Wednesday, July 24, 2019
मुरली मनोहर जोशी ने लिखा एक पत्र फिर यूपी की इन दो सीटों पर प्रत्याशी उतारने के लिए मजबूर हुई बीजेपी

मुरली मनोहर जोशी ने लिखा एक पत्र फिर यूपी की इन दो सीटों पर प्रत्याशी उतारने के लिए मजबूर हुई बीजेपी

मीडियावाला.इन। भाजपा की महानगर सीट पर सत्यदेव पचौरी और अकबरपुर सीट पर देवेंद्र सिंह भोले का नाम शुरू में कहीं भी चर्चा में नहीं था। ऐसा कहा जा रहा है कि सांसद मुरली मनोहर जोशी को नहीं लड़ाने का रास्ता साफ होने के बाद से परिस्थितियां बदलती गईं। शुरू में जोशी के अलावा जो नाम पार्टी के अंदर ज्यादा चर्चा में थे, उसमें सबसे ऊपर कैबिनेट मंत्री सतीश महाना का नाम बताया जा रहा था। 

इसी बीच कहा जाने लगा कि पार्टी महानगर सीट पर जोशी के हटने के बाद फिर से किसी ब्राह्मण को ही मैदान में उतारेगी। इसी बीच संघ की तरफ से एक नाम आया नीतू सिंह का। नीतू सिंह संघ के क्षेत्र संघ चालक वीरेंद्रजीत सिंह की बहू और कैबिनेट मंत्री सत्यदेव पचौरी की बेटी हैं। दो दिन पहले तक यह बात सामने आई कि यदि नीतू सिंह का टिकट हुआ तो उन्हें पचौरी की बेटी के रूप में मैदान में उतारा जाएगा।

जिससे यह साबित हो कि प्रत्याशी ब्राह्मण है। मंगलवार को करीब ढाई बजे पार्टी हाईकमान ने फिर महानगर सीट पर मंथन किया तो पता चला कि जोशी की तरफ से सत्यदेव पचौरी का नाम सुझाया गया। संघ ने भी इस पर अपनी रजामंदी इसलिए दे दी, क्योंकि भाजपा राष्ट्रीय इकाई का कहना था कि नीतू सिंह नया चेहरा हैं, इसलिए पार्टी अभी उन पर दांव लगाना नहीं चाहती है।

ऐसे में पचौरी के नाम पर सभी ने मुहर लगा दी। इसी तरह अकबरपुर सीट पर भोले के साथ अभिजीत सिंह सांगा और ब्राह्मण दावेदार के रूप में अनिल शुक्ल वारसी भी मैदान में डटे थे। इस बार देवेंद्र सिंह भोले का टिकट कटने की चर्चा भी होने लगी थी। तभी उन्नाव लोकसभा सीट से साक्षी का टिकट हो जाने से अकबरपुर में भोले की जैसे लाटरी खुल गई।

यह कहा जाने लगा कि महानगर में ब्राह्मण प्रत्याशी आ गया है तो अकबरपुर में ठाकुर को ही मैदान में उतारना था। ऐसे में भोले पर ही भरोसा जताया गया। इसकी वजह यह भी है कि पार्टी ने भोले के पांच वर्ष का जो सर्वे कराया था, उसमें भी वह अधिक पीछे नहीं थे। पार्टी का मानना है कि जनता मोदी को वोट देगी ऐसे में भोले ही प्रत्याशी के रूप में मान्य हो गए।
 

0 comments      

Add Comment