Sunday, May 19, 2019

Blog

ब्रजेश राजपूत

तकरीबन पच्चीस साल के पत्रकारिता करियर में अधिकतर वक्त टीवी चैनल की रिपोर्टिंग करते हुये गुजारा। सहारा टीवी से होते हुये स्टार न्यूज में जो अब एबीपी न्यूज के नाम से चल रहा है। इसी एबीपी न्यूज चैनल के लिये पंद्रह साल से भोपाल में विशेष संवाददाता। इस दौरान रोजमर्रा की खबरों के अलावा एमपी यूपी उत्तराखंड गुजरात और महाराष्ट्र में लोकसभा और विधानसभा चुनावों की रिपार्टिंग कर इन प्रदेशों के चुनावी रंग देखे और जाना कि चुनावी रिपोर्टिग नहीं आसान एक आग का दरिया सा है जिसमें डूब के जाना है। चुनावी रिपोर्टिंग में डूबते उतराने के दौरान मिले अनुभवों के आधार पर अखबारों में लिखे गये लेख, आंकडों और किस्सों के आधार पर किताब चुनाव राजनीति और रिपोर्टिंग मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव २०१३ लिखी है जिसमें देश के पहले आम चुनाव की रोचक जानकारियां भी है।

लेखक टीवी में प्रवेश के पहले दिल्ली और भोपाल के अखबारों में उप संपादक और रिपोर्टर रहे। जैसा कि होता है इस लंबे अंतराल में कुछ इनाम इकराम भी हिस्से आये जिनमें मुंबई प्रेस क्लब का रेड इंक अवार्ड, दिल्ली का मीडिया एक्सीलेंस अवार्ड, देहरादून का यूथ आइकान अवार्ड, मध्यप्रदेश राष्टभाषा प्रचार समिति भोपाल का पत्रकारिता सम्मान, माधवराव सप्रे संग्रहालय का झाबरमल्ल शर्मा अवार्ड और शिवना सम्मान।

पढाई लिखाई एमपी के नरसिंहपुर जिले के करेली कस्बे के सरकारी स्कूल से करने के बाद सागर की डॉ हरिसिंह गौर विश्वविदयालय से बीएससी, एम ए, पत्रकारिता स्नातक और स्नातकोत्तर करने के बाद भोपाल की माखनलाल चतुर्वेदी राष्टीय पत्रकारिता विश्वविघालय से पीएचडी भी कर रखी है।

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर : सन्यास और राजनीति का विस्फोटक मेल...

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर : सन्यास और राजनीति का विस्फोटक मेल...

मीडियावाला.इन।छोटा कद, पैर से कंधे तक भगवा रंग के वस्त्र और सर पर सरदारों की तरह की भगवा पगडी। चलती धीरे हैं मगर बोलती हैं तो आग सी लगाती है। उमर होगी कोई पैंतालीस पचास के आसपास। अपने आपको साध्वी...

सबसे बडा सवाल, अब कौन जीतेगा भोपाल ? 

सबसे बडा सवाल, अब कौन जीतेगा भोपाल ? 

मीडियावाला.इन। फोन चाहे हाल चाल जानने के लिये ही आया हो मगर आखिर का पुछल्ला यही होता था कि क्या हो रहा है भाई आपके भोपाल में, बता तो दो कौन जीतेगा भोपाल। हम पत्रकारों से भी लोग कुछ ज्यादा...

भैय्यू महाराज : सपनों सी जिंदगी का इस तरह टूटकर बिखरना....

भैय्यू महाराज : सपनों सी जिंदगी का इस तरह टूटकर बिखरना....

मीडियावाला.इन। सोचा तो था इस शनिवार को अपना जन्मदिन है तो बजाय छुट्टी लेने के दोपहर में कोई छोटी मोटी खबर कर शाम को दोस्तों के साथ केक शेक खाते पीते और रात को बुलबुल बेटू के मनपसंद रेस्तरां में...

