर, मध्य प्रदेश) भारतवर्ष के वरिष्ठ पत्रकार, राजनैतिक विश्लेषक, पटु वक्ता एवं हिन्दी प्रेमी हैं। हिन्दी को भारत और विश्व मंच पर स्थापित करने की दिशा में सदा प्रयत्नशील रहते हैं। भाषा के सवाल पर स्वामी दयानन्द सरस्वती, महात्मा गांधी और डॉ॰ राममनोहर लोहिया की परम्परा को आगे बढ़ाने वालों में डॉ॰ वैदिक का नाम अग्रणी है।
  • वैदिक जी अनेक भारतीय व विदेशी शोध-संस्थानों एवं विश्वविद्यालयों में ‘विजिटिंग प्रोफेसर’ रहे हैं। भारतीय विदेश नीति के चिन्तन और संचालन में उनकी भूमिका उल्लेखनीय है। अपने पूरे जीवन काल में उन्होंने लगभग 80 देशों की यात्रायें की हैं।
  • अंग्रेजी पत्रकारिता के मुकाबले हिन्दी में बेहतर पत्रकारिता का युग आरम्भ करने वालों में डॉ॰ वैदिक का नाम अग्रणी है। उन्होंने सन् 1958 से ही पत्रकारिता प्रारम्भ कर दी थी। नवभारत टाइम्स में पहले सह सम्पादक, बाद में विचार विभाग के सम्पादक भी रहे। उन्होंने हिन्दी समाचार एजेन्सी भाषा के संस्थापक सम्पादक के रूप में एक दशक तक प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया में काम किया। सम्प्रति भारतीय भाषा सम्मेलन के अध्यक्ष तथा नेटजाल डाट काम के सम्पादकीय निदेशक हैं।
आप ट्रंप हैं या शेख चिल्ली?

आप ट्रंप हैं या शेख चिल्ली?

मीडियावाला.इन। सउदी अरब के प्रसिद्ध पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की किरकिरी पहले से हो ही रही है, अब उन्होंने एक नया शोशा छोड़ दिया है। वे कह रहे हैं कि 1987 में...

हिंदी बहन है, मालकिन नहींः वैंकय्या

हिंदी बहन है, मालकिन नहींः वैंकय्या

उप-राष्ट्रपति वैंकय्या ने हिंदी के बारे में ऐसी बात कह दी है, जिसे कहने की हिम्मत महर्षि दयानंद, महात्मा गांधी और डाॅ. राममनोहर लोहिया में ही थी। वैंकय्याजी ने कहा कि '‘अंग्रेजी एक भयंकर बीमारी है, जिसे अंग्रेज...

अध्यादेश के पहले संघ पहल करे

अध्यादेश के पहले संघ पहल करे

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर यह आरोप लगाना आसान है कि 2019 में मोदी को टेका लगाने के लिए उसने अब राम मंदिर का शोशा फिर से छोड़ दिया है। संघ के मुखिया मोहन भागवत ने अपने दशहरे के...

यौन-उत्पीड़नः नेताओं की चुप्पी ?

यौन-उत्पीड़नः नेताओं की चुप्पी ?

यौन-शोषण के इतने अधिक आरोप उन पर लगे कि केंद्रीय मंत्री एम.जे. अकबर को आखिरकार इस्तीफा देना ही पड़ा। इस्तीफा देने में उन्होंने 10 दिन लगा दिए। इन दस दिनों में भाजपा सरकार और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की...

कहां नेहरु और कहां मोदी ?

कहां नेहरु और कहां मोदी ?

तीन मूर्ति के बंगले में जवाहरलाल नेहरु स्मारक संग्रहालय और पुस्तकालय है। इस संग्रहालय और पुस्तकालय को महत्वपूर्ण बनाने में मेरे साथी और अभिन्न मित्र स्व. डाॅ. हरिदेव शर्मा का विशेष योगदान है। वे डाॅ. लोहिया के अनन्य...

खाशोगी: ट्रंप की गीदड़भभकी

खाशोगी: ट्रंप की गीदड़भभकी

सउदी अरब के प्रसिद्ध पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या का मामला अब गजब का तूल पकड़ रहा है। हर साल दर्जनों पत्रकारों की हत्या के मामले सामने आते हैं लेकिन वे उन देशों के आतंरिक मामले होते हैं।...

भारत-मुकुट थे डाॅ. लोहिया

भारत-मुकुट थे डाॅ. लोहिया

12 अक्तूबर को डाॅ. राममनोहर लोहिया की 51 वीं पुण्य-तिथि थी। 1967 में जब दिल्ली के विलिंगडन अस्पताल में वे बीमार थे, मैं वहां रोजाना जाया करता था। उन्हें देखने के लिए जयप्रकाश नारायण, इंदिरा गांधी, जाकिर हुसैन,...

