Monday, September 23, 2019
साध्वी प्रज्ञा के बाद अब मोदी के मंत्री ने किया बापू का आपमान, कहा- गोड़से पर माफी मांगने की जरुरत नहीं

साध्वी प्रज्ञा के बाद अब मोदी के मंत्री ने किया बापू का आपमान, कहा- गोड़से पर माफी मांगने की जरुरत नहीं

मीडियावाला.इन।

भोपाल से बीजेपी प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा के बाद मोदी के मंत्री अनंत हेगड़ ने बापू का अपमान किया है। उन्होंने कहा कि गोडसे पर माफी मांगने की जरूरत नहीं है। हेगड़े ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा, "मुझे खुशी है कि 7 दशक बाद आज की पीढ़ी एक बदले हुए वैचारिक माहौल में बहस करती है और निंदा की जाने की अच्छी गुंजाइश देती है। नाथूराम गोडसे को भी आखिरकार इस बहस से खुशी हुई होगी।" साथ ही हेगड़े ने लिखा, "अब समय आ गया है कि हम क्षमा मांगने के दौर से आगे बढ़े। अगर अभी नहीं तो...कब।"बता दें कि साध्वी प्रज्ञा ने गुरुवार को कहा था कि नाथूराम गोडसे देशभक्त थे और देशभक्त रहेंगे। प्रज्ञा सिंह ने कहा था, "नाथूराम गोडसे देशभक्त थे और हमेशा रहेंगे।वैसे लोग जो उन्हें आतंकी कह रहे हैं उन्हें खुद के अंदर झांक कर देखना चाहिए। ऐसे लोगों को चुनाव के बाद जवाब मिल जाएगा।"

हालांकि प्रज्ञा ठाकुर के बयान से बीजेपी ने किनारा कर लिया था। बीजेपी प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा था, "उनके बयान से बीजेपी सहमत नहीं है और इसकी निंदा करती है। पार्टी उनसे इस मामले में सफाई मांगेगी और उनसे सार्वजनिक तौर पर इस कथन के लिए माफी मांगने के लिए कहेगी।"

इसके बाद कुछ ही घंटों बाद ही साध्वी प्रज्ञा ने अपने इस बयान को वापस लेते हुए इसे निजी बयान बताया और इसके लिए माफी मांगी। उन्होंने कहा कि वह इस मुद्दे पर पार्टी लाइन पर चलेंगी। नाथूराम गोडसे को लेकर दिए बयान बयान के बाद प्रज्ञा की देशभर में किरकरी हो गई थी। कांग्रेस ने नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा था, "मोदी और अमित शाह जी की चहेती बीजेपी नेता प्रज्ञा ठाकुर ने एक बार फिर महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को सच्चा देशभक्त बता पूरे देश का अपमान किया है। बीजेपी के नेता बार-बार राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की सोच, रास्ते और विचारधारा पर हमले बोल रहे हैं। यह भारत के गांधीवादी मूल सिद्धांतों का तिरस्कार करने का घिनौना भाजपाई षड्यंत्र है। यह एक ऐसा अपराध है, जिसे देश कभी माफ नहीं कर सकता।"

वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा था, "बापू का हत्यारा देशभक्त? हे राम! खुद को अपने उम्मीदवार से अलग कर लेना ही काफी नहीं है। बीजेपी के राष्ट्रवादी दिग्गजों को तुम्हारा रुख साफ करने की हिम्मत है।"

Dailyhunt

0 comments      

Add Comment