Tuesday, September 17, 2019

कॉलम / नजरिया

मोहब्बतों के देश में नफरत की पहली आंधी:न्यूजीलैंड

मोहब्बतों के देश में नफरत की पहली आंधी:न्यूजीलैंड

मीडियावाला.इन। मेरे लिए न्यूजीलैंड मोहब्बतों का देश है। क्राइसचर्च इस देश के दिल की धड़कन। यहां की मस्जिद में हुआ हमला मोहब्बतों के देश में नफरत की पहली आंधी है...सोच सकते हैं कैसी दुनिया बना दी है हमने...यदि एक तरफ...

दुनिया मेरे आगे/सिसकते दरख्त

दुनिया मेरे आगे/सिसकते दरख्त

मीडियावाला.इन। हमारे गांव के सीवान पर महुआ के दो बड़े दरख्त थे। उम्र कोई दो सौ वर्ष। उन्हीं के बगल से गांव जाने का रास्ता गुजरता था। पहले ढर्रा था, फिर मुरम वाली सड़क से पक्की डामर सड़क होते हुए...

फोटोग्राफ फिल्म नहीं, आपके धीरज की परीक्षा है

फोटोग्राफ फिल्म नहीं, आपके धीरज की परीक्षा है

नवाजुद्दीन सिद्दीकी और दंगल गर्ल सानिया मल्होत्रा की फोटोग्राफ फिल्म नहीं, आपके धीरज की परीक्षा है। फिल्म इतनी मंथर गति से चलती है कि अगर आप नींद में हो तो ही इसे पसंद कर सकते हैं। गेट वे...

मसूद जी और नेहरू

मसूद जी और नेहरू

मीडियावाला.इन। एक आदमी है नाम है मसूद अजहर। पेशे से आतंकी हैं। वे भले ही देश के लिए जी का जंजाल बने हुए हैं, लेकिन उन्हें आतंकी नहीं कहा जा सकता, चाहे तो जी जरूर कह सकते हैं। मसूद...

भाजपा को बचाएगी कांग्रेस

भाजपा को बचाएगी कांग्रेस

मीडियावाला.इन। लोकसभा चुनाव सिर पर आ गया है और विपक्षी गठबंधन ने अभी चलना भी शुरु नहीं किया है। उसके पांव अभी से लड़खड़ाने शुरु हो गए हैं। दो-तीन हफ्ते पहले जो न्यूनतम साझा कार्यक्रम या घोषणा-पत्र बनाने की...

ड्रैगन साँप का पुरखा, अभी तक नहीं समझे!

ड्रैगन साँप का पुरखा, अभी तक नहीं समझे!

मीडियावाला.इन। संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में चीन लगातार चौथी बार पाकिस्तान के हक में अजहर मसूद को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के आड़े आ गया। यह अप्रत्याशित नहीं। 'पयंपानम् भुजंगानाम केवलम् विष वर्धनम्' लेकिन  वह तो साँप का...

मिल मर गयी ,महल ज़िंदा है

मिल मर गयी ,महल ज़िंदा है

मध्य प्रदेश की राजनीति में आजादी से लेकर बीस साल पहले तक 'मिल' और 'महल' का दखल चला करता था .समय की मार मिलों को निगल गयी लेकिन मौन का वजूद आज भी जस का तस है .अब...

सत्ता खोने की पीड़ा और भाजपा का आर्तनाद! 

सत्ता खोने की पीड़ा और भाजपा का आर्तनाद! 

जब से मध्यप्रदेश में कांग्रेस की कमलनाथ सरकार बनी है, भाजपा की रातों की नींद हराम है! छोटे कार्यकर्ता से लगाकर डेढ़ दशक तक सरकार चलाकर फुर्सत हुए शिवराजसिंह चौहान तक को हार पच नहीं रही! जिस दिन...

प्रचार की नहीं, प्रारूप की जरूरत

प्रचार की नहीं, प्रारूप की जरूरत

देश  में होने वाले आम चुनावों की घोषणा के बाद राजनीतिक दल चुनाव प्रचार में अपनी समूची ताकत झौंकने में जुट गए हैं,जबकि अब प्रचार की नहीं बल्कि उस प्रारूप की जरूरत है जो नयी सरकार बनाने वालों...

शिवराज, राकेश और भार्गव की तिकड़ी के मुकाबले नाथ-दिग्‍गी की जोड़ी

शिवराज, राकेश और भार्गव की तिकड़ी के मुकाबले नाथ-दिग्‍गी की जोड़ी

मिशन 2019 की औपचारिक घोषणा हो गई है। मप्र में चार चरणों में मतदान होगा। इसका अर्थ यह हुआ कि दोनों ही प्रमुख दलों कांग्रेस और भाजपा को प्रचार के लिए अपनी ताकत को उचित रूप से विभाजित...

