Monday, September 23, 2019

कॉलम / नजरिया

विकास की पोल खोलती बत्ती गुल

विकास की पोल खोलती बत्ती गुल

बत्ती गुल मीटर चालू' फिल्म एक ऐसी कार की तरह है,जिसके हॉर्न को छोड़कर सबकुछ बजता है।  कुछ अच्छे संवाद, गाने, लोकेशन और शाहिद कपूर का डांस के स्टेप्स अच्छे हैं, लेकिन टॉयलेट वाली प्रेम कहानी के नारायण...

इस धुएँ को कल की आग समझिए..!

इस धुएँ को कल की आग समझिए..!

पहले तीन सच्चे किस्से फिर आगे की बात  एक  यह सचमुच हैरत में ड़ालने वाली बात थी। सत्ताधारी दल के राज्यमंत्री दर्जा प्राप्त एक महाशय ने जो ग्लानिपूर्वक सुनाया उसे आप पढ़े- मेरा ड्राइवर अनुसूचित...

गाय को राष्ट्र्माता घोषित कराने ‘आॅक्सीजन’ का अजब तर्क !

गाय को राष्ट्र्माता घोषित कराने ‘आॅक्सीजन’ का अजब तर्क !

कम से कम इस मामले में उत्तराखंड की भाजपा सरकार ने मोदी सरकार से लीड ले ली है। वहां की विधानसभा ने गाय को ‘राष्ट्रमाता’ घोषित करने का  प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित कर केन्द्र सरकार को भेज दिया...

संघ प्रमुख से 215 सवाल

संघ प्रमुख से 215 सवाल

मैं इस बहस में नहीं पडऩा चाहता कि क्या वजह थी, जिसके कारण संघ प्रमुख मोहन भागवत को इस तरह संगठन की विचारधारा, सोच-समझ पर बात करने के लिए आगे आना पड़ा। मेरा मन उन 215 सवालों पर...

देश में जातीय टकराव उफान पर

देश में जातीय टकराव उफान पर

देश मे जातीय टकराव उफान पर है। गत २० मार्च को सुप्रीम कोर्ट के दो जजों की बेंच ने एस सी एस टी प्रिवेंशन आफ एट्रोसिटी एक्ट मे गिरफ़्तारी की प्रक्रिया मे कुछ नये प्रावधान कर दिये। गिरफ़्तारी के...

राजनीतिक चरणोदक प्राशन में छिपा चाटुकारिता का फार्मूला

राजनीतिक चरणोदक प्राशन में छिपा चाटुकारिता का फार्मूला

पैर पड़ना, पैर छूना आदि भारतीय राजनीति में प्रवेश, प्रोन्नत और प्रस्थापित होने के सर्वमान्य और आजमाए  नुस्खे माने जाते रहे हैं। यह भी माना जाता है कि ‍िबना किसी के पैर पड़े या पैर पकड़े राजनीति में जगह...

क्यों बेहाल कर रहे हैं माई के लाल !

क्यों बेहाल कर रहे हैं माई के लाल !

उज्जैन में करणी सेना के आह्वान पर सपाक्स समाज के सहयोग से सवर्ण और पिछड़े समाज की जो रैली निकली है उससे भाजपा, कांग्रेस सहित अन्य दलों की नींद उड़ना स्वाभाविक है। किसी को उम्मीद ही नहीं थी...

हाय हम अनूप न हुए

हाय हम अनूप न हुए

37 बरस छोटी शिष्या से प्रेम संबंधों का खुलासा कर अनूप जलोटा पूरे देश में एक नई लगन लगाने में कामयाब हो गए हैं। चाय-पान की दुकानों से लेकर सोशल मीडिया तक में हर कोई जलोटा के इस...

कांग्रेस की कट-आउट पा‍ॅलिटिक्स का ‘दिग्विजय’  एंगल

कांग्रेस की कट-आउट पा‍ॅलिटिक्स का ‘दिग्विजय’ एंगल

इसे कांग्रेस की ‘कट एंड आउट’ पाॅलिटिक्स का तल्ख अंजाम कहें कि भोपाल में हाल में आयोजित कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी  की सभा में ज्यादा चर्चा वरिष्ठ नेता और मप्र के पूर्व मुख्‍यमंत्री दिग्विजय...

आभासी दुनिया से निकलो..प्यारो

आभासी दुनिया से निकलो..प्यारो

छात्र जीवन में हम लोग राजनीति के बारे में खूब चर्चा करते थे। यह राजनीति कालेज और विश्वविद्यालय के परिसर के बाहर की भी होती थी। मँहगाई, बेरोजगारी समेत देश के वे तमाम मुद्दे जो उस समय उबाल...

