Tuesday, October 23, 2018

कॉलम / नजरिया

आप ट्रंप हैं या शेख चिल्ली?

आप ट्रंप हैं या शेख चिल्ली?

मीडियावाला.इन। सउदी अरब के प्रसिद्ध पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की किरकिरी पहले से हो ही रही है, अब उन्होंने एक नया शोशा छोड़ दिया है। वे कह रहे हैं कि 1987 में...

भाजपा की गलतियाँ ही कांग्रेस को सत्ता का मौका देगी! 

भाजपा की गलतियाँ ही कांग्रेस को सत्ता का मौका देगी! 

विधानसभा चुनाव की दुंदुभि बज चुकी है। मध्यप्रदेश के दो परंपरागत राजनीतिक प्रतिद्वंदी फिर आमने-सामने हैं। एक के पास डेढ़ दशक की सत्ता की ताकत है, तो दूसरे के पास प्रतिद्वंदी की खामियों की फेहरिस्त! इस चुनाव में...

ये किस्से चुनावी: तब जातिपाँति से उठकर वोट पड़ते थे...!

ये किस्से चुनावी: तब जातिपाँति से उठकर वोट पड़ते थे...!

इंंदौर के कामरेड होमीदाजी और सतना की कांताबेन पारेख के व्यक्तित्वों में जमीन आसमान का फर्क था लेकिन जो एक अद्वितीय समानता थी वो यह कि दोनों ही अपने-अपने शहर में अति अल्पसंख्य पारसी व गुजराती परिवारों से...

दूध में दृष्टिदोष अच्छी बात नहीं है 

दूध में दृष्टिदोष अच्छी बात नहीं है 

परिवर्तन जिंदगी का एक जरूरी हिस्सा है.लेकिन,जीवन की अगली व्यवस्था और उसका अस्तित्व बने रहें,इसलिए आ रहे परिवर्तन के स्वभाव और परिणामों को,ठीक समय पर,और ठीक ढंग से देख पाना,किसी न किसी के जिम्मे तो आता ही होगा...

हंसते हंसाते काम की बातें बताते रहे हैप्पी स्वामी !

हंसते हंसाते काम की बातें बताते रहे हैप्पी स्वामी !

कथा-प्रवचन वाले शहर में हुआ ठहाकों का भंडारा इंदौर कीर्ति राणा । शहर में आए दिन कथा-प्रवचन-भंडारे तो होते रहते हैं लेकिन हैप्पी स्वामी की बातें एक तरह से ठहाकों का भंडारा था। लगा नहीं किसी...

हिंदी बहन है, मालकिन नहींः वैंकय्या

हिंदी बहन है, मालकिन नहींः वैंकय्या

उप-राष्ट्रपति वैंकय्या ने हिंदी के बारे में ऐसी बात कह दी है, जिसे कहने की हिम्मत महर्षि दयानंद, महात्मा गांधी और डाॅ. राममनोहर लोहिया में ही थी। वैंकय्याजी ने कहा कि '‘अंग्रेजी एक भयंकर बीमारी है, जिसे अंग्रेज...

ये हैं फ़िल्मी दुनिया के कुछ अच्छे चेहरे! 

ये हैं फ़िल्मी दुनिया के कुछ अच्छे चेहरे! 

सिनेमा की दुनिया पर अकसर तोहमत लगाई जाती है, कि यहाँ के स्वार्थी होते हैं। कोई किसी का साथ नहीं देता और चढ़ते सूरज का तिलक किया जाता है। कुछ मामलों में ये बात सही भी है! पर,...

मोहन का मंदिर राग, अच्छे दिन आने वाले हैं ...

मोहन का मंदिर राग, अच्छे दिन आने वाले हैं ...

जिस तरह से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत के मुख से इन दिनों मंदिर राग की धुन निकल रही है। उससे लगने लगा है कि भगवान राम के अयोध्या में एक बार फिर से अच्छे दिन...

व्यवस्था का पटरी से उतर जाना ही ‘रावण’ हो जाना है !

व्यवस्था का पटरी से उतर जाना ही ‘रावण’ हो जाना है !

अमृतसर में इस साल दशहरे पर रावण दहन के दौरान जिस ढंग से ‘मौत की होली’ खेली गई, उससे तो आततायी रावण भी सिहर गया होगा। दशहरे पर रावण दहन के दौरान छुट पुट हादसों की खबरें आती...

जीएसटी: लगभग हर रोज संशोधन के बाद भी बुरे हाल व्यापारी नाराज, सीए परेशान, उद्योग-धंधों की धीमी चाल

जीएसटी: लगभग हर रोज संशोधन के बाद भी बुरे हाल व्यापारी नाराज, सीए परेशान, उद्योग-धंधों की धीमी चाल

जीएसटी लागू किए सरकार को सवा साल होने आया है लेकिन तब से अब तक 350 से अधिक सशोधन किए जाने के बाद भी व्यापारियों और सीए की परेशानी दूर नहीं हुई है। व्यापारी वर्ग इसे जहां जी...

