Wednesday, October 16, 2019
उड़ान योजना के तहत 12 नए हवाई मार्ग शुरू, अब और उड़ेगा देश का आम नागरिक

उड़ान योजना के तहत 12 नए हवाई मार्ग शुरू, अब और उड़ेगा देश का आम नागरिक

मीडियावाला.इन।

नए भारत के निर्माण के जो सपने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देखे थे, वो धीरे-धीरे साकार हो रहे हैं। सपनों की इस कड़ी में एक सपना यह भी था कि देश के आम नागरिक भी हवाई जहाज में बैठ सकें। मोदी चाहते थे, हवाई चप्पल पहने हुए आम आदमी भी हवाई सफर करे।

इसी सपने को साकार करने के लिए पीएम मोदी ने शिमला में 27 अप्रैल, 2017 को 'उड़ान' या 'उड़े देश का आम नागरिक' योजना के तहत सस्ती उड़ान सेवा की शुरुआत की थी। इस दौरान प्रधानमंत्री ने शिमला से दिल्ली की पहली फ्लाइट का उद्घाटन किया था। हालांकि उड़ान योजना को 21 अक्टूबर, 2016 को लॉन्च किया गया था।

भारत सरकार के पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) की रिपोर्ट के मुताबिक, क्षेत्रीय संपर्क योजना (या उड़े देश का आम नागरिक/उड़ान) के अंतर्गत हाल ही में 12 हवाई मार्ग चालू किए गए हैं। इसके साथ ही उड़ान के अंतर्गत स्‍वीकृत कुल 706 मार्गों में से चालू मार्गों की कुल संख्‍या बढ़कर 186 (8 पर्यटन आरसीएस मार्गों सहित) हो गई है। इसके अलावा दुर्गापुर हवाई अड्डा इस योजना के अंतर्गत चालू होने वाला 40वां हवाई अड्डा बन गया है। यह सबसे नवीनतम हवाई अड्डा है।

 

 

चालू किए गए दैनिक उड़ान परिचालनों वाले 12 मार्ग:

  1. कोलकाता (पश्चिम बंगाल) - इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश)
  2. इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश) - कोलकाता (पश्चिम बंगाल)
  3. इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश) - रायपुर (छत्‍तीसगढ़)
  4. रायपुर (छत्‍तीसगढ़) - इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश)
  5. ग्वालियर (मध्‍य प्रदेश) - बेंगलुरु (कर्नाटक)
  6. बेंगलुरु (कर्नाटक) - ग्वालियर (मध्य प्रदेश)
  7. कोलकाता (पश्चिम बंगाल) - ग्वालियर (मध्‍य प्रदेश)
  8. ग्वालियर (मध्‍य प्रदेश) - कोलकाता (पश्चिम बंगाल)
  9. मुंबई (महाराष्‍ट्र) - बेलगाम (कर्नाटक)
  10. बेलगाम (कर्नाटक) - मुंबई (महाराष्‍ट्र)
  11. मुंबई (महाराष्‍ट्र) - दुर्गापुर (पश्चिम बंगाल)
  12. दुर्गापुर (पश्चिम बंगाल) - मुंबई (महाराष्‍ट्र)

 

 

एक घंटे के हवाई सफर के लिए 2500 रुपए

केंद्र सरकार के नागर विमानन मंत्रालय द्वारा हवाई संपर्क को प्रोत्‍साहन देने और हवाई यात्रा को आम जनता के लिए किफायती बनाने के लिए शुरू की गई इस योजना के तहत करीब 43 शहरों को हवाई सेवा के जरिए जोड़ा जाएगा। उड़ान योजना का मकसद अप्रूव्ड और नॉन अप्रूव्ड हवाई अड्डों को हवाई संपर्क उपलब्ध कराना है। साथ ही साल 2022 तक 80 लाख से 3 करोड़ रुपए की टिकट की मात्रा को बढ़ाना है। मोदी सरकार ने 1 घंटे के हवाई सफर के लिए 2500 रुपए निर्धारित किए हैं। उड़ान योजना 10 वर्षों के लिए कार्यरत होगी।

उड़ान योजना के चलते देश में व्यापार, वाणिज्य और पर्यटन क्षेत्र में विस्तार हो रहा है, साथ ही बाजार आधारित तंत्र के माध्यम से क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को भी बढ़ावा मिल रहा है।

 

 

ग्रामीण-शहरी क्षेत्र के बीच कम हो रही दूरी

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बीती 5 जुलाई को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश करते हुए कहा भी था कि भारतमाला, सागरमाला और उड़ान जैसी योजनाएं ग्रामीण-शहरी क्षेत्र के बीच के अंतर को पाटने का काम कर रही हैं और परिवहन बुनियादी ढांचे में सुधार कर रही हैं। ट्रेड कॉरिडोर के तौर पर इन योजनाओं की वजह से फिजिकल कनेक्टिविटी के सभी स्‍वरूपों में सुधार हुआ है और व्‍यापार को फायदा मिला है।

 

Dailyhunt

0 comments      

Add Comment