Monday, September 23, 2019
पीएम मोदी का ममता पर प्रहार, कहा- कश्मीर से ज्यादा बंगाल के चुनावों में हुई हिंसा

पीएम मोदी का ममता पर प्रहार, कहा- कश्मीर से ज्यादा बंगाल के चुनावों में हुई हिंसा

मीडियावाला.इन। न्यूज़18 हिंदी को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, 'हिंसा-आतंकवाद की बात हो तो कश्मीर का नाम आता है, लेकिन उस कश्मीर में पंचायत के चुनाव हुए 30 हज़ार के करीब लोग मैदान में थे.'

पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनावों के दौरान हो रही हिंसा को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार पर हमला बोला है. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पश्चिम बंगाल के मुकाबले जम्मू-कश्मीर में चुनाव ज्यादा शांतिपूर्ण होते हैं. पीएम मोदी ने न्यूज़18 हिंदी को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा, 'हिंसा आतंकवाद की बात हो तो कश्मीर का नाम आता है, लेकिन उस कश्मीर में पंचायत के चुनाव हुए 30 हज़ार के करीब लोग मैदान में थे.'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल हिंसा को लेकर कहा कि देश में जो लोग लोकतंत्र में विश्वास करते हैं और न्यूट्रल हैं, उनका मौन बेहद चिंताजनक है क्योंकि इस पूरे कार्यकाल में मोदी के प्रति नफरत के कारण बाकि सब चीज़ें माफ कर देने का जो तरीका बन गया है इसने देश का बहुत नुकसान किया है.

पीएम मोदी ने कहा जो लोग लोकतंत्र पर विश्वास करते हैं और जो न्यूट्रल हैं उनके लिए उनका मौन सबसे चिंताजनक है क्योंकि आप दो चीज़ें देखिये हिंसा, आतंकवाद हो तो कश्मीर का नाम आता है लेकिन उस कश्मीर में पंचायतों के चुनाव हुए 30 हजार के करीब लोग में थे एक पोलिंग बूथ पर एक भी हिंसा की घटना नहीं हुई. उसी कार्यकाल में बंगाल में पंचायत चुनाव हुए सैकड़ों लोग मारे गए, जो जीत कर आ गए उनके घर जला दिए गए, उनको झारखंड या अन्य राज्यों में जाकर 3-3 महीने मुंह छिपाकर रहना पड़ा, उनका गुनाह यही था जो जीतकर आए थे.

पीएम ने कहा उस समय ये लोकतंत्र की बात करने वाले लोग बिल्कुल चुप रहे, बीजेपी भी आवाज़ उठाती रही, वहां की कांग्रेस और लेफ्ट पार्टी भी आवाज़ उठाती रही, संसद में भी कांग्रेस, बीजेपी, लेफ्ट सबने आवाज़ उठाई लेकिन जो लोग अपने आपको न्यूटरल कहते है वो चुप रहे इससे उनको बल मिलता गया.

पीएम ने आगे कहा चुनाव के पहले भाजपा के मुख्यमंत्री जाए तो उनका हैलिकॉप्टर तक लैंड नहीं करने दिया गया. लास्ट मूवमेंट पर सभा कैंसल कर दी जाए अभी परसों भी प्रधानमंत्री की सभा कैंसिल कर दी थी रात 9 बजे परमिशन मिली, उसके दो दिन पहले अमित भाई शाह की सभा कैंसल कर दी तो ये पूरी तरह अलोकतांत्रिक है.

इसका कारण ये है के उनको बीजेपी, कांग्रेस या लेफ्ट का भय नहीं है, ममता जी को स्पेशली और टीएमसी को बंगाल की जनता की ताकत का भय है उनको लगता है कि अगर बंगाल की जनता इस सच के साथ मुकर कर निकल पड़ी तो उनका भविष्य तार-तार हो जाएगा इसलिए बंगाल सरकार, टीएमसी पार्टी, टीएमसी के गुंडे ये तीनों की जो जुगलबंदी है उसकी जनता के खिलाफ लड़ाई है.
 

सोर्स न्यूज़ 18

0 comments      

Add Comment