Thursday, September 19, 2019

कॉलम / नजरिया

काश किसी लिफाफे में बहन भी आ जाए

काश किसी लिफाफे में बहन भी आ जाए

मीडियावाला.इन। अब राखी पर बहन कम ही आ पाती है। उसकी जगह एक लिफाफा आ जाता है। कूंकू-चावल के साथ चंद राखियां। रस्म तो निभ जाती है, लेकिन यादों का कारवां मीलों पहले ही ठिठक कर रह जाता है। मुंह...

जिनके व्यक्तित्व की कोई थाह नहीं

जिनके व्यक्तित्व की कोई थाह नहीं

मीडियावाला.इन। आज की उथली राजनीति और हल्के नेताओं के आचरण के बरक्स देखें तो अटलबिहारी बाजपेयी के व्यक्तित्व की थाह का आंकलन कर पाना बड़े से बड़े प्रेक्षक, विश्लेषक और समालोचक के बूते की बात नहीं। बाजपेयी...

लाल किले से नया मोदी

लाल किले से नया मोदी

मीडियावाला.इन।                                   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किले से अब तक जितने भी भाषण दिए हैं, उनमें आज का भाषण सर्वश्रेष्ठ रहा, हालांकि उसमें कुछ जरुरी बातें और भी होनी चाहिए थीं। इस भाषण की सबसे बड़ी खूबी यह रही...

ये कश्मीर के नवविहान का मंगलाचरण है

ये कश्मीर के नवविहान का मंगलाचरण है

मीडियावाला.इन।                                             आजादी के बाद कश्मीर का यह पहला पंद्रह अगस्त होगा जब वहां एक विधान और एक निशान की प्राणप्रतिष्ठा होगी। दो प्रधान की बात दशकों पहले से ही अप्रसांगिक है। यह वह सपना था जिसे डा. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने...

सिर्फ याद करने की तारीख न रहे आजादी का ये दिन!

सिर्फ याद करने की तारीख न रहे आजादी का ये दिन!

मीडियावाला.इन। देश का जनमानस उस तिथि या घटना को ही अक्षुण्ण बनाए रख पाता है, जिसमें आध्यात्मिकता का पुट हो! क्योंकि, एतिहासिकता में आध्यात्मिकता का भाव होना जरुरी है। अन्यथा, भारतीय जनमानस औपचारिकताओं में अपनी रुचि कम कर देता है।...

आज राज-चिंतन की बजाए, राष्ट्र-चिंतन की जरूरत

आज राज-चिंतन की बजाए, राष्ट्र-चिंतन की जरूरत

मीडियावाला.इन।                                       आजादी की 72वीं वर्षगांठ पर राष्ट्र चिंतन करने की महती आवश्यकता है।  पिछले एक पखवाड़े में सरकार के एक बड़े कदम को राष्ट्र चिंतन के नजरिए से देखा जाना चाहिए था, मगर उस पर राज चिंतन हावी है। जम्मू-कश्मीर...

कश्मीर-   दुखद प्रहसन

कश्मीर- दुखद प्रहसन

मीडियावाला.इन। कश्मीर से भारतीय संविधान की धारा ३७० हटाने के बाद से मोदी और शाह की सरकार यह सिद्ध करने पर आमादा है कि वहाँ किसी प्रकार का कोई भी विरोध नहीं हो रहा है। दूसरी तरफ़...

गांधी के सपनों का भारत..

गांधी के सपनों का भारत..

मीडियावाला.इन। स्वतंत्रता दिवस मनाने से पहले पढ़ने और विचार करने के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का यह आलेख प्रस्तुत है जिसे उन्होंने 15  अगस्त 1947 से पहले लिखा था। लेख में परिकल्पना है कि स्वतंत्रता मिलने के...

कश्मीरः खस्ता-हाल पाकिस्तान

कश्मीरः खस्ता-हाल पाकिस्तान

मीडियावाला.इन। विदेश मंत्री जयशंकर बिल्कुल ठीक मौके पर चीन पहुंचे। उनके पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी चीन जाकर खाली हाथ लौट चुके थे लेकिन चीन कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तानी दबाव में आकर कोई अप्रिय रवैया अख्तियार...

अब वही उद्योगपति आएगा, जो निवेश साथ लाएगा!

अब वही उद्योगपति आएगा, जो निवेश साथ लाएगा!

मीडियावाला.इन। शिवराज-सरकार के कार्यकाल में पाँच इन्वेस्टर्स समिट हुए! लेकिन, सब बेनतीजा रहे! इन समिट में लाखों करोड़ के एमओयू पर दस्तखत हुए, पर कोई भी निवेश जमीन पर नहीं उतरा! क्योंकि, इन इंवेस्टर्स समिट के प्रति सरकार गंभीर...