गंगाभक्त स्वामी सानंद का बलिदान

गंगाभक्त स्वामी सानंद का बलिदान

मीडियावाला.इन। गंगाभक्त स्वामी सानंद (प्रो. जी.डी. अग्रवाल) का कल अनशन करते हुए निधन हो गया। वे 111 दिन से अनशन पर थे। उनकी आयु 86 वर्ष थी। उनके निधन को क्या कहें? बलिदान, मृत्यु या हत्या ? उसे...

रेफल-सौदाः गले की चट्टान

रेफल-सौदाः गले की चट्टान

सर्वोच्च न्यायालय ने रेफल-सौदे पर उंगली उठा दी है। उसने सरकार से यह पूछा है कि वह उसे सिर्फ यह बताए कि इन रेफल विमानों की खरीद का फैसला कैसे किया गया है ? अदालत को इससे मतलब...

बलात्कारः भारत कैसे बचे ?

बलात्कारः भारत कैसे बचे ?

अमेरिका में चले मी टू (मैं भी) अभियान की तरह महिलाओं का अभियान अब भारत में भी चल पड़ा है। अब कई महिलाएं खुलकर बता रही हैं कि किस अभिनेता या किस संपादक या किस अफसर ने कब...

सबरीमालाः नेताओं का भौंदूपन 

सबरीमालाः नेताओं का भौंदूपन 

मीडियावाला.इन। नए सर्वोच्च न्यायाधीश रंजन गोगोई को मेरी बधाई कि उन्होंने सबरीमाला मंदिर के मामले में लगाई गई याचिकाओं को तत्काल सुनने से मना कर दिया है। ये याचिकाएं इसलिए लगाई गई थीं कि 18 अक्तूबर से केरल...

राम मंदिर का मसला मजहबी नहीं

राम मंदिर का मसला मजहबी नहीं

विश्व हिंदू परिषद ने राम मंदिर का मोर्चा दुबारा खोल दिया है। मुझे आश्चर्य है कि वह पिछले चार साल मौन-व्रत क्यों धारण किए रही ? मेरे लिए अयोध्या में राम मंदिर मजहबी मसला है ही नहीं। उसे...

भारत-रुसः दाल में काला नहीं

भारत-रुसः दाल में काला नहीं

रुसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ एस-400 प्रक्षेपास्त्र की खरीद का समझौता हुआ। ट्रायंफ नामक इस मिसाइल के पांच स्क्वेड्रन 40 हजार करोड़ रु. में आएंगे लेकिन आश्चर्य है कि 60 हजार करोड़ के रेफल विमानों की तरह...

तेल के दामः दाल पतली

तेल के दामः दाल पतली

सरकार ने पहले अनाज के दाम बढ़ाकर किसानों को राहत दी और अब पेट्रोल और डीजल के दाम घटाकर आम आदमी के गुस्से को ठंडा किया। ये दोनों काम तारीफ के लायक हैं। उचित समय पर किए गए...

गांधीमुक्त कांग्रेस की नौटंकी

गांधीमुक्त कांग्रेस की नौटंकी

गांधी जयंति पर वर्धा में कांग्रेस ने खूब नौटंकी रचाई। सोनिया-राहुल अपने नाम के पीछे गांधी उपनाम जरुर लगाते हैं लेकिन उनका महात्मा गांधी से क्या लेना-देना है ? इनका उपनाम गांधी है, फिरोज गांधी की वजह से...

इमरान और कुरैशी जरा सोचें

इमरान और कुरैशी जरा सोचें

भारत-पाक संबंध सुधरेंगे कैसे ? बातचीत और भेंट तो भंग हो गई और अब दौर चला है, तू-तू---मैं-मैं का। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को मैं जानता हूं। उन्होंने आतंकवाद को लेकर जिस तरह का भाषण...

गांधी का भारत कहां है

गांधी का भारत कहां है

मीडियावाला.इन। महात्मा गांधी के जन्म का डेढ़ सौवां साल अब शुरु होनेवाला है। उन्हें गए हुए भी सत्तर साल हो गए लेकिन मन में सवाल उठता है कि भला गांधी का भारत कहां है ? ऐसा नहीं है...

सर्जिकल या फर्जीकल स्ट्राइक ?

सर्जिकल या फर्जीकल स्ट्राइक ?

मीडियावाला.इन। सरकार कितनी नौटंकीप्रिय है ? दो साल पहले हुई तथाकथित सर्जिकल स्ट्राइक की वह दूसरी जयंति मना रही है ? कोई उससे यह पूछे कि उसकी पहली जयंति का क्या हुआ ? पिछले साल सितंबर में वह उसकी...

रेफल कहीं मोदी को न ले डूबे ?

रेफल कहीं मोदी को न ले डूबे ?

लड़ाकू विमान रेफल के सौदे ने अब बड़ा खतरनाक मोड़ ले लिया है। फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने इसी विमान से मोदी सरकार पर बम बरसा दिए हैं। वह विमान बनने के बाद भारत आएगा या नहीं,...