Monday, September 23, 2019

कॉलम / नजरिया

आतंकवाद: बात और लात,दोनों चले

आतंकवाद: बात और लात,दोनों चले

मीडियावाला.इन कश्मीर में हमारे लगभग 50 जवानों की हत्या ने देश को ऐसा दहला दिया है कि अनेक परस्पर विरोधी नेता भी आज एक स्वर में बोल रहे हैं। यह वक्त इतना नाजुक है कि भारत सरकार जो भी कदम...

ऊंट पर बैठकर हड़बड़ी में हो रही गौ-रक्षा

ऊंट पर बैठकर हड़बड़ी में हो रही गौ-रक्षा

मीडियावाला.इन हमारे बच्चे अपनी किताब-कापियों में जरूर पढ़ते-लिखते हैं कि-गाय एक पालतू जानवर है.इसके पालतू और उपयोगी होने से भी बहुत-बहुत आगे तक की बातें,हमें सिखाई और पढ़ाई जाती रही हैं.लेकिन,पिछले लगभग ढाई सौ सालों से,अपने देश में,गाय बाकी सबके ...

मोमबत्ती में जला रहे हैं अपनी बेबसी

मोमबत्ती में जला रहे हैं अपनी बेबसी

मीडियावाला.इन। बहुत हंसी उड़ाई जा रही है। मोमबत्ती गैंग फिर आ गई सडक़ों पर। सवाल उठाए जा रहे हैं, क्या हो जाएगा इससे। लोग तैयार होकर आ रहे हैं, बैनर उठा रहे हैं, फोटो खिंचवाकर सोशल मीडिया पर डाल रहे...

शहादत

शहादत

  1. वह बहुत छोटी थी। पता भी नहीं था कि कुछ दिन पहले बक्से में सामान भरकर ड्यूटी पर गए पिता को क्यों इस तरह बक्से में लाया गया है। वह परिवार को रोते-बिलखते देखती रही। समझ नहीं...

पुलवामा हमला: समस्या और समाधान

पुलवामा हमला: समस्या और समाधान

मीडियावाला.इन   छद्म युद्ध : पाकिस्तान समर्थित आतंकियों ने लगभग तीन दशकों से जम्मू कश्मीर को युद्धक्षेत्र में बदल दिया है। सैन्य बलों ने समस्या पर काफी हद तक काबू पा लिया है और जम्मू और लद्दाख क्षेत्र पूरी...

आतंकवाद की गर्भनाल पर प्रहार करो

आतंकवाद की गर्भनाल पर प्रहार करो

मीडियावाला।इन    "कल सपने में इन्दिराजी दिखी थीं। रक्षा मंत्रालय के वाँर रूम में  इस्पात से दमकते चेहरे के साथ युद्ध का संचालन करते हुए।  दृश्य 1971 के युद्ध के दिख रहे थे। ढाका में पाकिस्तान का जनरल...

दिखाएं अब 56 इंच का सीना

दिखाएं अब 56 इंच का सीना

मीडियावाला.इन। कश्मीर में हुए 44 जवानों के बलिदान ने देश का दिल दहला दिया है। लोग चाहते हैं कि इस खून का बदला खून से लिया जाए। इतना ही नहीं, आतंकवाद को जड़ से उखाड़ दिया जाए लेकिन इस...

इस शहादत की कीमत कौन चुकाएगा ?

इस शहादत की कीमत कौन चुकाएगा ?

पुलवामा में सीआरपीएफ के 42  जवानों की नृशंस हत्या को खून का घूँट समझकर नहीं पिया जा सकता .इस नृशंसता की कीमत भी वसूल करना होगी और इसका समुचित जबाब भी देना होगा ,ये जिम्मेदारी हमारे हुक्मरानों की है...

पत्रकार होना बहुत आसान लेकिन बापना जैसा परोपकारी होना मुश्किल

पत्रकार होना बहुत आसान लेकिन बापना जैसा परोपकारी होना मुश्किल

मीडियावाला.इन। पत्रकार तो बहुत हैं और होते भी रहेंगे लेकिन महेंद्र बापना जैसा परोपकारी पत्रकार फिलहाल तो नजर नहीं आता। वो इतने सस्ते में चला जाएगा विश्वास नहीं होता।एक्सीडेंट भी होते रहते हैं महीनों बेड पर रहता या...

किस पर हमला करें और किसे श्रद्धांजलि दें

किस पर हमला करें और किसे श्रद्धांजलि दें

मीडियावाला.इन। पुलवामा हमले के बाद कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने स्वीकार किया है कि हमसे बड़ी भूल हुई है। इंटेलिजेंस की सूचना के बाद अगर हाई वे की अच्छी तरह से चौकसी की जाती तो शायद यह सब...

