Wednesday, February 20, 2019
सोशल मीडिया स्टार बना अल सल्वाडोर का राष्ट्रपति

सोशल मीडिया स्टार बना अल सल्वाडोर का राष्ट्रपति

अल सल्वाडोर में सोशल मीडिया के स्टार की जीत राष्ट्रपति चुनाव में होना सोशल मीडिया के बढ़ते महत्व को बताता है। हाल ही हुए राष्ट्रपति चुनाव में 37 वर्ष के नायिब बुकेले को बहुमत मिला है। बुकेले इसके पहले अल सल्वाडोर की राजधानी सेन अल्वाडोर के मेयर रह चुके है। चुनाव के पहले राउंड से ही बुकेले आगे चल रहे थे। 

चुनाव में प्रचार के लिए बुकेले ने अपनी एक सोशल मीडिया टीम बनाई थी। यह टीम उनके बारे में लगातार लिखती रहती थी। यह बताया जाता था कि बुकेले ही है, जो भ्रष्टाचार से लड़ सकते है और कानून का राज कायम कर सकते है। सोशल मीडिया पर बुकेले के फॉलोअर्स की संख्या करीब 5 लाख है। चुनाव के दिनों में फेसबुक का उपयोग बढ़-चढ़कर किया गया। बुकेले के वीडियो वायरल किए गए। जब भी बुकेले भाषण देने जाते, तब सौ से अधिक युवाओं के भीड़ मंच पर बुकेले के पीछे खड़ी रहती। इसका लक्ष्य यह बताना होता कि बुकेले युवाओं के प्रतिनिधि है और वे हिंसा को रोककर युवाओं को रोजगार दे सकते हैं।   

बुकेले की जीत अल सल्वाडोर के राजनीतिक इतिहास में एक बड़ी घटना मानी जा रही है। अल सल्वाडोर में 2 ही प्रमुख पार्टियां है और उन्हीं में से राष्ट्रपति का चुनाव होता है। अल सल्वाडोर लंबे समय तक गृह युद्ध के कारण अशांति का शिकार रहा है। अल सल्वाडोर के इतिहास में लंबे समय के बाद किसी छोटी पार्टी का नेता राष्ट्रपति बना है। 

बुकेले ने अपना राजनैतिक जीवन दक्षिणपंथी पार्टी एफएमएलएन के साथ शुरू किया था। 1992 के बाद वहां केवल वामपंथी पार्टियां ही जीतती आई है। बुकेले की पार्टी गठबंधन की सरकार बनाएगी, क्योंकि वहां कई पार्टियां ने मिलकर वामपंथी सरकार के खिलाफ मोर्चा संभाला था। अल सल्वाडोर की राजनैतिक हालात बहुत खराब है, वहां भ्रष्टाचार चरम पर है। बुकेले ने वादा किया था कि अगर वे सरकार में आए, तो भ्रष्टाचार के विरोध में एक आयोग का गठन करेंगे। 

अल सल्वाडोर की आर्थिक हालात इतनी खराब है कि वहां गरीब और ज्यादा गरीब होता जा रहा है। ऐसे में लोगों ने दोनों प्रमुख पार्टियों से निराश होकर बुकेले को राष्ट्रपति पद के लिए चुना है। एक राजनैतिक विश्लेषक के अनुसार बुकेले की जीत यह बात साबित करती है कि लोग बदलाव चाहते है। बुकेले के पास भी कोई बड़ा राजनैतिक एजेंडा नहीं है, लेकिन फिर भी बुकेले का जीतना यह साबित करता है कि लोग चुनाव में नई आशा देखते है। बुकेले के सामने खड़े होने वाले पूर्व मंत्री को तीसरे क्रम पर वोट मिले। 

बुकेले ने लोगों से वादा किया है कि वे गृह युद्ध के बाद के हालात सुधारेंगे और लोगों की सुरक्षा के लिए कदम उठाएंगे। देशभर में चल रहे गैंगवार और अवैध वसूली करने वालों से भी सख्ती से निपटेंगे। अभी सल्वाडोर की यह हालात है कि केवल गुंडों के गिरोह ही सड़कों पर बेखौफ होकर घूम सकते है। अल सल्वाडोर की एक चौथाई आबादी देश के बाहर चली गई और यहां-वहां पनाह ले रही है। बुकेले ने अपने चुनाव अभियान को सोशल मीडिया पर बहुत प्रभावी तरीके से पेश किया। 

