Monday, September 23, 2019

कॉलम / नजरिया

भोपाल लोकसभा सीट को लेकर संघ और बीजेपी भारी असमंजस में

भोपाल लोकसभा सीट को लेकर संघ और बीजेपी भारी असमंजस में

मीडियावाला.इन। भोपाल की लोकसभा सीट को लेकर संघ और बीजेपी भारी असमंजस में है।क्योंकि फिलहाल उनके पास दिग्विजय को हरा सकने बाला कोई प्रत्याशी नही है।दिल्ली के सूत्रों का कहना है कि शाह और मोदी की जोड़ी उमा भारती...

फगुआ का बीटिंग रिट्रीट है 'बुढवा मंगल' लोकरंजन

फगुआ का बीटिंग रिट्रीट है 'बुढवा मंगल' लोकरंजन

इधर इंदौर के राजवाड़े में जैसे रंगपंचमी के दिन हुरियारों का धमाल रहता है वैसे ही उधर बनारस में 'बुढ़वा मंगल' की मस्ती। संकटमोचन बजरंगी  मंदिर का प्रागंण हुरियाए भक्तों से भरा रहता है। बुढवा मंगल एक तरह...

मोदीजी आधा घंटा विलंब क्यों हुआ, कुछ तो बात है!

मोदीजी आधा घंटा विलंब क्यों हुआ, कुछ तो बात है!

देश की सांसें थम सी गईं थीं, जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीटर पर कहा-सुबह ग्यारह बजकर पैंतालीस मिनट से बारह बजे के बीच कोई खास संदेश देश की जनता को दूंगा।वैसे रात आठ बजे पांच- सौ, एक...

हिंदुत्व का औरंगजेबी चेहरा ?

हिंदुत्व का औरंगजेबी चेहरा ?

मीडियावाला.इन। लोकसभा चुनावों के लिए पार्टियां अपने-अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर रही हैं। कई नामी-गिरामी उम्मीदवार रातों-रात पार्टियां बदल रहे हैं, उनकी चर्चा सुर्खियों में हैं लेकिन भाजपा ने अपने जिन वरिष्ठ नेताओं को दरकिनार किया है, उनकी चर्चा...

इन पैसों का मैं क्या करूं

इन पैसों का मैं क्या करूं

मीडियावाला.इन कल से एक ही बात दिमाग में घूम रही है कि राहुल बाबा के छह हजार रुपए महीना खाते में आने लग गया तो मैं उनका करूंगा क्या। दिमाग घड़ी के पेंडुलम की तरह चल रहा है। इतना खुश...

राहुल ने मारा तुरुप का पत्ता

राहुल ने मारा तुरुप का पत्ता

मीडियावाला.इन। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने चुनावी खेल में तुरुप का पत्ता मार दिया है। राहुल ने कहा है कि किसी भी गरीब परिवार की आमदनी 12 हजार रु. महिने से कम नहीं होनी चाहिए। अगर कांग्रेस की सरकार बन...

परदे पर कटुता, आतंकवाद और नफरत का बाजार! 

परदे पर कटुता, आतंकवाद और नफरत का बाजार! 

पड़ौसी देश से खट्टे-मीठे रिश्तों पर फ़िल्में बनाने का जुनून हमारे देश में बरसों से चल रहा है। ये एक ऐसा फ़िल्मी फार्मूला है, जो कभी फेल नहीं होता! पाकिस्तान से रिश्तों पर दो तरह की...

हां मैं मोह में हूं...

हां मैं मोह में हूं...

मीडियावाला.इन। हां मैं मोह में हूं। जिंदगी का मोह, रिश्तों का मोह। जिंदगी के उतार चढ़ाव का मोह। ये मोह मुझे जीने की शक्ति देता है। मेरे अंदर समाहित जुनून का नाम यह मोह ही तो है। इस स्वीकारोक्ति से...

लोहियाजी को पढ़ें मोदी

लोहियाजी को पढ़ें मोदी

मीडियावाला.इन। मुझे खुशी हुई कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डाॅ. राममनोहर लोहिया को उनके जन्म दिन पर याद किया। उन्होंने यह इसलिए नहीं किया कि लोहियाजी के प्रति उनकी कोई श्रद्धा है या फिर वे उनकी समाजवादी विचारधारा को...

बेरोजगारी की अंधी गली और आँखें मूँदे हम

बेरोजगारी की अंधी गली और आँखें मूँदे हम

मीडियावाला.इन। डॉ.राही मासूम रज़ा का एक कालजयी उपन्यास है 'आधा गाँव'.इस उपन्यास की एक पंक्ति हर संवेदनशील व्यक्ति की छाती फाड़कर रख देती है कि "गाँव जब चौड़ी-चौड़ी छातियों वाले जवानों की पीठ देखता है,तो कलेजा मुंह में आ जाता...