किस पर हमला करें और किसे श्रद्धांजलि दें

किस पर हमला करें और किसे श्रद्धांजलि दें

मीडियावाला.इन। पुलवामा हमले के बाद कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने स्वीकार किया है कि हमसे बड़ी भूल हुई है। इंटेलिजेंस की सूचना के बाद अगर हाई वे की अच्छी तरह से चौकसी की जाती तो शायद यह सब नहीं...

आ ही गया गली बॉय का टाइम

आ ही गया गली बॉय का टाइम

गली बॉय फिल्म का गाना है अपना टाइम आएगा, नंगा ही तू आएगा, क्या घंटा लेकर जाएगा। फिल्म देखकर लगता है कि वाकई रणवीर सिंह, आलिया भट्ट और जोया अख्तर का टाइम आया हुआ है। भारत में भले...

लोकतंत्र को न बनाएं मजाक तंत्र

लोकतंत्र को न बनाएं मजाक तंत्र

  मीडियावाला.इन देश की राजनीति किधर जा रही है ? कोई विपक्षी नेता प्रधानमंत्री को चोर और दलाल कहता है तो सत्तारुढ़ नेता अपने विपक्षी नेताओं को भ्रष्ट, भौंदू, मंदमति आदि क्या-क्या नहीं कह रहे हैं। देश के बड़े-बड़े...

कमलनाथ की कार्यशैली:सख्त फैसले और सबको साथ लेकर चलने का अंदाज़

कमलनाथ की कार्यशैली:सख्त फैसले और सबको साथ लेकर चलने का अंदाज़

मीडियावाला.इन मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार को दो महीने हो गए! इन दौरान बहुत कुछ घट गया। सरकार के अंदर भी और बाहर भी! बहुमत के किनारे पर बैठी सरकार को गिराने के बहुत...

मुकम्मल इश्क

मुकम्मल इश्क

मीडियावाला.इन।   प्रेम कभी-कभी कील की तरह सीने में चुभकर रह जाता है। किसी खूंटी पर टांगकर छोड़ देता है। हालांकि बाज नहीं आता। फिर हर लम्हे से झांककर देखता रहता है।...

इंदौर के गली-चौबारे तुम्हें ढूंढ रहे हैं महेंद्र..

इंदौर के गली-चौबारे तुम्हें ढूंढ रहे हैं महेंद्र..

12 फरवरी की सुबह इंदौर शहर के लगभग तमाम गलियां-चौबारें उठकर पीपल्यापाला स्थित रीजनल पार्क श्मशान घाट पर आ जुटे थे। वे इस बात से परेशान थे कि एक शख्स , जो दिन-रात उनके चक्कर लगाया करता था,...

नर्मदा मैय्या को उन धुरंधरों से भी मुक्ति दिलाएं जो मां के वक्षस्थल पर पाखंड का चिमटा गाड़कर भावनाओं का धंधा कर रहे हैं

नर्मदा मैय्या को उन धुरंधरों से भी मुक्ति दिलाएं जो मां के वक्षस्थल पर पाखंड का चिमटा गाड़कर भावनाओं का धंधा कर रहे हैं

मीडियावाला.इन।      अभी कुछेक हफ्ते पहले अमरकंटक जाना हुआ। हर गली चौराहे नमामि देवि नर्मदे ..के पोस्टरों, होर्डिंग्स से पटे मिले। आदि शंकराचार्य विरचित नर्मदाष्टक की पंक्तियां..त्वदीय पाद पंकजम् नमामि देवि नर्मदे ..अब विग्यापनों की पंच लाईन बन चुकी...

पत्रकारों के बींच सम्मान से बापू पुकारे जाते थे:स्मृति शेष महेंद्र बाफना

पत्रकारों के बींच सम्मान से बापू पुकारे जाते थे:स्मृति शेष महेंद्र बाफना

मीडियावाला.इन।इंदौर |पारिवारिक मित्र ,शहर के जानेमाने पत्रकार साथी महेंद्र भैया का  जाना कर गया स्तब्ध ..यूँ अचानक ?कितने ख्याल आये क्या  सोच कर निकले  होंगे ,कहाँ जा रहे होंगे ,खबर  ने परिवार पर कैसा वज्रपात किया होगा ?मन का बेहद...

सच, क्या लिखेंगे

सच, क्या लिखेंगे

मीडियावाला.इन। बुजुर्ग नेता ने देह त्याग दी। जन संवेदनाएं उमड़ पड़ी। निकाल लाए आंखें नम करने को ढेर सारे किस्से। कब, कहां, क्या किया, कैसे किया। किसके लिए झंडे उठाए, नारे लगाकर बंद दरवाजे खुलवाए। कहां अड़ कर खड़े हुए,...

बीमार धरती मां और इलाज में सुस्त हम

बीमार धरती मां और इलाज में सुस्त हम

मीडियावाला.इन। प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 19 फरवरी,2015 के दिन,राजस्थान के सूरतगढ़ में कहा था कि अपनी धरती मां बीमार है.हम व्यवस्था कर रहे हैं कि अब किसान को भी पता चले,कि जिस मिट्टी पर वह मेहनत कर...