Thursday, October 17, 2019

Blog

डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी

डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी जाने-माने पत्रकार और ब्लॉगर हैं। वे हिन्दी में सोशल मीडिया के पहले और महत्वपूर्ण विश्लेषक हैं। जब लोग सोशल मीडिया से परिचित भी नहीं थे, तब से वे इस क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। पत्रकार के रूप में वे 30 से अधिक वर्ष तक नईदुनिया, धर्मयुग, नवभारत टाइम्स, दैनिक भास्कर आदि पत्र-पत्रिकाओं में कार्य कर चुके हैं। इसके अलावा वे हिन्दी के पहले वेब पोर्टल के संस्थापक संपादक भी हैं। टीवी चैनल पर भी उन्हें कार्य का अनुभव हैं। कह सकते है कि वे एक ऐसे पत्रकार है, जिन्हें प्रिंट, टेलीविजन और वेब मीडिया में कार्य करने का अनुभव हैं। हिन्दी को इंटरनेट पर स्थापित करने में उनकी प्रमुख भूमिका रही हैं। वे जाने-माने ब्लॉगर भी हैं और एबीपी न्यूज चैनल द्वारा उन्हें देश के टॉप-10 ब्लॉगर्स में शामिल कर सम्मानित किया जा चुका हैं। इसके अलावा वे एक ब्लॉगर के रूप में देश के अलावा भूटान और श्रीलंका में भी सम्मानित हो चुके हैं। अमेरिका के रटगर्स विश्वविद्यालय में उन्होंने हिन्दी इंटरनेट पत्रकारिता पर अपना शोध पत्र भी पढ़ा था। हिन्दी इंटरनेट पत्रकारिता पर पीएच-डी करने वाले वे पहले शोधार्थी हैं। अपनी निजी वेबसाइट्स शुरू करने वाले भी वे भारत के पहले पत्रकार हैं, जिनकी वेबसाइट 1999 में शुरू हो चुकी थी। पहले यह वेबसाइट अंग्रेजी में थी और अब हिन्दी में है। 


डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी ने नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने पर एक किताब भी लिखी, जो केवल चार दिन में लिखी गई और दो दिन में मुद्रित हुई। इस किताब का विमोचन श्री नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के एक दिन पहले 25 मई 2014 को इंदौर प्रेस क्लब में हुआ था। इसके अलावा उन्होंने सोशल मीडिया पर ही डॉ. अमित नागपाल के साथ मिलकर अंग्रेजी में एक किताब पर्सनल ब्रांडिंग, स्टोरी टेलिंग एंड बियांड भी लिखी है, जो केवल छह माह में ही अमेजॉन द्वारा बेस्ट सेलर घोषित की जा चुकी है। अब इस किताब का दूसरा संस्करण भी आ चुका है। 

प्रियंका चोपड़ा का इमोशनल अत्याचार

प्रियंका चोपड़ा का इमोशनल अत्याचार

मीडियावाला.इन। जिंदगी में खुशियां ही सबकुछ नहीं होती। कभी पैसे खर्च करके भी रोने का मन करें, तो प्रियंका चोपड़ा की नई फिल्म हाजिर है। फिल्म देखकर लगा कि जायरा वसीम ने हिन्दी फिल्म दर्शकों पर बड़ा उपकार...

हॉलीवुड फिल्मों को टक्कर देती ‘वॉर’

हॉलीवुड फिल्मों को टक्कर देती ‘वॉर’

मीडियावाला.इन। ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ की मुख्य भूमिका वाली वॉर पैसा वसूल फिल्म है। एक्शन, सस्पेंस और थ्रिल के शौकीन दर्शकों को यह फिल्म निश्चित ही पसंद आएगी। फिल्म की कमजोर कड़ी है, तो इसके गाने। फिल्म...

एडवेंचर टूरिज्म को समर्पित ‘पल-पल दिल के पास’

एडवेंचर टूरिज्म को समर्पित ‘पल-पल दिल के पास’

मीडियावाला.इन। सनी देओल ने एडवेंचर टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए जो फिल्म बनाई है उसमें अपने बेटे को हीरो बनाया है। आधी फिल्म एडवेंचर टूरिज्म को समर्पित है और बाकी आधी फिल्मी फॉर्मूले को। जिस तरह कहानी...