'ताई' की उम्मीदवारी पर छाये संदेह के बादल! 

'ताई' की उम्मीदवारी पर छाये संदेह के बादल! 

अभी इस सवाल का जवाब दावे से नहीं दिया जा सकता कि भारतीय जनता पार्टी 'ताई' यानी सुमित्रा महाजन को 9वीं बार इंदौर से उम्मीदवार बनाएगी या नहीं! पार्टी ने उम्मीदवारों की कई लिस्ट जारी कर दी, पर...

आज के भारत का आश्रमवास पर्व!

आज के भारत का आश्रमवास पर्व!

सत्ता का सुख एक चाट है। जो एक बार चख लेता फिर उसके बिना एक पल भी नहीं रह पाता। लत लग जाती है। बेहतर तो यह है कि समय रहते सयाने स्वयं सत्ता से विरक्ति जगा लें।...

आडवाणी के बाद बीजेपी ने अब अटल बिहारी वाजपेई के परिजनों से भी किया किनारा

आडवाणी के बाद बीजेपी ने अब अटल बिहारी वाजपेई के परिजनों से भी किया किनारा

मीडियावाला.इन। लालकृष्ण आडवाणी के बाद अब बीजेपी नेतृत्व ने स्वर्गीय अटलबिहारी बाजपेयी के परिजनों को भी किनारे लगा दिया है।  मोदी और शाह की बीजेपी ने अटल जी की राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ा रहे अनूप मिश्रा का लोकसभा...

आतंक का जवाब आतंक नहीं

आतंक का जवाब आतंक नहीं

मीडियावाला.इन। अब से 12 साल पहले जिन तीन मामलों ने ‘भगवा आतंक’ शब्द को जन्म दिया था, उन तीनों के आरोपियों को पूरी तरह से बरी कर दिया गया है। हैदराबाद की मक्का मस्जिद और अजमेर के हत्याकांड के...

आडवाणी के लिए स्यापा अब व्यर्थ

आडवाणी के लिए स्यापा अब व्यर्थ

मीडियावाला.इन। नयी लोकसभा में भाजपा के संस्थापक लालकृष्ण आडवाणी आपको नजर नहीं आएंगे ,क्योंकि अब उन्हीं की पार्टी ने उन्हें लोकसभा के लिए चुनाव न लड़ाने का फैसला  किया है. ये आडवाणी जी के सक्रिय राजनीतिक जीवन का समापन...

होली के हमजोली

होली के हमजोली

मीडियावाला.इन। होली पर सच पूछें तो लालू जी की बड़ी याद आती है। टीवी वाले भी तो दीवाने थे उनकी होली के। दिन में बीसियों बार कैमरा जूम कर के बनियान पर उतरते रंग के रेले और गवई अंदाज में...

प्रत्याशियों की घोषणा की संहिता

प्रत्याशियों की घोषणा की संहिता

देश में आम चुनावों की घोषणा के साथ ही प्रत्याशियों के नाम की घोषणा भी होना चाहिए ,इस बारे में चुनाव आयोग का हस्तक्षेप अब तक नहीं हुआ है .'मोदी है तो मुमकिन है'में आस्था रखने वालों  के...

मैं भी... मैं भी

मैं भी... मैं भी

एक शहर में एक आदमी डमरू बजाते हुए आता है। तरह-तरह के साजों-सामान से लदा हुआ। जिधर से निकले भीड़ उधर खींची चली आए। और वह निष्ठुर सबसे एक ही सवाल करता, मैं कौन? लोग अचानक पूछे गए...

आखिर, आ ही गया लोकपाल

आखिर, आ ही गया लोकपाल

मीडियावाला.इन। आखिर लोकपाल की नियुक्ति हो ही गई। इस आंदोलन की शुरुआत अब से लगभग पचास साल पहले सांसद डाॅ. लक्ष्मीमल्ल सिंघवी और डाॅ. सुभाष काश्यप ने की थी और फिर यही आंदोलन दस साल पहले अरविंद केजरीवाल और...

फिल्म के कथानक से उतर गए होली के रंग!  

फिल्म के कथानक से उतर गए होली के रंग!  

हिंदी फिल्मों में होली गीतों का अपनी ख़ास जगह हुआ करती थी! अब वो दौर करीब-करीब ख़त्म हो गया। मस्ती से सराबोर इस त्यौहार के ब्लैक एंड व्हाइट से लगाकर रंगीन फिल्मों तक में कई रंग दिखाए...