कैसे चुनें कांग्रेस अध्यक्ष

कैसे चुनें कांग्रेस अध्यक्ष

मीडियावाला.इन। कांग्रेस-जैसी महान पार्टी कैसी दुर्दशा को प्राप्त हो गई है ? उसकी कार्यसमिति जैसी अंधी गुफा में आजकल फंसी हुई है, वैसी वह सुभाषचंद्र बोस और पट्टाभिसीतारमय्या तथा नेहरु और पटेल की टक्कर के समय भी नहीं फंसी...

कांग्रेस में गांधी बिन सब सून..

कांग्रेस में गांधी बिन सब सून..

मीडियावाला.इन। यदि मामला किसी परिवार का, किसी कारोबारी घराने का, किसी दुकान,शॉपिंग मॉल का हो तो आप यह तय करने वाले कौन कि उसे कौन चलाये, कौन उसका मुखिया हो? लेकिन बात जब देश के प्रमुख राजनीतिक दल की...

गरीबी कलंक ही नहीं 'कोढ़ में खाज'भी है

गरीबी कलंक ही नहीं 'कोढ़ में खाज'भी है

मीडियावाला.इन। दुनिया का सभ्य समाज गरीबी को अपने ऊपर लगा सबसे बड़ा कलंक मानता है.आपको,यह आंकड़ा ढूंढने से कहीं भी मिल जाएगा कि 1960 के विश्व आर्थिक सर्वेक्षण में आय का अधिकतम अंतर 30 गुना था.उसके अगले...

कश्मीरः अब आगे क्या करें ?

कश्मीरः अब आगे क्या करें ?

मीडियावाला.इन। कश्मीर के सवाल पर भारत को रोज़ ही किसी न किसी राष्ट्र का सीधा या घुमा-फिराकर समर्थन मिलता जा रहा है। अब तो रुस ने भी कह दिया है कि यह भारत का आतंरिक मामला है।...

कश्मीर-देश की चाहत,मोदी ने दी राहत 

कश्मीर-देश की चाहत,मोदी ने दी राहत 

मीडियावाला.इन। कहते हैं, जहाँ चाह वहां राह होती हैं.प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी ने उस कहावत को चरितार्थ किया और महिमा मंडित भी.जो पिछले 66 वर्षों में नहीं हो सका वो महज़ 66 घंटों में हो गया.देश का अभिशाप धारा...

धारा 370 और कश्मीरी लडकियां

धारा 370 और कश्मीरी लडकियां

मीडियावाला.इन। जम्मू कश्मीर में धारा 370 क्या हटी , वहां की लडकियों को लेकर बडी अजीब तरह की पोस्ट सोशल मीडिया पर आने लगीं - हम कश्मीरी दुल्हन लाएंगे । अब दुल्हनों की कमी नहीं रहेगी और कुछ तो इससे...

कानून के गलियारे में 'तीन तलाक़' और दुनिया का नजरिया!

कानून के गलियारे में 'तीन तलाक़' और दुनिया का नजरिया!

मीडियावाला.इन। संसद में पारित होने के बाद 'तीन तलाक' से जुड़ा विधेयक अब कानून बन गया। सरकार ने अब पुरुषों की पत्नी को तीन बार बोलकर छोड़ देनेकी प्रथा को अपराध बना दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने पहले...

कश्मीर - धारा 370 की समाप्ति

कश्मीर - धारा 370 की समाप्ति

मीडियावाला.इन। एन के त्रिपाठी                              अपने पिछले लेख में मैंने कश्मीर में हो रही सुरक्षा की तैयारियों के संबंध में कहा था कि इसमें कुछ संकेत अवश्य निहित है।कल गृह मंत्री द्वारा सुरक्षा से संबंधित अधिकारियों...

भरोसा है: एसोसिएशन ऑफ इंडस्ट्रीज को विश्वास है मंजूरी दे देंगे कमलनाथ  बिजली में 60 पैसे की सबसिडी

भरोसा है: एसोसिएशन ऑफ इंडस्ट्रीज को विश्वास है मंजूरी दे देंगे कमलनाथ बिजली में 60 पैसे की सबसिडी

मीडियावाला.इन। प्रस्ताव से खुश हैं हजारों उद्यमी !  इंदौर। मप्र में कमलनाथ सरकार के अस्तित्व में आने के बाद मप्र विद्युत नियामक आयोग ने सूक्ष्म और लघु उद्यमियों को प्रति यूनिट 60...

कश्मीर की यह एतिहासिक ईद

कश्मीर की यह एतिहासिक ईद

मीडियावाला.इन।   कश्मीर ने कांग्रेस तथा कई अन्य विपक्षी दलों को बड़ी दुविधा में डाल दिया है। इन दलों के कई प्रमुख नेता (कश्मीर के मामले में) खुलकर सरकार का समर्थन कर रहे हैं बल्कि कश्मीर के पूर्व महाराजा...