Sunday, April 21, 2019

कॉलम / नजरिया

यूपी: माया हुई मुलायम

यूपी: माया हुई मुलायम

मीडिया वाला.इन मुलायमसिंह यादव मैनपुरी से संसद का चुनाव लड़ रहे हैं और मायावती उनका चुनाव-प्रचार करने वहां पहुंच गईं। अनहोनी हो गई। मुलायम पर माया छा गईं और माया खुद मुलायम हो गईं। उप्र के इन दोनों नेताओं के...

यहां श्राप देना सिखाया जाता है

यहां श्राप देना सिखाया जाता है

मीडियावाला.इन। सोचता हूं कि यदि श्राप में इतनी ताकत है तो क्यों न उसके लिए एक ट्रेनिंग सेंटर ही खोल दूं। लोग आएं और श्राप देना सीखें। जिससे भी परेशानी हो, उसे श्राप दें और एक-डेढ़ महीने तक इंतजार करें।...

पीरियड (कॉस्ट्यूम) ड्रामा के नाम पर ‘कलंक’

पीरियड (कॉस्ट्यूम) ड्रामा के नाम पर ‘कलंक’

फिल्म प्रमाणन बोर्ड को ‘पी’ सर्टिफिकेट भी देना चाहिए, जिसका अर्थ होगा - ‘पकाऊ’। कलंक कोई पीरियड ड्रामा नहीं, बल्कि पीरियड कॉस्ट्यूम ड्रामा फिल्म है। दर्जियों को यह फिल्म बहुत पसंद आएगी। बॉलीवुड की फिल्मों का स्तर दिन...

श्रीनगर के मतदाताओं की बेरूखी का मतलब समझिये जनाब!

श्रीनगर के मतदाताओं की बेरूखी का मतलब समझिये जनाब!

श्रीनगर संसदीय सीट के नब्बे मतदान केन्द्रों पर एक भी मतदाता नहीं पहुंचा। किसको दोष दें?  कश्मीर को लेकर चल रही राजनीति ही इसकी जिम्मेदार है। जो लोग कहते थे कश्मीर के लोगों का दिल गोली से नहीं...

"बजरंगबली गरीब गुरबों के भगवान हैं। लिखने पढने वालों के प्रेरक हैं। वे भगवान नहीं वास्तव में सद्गुरु हैं"  कृपा करहुँ गुरुदेव के नाईं

"बजरंगबली गरीब गुरबों के भगवान हैं। लिखने पढने वालों के प्रेरक हैं। वे भगवान नहीं वास्तव में सद्गुरु हैं" कृपा करहुँ गुरुदेव के नाईं

अपन के गुरदेव बजरंग बली हैं। गोस्वामी जी कह गए.. अउर देवता चित्त न धरई, हनुमत सेइ सर्व सुख करई। गोसाईं जी के लिए बजरंगबली देवता, ईश्वर नहीं बल्कि गुरु हैं।  इसलिए जब भी अपने ...

मोदी की भी जांच क्यों न हो ?

मोदी की भी जांच क्यों न हो ?

चुनाव आयोग ने अपने एक अफसर को मुअत्तिल कर दिया, क्योंकि उसने ओडिशा में प्र.मं. नरेंद्र मोदी के हेलिकाॅप्टर को जांच के लिए 15 मिनिट तक रोक लिया था। आयोग ने अपने हिसाब से ठीक किया, क्योंकि आयोग...

भाजपा और कांग्रेस दोनों को सेबोटेज का खतरा!

भाजपा और कांग्रेस दोनों को सेबोटेज का खतरा!

पश्चिम मध्यप्रदेश की मालवा-निमाड़ इलाके की 8 लोकसभा सीटों के लिए दोनों पार्टियों के अधिकांश उम्मीदवार घोषित हो गए! लेकिन, पर कांग्रेस और भाजपा दोनों के लिए जीत गले में फँसी हड्डी की तरह हैं! उम्मीदवारों को देखकर...

हिंसक सत्ता की नाकामी

हिंसक सत्ता की नाकामी

महावीर जयंति के अवसर पर हार्वर्ड केनेडी स्कूल की एक रपट दुनिया के आंदोलनों पर छपी है। यह खोजपूर्ण रपट इस मुद्दे पर छपी है कि पिछले 100 वर्षों में कितने हिंसक आंदोलन सफल हुए हैं और कितने...

सट्टे के धंधे पर ज़िंदा है आईपीएल की इकॉनोमी 

सट्टे के धंधे पर ज़िंदा है आईपीएल की इकॉनोमी 

भारत और पाकिस्तान की सीमाओं पर ही तनाव नहीं है। तनाव क्रिकेट में ही है। पुलवामा आतंकी हमले के बाद इस तरह की मांग हो रही है कि पाकिस्तान के साथ क्रिकेट न खेला जाएं। आईपीएल में पाकिस्तानी...

आखिर पंकज संघवी ही क्यों ?

आखिर पंकज संघवी ही क्यों ?

महापौर, विधानसभा और लोकसभा जैसे देश की सभी प्रमुख संस्थाओं के चुनाव हारते जाने के बावजूद कांग्रेस ने एक बार फिर इंदौर से पंकज संघवी को ही लोकसभा का प्रत्याशी क्यों बनाया ? क्या इंदौर में उनसे बेहतर...

