Monday, August 19, 2019

Blog

सुषमा मुनीन्द्र

जन्म: 05.10.59,  रीवा (म0प्र0)

सृजन:

अब तक प्रायः 330 कहानियाँ लिखी हैं जो अक्षरा, साक्षात्कार, हंस, वर्तमान साहित्य, साहित्य अमृत, कथाक्रम, कथादेश, वागर्थ, समकालीन भारतीय साहित्य आदि राष्ट्रीय स्तर की पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई हैं।

प्रकाशन

उपन्यास  - 

(1) छोटी-सी आशा

(2) गृहस्थी


कहानी संग्रह -

(1) मेरी बिटिया

(2) महिमा मण्डित

(3) नुक्कड़ नाटक

(4) मृत्युगंध(5)अस्तित्व

(6) अन्तिम प्रहर का स्वप्न

(7) ऑनलाइन रोमांस

(8) अपना ख्याल रखना

(9) 2 कथा संग्रह प्रेस में

विशेष

(1) कहानियों का मराठी, मलयालम, तेलुगू, कन्नड़, पंजाबी, अॅंग्रेजी, उर्दू, गुजराती आदि भारतीय भाषाओं में अनुवाद।

(2) कुछ कहानियाँ प्रतिनिधि कथा संग्रहों में संकलित

(3) गणित, सरपंचिन, दर्द ही जिसकी दास्ता रही आदि कहानियों का मंचन।

(4) कहानियों व नाटकों का आकाशवाणी के रीवा केन्द्र से निरंतर प्रसारण।

(5) उपन्यास - छोटी सी आशा का डॉक्टर सुशीला दुबे द्वारा मराठी में अनुवाद होने जा रहा है।

(6) कुछ आलेख व व्यंग्य प्रकाशित।

सम्प्राप्ति

(1) मध्यप्रदेश साहित्य अकादमी का सुभद्रा कुमारी चौहान पुरस्कार।

(2) प्रकाश कुमारी हरकावत पुरस्कार (म0प्र0)।

(3) निर्मल साहित्य पुरस्कार (म0प्र0)।

(4) कमलेश्वर (वर्तमान साहित्य) कथा पुरस्कार।

(5) राधेश्याम चितलांगिया पुरस्कार, लखनऊ।

(6) पंडित हीरालाल शुक्ल पुरस्कार, जयपुर।

(7) चन्द्रधर शर्मा गुलेरी सम्मान, समस्तीपुर।

(8) प्रेमचन्द्र (हंस) कथा सम्मान, दिल्ली।

(9) रत्नकांत रचना पुरस्कार, सतना।

(10) विन्ध्य शिखर सम्मान, रीवा।

(11) विन्ध्य गौरव सहित कुछ क्षेत्रीय सम्मान - पुरस्कार।


सम्पर्क

द्वारा श्री एम0 के0 मिश्र

एडवोकेट

लक्ष्मी मार्केट, रीवा रोड

सतना (म0प्र0) - 485001

मोबाइल नं0 08269895950

नाम बड़े और दर्शन खोटे

नाम बड़े और दर्शन खोटे

मीडियावाला.इन। सभापुर नगर भी आखिर बाजारवाद की लपेट में आ ही गया।  बाजारवाद से जिसका जो नफा-नुकसान हुआ वह तो हुआ ही, सबसे अधिक क्षति हुई मुख्य पथ पर स्थित होटेल सर्वश्रेष्ठ और उसके ठीक बगल से लगे जय...

मन मोहने का मूल्य

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376 के अन्तर्गत बलात्कार के जुर्म में भजनलाल को दस साल कैद की सजा। दस हजार की आबादी वाला बदेरा मौके-मौके पर स्तब्ध होता रहा है। कचहरी के इस फैसले पर...

कहानी - फैसला

कहानी - फैसला

1 आम तौर पर वे बेचैन रहते हैं। कुटुम्ब न्यायालय (फेमिली कोर्ट) में चल रहे संबंध विच्छेद के मामले की सुनवाई करते हुये लग रहा है अब तक ऐसे बेचैन नहीं थे जैसे अब...