Monday, July 22, 2019
हाईवे पर 10 फीट के मगरमच्छ को देख लोगों की बंध गई घिग्घी, काबू करते थकी रेस्क्यू टीम

हाईवे पर 10 फीट के मगरमच्छ को देख लोगों की बंध गई घिग्घी, काबू करते थकी रेस्क्यू टीम

मीडियावाला.इन।

 कोडिनार। गुजरात के कोडिनार में मगरमच्छों का तालाब से निकलकर सार्वजनिक जगहों पर आवागमन पिछले एक महीने में काफी बढ़ गया है। कुंडों में पानी की कमी की वजह से और तेज गर्मी के चलते मगर सड़क पर आ जाते हैं। कुछ स्थानीय निवासियों के घर में भी घुस जाते हैं। यहां महीनेभर में ही रेस्क्यू टीम द्वारा 7 मगरमच्छों को रेस्क्यू किया गया है। बुधवार को फिर एक मगरमच्छ हाईवे पर आ गया। उसे देख वहां से गुजरते लोगों की घिग्घी बंध गई, साथ ही वाहन चालकों में खलबली मच गई।

10 फीट के मगरमच्छ को काबू करने में 8 कर्मियों के छूटे पसीने

सूचना पर घटनास्थल पहुंची रेस्क्यू टीम ने मगर को काबू में करने की कोशिश की। मगर, रेस्क्यू टीम के मेंबर्स को देख वहां मगरमच्छ वहां से भागने लगा। वह रोनाज गांव के पास अमरेली स्टेट हाइवे किनारे खड़े पेड-पौधों के झुरमुठ में छिपने लगा। काफी मशक्कत के बाद रेस्क्यू टीम के मेंबर्स उसे पकड़ पाए। रेस्क्यू टीम के मेंबर्स की संख्या 8 थी और वे जामवाला और कोडिनार के जंगल से आए थे। स्थानीय लोगों ने बताया कि इस विकराल मगरमच्छ की लंबाई 10 फीट से भी ज्यादा रही होगी।

 

कोई पकड़ न सके इसलिए गन्ने के खेत में घुस गया

इससे पहले इंचवड़ गांव में भी एक तीन फीट लंबा मगरमच्छ किसान के घर में आ घुसा था। जिसे पकड़ने में भी वनकर्मियों को भी काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। पास में ही मधकोश होने की वजह से लगभग डेढ़ घंटे की जहमत के बाद वह काबू में आया। बताया जा रहा है कि हाल ही जो मगरमच्छ पकड़ा गया, वह रेस्क्यू टीम पर भारी पड़ गया था। वह पानी से भरे गन्ने के खेत में घुस गया था।

 

तेंदुए और मगरमच्छों की वजह से दहशत में मानव-बस्ती

स्थानीय लोगों की शिकायत है कि वनविभाग मगरमच्छ और तेंदुए जैसे खूंखार प्राणियों से मानव-बस्तियों की रक्षा नहीं कर पा रहा है। गिरसोमनाथ क्षेत्र में तेंदुए और मगरों के घुसने की घटनाएं प्रतिदिन बढ़ रही हैं। इनके वजह से लोग दहशत में जी रहे हैं।

 

source: oneindia.com

0 comments      

Add Comment