Sunday, May 19, 2019

कॉलम / नजरिया

मुसाफ़िरनामा

मुसाफ़िरनामा

तो कांग्रेस ने सत्तासीन दल को हिला डाला। खूब। अगले कुछ दिन राजनीतिक जोड़ तोड़ और खरीद फरोख्त के रहेंगे और दो कौड़ी के प्यादे ऊँचे भाव बिकेंगे। पढ़ी लिखी जनता की किस्मत फिर जाने कितने ही मामलों...

कांग्रेसमुक्त भारत या मोदीमुक्त भारत ?

कांग्रेसमुक्त भारत या मोदीमुक्त भारत ?

कांग्रेसमुक्त भारत का नारा देनेवाले नरेंद्र मोदी को क्या अब मोदीमुक्त भारत के लिए तैयार होना होगा ? इन पांचों राज्यों में अभी जो चुनाव लड़े गए हैं, वे किसके नाम पर लड़े गए हैं ? किस चेहरे...

आज तय होगा: कौन काॅन्फीडेंस में था और कौन अोवर काॅन्फीडेंस में ?

आज तय होगा: कौन काॅन्फीडेंस में था और कौन अोवर काॅन्फीडेंस में ?

बहुत संभव है कि इस स्तम्भ को पढ़ने से ज्यादा आपकी निगाहें मप्र विधानसभा चुनाव नतीजों के ट्रेंड पर गड़ी हों। नतीजा जो हो, इस बात को आसानी से भुलाया नहीं जा सकेगा कि चुनाव परिणामों से पहले...

चुनाव परिणाम से बनेंगी-टूटेंगी धारणायें

चुनाव परिणाम से बनेंगी-टूटेंगी धारणायें

मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ विधानसभा के चुनाव परिणाम को लेकर जितनी भी धारणायें पिछले एक महीने में सामने आयी हैं, उनका निष्कर्ष यही है कि कोई एकमत राय नही उभर पा रही है। ऐसा पहली बार हो रहा है...

हिंसात्मक वीडियो के खिलाफ यू-ट्यूब का अभियान

हिंसात्मक वीडियो के खिलाफ यू-ट्यूब का अभियान

मीडियावाला.इन। हिंसक वीडियो के खिलाफ अभियान चलाते हुए यू-ट्यूब की अभिभावक कंपनी गूगल ने लंदन के महापौर को 6 लाख पाउंड का अनुदान दिया है। गूगल ने कहा है कि इस पैसे से सोशल मीडिया पर हिंसात्मक वीडियो...

सेन्ट्रल प्रेस क्लब की नई कार्यकारिणी का गठन, विजय कुमार दास बने राष्ट्रीय संयोजक, गणेश साकल्ले को बनाया गया राष्ट्रीय उपाध्यक्ष

सेन्ट्रल प्रेस क्लब की नई कार्यकारिणी का गठन, विजय कुमार दास बने राष्ट्रीय संयोजक, गणेश साकल्ले को बनाया गया राष्ट्रीय उपाध्यक्ष

मीडियावाला.इन। सेन्ट्रल पे्रस क्लब के अध्यक्ष बने राजेश सिरोठिया, महासचिव मृगेंद्र सिंह  भोपाल, 9 दिसंबर। 'सेन्ट्रल प्रेस क्लब ने भोपाल में 8 दिसंबर 2018 को 'सेन्ट्रल प्रेस क्लबÓ की कार्यकारिणी का पुनर्गठन किया है। घोषित नई कार्यकारिणी...

चिंता सताए, किसके सपने टूटेंगे, किसके सजेंगे !

चिंता सताए, किसके सपने टूटेंगे, किसके सजेंगे !

जीत और हार के बीच एक दिन का फांसला काटे नहीं कटता। एग्जिट पोल ने किसी की नींद हराम कर दी और किसी को नए सपने दिखा दिए। पन्द्रह वर्ष से जारी जीत का सफर सुहाना रहेगा या...

अयोध्याः सरकार जरा दिमाग लगाए

अयोध्याः सरकार जरा दिमाग लगाए

राम मंदिर के लिए दिल्ली के रामलीला मैदान में आज जितनी बड़ी लीला हुई है, उतनी बड़ी लीलाएं पिछले 50 साल में कम ही हुई हैं। रामभक्तों की संख्या कोई दस लाख बता रहा है, कोई पांच लाख...

खतरे में खेती और अविश्वसनीय बीमा योजना 

खतरे में खेती और अविश्वसनीय बीमा योजना 

भारतीय ग्राम-समाज को बहुत ध्यान से देखें,तो लगेगा कि वहां एक बड़े प्रतिशत में ऐसे लोग हैं,जो अपने जायज़ हक़ों और सुविधाओं के बारे में जानते ही नहीं,और,कोई उन्हें बताने के लिए ज्यादा गंभीर भी नहीं है.दूसरे वे...