‘टाइम’ मैगजीन का ‍बिकना और सूचना को ज्ञान में बदलना !

‘टाइम’ मैगजीन का ‍बिकना और सूचना को ज्ञान में बदलना !

अमूमन ऐसी खबरें अखबार के बिजनेस काॅलम की मानी जाती हैं, लेकिन ये खबर पूरे प‍त्रकारिता जगत को चौंकाने वाली थी कि अमेरिका की पहली साप्ताहिक पत्रिका और दुनिया में अपनी ‍विशिष्ट और खोजपरक रिपोर्टिंग के लिए मशहूर ‘टाइम’...

कांग्रेसी क्षत्रपों में खींचतान, भाजपा की चाल तो नहीं?

कांग्रेसी क्षत्रपों में खींचतान, भाजपा की चाल तो नहीं?

कांग्रेस और गुटबाजी मध्यप्रदेश में एक दूसरे पूरक हैं! जब भी कांग्रेस अपने चिर प्रतिद्वंदी भाजपा के खिलाफ कमर कसने की तैयारी करती थी, पार्टी तीन हिस्सों में बंटकर अपने-अपने सेनापतियों के पीछे खड़ी हो जाती थी। कांग्रेस के...

प्रेम की धारा...राधा

प्रेम की धारा...राधा

हर धारा कभी न कभी समुद्र में विलीन हो जाती है। जो बूंदें समुद्र के प्रेम में आकंठ डूबी होती हैं, उनके सामने यदा-कदा समुद्र खुद भी उपस्थित हो जाता है। प्रेम की धरती सिर्फ घूमती नहीं, वेग...

अष्टधातुई देवों से अलग एक जन नेता

अष्टधातुई देवों से अलग एक जन नेता

मीडियावाला.इन। पिछले दो दशकों में पहली बार ऐसा होगा जब श्रीनिवास तिवारी का जन्मदिन बिना उनकी मौजूदगी के आसन्न विपन्नता के बीच मनाया जाएगा। तिवारीजी काँग्रेस के कद्दावर नेता थे। विधानसभाध्यक्ष के रूप में उनके दस साल देश...

मस्जिद में मोदी, शिव की शरण में राहुल राजनीति की बदलती बयार

मस्जिद में मोदी, शिव की शरण में राहुल राजनीति की बदलती बयार

इक्कीसवी सदी में भारतीय राजनीति ने महत्वपूर्ण बदलाव देखे हैं। वक्त गवाह रहा है कि जनता ने इक्कीसवी सदी के शुरुआत में राजनीति के महानायक स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की विकासपरक राजनीति को देखा, परखा, सराहा और फिर...

पुणे नहीं ग्वालियर से शुरू हुआ था  गणेशोत्सव

पुणे नहीं ग्वालियर से शुरू हुआ था गणेशोत्सव

पुणे में इस समय गणेशोत्सव स्थापना की 125 वीं  जयंती मनाई जा रही है। जानते तो सभी यहीं है कि गणेशोत्सव की शुरूआत लोकमान्य तिलक ने 1893 में पुणे से की थी, लेकिन हकीकत यह है कि उससे काफी...

बॉलीवुड के तो बस एक ही बप्पा

बॉलीवुड के तो बस एक ही बप्पा

इन दिनों पूरे देश में गणेशोत्सव मनाया जा रहा है। लेकिन, मुंबई और बॉलीवुड में गणेशजी का ज्यादा ही महत्व है। सामाजिक समरसता के मकसद से मनाए जाने वाले इस पर्व ने न केवल समाज में अपनी छाप छोड़ी, बल्कि...

सरदार सरोवर तेरी यही कहानी, आंसू ज्यादा कम भरा है पानी,,

सरदार सरोवर तेरी यही कहानी, आंसू ज्यादा कम भरा है पानी,,

पिछले साल के वो दिसंबर के दिन थे। जब हम गुजरात में विधानसभा चुनावों के दौरान गुजरात के गांव गलियों की खाक छान रहे थे। हमारे एमपी से लगे इलाके में पहले दौर का मतदान होना था। मुझको...

सैयदना से मुलाकात कर कांग्रेस की परेशानी बढ़ा गए मोदी

सैयदना से मुलाकात कर कांग्रेस की परेशानी बढ़ा गए मोदी

इंदौर कीर्ति राणा। बोहरा समाज के 53 वें धर्मगुरु- सैयदना आलीकदर मुफद्दल मौला वाअज फरमाने आए हुए हैं।उन्होंने या समाज ने तो इच्छा जाहिर की नहीं कि राजनीतिक दलों के प्लेरमुख उनसे मिलने आएं लेकिन प्रमुख राजनीतिक दलों...