चुनावी रण को इंतजार है मुद्दों पर सर्जिकल स्ट्राईक का

चुनावी रण को इंतजार है मुद्दों पर सर्जिकल स्ट्राईक का

चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव की घोषणा कर दी है। चुनावी शंखनाद हो गया, वैसे तो पिछले छह महीनों से देश के राजनीतिक आकाश में विपक्ष सवालों के जरिये चुनावी माहौल बनाने में लगा था। मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़...

आचार संहिता की नयी चुनौतियाँ

आचार संहिता की नयी चुनौतियाँ

लोकसभा चुनावों के लिए आदर्श आचार संहिता लागू होते ही नयी चुनौतियां भी सामने आकर खड़ी हो गयीं हैं,चुनाव आयोग के लिए इन नयी चुनौतियों से निबटना इस बार की सबसे बड़ी "अग्निपरीक्षा"है .ये चुनौतियां तकनीक की हैं...

ग्रामीण बेरोजगारी का जिन्न और अँधा मशीनीकरण

ग्रामीण बेरोजगारी का जिन्न और अँधा मशीनीकरण

मीडियावाला.इन। अपनी तरह के अकेले पत्रकार श्री पी.साईंनाथ ने तीन-चार दिन पहले ही भोपाल में कहा था कि-"अपने देश में कृषि का संकट,अब कृषि से काफी आगे जाकर,पूरे समाज का संकट बन गया है.यह इंसानियत का संकट भी बन...

संघ करे सामाजिक क्रांति

संघ करे सामाजिक क्रांति

मीडियावाला.इन। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर्वोच्च अधिकारियों की जो बैठक इस समय ग्वालियर में चल रही है, वह पिछले पांच वर्षों की बैठकों में सबसे महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह चुनाव का मौसम है। यह भाजपा के जीवन-मरण का सवाल...

फोल्डिंग डेमोक्रेसी

फोल्डिंग डेमोक्रेसी

मीडियावाला.इन। डेमोक्रेसी की दुकान सजी हुई थी। बाहर बोर्ड पर लिखा था, यहां सभी प्रकार की डेमोक्रेसी उपलब्ध है। अंदर तरह-तरह की डेमोक्रेसी सजी हुई थी। दीवार पर घड़ी करके रखने वाली। कुर्सी के पहियों में सजाने वाली और फाइनली...

बारास्ता सड़क से संसद की मुहिम

बारास्ता सड़क से संसद की मुहिम

मीडियावाला.इन।संतोष की बात ये है की प्रदेश में लगातार 15 साल सत्ता में रहने के बाद भी भाजपा के नेता और कार्यकर्ता संघर्ष करना भूले नहीं हैं .प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के तीन महीने के भीतर ही भाजपा ने अपने...

एक अपराजेय योद्धा जिसे  सिर्फ मौत ही मात दे पायी...! जन्मदिवस पर विशेष

एक अपराजेय योद्धा जिसे सिर्फ मौत ही मात दे पायी...! जन्मदिवस पर विशेष

मीडियावाला.इन।स्व.माधवराव सिंधिया के जन्मदिवस  पर एक संस्मरण  देश में जब भी एक संजीदा और कर्तव्यनिष्ठ राजनेता की चर्चा चलेगी उसमें एक नाम होगा स्वर्गीय माधवराव सिंधिया जी का। (जन्म 10 मार्च 1945 को मुंबई में, निधन...

भगोरिया एक उत्सव है जो होली का ही एक रूप है।

भगोरिया एक उत्सव है जो होली का ही एक रूप है।

भगोरिया एक उत्सव है जो होली का ही एक रूप है। यह मध्य प्रदेश के मालवा अंचल (धार, झाबुआ, खरगोन आदि) के आदिवासी इलाकों में बेहद धूमधाम से मनाया जाता है। भगोरिया केसमय धार, झाबुआ, खरगोन आदि क्षेत्रों...

राम मंदिर:विचित्र मध्यस्थता

राम मंदिर:विचित्र मध्यस्थता

मीडियावाला.इन।   राम मंदिर और बाबरी मस्जिद विवाद अदालत से नहीं, मध्यस्थता से हल हो, हमारे सर्वोच्च न्यायालय की इस पहल का मैंने हार्दिक स्वागत किया था, क्योंकि 1990-92 में यह विवाद मध्यस्थता के चलते ही हल होने...

कहां से आती हैं इतनी औरतें

कहां से आती हैं इतनी औरतें

मीडियावाला.इन। सवाल यह है कि ये जो औरतें नजर आ रही हैं, वे कहां से आई हैं। कैसे इन्हें लाया गया है। ढूंढकर निकाली गई हैं, जैसे किसी पुरानी संदूक से। 365 दिन की धूल झाडक़र, इन्हें खड़ा कर दिया...