मनोरंजक है आयुष्मान की ‘ड्रीम गर्ल’

मनोरंजक है आयुष्मान की ‘ड्रीम गर्ल’

मीडियावाला.इन। ड्रीम गर्ल कहते ही हेमा मालिनी की छवि सामने आती है, लेकिन एकता कपूर की इस ड्रीम गर्ल को देखने के बाद शायद आयुष्मान खुराना का चेहरा सामने आने लगे। फिल्म का एक डायलॉग है कि जब...

बिना कहानी की एक्शन फिल्म ‘साहो’

बिना कहानी की एक्शन फिल्म ‘साहो’

मीडियावाला.इन। साहो का एक प्रसिद्ध वनलाइनर है। हर जुर्म का मकसद हो्ता है और हर मुजरिम की कहानी। इसी तरह हर फिल्म बनाने का कोई मकसद होता है और दर्शक को फिल्म देखने का बहाना। साहो को लोग...

उज्जैन में प्रशासन की फिर लापरवाही,रामघाट पर भारी कीचड़ में निकली शाही सवारी

उज्जैन में प्रशासन की फिर लापरवाही,रामघाट पर भारी कीचड़ में निकली शाही सवारी

मीडियावाला.इन। बाबा महाकाल की श्रावण महीने के अंतिम सोमवार को निकली पालकी की सवारी में हज़ारों भक्त प्रशासन की लापरवाही से परेशान हुए। तीन पहले आई बारिश की वजह से सोमवार को रामघाट पर भयंकर कीचड़ जमा हुआ था।...

टाइम पास मूंगफली के तरह ‘जबरिया जोड़ी’

टाइम पास मूंगफली के तरह ‘जबरिया जोड़ी’

मीडियावाला.इन। फिल्म समीक्षा : जबरिया जोड़ी बालाजी फिल्म फैक्ट्री की नई फिल्म जबरिया जोड़ी मनोरंजक है। मसालों से भरपूर यह फिल्म बिहार के पकड़वा विवाह की घटनाओं पर आधारित है, जहां विवाह...

जुमला है 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनामी

मीडियावाला.इन। शेयर बाज़ार धड़ाम, ऑटोमोबाइल सेक्टर में ऐतिहासिक मंदी, हाउसिंग में लाखों अनबिके मकान, विदेशी निवेशकों का पलायन, टैक्स की वसूली का पिछड़ता लक्ष्य, लाखों को रोज़गार खोने का डर... इस सबके बावजूद 5 ट्रिलियन...

नीम हकीम खतरा-ए-जान

मीडियावाला.इन। फिल्म समीक्षा ः खानदानी शफाखाना खानदानी शफाखाना बेहद अझेलनीय फिल्म है। दिमाग का दही बना देती है। इसे काॅमेडी फिल्म कहा गया है, लेकिन दर्शकों के लिए यह ट्रेजडी फिल्म है। यह बात सही है कि विकी...

टैक्स आतंकवाद : सीसीडी मालिक की आत्महत्या के मामले में आयकर महानिदेशक (जाँच) बी. आर. बालकृष्ण की भूमिका?

मीडियावाला.इन। क्या कैफ़े कॉफ़ी डे (सीसीडी) के प्रमुख वी. जी. सिद्धार्थ को आत्महत्या करने के लिए उकसाने वाले इनकम टैक्स विभाग के आला अफ़सर को बचाने की कोशिश की जा रही है? क्या आत्महत्या करने से पहले लिखे...

एकता कपूर, हम मेंटल हैं क्या

एकता कपूर, हम मेंटल हैं क्या

मीडियावाला.इन। फिल्म समीक्षा : जजमेंटल है क्या एकता कपूर और फिल्म बनाने वाली टीवी चैनल कंपनी से दर्शकों का सवाल है कि मेंटल हैं क्या? जो ऐसी फिल्में हमें झिलवाने पर आमादा हो। इसे एक्शन, सस्पेंस,...

आम्रपाली ग्रुप से गैरकानूनी धन लिया धोनी की कंपनी ने

आम्रपाली ग्रुप से गैरकानूनी धन लिया धोनी की कंपनी ने

मीडियावाला.इन। सुप्रीम कोर्ट ने एक फैसले में आम्रपाली ग्रुप के खिलाफ आदेश देते हुए रेरा का रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया। जांच में यह पता चला कि अनिल कुमार शर्मा की आम्रपाली कंपनी ने फ्लैट खरीदे वाले 49 हजार लोगों...