बुकेले आगामी 1 जून 2019 को राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे। उनके पिता मुस्लिम हैं और मां ईसाई। इस बात को उनके विरोधी उम्मीदवारों ने बहुत उछाला। बुकेले खुद को ईसाई बताते रहे हैं। एक बार वे मस्जिद में भी जा चुके हैं, वहां नमाज पढ़ते हुए उनके फोटो अखबारों में प्रकाशित हुए थे। बुकेले ने बाद में सफाई दी कि उनके पिता भी ईसाई ही थे, लेकिन बाद में उन्होंने धर्म परिवर्तन कर लिया। 3 साल तक मेयर के पद पर सफलतापूर्वक काम करने वाले बुकेले ने मेयर के रूप में अच्छा काम किया था। 

बुकेले को इस चुनाव में जीतने वोट मिले, उतने वोट उनकी दोनों विरोधी पार्टियों के उम्मीदवारों को भी नहीं मिले। चुनाव के दौरान व्यापक हिंसा हुई थी, जिसमें 285 लोग मारे गए थे। अल सल्वाडोर की आर्थिक हालात पिछले कई वर्षों से बदतर होती जा रही थी। पिछले वर्ष उसकी विकास दर 2.6 प्रतिशत थी, जो पिछले पांच वर्षों में सर्वाधिक थी। सल्वाडोर के लोगों की तनख्वाहें इतनी कम है कि वे अपना भोजन भी खरीद पाने में असमर्थ रहते है। पूरे देश की आबादी 66 लाख है, जिसमें से लगभग एक तिहाई आबादी गरीबी रेखा के नीचे है। 
 

0 comments      

Add Comment


डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी

डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी जाने-माने पत्रकार और ब्लॉगर हैं। वे हिन्दी में सोशल मीडिया के पहले और महत्वपूर्ण विश्लेषक हैं। जब लोग सोशल मीडिया से परिचित भी नहीं थे, तब से वे इस क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। पत्रकार के रूप में वे 30 से अधिक वर्ष तक नईदुनिया, धर्मयुग, नवभारत टाइम्स, दैनिक भास्कर आदि पत्र-पत्रिकाओं में कार्य कर चुके हैं। इसके अलावा वे हिन्दी के पहले वेब पोर्टल के संस्थापक संपादक भी हैं। टीवी चैनल पर भी उन्हें कार्य का अनुभव हैं। कह सकते है कि वे एक ऐसे पत्रकार है, जिन्हें प्रिंट, टेलीविजन और वेब मीडिया में कार्य करने का अनुभव हैं। हिन्दी को इंटरनेट पर स्थापित करने में उनकी प्रमुख भूमिका रही हैं। वे जाने-माने ब्लॉगर भी हैं और एबीपी न्यूज चैनल द्वारा उन्हें देश के टॉप-10 ब्लॉगर्स में शामिल कर सम्मानित किया जा चुका हैं। इसके अलावा वे एक ब्लॉगर के रूप में देश के अलावा भूटान और श्रीलंका में भी सम्मानित हो चुके हैं। अमेरिका के रटगर्स विश्वविद्यालय में उन्होंने हिन्दी इंटरनेट पत्रकारिता पर अपना शोध पत्र भी पढ़ा था। हिन्दी इंटरनेट पत्रकारिता पर पीएच-डी करने वाले वे पहले शोधार्थी हैं। अपनी निजी वेबसाइट्स शुरू करने वाले भी वे भारत के पहले पत्रकार हैं, जिनकी वेबसाइट 1999 में शुरू हो चुकी थी। पहले यह वेबसाइट अंग्रेजी में थी और अब हिन्दी में है। 


डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी ने नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने पर एक किताब भी लिखी, जो केवल चार दिन में लिखी गई और दो दिन में मुद्रित हुई। इस किताब का विमोचन श्री नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के एक दिन पहले 25 मई 2014 को इंदौर प्रेस क्लब में हुआ था। इसके अलावा उन्होंने सोशल मीडिया पर ही डॉ. अमित नागपाल के साथ मिलकर अंग्रेजी में एक किताब पर्सनल ब्रांडिंग, स्टोरी टेलिंग एंड बियांड भी लिखी है, जो केवल छह माह में ही अमेजॉन द्वारा बेस्ट सेलर घोषित की जा चुकी है। अब इस किताब का दूसरा संस्करण भी आ चुका है।