Monday, October 14, 2019
जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन खत्म, आधी रात से राष्ट्रपति शासन लागू

जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन खत्म, आधी रात से राष्ट्रपति शासन लागू

मीडियावाला.इन।  अधिकारियों ने कहा कि जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश वाली रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेजने के बाद ये फैसला किया गया.


केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में 19 दिसंबर को राज्यपाल शासन के छह महीने पूरे हो जाने के बाद अब आधी रात से राष्ट्रपति शासन लागू होने जा रहा है. राज्यपाल की रिपोर्ट पर केंद्र सरकार ने सोमवार को ही राष्ट्रपति शासन की सिफारिश कर दी थी. अधिकारियों ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश वाली रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेजने के बाद ये फैसला किया गया.

जम्मू-कश्मीर में 22 साल बाद राष्ट्रपति शासन लागू हो रहा है. इससे पहले साल 1990 से अक्टूबर 1996 तक जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन रहा था.


राष्ट्रपति शासन लागू होने के बाद क्या होगा?

>>राष्ट्रपति शासन लागू हो जाने के बाद राज्यपाल की सारी विधायी शक्तियां संसद के पास रहेंगी. उसके बाद कानून बनाने का अधिकार संसद के पास होगा. नियमानुसार राष्ट्रपति शासन में बजट भी संसद से ही पास होता है. इस वजह से राज्यपाल शासन में ही लगभग 89 हजार करोड़ रुपये का बजट पास करा लिया गया.

>>राज्यपाल शासन में कानून बनाने और बजट पास करने का अधिकार राज्यपाल के पास होता है. राष्ट्रपति शासन में अब राज्यपाल अपने विवेक से नीतिगत और संवैधानिक फैसले नहीं कर पाएंगे. इसके लिए उन्हें केंद्र से परमिशन लेनी पड़ेगी.

बता दें कि विधानसभा में 25 सदस्यों वाली बीजेपी द्वारा समर्थन वापसी के बाद जून में महबूबा मुफ्ती सरकार अल्पमत में आने के बाद गिर गई थी. उसके बाद राज्य राजनीतिक संकट में फंस गया था.
जिसके बाद राज्यपाल शासन लगा दिया गया था. इसकी अवधि 19 दिसंबर को पूरी हो रही है.

इस दौरान पिछले महीने कांग्रेस और नेशनल कॉन्फ्रेंस के समर्थन से पीडीपी और सज्जाद लोन ने बीजेपी के समर्थन से सरकार बनाने की कोशिश की थी. इस पर राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सरकार गठन के लिए खरीद-फरोख्त और सरकार के स्थिर न होने का हवाला देते हुए 21 नवंबर को विधानसभा भंग कर दी थी.
 

0 comments      

Add Comment