अरबों डॉलर कमाई की मशीन बना फेसबुक

अरबों डॉलर कमाई की मशीन बना फेसबुक

मीडियावाला.इन। जिस तरह फेसबुक विज्ञापन का कारोबार कर रहा है, उसमें वह सोशल मीडिया का प्लेटफॉर्म कम और विज्ञापन के जरिये अरबों डॉलर कमाने की मशीन ज्यादा बना हुआ है। फेसबुक ने वैश्विक स्तर पर सोशल मीडिया के...

पंजाबी फिल्म का रीमेक है 'झूठा  कहीं का'

पंजाबी फिल्म का रीमेक है 'झूठा कहीं का'

मीडियावाला.इन। 40 साल पहले भी ऋषि कपूर ने 'झूठा कहीं का' नाम की फिल्म में काम किया था, जिसमें उनके साथ नीतू कपूर प्रमुख भूमिका में थीं।  रवि टंडन के निर्देशन में बनी उस  'झूठा कहीं का' और इस 'झूठा...

भारत के हित में है खुशहाल, लोकतांत्रिक पाकिस्तान

भारत के हित में है खुशहाल, लोकतांत्रिक पाकिस्तान

मीडियावाला.इन। पाकिस्तान ऐतिहासिक बर्बादी के कग़ार पर है। इमरान खान की चारों तरफ थू-थू  हो रही है। पाकिस्तानी रुपया नीचे, निर्यात नीचे, विकास दर न्यूनतम स्तर पर. महंगाई चरम पर, जनता में त्राहि-त्राहि ! लेकिन इसमें खुश होने की...

कोचिंग माफिया से लड़ती फिल्म सुपर 30

कोचिंग माफिया से लड़ती फिल्म सुपर 30

मीडियावाला.इन। बिहारी केवल ओरिजनल होते हैं। उनकी नकल कोई नहीं कर सकता। ऋतिक रोशन भी नहीं। यह बात सुपर 30 में साबित हो गई। ऋतिक ने भले ही श को स, छह को छौ और नर्वस होने को नरभस...

वक़्त और पैसे की बर्बादी का 'मलाल'

मीडियावाला.इन। इस शुक्रवार कुछ नया नहीं घटा। न निर्मला सीतारमण द्वारा प्रस्तुत बजट में, न बॉक्स ऑफिस में। बजट 90 के दशक का है और फ़िल्म भी। संजय लीला भंसाली की भानजी और जावेद जाफरी के बेटे को लेकर...

राहुल और कांग्रेस का डिफ़ॉल्ट प्रोग्राम

राहुल और कांग्रेस का डिफ़ॉल्ट प्रोग्राम

मीडियावाला.इन। एक इंटरव्यू में राहुल गांधी ने कहा था कि देश अगर एक कम्प्यूटर है, तो कांग्रेस को उसका डिफाल्ट प्रोग्राम कहा जा सकता है। डिफ़ॉल्ट प्रोग्राम वह प्रोग्राम होता है, जिसका उपयोग विंडोज तब करता है जब आप एक...

लीक से हटकर है अनुभव सिन्हा की ‘आर्टिकल 15’

लीक से हटकर है अनुभव सिन्हा की ‘आर्टिकल 15’

मीडियावाला.इन। फिल्म समीक्षा : आर्टिकल 15 जो लोग केवल मनोरंजन के लिए फिल्में देखते है, वे आर्टिकल 15 न देखें। इसमें आम मसाला फिल्मों जैसा कोई मसाला नहीं है। न फूहड़ता, न किसिंग सीन, न फाइटिंग, न नाच-गाने,...

वह काला अध्याय और आनेवाला दौर

वह काला अध्याय और आनेवाला दौर

मीडियावाला.इन। आपातकाल की बरसी , 25 जून के लिए विशेष  आपातकाल स्वतंत्र भारत के लोकतांत्रिक इतिहास की सबसे प्रमुख घटना है आपातकाल। 25 जून 1975 की रात को वह लागू किया गया था,...