Sunday, May 19, 2019
इस बार 5 दिन की देरी से आएगा मानसून, केरल में 6 जून को देगा दस्तक

इस बार 5 दिन की देरी से आएगा मानसून, केरल में 6 जून को देगा दस्तक

मीडियावाला.इन।नई दिल्ली। भारत में मॉनसून इस बार 5 दिन की देरी से आएगा और 6 जून को यह केरल में दस्तक दे सकता है। भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने बुधवार को यह अनुमान जारी किया। वहीं एक दिन पहले स्काईमेट (Skymet Agency) ने 4 जून तक मॉनसून के केरल तट पहुंचने की संभावना जताई थी। साथ ही कहा था कि अलनीनो की वजह से आगे चलकर मॉनसून की रफ्तार सुस्त पड़ सकती है।

मॉनसून में हो सकती है देरी 
आईएमडी ने कहा, 'इस साल मॉनसून के केरल पहुंचने में कुछ देरी होने का अनुमान है। दक्षिण-पश्चिम मॉनसून (southwest monsoon) केरल के तट पर 6 जून तक दस्तक दे सकता है। हालांकि इसके 4 दिन पहले या बाद में आने की भी गुंजाइश है।'

मॉनसून के लिए बनी अनुकूल स्थितियां 
सामान्य तौर पर केरल के तट पर मॉनसून 1 जून तक आता है, जो चार महीने चलने वाले बारिश के मौसम की शुरुआत का संकेत होता है। आईएमडी ने कहा, 'मई 2018-19 में अंडमान सागर, निकोबार द्वीप समूह के दक्षिणी हिस्से और इससे सटे बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्वी हिस्से में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के लिए अनुकूल स्थितियां बन रही हैं।'

स्काईमेट का अनुमान-4 जून तक आएगा मॉनसून 
मौसम की जानकारी देने वाली निजी क्षेत्र की कंपनी स्काईमेट एजेंसी (Skymet Agency) ने 4 जून तक मॉनसून के केरल तट पहुंचने की संभावना जताई है। हालांकि अलनीनो की वजह से आगे चलकर मॉनसून की रफ्तार सुस्त पड़ सकती है। एजेंसी ने कहा कि भारत में समय पर मानसून दस्तक देने का मतलब यह नहीं है कि अच्छी बारिश होगी।

एजेंसी की ओर से देश के चार हिस्सों में बारिश का आकलन जारी किया है। इसके मुताबिक पूर्वी और मध्य भारत में कम बारिश की संभावना जताई गई है। पूर्वी भारत में 92 प्रतिशत बारिश की संभावना है, जो सामान्य से कम है। वहीं, उत्तर भारत में अच्छी बारिश की उम्मीद जताई गई है, जबकि गुजरात, पश्चिमी मध्य प्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल में कमजोर बारिश की संभावना जाहिर की है।

0 comments      

Add Comment