अबकी बदली बदली सी सरकार नजर आती है..

अबकी बदली बदली सी सरकार नजर आती है..

दृश्य एक: मध्यप्रदेश की पंद्रहवीं विधानसभा का पहला सत्र। इंदिरा विधान भवन के बाहर जहां प्रवेश पत्र बनाये जाते हैं उस काउंटर पर उतावले लोगों की भीड। सभी को अंदर जाने की बेताबी। हर तरफ  चार पहिया वाहनों...

करेली की गलियों से गोयनका अवार्ड तक

करेली की गलियों से गोयनका अवार्ड तक

दिल्ली की हयात होटल का वाल रूम। लगातार आ रहीं मीडिया और राजनीति की हस्तियां। हाल के अंदर और बाहर लगे रामनाथ गोयनका एक्सीलेंस इन जर्नलिज्म अवार्ड के बडे पोस्टर और फ्लेक्स। छोटा सा मंच जहां गृह मंत्री...

बदलाव के मौसम की बयार है ये, आनंद लीजिये 

बदलाव के मौसम की बयार है ये, आनंद लीजिये 

दृश्य एक। नये नवेले केबिनेट मंत्री पीसी शर्मा आये हैं भोपाल में शिवाजी नगर के दुष्यंत कुमार स्मृति संग्रहालय के सालाना समारोह में। जब वो भाषण देने आते हैं तो कुछ सकुचाते हुये कहते हैं आप मंत्री कहते...

शिवराज सिंह की नयी फिल्म टाइगर अभी जिंदा है

शिवराज सिंह की नयी फिल्म टाइगर अभी जिंदा है

वो उनका उस घर में आखिरी दिन था जिस घर में वो पिछले तेरह सालों से रह रहे थे। बहुत भावुक हो रहे थे इस घर से उनकी ना जानें कितनी अच्छी यादें जुडी हुयीं थीं। और ये...

और मध्यप्रदेश में देखते वक्त बदल गया

और मध्यप्रदेश में देखते वक्त बदल गया

भोपाल के लिंक रोड पर कांग्रेस दफतर इंदिरा गांधी भवन के बाहर ऐसा नजारा पहले कभी नहीं देखा। रोड के दोनों रास्ते दूर से ही बंद और रास्तों पर दोनों तरफ गाडियों जिनमें ज्यादातर एसयूवी ही थीं की...

ग्यारह को ग्यारह बजे किसके बारह बजेंगें..

बहुत दिनों के बाद उनका फोन आया। नाम देख मैं चौंका। पहले गाहे बगाहे फोन करते थे, मगर पूरे चुनाव के दौरान मुझे भुलाये रखा और राजस्थान चुनाव की वोटिंग खत्म होने के अगले दिन दोपहर को फोन...

क्या ये तूफान के पहले की शांति है ...

आखिर जब रहा नहीं गया तो रजनी ने कह ही दिया तीन दिन हो गये हैं और हर वक्त फोन पर एक ही मुददे पर बातें एक जैसे सवाल उनके एक जैसे जबाव, हैरान हूं कि एक जैसा...

सरताज के ताज की शोभा बढाने पहुंचे सिंधिया ...

सरताज के ताज की शोभा बढाने पहुंचे सिंधिया ...

जब सुबह भोपाल से ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ हैलीकाप्टर में उडे थे तो जिस जगह पर जाकर कुछ जानने की बेसब्री थी वो जगह थी इटारसी जहां कांग्रेस प्रत्याशी सरताज सिंह के समर्थन में सभा थी। मगर इटारसी...

ये वोट मांगना नहीं आसान,,,डांट खाकर जाना है 

ये वोट मांगना नहीं आसान,,,डांट खाकर जाना है 

हमारे आस पास राजनीति उफान पर है इन दिनों। हर कोई राजनीति में डूब उतरा रहा है। क्या उम्मीदवार क्या उसका वोटर और क्या हम रिपोर्टर। हर कोई यही कह रहा है ये चुनाव नहीं आसान एक छूत...

