Monday, February 18, 2019
बलात्कारः भारत कैसे बचे ?

बलात्कारः भारत कैसे बचे ?

अमेरिका में चले मी टू (मैं भी) अभियान की तरह महिलाओं का अभियान अब भारत में भी चल पड़ा है। अब कई महिलाएं खुलकर बता रही हैं कि किस अभिनेता या किस संपादक या किस अफसर ने कब उनके साथ बलात्कार करने, अश्लील हरकतें करने, डरा-धमकाकर व्यभिचार करने की कोशिशें की हैं। अभी तो नेताओं और प्रोफेसरों के नाम खुलने शुरु नहीं हुए हैं। यदि वे नाम भी सामने आने लगे तो हमारे अखबारों और टीवी चैनलों की पौ-बारह हो जाएगी। उनके पाठक और दर्शक करोड़ों की संख्या में बढ़ जाएंगे। आपने कभी सोचा कि इस मुद्दे पर हमारे अखबारों में संपादकीय लेख क्यों नहीं आ रहे हैं ? इसीलिए कि जहां-जहां सत्ता है, वहां-वहां दुराचार की उत्कट संभावना है। यह शाश्वत सत्य है। यह सत्य सभी देशों और सभी कालों पर लागू होता है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की करतूतों को लेकर यह अभियान शुरु हुआ लेकिन अब यह सारे देशों, सारे शहरों और गांवों में फैलेगा। यह अच्छा ही है। इससे अब नारी-जाति को अपेक्षाकृत अधिक सुरक्षा मिलेगी लेकिन यहां खतरा यह भी है कि इस अभियान का इस्तेमाल किसी आदमी से बदला निकालने, पैसा मूंडने, बदनाम करने और ब्लेकमेल करने के लिए भी किया जा सकता है। संतोष का विषय है कि ऐसी संभावनाओं का मुकाबला करने के लिए दफ्तरों और जिलों में निगरानी कमेटियां बनाई जा रही हैं, जिनकी मुखिया महिलाएं ही होंगी। लेकिन जब किसी महिला को मैं यह कहते हुए सुनता हूं कि फलां आदमी ने मेरे साथ बार-बार बलात्कार किया तो मैं सोचता हूं कि उस औरत को उस बलात्कारी से दुगुनी सजा मिलनी चाहिए, क्योंकि जब पहली बार उसके साथ जोर-जबर्दस्ती हुई तो उसने शोर क्यों नहीं मचाया ? वह दूसरी बार उसी आदमी के पास गई, इसका मतलब साफ है कि उसकी मौन स्वीकृति थी। लेकिन मैं यह भी मानता हूं कि सिर्फ सजा के डर से बलात्कार या व्यभिचार नहीं रुक सकता। कड़ी सजा तो होनी ही चाहिए लेकिन सजा से बड़ा संस्कार है। यदि बचपन से किसी ने संस्कार का कवच पहन रखा हो तो उस कवच को रेफल का प्रक्षेपास्त्र और बोफोर्स की तोप भी नहीं तोड़ सकती। अब से पचास साल पहले सोवियत रुस के खुले स्वेच्छाचार (ओपन सेक्स) और कोलंबिया युनिवर्सिटी में न्यूयार्क के शिथिल आचरण के माहौल में मेरे जैसे छात्र के सामने कई फिसलपट्टियां आईं लेकिन मैं क्यों बेदाग टिका रहा ? क्या किसी कानून के डर से ? नहीं। अपने सुदृढ़ आर्यसमाजी संस्कारों के कारण ! इसी तरह नवभारत टाइम्स और पीटीआई भाषा के संपादक रहते हुए मैं सदैव अपने कमरों के दरवाजे और खिड़कियां खुली रखता था। शीशे की दरवाजे और खिड़कियां, ताकि पूरा हाॅल मुझे देखता रहे और हाॅल को मैं देखता रहूं। यदि हमारे नौजवानों को हम पारदर्शी जीवन का संस्कार दे सकें तो हमारे इस जगत्गुरु भारत की प्रतिष्ठा बची रहेगी।

0 comments      

Add Comment


डॉ. वेदप्रताप वैदिक

  • डॉ॰ वेद प्रताप वैदिक (जन्म: 30 दिसम्बर 1944, इंदौर, मध्य प्रदेश) भारतवर्ष के वरिष्ठ पत्रकार, राजनैतिक विश्लेषक, पटु वक्ता एवं हिन्दी प्रेमी हैं। हिन्दी को भारत और विश्व मंच पर स्थापित करने की दिशा में सदा प्रयत्नशील रहते हैं। भाषा के सवाल पर स्वामी दयानन्द सरस्वती, महात्मा गांधी और डॉ॰ राममनोहर लोहिया की परम्परा को आगे बढ़ाने वालों में डॉ॰ वैदिक का नाम अग्रणी है।
  • वैदिक जी अनेक भारतीय व विदेशी शोध-संस्थानों एवं विश्वविद्यालयों में ‘विजिटिंग प्रोफेसर’ रहे हैं। भारतीय विदेश नीति के चिन्तन और संचालन में उनकी भूमिका उल्लेखनीय है। अपने पूरे जीवन काल में उन्होंने लगभग 80 देशों की यात्रायें की हैं।
  • अंग्रेजी पत्रकारिता के मुकाबले हिन्दी में बेहतर पत्रकारिता का युग आरम्भ करने वालों में डॉ॰ वैदिक का नाम अग्रणी है। उन्होंने सन् 1958 से ही पत्रकारिता प्रारम्भ कर दी थी। नवभारत टाइम्स में पहले सह सम्पादक, बाद में विचार विभाग के सम्पादक भी रहे। उन्होंने हिन्दी समाचार एजेन्सी भाषा के संस्थापक सम्पादक के रूप में एक दशक तक प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया में काम किया। सम्प्रति भारतीय भाषा सम्मेलन के अध्यक्ष तथा नेटजाल डाट काम के सम्पादकीय निदेशक हैं।