Monday, August 26, 2019

कॉलम / नजरिया

चुनाव जीतने के लिए मुफ्तखोरी पर बोली अदालत - लोग आलसी होते जा रहे हैं !

चुनाव जीतने के लिए मुफ्तखोरी पर बोली अदालत - लोग आलसी होते जा रहे हैं !

द्रमुक और अन्नाद्रमुक द्वारा सत्ता सुख की खातिर चावल आदि बांटने की लोकलुभावन घोषणाएं आम थीं। अब यह बीमारी उत्तरी राज्यों और देखा जाए तो पूरे देश में कमोबेश हो गई है। अच्छी बात यह है कि राशन...

विजयवर्गीय के साथ न हो जाए ‘गढ आला पण सिंह गेला’

विजयवर्गीय के साथ न हो जाए ‘गढ आला पण सिंह गेला’

सिर्फ इंदौर ही नहीं, पूरे प्रदेश और देश की नजर इंदौर की तीन नंबर विधानसभा सीट पर लगी हुई है। यह सीट इतनी चर्चित नहीं होती यदि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय अपने पुत्र आकाश का टिकट...

पार्टी प्रवक्ता ( और मीडिया )

पार्टी प्रवक्ता ( और मीडिया )

सभी पार्टियों में प्रवक्ताओं की एक टीम होती है।इलेक्ट्रॉनिक चैनलों के आने के  बाद विशेष रूप सेइनका महत्व बढ़ गया है। ये काफ़ी पढ़े लिखे,चतुर एवं अद्यतन जानकारी रखने वाले होते हैं। इनकी अपनी पार्टी के प्रति वफ़ादारी...

किसान रैली: दर्द निवारण का कोई स्थायी मंतर मिलेगा या फिर...?

किसान रैली: दर्द निवारण का कोई स्थायी मंतर मिलेगा या फिर...?

दिल्ली के जंतर मंतर पर कर्ज माफी और फसलों की समर्थन मूल्य पर खरीदी जैसी बुनियादों मांगों को लेकर  हुए किसानों के बड़े जमावड़े और इस मंच पर विपक्षी नेताअो की प्रभावी मौजूदगी से यह सवाल फिर उठ...

थ्रीडी में देखो तो पैसा वसूल है ‘रोबोट 2.0’

थ्रीडी में देखो तो पैसा वसूल है ‘रोबोट 2.0’

दक्षिण के सुपरस्टार रजनीकांत की फिल्म 2.0 देखने का मजा बड़े सिनेमाघर में और थ्रीडी में ही है। इस फिल्म का स्टार कलाकार कोई है, तो वीएफएक्स टेक्नीक ही है, जिसके माध्यम से रोबोट फिल्म की तरह ही...

यह मतदान प्रतिशत कोई लहर तो नहीं है!

यह मतदान प्रतिशत कोई लहर तो नहीं है!

मीडियावाला.इन। करीब ढाई प्रतिशत मतदान बढ़ना किस बात का संकेत है। यह पहली बार मतदाता सूची में दर्ज युवा और चुनाव आयोग की मतदान प्रतिशत बढ़ाने की कोशिश है। राजनीतिक दलों के बीच पिछले चुनाव की तुलना में...

हनुमानजी को दलित बताकर दलित वोट साधने का घटिया हथकंडा 

हनुमानजी को दलित बताकर दलित वोट साधने का घटिया हथकंडा 

योगी अादित्यनाथ का हिंदू धर्म ज्ञान कितना है, पता नहीं, लेकिन एक बात का ‘श्रेय’ उन्हें देना पड़ेगा कि उन्होंने हिंदुअों के लगभग सर्वमान्य देवता हनुमान को भी राजनीतिक रूप से विवादित बना दिया है। योगी ने विधानसभा...

दो और दो का जोड़ हमेशा चार कहाँ होता है..!

दो और दो का जोड़ हमेशा चार कहाँ होता है..!

अब 11 दिसम्बर तक अखबारों में वर्गपहेली न भी छपे तो पाठकों को कोई ऐतराज़ नहीं। चुनाव आयोग ने बैठे-ठाले गुणाभाग लगाने का मौका दे दिया है। परिणाम आने के पहले तक एक-एक बार सभी प्रत्याशियों की पतंगें...

इमरान के कहे पर पानी फिरा

इमरान के कहे पर पानी फिरा

गुरु नानक बरामदे के शिलान्यास के अवसर पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने जो चमत्कारी भाषण दिया, उस पर पानी फिर गया है। हमने अगले दक्षेस सम्मेलन के बहिष्कार की घोषणा कर दी और यह भी कह...

हनुमान दलितोत्थान समिति 

हनुमान दलितोत्थान समिति 

मैंने हनुमान जी से पूछा, अब तो आपकी जाति भी पता चल गई है, फिर क्या इरादा है। कहने लगे इरादा मतलब? मैंने कहा, यही कि जाति की गंगा में आप भी हाथ धो लीजिए। कोटा, परमिट, लाइसेंस,...

