Tuesday, October 15, 2019
मीडिया में खबर लीक होने से सुप्रीम कोर्ट नाराज, अगली सुनवाई अब 29 नवंबर को

मीडिया में खबर लीक होने से सुप्रीम कोर्ट नाराज, अगली सुनवाई अब 29 नवंबर को

मीडियावाला.इन। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने मंगलवार को सुनवाई के दौरान तल्ख लहजे में पूरे वाकए पर नाराजगी जाहिर की।


नई दिल्ली. सीबीआई में चल रहे विवाद पर मंगलवार को भी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सीबीआई चीफ सीवीसी की जांच रिपोर्ट पर अपना जवाब सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को ही दाखिल कर चुके हैं। इस जवाब के कुछ हिस्से मीडिया में लीक होने से सुप्रीम कोर्ट सख्त खफा है। सुप्रीम कोर्ट के माननीय चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने मंगलवार को सुनवाई के दौरान तल्ख लहजे में पूरे वाकए पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा- हमें नहीं लगता कि अाप में से कोई भी सुनवाई के लायक है। इतना ही नहीं आलोक वर्मा के वकील फली नरीमन ने जब ये कहा कि जो जवाब लीक हुआ है वो तो जांच के दौरान उनके मुवक्किल ने सीवीसी को दिया था। नरीमन ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट में दिया गया जवाब लीक नहीं हुआ है। इस पर जस्टिस गोगोई ने एक और आर्टिकल तथा न्यूज पेपर नरीमन को सौंप दिया। मामले की अगली सुनवाई 29 नवंबर को होगी।

जवाब लीक कैसे हुआ?
चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एसके कौल और जस्टिस केएम जोसफ की बेंच ने आलोक वर्मा की तरफ से पेश हुए वकील फली एस नरीमन को एक न्यूज पोर्टल की वह खबर बताई जिसमें सीबीआई चीफ के जवाब का जिक्र था। नरीमन ने यह मीडिया रिपोर्ट देखकर कहा कि वे इससे स्तब्ध हैं कि जवाब लीक कैसे हो गया। नरीमन ने बेंच से कहा कि मीडिया को जिम्मेदारी से पेश आना चाहिए, इसलिए न्यूज पोर्टल और उसके पत्रकारों को तलब किया जाना चाहिए।

अस्थाना और वर्मा दोनों छुट्टी पर
सीबीआई के दो शीर्ष अफसरों के रिश्वतखोरी विवाद में फंसने के बाद केंद्र सरकार ने 23 अक्टूबर को ज्वाइंट डायरेक्टर नागेश्वर राव को जांच एजेंसी का अंतरिम प्रमुख नियुक्त कर दिया था। जांच जारी रहने तक सीबीआई चीफ आलोक वर्मा और नंबर दो अफसर स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया गया था। छुट‌्टी पर भेजे जाने के खिलाफ आलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने सीवीसी से जांच करने को कहा था।

0 comments      

Add Comment