Wednesday, June 26, 2019

कॉलम / नजरिया

भगवा की जगह रक्ताभ जामा पहन लो..

भगवा की जगह रक्ताभ जामा पहन लो..

मीडियावाला.इन। भीड़ ने तबरेज को नहीं मारा श्री राम की पावन मूरत को खंडित किया है श्री राम के लिए ही सही केसरिया रंग को बख्श दो...बख्श दो उनके नाम को....बहुत पहले लिखा था अयोध्या राम मंदिर विवाद पर....राम...

नेहरू-गांधी ब्रांड ठप्पे से कांग्रेस अपने मूल चरित्र में कब लौटेगी?

नेहरू-गांधी ब्रांड ठप्पे से कांग्रेस अपने मूल चरित्र में कब लौटेगी?

मीडियावाला.इन। आपातकाल और कांग्रेस  कांग्रेस पार्टी आज जिस दौर से गुजर रही है वह सब देख रहे हैं कि वह एक कमजोर पार्टी और कमजोर नेतृत्व की सिवाय कुछ नहीं बची है, जबकि एक समय में वह...

जबरिया नसबन्दी ने सारे किए धरे पर पानी फेर दिया..!

जबरिया नसबन्दी ने सारे किए धरे पर पानी फेर दिया..!

मीडियावाला.इन। यादों में आपातकाल.. एक   पंद्रह अगस्त, छब्बीस जनवरी यदि सरकारी आयोजन न होते तो पब्लिक इन्हें कब का भुला चुकी होती। लेकिन कुछ ऐसी तिथियां हैं जिन्हें राजनीति तब तक भूलने नहीं देगी जब तक...

अभिनंदन का शौर्य अभिनंदनीय है या उनकी मूंछे ?

अभिनंदन का शौर्य अभिनंदनीय है या उनकी मूंछे ?

मीडियावाला.इन। विंग कमांडर अभिनंदन वर्द्धमान बालाकोट एयर स्ट्राइक ( इसे सफलतापूर्वक अंजाम देने वाले वायुवीरों के नाम अभी भी अज्ञात हैं) के बाद एक पाक युद्धक विमान को मार गिराने और इसी चक्कर में उन्हें पाक द्वारा बंदी बनाने तथा...

वह काला अध्याय और आनेवाला दौर

वह काला अध्याय और आनेवाला दौर

मीडियावाला.इन। आपातकाल की बरसी , 25 जून के लिए विशेष  आपातकाल स्वतंत्र भारत के लोकतांत्रिक इतिहास की सबसे प्रमुख घटना है आपातकाल। 25 जून 1975 की रात को वह लागू किया गया था,...

किस्मत वाली उंगली कमलनाथ की

किस्मत वाली उंगली कमलनाथ की

मीडियावाला.इन। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के दाएं हाथ की उंगली किस्मत वाली निकली।कमलनाथ की इस उंगली का आपरेशन भोपाल के सरकारी अस्पताल में क्या हुया पूरे देश में हल्ला मच गया कि वीआईपी उंगली का आपरेशन सरकारी अस्पताल में...

इन आधुनिक भगीरथों को पानी भरा सलाम !

इन आधुनिक भगीरथों को पानी भरा सलाम !

मीडियावाला.इन।  जब सारी निगाहें घुमड़ते बादलों की तरफ हों, चेन्नई जैसे महानगर भीषण जल संकट से तड़प रहे हों, तमाम राजनीतिक लफ्फाजी के बावजूद ऊपर से बरसने वाला 54 फीसदी पानी बेकार बह रहा हो, तब ऐसे बेकल...

गलती सबकी है तो 'सफ़ेद कोट ही खून से लाल' क्यों ?

गलती सबकी है तो 'सफ़ेद कोट ही खून से लाल' क्यों ?

मीडियावाला.इन। मुजफ्फरपुर में डेढ़ सौ बच्चों का दिमागी बुखार से मरना,आजाद भारत और यहाँ के सभ्य समाज पर,एक बहुत बड़ा कलंक है.इस घटना के कवरेज के लिए एक-दो दिन पहले वहां गई एक टीवी एंकर लगभग दहाड़ते हुए,एक डाक्टर...

“ बिनती राय प्रवीण की सुनियो शाह सुजान , झूठी पातर भक़त हैं बारी बायस स्वान “ |

“ बिनती राय प्रवीण की सुनियो शाह सुजान , झूठी पातर भक़त हैं बारी बायस स्वान “ |

मीडियावाला.इन।रविवारीय गपशप ——————- पर्यटन के लिहाज़ से अब हमारे प्रदेश का स्थान सबसे ज़्यादा पसंद किए जाने वाले प्रदेशों में पाँचवा है , एक सर्वे के मुताबिक़ एम पी आने वाले पर्यटकों की संख्या में पिछले वर्षों में...

ट्रंप का हास्यास्पद दावा

ट्रंप का हास्यास्पद दावा

मीडियावाला.इन। फारस की खाड़ी में पिछले कुछ दिनों से वैसे ही भयानक दृश्य दिखाई पड़ रहे हैं, जैसे 1962 में क्यूबा के समुद्रतट पर दिखाई पड़ रहे थे। जैसे अमेरिका ने क्यूबा पर हमले की तैयारी कर ली थी,...