जिन्हें रावण से हमदर्दी है उनके लिए

जिन्हें रावण से हमदर्दी है उनके लिए

"त्रिलोक विजेता प्रकांड पंडित प्रचंड पराक्रमी परम शिवभक्त महान साहित्यकार लंकेश दशानन को षडयंत्र पूर्वक उसके भाई को मिला कर उसकी हत्या कर इस कपटी दुनिया से मुक्त कराने के दिन की बधाई।" पिछले दशहरे में...

अध्यादेश के पहले संघ पहल करे

अध्यादेश के पहले संघ पहल करे

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर यह आरोप लगाना आसान है कि 2019 में मोदी को टेका लगाने के लिए उसने अब राम मंदिर का शोशा फिर से छोड़ दिया है। संघ के मुखिया मोहन भागवत ने अपने दशहरे के...

तेरा राम जी करेंगे बेड़ा पार .....

तेरा राम जी करेंगे बेड़ा पार .....

दीपावली वाले महीने में ही आय कर विभाग को ज्वेलर्स सहित अन्य कारोबारियों के संस्थानों की जांच करने की याद आती है।विक्रय कर विभाग को बर्तन व्यापारियों के व्यवसाय में गड़बड़ी ढूंढने का मौका मिलता है। ग्यारह महीने...

हमारे भीतर जो एक राक्षस है आइए पहले उसका दहन करें ..

हमारे भीतर जो एक राक्षस है आइए पहले उसका दहन करें ..

स्कूल के दिनों में फिल्में देखने की लत थी। बुरी इसलिए नहीं कहेंगे कि फिल्में भी एक पाठशाला ही होती हैं। कई बातें जो स्कूल में नहीं सिखाई जातीं वे फिल्मों से मिल जाती हैं। आदमी जो दिखता...

यौन-उत्पीड़नः नेताओं की चुप्पी ?

यौन-उत्पीड़नः नेताओं की चुप्पी ?

यौन-शोषण के इतने अधिक आरोप उन पर लगे कि केंद्रीय मंत्री एम.जे. अकबर को आखिरकार इस्तीफा देना ही पड़ा। इस्तीफा देने में उन्होंने 10 दिन लगा दिए। इन दस दिनों में भाजपा सरकार और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की...

‍दिग्गज नेता एनडी और ‘मी टू’ से पहले लड़ी गई ‘वी टू’ की लड़ाई...!

‍दिग्गज नेता एनडी और ‘मी टू’ से पहले लड़ी गई ‘वी टू’ की लड़ाई...!

इसे दुर्योग ही मानें कि जिस ‘मी टू’ अभियान में फंसने के बाद केन्द्रीय मं‍त्री और पूर्व संपादक एम.जे. अकबर को पद से इस्तीफा देना पड़ा, उसी कुल की एक मिलती-जुलती पटकथा पर भारतीय राजनीति की ‘अनोखी’ शख्सियत...

कन्या भोज के आईने में भूख से मरते भारत को भी देखें !

कन्या भोज के आईने में भूख से मरते भारत को भी देखें !

जिस देश में महानवमी पर कन्या भोज की पवित्र और अनुकरणीय परंपरा हो, उसी नवरात्र में यह खबर आए ‍कि  भुखमरी खत्म करने वाले देशों की सूची में भारत और पीछे चला गया है, क्षुब्ध और चिंतित करने...

आज माता भगवती की भी कुछ सुनिए !

आज माता भगवती की भी कुछ सुनिए !

चौतरफा भक्ति भाव का वातावरण है। इन नौ दिनों सभी झंझटों को ताक पर रखकर भक्तगण प्रमुदित, आनंदित रहते हैं। त्योहारों के रूप में आनंद का बंदोबस्त हमारे पुरखे कर गए। हर त्योहार मनुष्य की जिजीविषा बढा देता...

अक्ल कहें या शर्म देर से किसे आई

अक्ल कहें या शर्म देर से किसे आई

बड़े पद पर बैठने के बाद कहा तो जाता है कि दिल दिमाग भी बड़ा हो जाता है।एमजे अकबर प्रकरण को देखकर तो ऐसा नहीं लगता, उन्हें या उनका बचाव करने वालों को अक्ल कहें या शर्म भी...

कहां नेहरु और कहां मोदी ?

कहां नेहरु और कहां मोदी ?

तीन मूर्ति के बंगले में जवाहरलाल नेहरु स्मारक संग्रहालय और पुस्तकालय है। इस संग्रहालय और पुस्तकालय को महत्वपूर्ण बनाने में मेरे साथी और अभिन्न मित्र स्व. डाॅ. हरिदेव शर्मा का विशेष योगदान है। वे डाॅ. लोहिया के अनन्य...