Thursday, October 24, 2019
हॉलीवुड फिल्मों को टक्कर देती ‘वॉर’

हॉलीवुड फिल्मों को टक्कर देती ‘वॉर’

मीडियावाला.इन।

ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ की मुख्य भूमिका वाली वॉर पैसा वसूल फिल्म है। एक्शन, सस्पेंस और थ्रिल के शौकीन दर्शकों को यह फिल्म निश्चित ही पसंद आएगी। फिल्म की कमजोर कड़ी है, तो इसके गाने। फिल्म की कहानी में जबरदस्त टि्वस्ट है, जो दर्शकों को अंत तक बांधे रखते है। फिल्म देखते हुए कभी बोरियत नहीं होती। फिल्म रिलीज होने के पहले ही 30 करोड़ के अधिक के टिकटों की बुकिंग हो चुकी थी। हॉलीवुड की फिल्मों जैसी इस फिल्म में एक्शन के अलावा गाने और इमोशनल दृश्य भी हॉलीवुड की फिल्म की तरह है, जो पचते नहीं। 

शुरू में लगता है कि यह एक गुरू और चेले के बीच वाॅर है। फिर लगता है कि शायद यह आतंकवाद के खिलाफ सुरक्षा बलों की लड़ाई है। भारतीय सेना के स्पेशल मिशन हैंडल करने वाले मेजर और उसकी टीम के सदस्य लेफ्टिनेंट और मेजर के बीच की यह कहानी जितनी आसान दिखती है, उतनी आसान है नहीं। दर्शक के मन में बार-बार सवाल उठता है कि यह लड़ाई हो किसके बीच रही है और इसका अंजाम क्या होगा? कभी लगता है कि ऋतिक रोशन इस फिल्म के खलनायक हैं, तो कभी लगता है टाइगर श्रॉफ खलनायक हैं। कभी लगता है कि टाइगर श्रॉफ का रोल खत्म हो गया और कभी लगता है कि ऋतिक का किरदार अब आगे नहीं बढ़ पाएगा। वाणी कपूर की भूमिका जबरदस्ती ठूंसी गई है। जिस तरह का कृत्रिम इमोशन पैदा करने की कोशिश की गई, वह नाकाम रहा। 

फिल्म की कहानी दिलचस्प है और स्क्रिप्ट भी कसी हुई है। फिल्म उसके ट्रेलर की तुलना में ज्यादा सफल है। फिल्म में केवल दो गाने है और उनकी प्रस्तुती कुछ इस तरह है कि दर्शक के लिए झेल पाना कठिन नहीं होता। आर्मी के स्पेशल यूनिट को जितना भव्य दिखाया गया है, वह शायद ही कहीं होता हो। ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ को बराबर की भूमिकाएं मिली है और ऐसा नहीं कहा जा सकता है कि यह फिल्म ऋतिक के कंधे पर ही है। ऑस्ट्रेलिया, माल्टा, मोरक्को, आर्कटिक सर्कल और भारत में विभिन्न स्थानों पर जबरदस्त एक्शन फिल्माए गए है। ये एक्शन जमीन, आकाश, समंदर और बर्फीले रेगिस्तान में फिल्माए गए है। अलग-अलग सीन हॉलीवुड की अलग-अलग फिल्मों की याद दिलाते है। ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ पर गाने भी फिल्माए गए है, ताकि उनकी प्रतिभा का दोहन हो सकें। शायद ही बॉलीवुड की किसी फिल्म में इतने शानदार एक्शन देखने को मिले हो। आशुतोष राणा, अनुप्रिया गोयनका, दीपांतिका शर्मा, सोनी राजदान, आरिफ जकरिया, मोहित चौहान आदि के भी छोटे-मोटे रोल है। वाणी कपूर की तो एंट्री ही इंटरवल के बाद पर्दे पर होती है और वह भी कुछ देर के लिए ही। फिल्म के तीन गाने केवल वाद्य यंत्रों पर ही बजते है, किसी का स्वर नहीं है। 

फिल्म का अंत जिस तरह दिखाया गया है, उससे लगता है कि वॉर-2 भी जल्द ही आएगी। उसमें ऋतिक रोशन तो होंगे ही, लेकिन वाणी कपूर और टाइगर श्राॅफ शायद न हो। फिल्म में जबरदस्त मारधाड़, कार रेस, मोटर बाइक रेस, उड़ते हवाई जहाज पर स्टंट और कहानी के टि्वस्ट दर्शकों को पसंद आएंगे।  एक्शन, सस्पेंस, थ्रिलर देखने का मन हो, तो यह फिल्म अवश्य देखी जा सकती 

0 comments      

Add Comment


डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी

डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी जाने-माने पत्रकार और ब्लॉगर हैं। वे हिन्दी में सोशल मीडिया के पहले और महत्वपूर्ण विश्लेषक हैं। जब लोग सोशल मीडिया से परिचित भी नहीं थे, तब से वे इस क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। पत्रकार के रूप में वे 30 से अधिक वर्ष तक नईदुनिया, धर्मयुग, नवभारत टाइम्स, दैनिक भास्कर आदि पत्र-पत्रिकाओं में कार्य कर चुके हैं। इसके अलावा वे हिन्दी के पहले वेब पोर्टल के संस्थापक संपादक भी हैं। टीवी चैनल पर भी उन्हें कार्य का अनुभव हैं। कह सकते है कि वे एक ऐसे पत्रकार है, जिन्हें प्रिंट, टेलीविजन और वेब मीडिया में कार्य करने का अनुभव हैं। हिन्दी को इंटरनेट पर स्थापित करने में उनकी प्रमुख भूमिका रही हैं। वे जाने-माने ब्लॉगर भी हैं और एबीपी न्यूज चैनल द्वारा उन्हें देश के टॉप-10 ब्लॉगर्स में शामिल कर सम्मानित किया जा चुका हैं। इसके अलावा वे एक ब्लॉगर के रूप में देश के अलावा भूटान और श्रीलंका में भी सम्मानित हो चुके हैं। अमेरिका के रटगर्स विश्वविद्यालय में उन्होंने हिन्दी इंटरनेट पत्रकारिता पर अपना शोध पत्र भी पढ़ा था। हिन्दी इंटरनेट पत्रकारिता पर पीएच-डी करने वाले वे पहले शोधार्थी हैं। अपनी निजी वेबसाइट्स शुरू करने वाले भी वे भारत के पहले पत्रकार हैं, जिनकी वेबसाइट 1999 में शुरू हो चुकी थी। पहले यह वेबसाइट अंग्रेजी में थी और अब हिन्दी में है। 


डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी ने नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने पर एक किताब भी लिखी, जो केवल चार दिन में लिखी गई और दो दिन में मुद्रित हुई। इस किताब का विमोचन श्री नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के एक दिन पहले 25 मई 2014 को इंदौर प्रेस क्लब में हुआ था। इसके अलावा उन्होंने सोशल मीडिया पर ही डॉ. अमित नागपाल के साथ मिलकर अंग्रेजी में एक किताब पर्सनल ब्रांडिंग, स्टोरी टेलिंग एंड बियांड भी लिखी है, जो केवल छह माह में ही अमेजॉन द्वारा बेस्ट सेलर घोषित की जा चुकी है। अब इस किताब का दूसरा संस्करण भी आ चुका है।