योग की माया

योग की माया

मीडियावाला.इन।   एक पूरा दिन योग के बारे में सुन-सुनकर शर्मा जी को बड़ी कोफ्त होने लगी। जहां जाए, वहां बस एक ही जिक्र। पड़ोस की छत से लेकर सोशल मीडिया तक बस एक ही कहानी। आदमी जाएं भी...

दक्षिण की हिट फ़िल्मों की रिमेक - कबीर सिंह

दक्षिण की हिट फ़िल्मों की रिमेक - कबीर सिंह

मीडियावाला.इन।                         हमारे समाज में अन्य प्रोफ़ेशन की तुलना में डाक्टर के पेशे का अलग स्थान और महत्व है , और चिकित्सक दरअसल मूलतः कलाकार होता है क्योंकि मानव मन के तारों को पकड़ कर उसकी पीड़ा को हरने का...

इंटरवल तक झेलनीय, फिर पकाऊ ‘कबीर सिंह’

इंटरवल तक झेलनीय, फिर पकाऊ ‘कबीर सिंह’

mediawala.in कबीर सिंह देखकर निकलते वक्त दो दर्शक बात कर रहे थे कि बन गए ना ट्रेलर देखकर उल्लू। 3 घंटे पका दिया। तेलुगु फिल्म अर्जुन रेड्डी का रिमेक कबीर सिंह बेहद इरीटेटिंग फिल्म है। पता नहीं तेलुगु में यह...

क्यों न राष्ट्र को ही धर्म मानकर जिया जाए

क्यों न राष्ट्र को ही धर्म मानकर जिया जाए

मीडियावाला.इन।   श्रीमद्भागवत् गीता, योग, वन्दे मातरम् या राष्ट्रीय स्वाभिमान से जुड़े इन्ही जैसे अन्य विषयों की चर्चा छिड़ती है तो अपने भैय्याजी  बेहद विचलित हो जाते हैं। कभी-कभी विचलन इस हद तक बढ़ जाता है कि वे पागलपन...

पेट की खातिर गर्भाशय का सौदा करने पर विवश गन्ना मजदूर महिलाएं

पेट की खातिर गर्भाशय का सौदा करने पर विवश गन्ना मजदूर महिलाएं

मीडियावाला.इन। यह खबर भी बिहार में चमकी बुखार से मासूमों की हर रही मौतों जितनी ही हिला देने वाली है।  क्योंकि यह पापी पेट की खातिर स्त्रीत्व को ही तिलांजलि देने जैसा है। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री एकनाथ शिंदे...

किस संगठनात्मक ढांचे की सर्जरी करे कांग्रेस

किस संगठनात्मक ढांचे की सर्जरी करे कांग्रेस

मीडियावाला.इन। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी 17वीं लोकसभा के पहले सत्र में शपथ लेने के लिए शाम को 4 बजे पहुंचे। यह उनका विशेषाधिकार है, वहीं भारतीय जनता पार्टी ने शाम को अपनी संसदीय बोर्ड की...

मप्र में सत्ता के 'गर्भपात' के लक्षण 

मप्र में सत्ता के 'गर्भपात' के लक्षण 

मीडियावाला.इन।   मुझे कांग्रेस का समर्थक माना जाता है ये अलग बात है लेकिन अपने सूबे की सियासत के बारे में मै सदैव सचेत रहता हूं । सात समंदर पार से भी मुझे इस समय प्रदेश में कांग्रेस...

असंतुष्टों से मेलजोल का मकसद कहीं पार्टी पर दबाव बनाना तो नहीं?

असंतुष्टों से मेलजोल का मकसद कहीं पार्टी पर दबाव बनाना तो नहीं?

मीडियावाला.इन।  इंदौर की पूर्व सांसद सुमित्रा महाजन 'ताई' के राज्यपाल बनने की एक अफवाह ने पिछले दिनों माहौल को गरमा दिया था! दिनभर बधाइयाँ चलती रही! 'ताई' के समर्थकों ने खुशियाँ मानना शुरू कर दिया था! लेकिन,...

सारे चुनाव एक साथ कैसे हों ?*

सारे चुनाव एक साथ कैसे हों ?*

मीडियावाला.इन। *देश के सारे राजनीतिक दल 19 जून को मिलकर इस मुद्दे पर विचार करेंगे कि क्या लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव एक साथ होने चाहिए ? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आग्रह है कि वे एक साथ होने चाहिए।...

ईश्वर व कलेक्टर के बीच फंसी मिर्ची बाबा की जान और दिग्विजय...! 

ईश्वर व कलेक्टर के बीच फंसी मिर्ची बाबा की जान और दिग्विजय...! 

मीडियावाला.इन। अगर वैराग्यानंद जैसे ढोंगी साधु भगवान से मरने की परमिशन मांगे तो भगवान भी बिना आॅफिशियल क्वेरी के ऐसा करने से हिचकते हैं। क्योंकि जो दावे ईश्वर को लूप में लिए बगैर किए जाते हैं, भगवान उनका हिसाब...