मालवा-निमाड़ में तो ढहता नजर आ रहा है किला ! 

मालवा-निमाड़ में तो ढहता नजर आ रहा है किला ! 

इन्हें और उन्हें भी इतने मतदान की उम्मीद तो नहीं थी। और शायद यही वजह है कि मतदान के प्रतिशत में आए उछाल से आम आदमी से ज्यादा दोनों दलों में राजनीति के दिग्गज हैरान हैं।बंपर फसल की...

कश्मीरः सत्यपाल मलिक पहल करें

कश्मीरः सत्यपाल मलिक पहल करें

कश्मीर विधानसभा भंग होने पर देश के लगभग सभी अखबारों और टीवी चैनलों ने जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक की आलोचना की थी लेकिन मैं ही शायद एक मात्र ऐसा राजनीतिशास्त्री और पत्रकार हूं, जिसने लिखा था- ‘कश्मीरः...

इशारों-इशारों में बहुत कुछ कह गए महेश जोशी और सुमित्रा महाजन

इशारों-इशारों में बहुत कुछ कह गए महेश जोशी और सुमित्रा महाजन

मतदान संपन्न हो चुका है और पूर्वानुमान के अस्तबल से निकले घोड़े महालक्ष्मी (मुंबई) के रेसकोर्स मैदान से भी तेज गति में दौड़ने लगे हैं।इस बीच मतदान संपन्न होने से पूर्व मप्र कांग्रेस के चाणक्य कहे जाने वाले...

इस रिकाॅर्ड मतदान में गूंजते लोकतंत्र के मंगलाष्टक !

इस रिकाॅर्ड मतदान में गूंजते लोकतंत्र के मंगलाष्टक !

बुधवार को विधानसभा चुनाव के लिए हुए रिकाॅर्ड मतदान का नतीजा क्या होगा, यह बंपर वोटिंग किसके पक्ष में जाएगा, किसके खिलाफ जाएगा, इन तमाम सवालों के जवाब केवल अनुमानों में ही ढूंढे जा सकते हैं। लेकिन मतदान...

वोट करें, इसलिए कि लोकतंत्र का दीया जलाए रखना है !

वोट करें, इसलिए कि लोकतंत्र का दीया जलाए रखना है !

जिस तरह हर साल आने के बाद भी दिवाली का रोमांच कम नहीं होता, उसी तरह प्रत्येक पांच साल बाद आने वाले चुनावों का जलवा भी कायम रहता है। कभी वो लोकसभा, कभी विधानसभा तो कभी स्थानीय चुनावों...

मध्य प्रदेश: विधानसभा चुनाव के नतीजे तय करेंगे शिवराज का भविष्य

मध्य प्रदेश: विधानसभा चुनाव के नतीजे तय करेंगे शिवराज का भविष्य

मीडियावाला.इन। मध्य प्रदेश के चुनाव नतीजों पर सीएम शिवराज सिंह चौहान का राजनीतिक भविष्य भी काफी हद तक निर्भर करेगा। अगर शिवराज जीते तो उनका कद नरेंद्र मोदी और अमित शाह के बराबर हो जाएगा।...

नो पेड न्यूज याने बिना विज्ञापन प्रचार

नो पेड न्यूज याने बिना विज्ञापन प्रचार

नकर थोड़ा अजीब लगता है कि जब नो पेड न्यूज(पैसे लेकर छापने या टीवी पर दिखाने वाली खबरें-लेख) है तो प्रचार कैसे? यही तो वो काला जादू है, जो चुनावी मौसम में प्रिंट मीडिया काले अक्षरों के जरिये...

ब्रिटेन तेरे कूचे से यों निकला

ब्रिटेन तेरे कूचे से यों निकला

ब्रिटेन और यूरोपीय संघ के बीच जो समझौता हुआ है, उसके बारे में यह पता नहीं कि ब्रिटिश संसद उस पर मुहर लगाएगी या नहीं ? यदि ब्रिटिश संसद ने उसे रद्द कर दिया तो प्रधानमंत्री थेरेसा मे...

मुद्दों का टोटा और सत्ता की वैतरणी कुल-गोत्र के भरोसे पार करने की हिमाकत ! 

मुद्दों का टोटा और सत्ता की वैतरणी कुल-गोत्र के भरोसे पार करने की हिमाकत ! 

क्या आपको इसके पहले ऐसा कोई चुनाव याद पड़ता है, जिसमें मुद्दों का इस कदर टोटा पड़ गया हो कि शीर्ष नेताअों को भी  वोट के लिए अपने पितरों और दूसरे के पूर्वजों और गोत्र का सार्वजनिक इजहार...

विंध्य की तासीर में बदलाव की भाँप

विंध्य की तासीर में बदलाव की भाँप

चुनाव के आखिरी दौर की रिपोर्टिंग और आँकलन सबसे ज्यादा माथापच्ची का काम है। माहौल भाँग के नशे की तरह तरंगित होता रहता है, फिर भी सन् 85 से लेकर पिछले चुनाव तक की रिपोर्टिंग का तजुर्बा चुप...