कांग्रेस को कहीं महँगी न पड़ जाए रियासतों की सियासत!

कांग्रेस को कहीं महँगी न पड़ जाए रियासतों की सियासत!

मीडियावाला.इन।सियासत में रियासतों का दखल आज भी कायम है। रियासतें चली गई, पर उनकी जगह सियासतों ने ली ली! वही अंदाज और वही ठसका कायम है! पर, इसका नतीजा भुगतना पड़ रहा है लोकतांत्रिक व्यवस्था और राजनीतिक पार्टियों...

सोशल मीडिया पर माता-पिता को सबक सीखा रहे है बच्चे

सोशल मीडिया पर माता-पिता को सबक सीखा रहे है बच्चे

मीडियावाला.इन। आमतौर पर माता-पिता बच्चों को शिक्षा देते रहते है और कई बार सजा भी देते है, लेकिन सोशल मीडिया के जमाने में अब बच्चे अपने माता-पिता को सबक सीखा रहे है। वे सोशल मीडिया पर अपने माता-पिता...

विंध्य में अर्जुन सिंह-श्रीनिवास फैक्टर -क्या गुल खिलाएगी दो विपरीत ध्रुवों की यह युति!

विंध्य में अर्जुन सिंह-श्रीनिवास फैक्टर -क्या गुल खिलाएगी दो विपरीत ध्रुवों की यह युति!

भोपाल/रीवा लोकसभा चुनाव के लिए जब श्रीनिवास तिवारी के पौत्र सिद्धार्थ तिवारी नामांकन का पर्चा दाखिल कर रहे थे तब अजय सिंह राहुल उनके गार्जियन की भूमिका में खड़े थे। इससे पहले जिस दिन अजयसिंह ने सीधी से...

अब हम चुनाव-पद्धति बदल दें

अब हम चुनाव-पद्धति बदल दें

अभी चुनाव का पहला दौर शुरु हुआ है। अभी कई दौर पूरे होने बाकी है। इस पहले मतदान में याने सिर मुंडाते ही ओले पड़ गए। चुनाव आयोग ने लगभग 25000 करोड़ रु. का माल जब्त किया है,...

इंदौर में इतिहास बदलने का बीज अंकुरित हो रहा है

इंदौर में इतिहास बदलने का बीज अंकुरित हो रहा है

मीडियावाला.इन इंदौर लोकसभा सीट की चर्चा इंदौर की सीमा को लांघकर प्रदेश, और देश के राजनीतिक महलोों की दिवारों से टकराकर लौट रही है। सुमित्रा महाजन की पचहत्तर साल की उम्र उम्मीदवारी में बाधा बनी तो कांग्रेस शिविर में हलचल...

समाजवाद सबको चाहिए लेकिन कटपीस में.

समाजवाद सबको चाहिए लेकिन कटपीस में.

मीडियावाला.इन।"संविधान की पोथी तैय्यार करते समय या तो बाबा साहेब अँबेडकर समाजवाद को भूल गए थे या फिर भविष्य में उसकी दुर्गति की कल्पना करते हुए अपने तईं उसकी इज्जत वख्श दी।" ......................

चुनावी की चकल्लस में अनदेखा जलता-झुलसता ग्राम-समाज

चुनावी की चकल्लस में अनदेखा जलता-झुलसता ग्राम-समाज

मीडियावाला.इन। इन दिनों हम सब चुनाव के रोमांच में गाफिल है. वहीँ,भारत के ग्रामीण-समाज का एक बड़ा हिस्सा,इस डर में सो,जाग और जी रहा है कि किस क्षण,कोई आग उसके आसपास लगकर जान-माल के लिए  खतरा न बन जाय. जिसका...

चुनावी बॉण्ड: यह नरमी क्यों?

चुनावी बॉण्ड: यह नरमी क्यों?

मीडियावाला.इन सर्वोच्च न्यायालय ने सरकार और भाजपा को अब एक और झटका दे दिया है। उसने कहा है कि सभी राजनीतिक दल 15 मई तक मिलनेवाले सभी चुनावी बांडों का ब्यौरा चुनाव आयोग को 30 मई तक सौंप दें। ब्यौरा...

तथ्यों और कल्पनाओं का घालमेल

तथ्यों और कल्पनाओं का घालमेल

द ताशकंद फाइल्स का डायलॉग है - ट्रूथ इज़ ए लग्ज़री। फिल्म यह लग्जरी बर्दाश्त नहीं कर पाई। दूसरे डायलाॅग भी कम दिलचस्प नहीं है। जैसे टीवी के सामने बोलने के लिए नहीं, चुप रहने के लिए...

अब जमीन पर आ जाओ प्यारे

अब जमीन पर आ जाओ प्यारे

हां तो हो गई ना वोटिंग। अंगुली पर नीले निशाने वाले फोटो डाल दिए फेसबुक पर। बता दिया ना कि कितने जिम्मेदार नागरिक हो। वाट्सएप के फैमिली ग्रुप में भी फोटो दौड़ा दिए ना। फिर क्या बाकी रह...