Wednesday, December 12, 2018

Blog

कौशल किशोर चतुर्वेदी

श्री कौशल किशोर चतुर्वेदी भोपाल में जाने-माने पत्रकार हैं। वे वर्तमान में न्यूज़ 360 चैनल के एडिटर हैं।

सच हुए सपने तेरे, झूम ले मन मेरे 

सच हुए सपने तेरे, झूम ले मन मेरे 

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 28 नवंबर के बाद के नौ दिन यानि 7 दिसंबर तक ज्यादा सुकून के थे या फिर 7 दिसंबर की शाम साढ़े पांच बजे के बाद का समय। यदि भारतीय जनता पार्टी और भारतीय राष्ट्रीय...

मामा से लगाव का, या वक्त है बदलाव का !

मामा से लगाव का, या वक्त है बदलाव का !

2018 के विधानसभा चुनाव ने सट्टाबाजार को भी दुविधा में डाल दिया है। सट्टाबाजार ने पहले कांग्रेस की सरकार बना दी, तो फिर भूलसुधार कर भाजपा को बढ़त दिला दी। ऐसा लगा कि मानो चुनाव में कंफ्यूजन के...

मैं संघ और भाजपा के आँखों की किरकिरी : दिग्विजय

मैं संघ और भाजपा के आँखों की किरकिरी : दिग्विजय

मध्यप्रदेश में बदलाव होकर रहेगा। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का दावा है कि कांग्रेस को पूर्ण बहुमत मिलने जा रहा है। उनका मानना है कि मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान अकेले पड़ चुके हैं...

जीते तो संघ, हारे तो शिवराज...खुशियों से भरे हैं कांग्रेस के हाथ

जीते तो संघ, हारे तो शिवराज...खुशियों से भरे हैं कांग्रेस के हाथ

लगातार राज करने का खामियाजा क्या होता है, इस बात का जवाब अगर कोई दे सकता है तो वह हैं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान। मतदान को महज थोड़ा समय ही बचा है। अब विकास पीछे छूट...

हम धरती पर चांद ला देंगे, मध्यप्रदेश को स्वर्ग बना देंगे ....

हम धरती पर चांद ला देंगे, मध्यप्रदेश को स्वर्ग बना देंगे ....

त्रेतायुग में रामराज्य था और कलियुग में मध्यप्रदेश की धरती पर शिव का राज्य पिछले पंद्रह साल से जारी है। अब चौथी पारी की तैयारी है। पहले तीन पारियों में 2003 में छोड़े गए बदहाल मध्यप्रदेश की डेंटिंग,...

सपनों का ‘नया सवेरा’ आएगा...!

सपनों का ‘नया सवेरा’ आएगा...!

मध्यप्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता के लिए लोकतांत्रिक प्रक्रिया के तहत हर पांच साल में मतदान कर मनमाफिक सरकार चुनने का वक्त एक बार फिर आ गया है। प्रमुख राष्ट्रीय दल कांग्रेस और भाजपा ने अपने-अपने चेहरों...

इतिहास में दर्ज हो गई यह ‘जीजा-साले’ की कहानी 

इतिहास में दर्ज हो गई यह ‘जीजा-साले’ की कहानी 

हर चुनाव में नेताओं के इंपोर्ट-एक्सपोर्ट होने का सिलसिला चलता रहता है। यह आम बात है। पर 3 नवंबर का दिन इतिहास में दर्ज हो गया। प्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता में बच्चों के ‘मामा’ शिवराज सिंह...

जिनके घर शीशे के होते हैं वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते चिनॉय सेठ

जिनके घर शीशे के होते हैं वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते चिनॉय सेठ

घिसीपिटी फिल्म की तरह फ्लाप हो गया भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा का पहला शो। पात्रा के मध्यप्रदेश में मीडिया की अगुआई करने के लिए ही शायद भाजपा संगठन ने एक आलीशान मीडिया सेंटर का प्रावधान किया...

मोहन का मंदिर राग, अच्छे दिन आने वाले हैं ...

जिस तरह से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत के मुख से इन दिनों मंदिर राग की धुन निकल रही है। उससे लगने लगा है कि भगवान राम के अयोध्या में एक बार फिर से अच्छे दिन...

‘माइकल’ से ‘मी-2’ तक, दिल का हाल बेहाल है

‘माइकल’ से ‘मी-2’ तक, दिल का हाल बेहाल है

सप्ताह दिल के मरीजों के लिए शुभ साबित नहीं हुआ। अमेरिका में आए ‘माइकल’ तूफान ने भले ही जनहानि पर रहम किया हो लेकिन जिस तरह से उसने जनता की आर्थिक कमर तोड़ी है, उससे उबरना अमेरिकी प्रभावितों...

अब आदर्श आचार विचार का मामला है

अब आदर्श आचार विचार का मामला है

अभी तक जो हुआ सो हुआ। सरकार को जो करना था सो किया। पर अब टाइम ओवर हो गया। उम्मीद तो बहुत थी कि 12 अक्टूबर तक का समय मिल जाएगा तो जितने हाथ पाँव मारने हैं मार...

लालू चर गए देश का चारा, मोदी चर गए भाईचारा

लालू चर गए देश का चारा, मोदी चर गए भाईचारा

बुंदेलखंड में इन दिनों राजनीतिक चर्चाएँ चरम पर हैं। कड़वे दिन चल रहे हैं सो चारों तरफ़ कड़वे बोल बोलने में भी लोगों को कोई परहेज़ नहीं है। जुमलों के ज़रिए लोग अपने मन की कड़वी बातों को...

समाज पर अत्याचार करने वालों के खिलाफ कब बनेगा कानून!

समाज पर अत्याचार करने वालों के खिलाफ कब बनेगा कानून!

एससी-एसटी एट्रोसिटी एक्ट में केंद्र सरकार के फैसले ने पूरे समाज को आंदोलित कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद एससी-एसटी के विरोध को दबाने की जगह केंद्र सरकार ने यह जताने की कोशिश की थी...

मस्जिद में मोदी, शिव की शरण में राहुल राजनीति की बदलती बयार

मस्जिद में मोदी, शिव की शरण में राहुल राजनीति की बदलती बयार

इक्कीसवी सदी में भारतीय राजनीति ने महत्वपूर्ण बदलाव देखे हैं। वक्त गवाह रहा है कि जनता ने इक्कीसवी सदी के शुरुआत में राजनीति के महानायक स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की विकासपरक राजनीति को देखा, परखा, सराहा और फिर...

सूबेदार पर मेहरबानी, नरेंद्र से सौतेला बर्ताव, यह कैसा न्याय सरकार !

सूबेदार पर मेहरबानी, नरेंद्र से सौतेला बर्ताव, यह कैसा न्याय सरकार !

मीडियावाला.इन। सरकार ने रेत माफ़िया से जूझते प्राण न्योछावर करने वाले डिप्टी रेंजर सूबेदार सिंह को शहीद का दर्जा दिया है। सरकार का यह क़दम सराहनीय है। पर यह फ़ैसला चुनावी मौसम की देन प्रतीत होता हैं। क्योंकि इससे पहले...

राजनीति को तरुण संदेश, धर्म पर चले राजनीति 

राजनीति को तरुण संदेश, धर्म पर चले राजनीति 

जैन समाज के क्रांतिकारी संत तरुण सागर जी महाराज का समाधि महोत्सव संपन्न हो चुका है। मध्यप्रदेश से तरुण सागर महाराज का गहरा नाता था। वे दमोह जिले में जन्मे थे। तेरह साल की उम्र में दीक्षा लेकर...