राघोगढ से लेकर बुदनी तक बलि का बकरा कौन ? 

राघोगढ से लेकर बुदनी तक बलि का बकरा कौन ? 

दृश्य एक । सीएम शिवराज सिंह का हैलीकाप्टर जैत गांव के बाहर उतरा है। कार से सीएम अपने परिवार के साथ गांव आते हैं, गांव में घुसते ही बडे पेड के नीचे बने खेरापति हनुमान और दूसरे देवताओं...

टिकट के लिये कुछ भी करेगा यानिकी अजब गजब टिकटार्थी

हमारे एमपी में मतदान को अब एक सिर्फ एक महीना ही बचा है, आज से ठीक एक महीने बाद आप इस वक्त वोट डालने की तैयारी कर रहे होंगे। ये अलग बात है कि चुनाव का माहौल पूरे...

राहुल का राग राफेल और रेवांचल की धुक धुकी

राहुल का राग राफेल और रेवांचल की धुक धुकी

मीडियावाला.इन। यार अब पता चला कि जब मैंने अपने दिल्ली के दोसतों को राहुल का रोड शो कवर करने जाने का मैसेज भेजा था तो क्यों सभी ने हंस कर आल द बेस्ट कहा था। बडा मुश्किल...

सरदार सरोवर तेरी यही कहानी, आंसू ज्यादा कम भरा है पानी,,

सरदार सरोवर तेरी यही कहानी, आंसू ज्यादा कम भरा है पानी,,

पिछले साल के वो दिसंबर के दिन थे। जब हम गुजरात में विधानसभा चुनावों के दौरान गुजरात के गांव गलियों की खाक छान रहे थे। हमारे एमपी से लगे इलाके में पहले दौर का मतदान होना था। मुझको...

हे भगवान इनको माफ करना ये नहीं जानते मीडिया क्या है....

हे भगवान इनको माफ करना ये नहीं जानते मीडिया क्या है....

मीडियावाला.इन। वो हमारे शर्मा जी के मित्र वर्मा जी थे जिनसे थोडी देर पहले ही परिचय हुआ था। सेंट्रल सर्विस के रिटायर्ड अफसर थे जिनके बच्चे विदेश में हैं और यहां चाय पीने और गप्पें करने गाहे बगाहे...

अबकी जीतेगी बीजेपी, अबकी जीतेगी कांग्रेस.....

अबकी जीतेगी बीजेपी, अबकी जीतेगी कांग्रेस.....

मीडियावाला.इन। और ये शर्मा जी थे जिन्होंने मिलते ही वो सवाल दाग दिया जिसका जबाव हमें इन दिनों बार बार देना पडता है। तो भाई क्या खबर है कौन जीतेगा इस बार। और इसके लिये हमने भी जबाव तैयार...

कमल शक्ति, महिला शक्ति, वोट शक्ति

कमल शक्ति, महिला शक्ति, वोट शक्ति

भोपाल के सीएम हाउस के अंदर गेट के पास ही हमेशा लगा रहने वाला पंडाल उस दिन खास तौर पर महिलाओं के लिये ही सजा था। पांच संभागों से आयीं सैकडों महिलायें मंच के सामने कुर्सियों पर डटकर...

शिवपुरी का हादसा और शिवराज की सहृदयता

शिवपुरी का हादसा और शिवराज की सहृदयता

मीडियावाला.इन। पंद्रह अगस्त पर जब टीवी पर लगातार देशभक्ति के रिकार्डेड कार्यक्रम दोपहर से जारी थे ऐसे में बेफिक्री ओढ कर शाम को बुलबुल को घुमाने की सोची। घर के पास शौर्य स्मारक के लान पर दौड लगाना...