अपना इंदौर’ के बाद अभयजी लिख रहे हैं ‘होल्कर राजवंश’ का इतिहास 

अपना इंदौर’ के बाद अभयजी लिख रहे हैं ‘होल्कर राजवंश’ का इतिहास 

जब निर्माण चल रहा था तब शहर ही नहीं मप्र के खेल इतिहास की  उपलब्धियों में शामिल होने वाली इस भव्य इमारत का नाम खेल प्रशाल था और जिस दिन तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुनसिंह खेल प्रशाल का लोकार्पण करने...

नेताजी इन एरोप्लेन मोड

नेताजी इन एरोप्लेन मोड

टीवी पर एक्जीट पोल चल रहे थे और इधर नेताजी के चेहरे के भाव ऊपर-नीचे हो रहे थे। आसपास मजमा जमा था, लेकिन सबको जैसे सांप सूंघ गया। कुछ समझ नहीं आ रहा। फोन है कि चुप होने...

सच हुए सपने तेरे, झूम ले मन मेरे 

सच हुए सपने तेरे, झूम ले मन मेरे 

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 28 नवंबर के बाद के नौ दिन यानि 7 दिसंबर तक ज्यादा सुकून के थे या फिर 7 दिसंबर की शाम साढ़े पांच बजे के बाद का समय। यदि भारतीय जनता पार्टी और भारतीय राष्ट्रीय...

सर्वे की बाढ़ के बाद भी असमंजस का पहाड़ ! 

सर्वे की बाढ़ के बाद भी असमंजस का पहाड़ ! 

न्यूज चैनलों के सर्वे भी बंटे हुए, कुछ बीजेपी तो बाकी कांग्रेस के साथ  ये बढ़ा हुआ मतदान कर रहा है दोनों दलों को हैरान-परेशान  इस बार के चुनाव और मतदान के बाद हाल...

लोकतंत्र की छाती, शनि की साढे साती 

लोकतंत्र की छाती, शनि की साढे साती 

अपने देश की हर समस्या के इलाज के लिए टोने टोटके हैं। कठिन से कठिन समस्या का समाधान उसी से निकलता है। 11 को चुनाव परिणाम आने हैं, एक अखबार ने ब्योरा छापा कौन उम्मीदवार किस मंदिर की...

इटावा के सच्चे हिंदीप्रेमी

इटावा के सच्चे हिंदीप्रेमी

आज मैं इटावा में हूं। उत्तरप्रदेश के इस शहर से मुझे बहुत प्रेम है, क्योंकि यही वह शहर है, जिसके दो स्वतंत्रता सेनानियों ने आज से 50-52 साल पहले मेरी बहुत जमकर मदद की थी। वे थे स्वर्गीय...

ग्यारह को ग्यारह बजे किसके बारह बजेंगें..

ग्यारह को ग्यारह बजे किसके बारह बजेंगें..

बहुत दिनों के बाद उनका फोन आया। नाम देख मैं चौंका। पहले गाहे बगाहे फोन करते थे, मगर पूरे चुनाव के दौरान मुझे भुलाये रखा और राजस्थान चुनाव की वोटिंग खत्म होने के अगले दिन दोपहर को फोन...

रविवारीय गपशप 

रविवारीय गपशप 

प्रदेश में आम चुनावों के बाद अब एग्ज़िट पोल से सरकार बनने के क़यासों का दौर जारी है जिसकी समाप्ति 11 दिसम्बर के मतगणना के परिणामों के साथ ही हो पाएगा | इस बार ई व्ही एम को...

किसान से ज्यादा तो मप्र सरकार डूबी है कर्ज में, जिस दल के लिए भी बजे ताली - स्वागत करेगी वित्तीय बदहाली 

किसान से ज्यादा तो मप्र सरकार डूबी है कर्ज में, जिस दल के लिए भी बजे ताली - स्वागत करेगी वित्तीय बदहाली 

राजस्थान और तेलंगाना में मतदान  संपन्न होने के साथ ही न्यूज चैनलों पर हार जीत के सर्वे की बाढ़ आ गई है। इस बीच मप्र चुनाव में कांग्रेस 152 सीटों पर जीत को लेकर आश्वस्त है, भाजपा भी...

भारत की सबसे बड़ी दुश्मन

भारत की सबसे बड़ी दुश्मन

कहते हैं कि आदमी सांस न ले सके तो मर जाएगा लेकिन अब सांस लेने से आदमी मर रहा है। सांस लेने पर जो हवा नाक से अंदर जाती है, उससे पिछले साल भारत में 12 लाख 40...

औसत लव इन केदारनाथ

औसत लव इन केदारनाथ

मीडियावाला.इन। कहा जाता है कि प्रेम शाश्वत होता है, इसलिए प्रेम कहानियां भी शाश्वत होती है। प्रेम कहानियों में दो पात्र होते है और बॉलीवुड में लगभग सभी फिल्मों में ये दो पात्र समान ही होते है। इनके...