Monday, September 23, 2019
चुनाव की तारीखें बीजेपी के अनुकूल? विपक्ष ने उठाए शेड्यूल पर सवाल

चुनाव की तारीखें बीजेपी के अनुकूल? विपक्ष ने उठाए शेड्यूल पर सवाल

मीडियावाला.इन। चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ विपक्षी दलों की तरफ से सवाल उठने शुरू हो गए हैं. जानकारों की मानें तो जहां भारतीय जनता पार्टी को चुनौती ज्यादा है वहां लंबे चरण में चुनाव पार्टी को फायदा पहुंचा सकते हैं.

लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों का ऐलान हो गया है. पिछले लोकसभा चुनाव में 9 चरणों के मुकाबले इस बार 7 चरण में मतदान होना है. जिसमें उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल में सबसे ज्यादा 7 चरण में मतदान होगा, जबकि ओडिशा, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में 4 चरण में मतदान होने हैं. जानकारों का मत है कि चुनाव की तारीखें भारतीय जनता पार्टी के अनुकूल हैं, क्योंकि जिन राज्यों  में पार्टी को उम्मीद या चुनौती ज्यादा है वहां मतदान कई चरणों में होने हैं.

चुनाव विश्लेषक और स्वराज इंडिया के नेता योगेंद्र यादव ने पश्चिम बंगाल में 5 चरण के बजाए 7 चरण, ओडिशा में 2 चरण की जगह 4 चरण और महाराष्ट्र में 4 चरण में मतदान कराए जाने को लेकर सवाल उठाए हैं. इसके साथ ही योगेंद्र यादव ने दिल्ली, पंजाब और हरियाणा के चुनाव मई में कराए जाने को लेकर भी सवाल खड़े किए हैं. तो वहीं जम्मू-कश्मीर में लोकसभा चुनाव तो हो रहे हैं, लेकिन विधानसभा चुनाव नहीं कराए जाने पर भी सवाल खड़े किए गए हैं. ऐसे में बीजेपी के समक्ष राज्यवार चुनौतियों का विश्लेषण जरूरी हो जाता है.

योगेंद्र यादव के अलावा आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने ट्वीट में लिखा, 'क्या मोदी जी ने अपने चुनाव प्रचार की तारीख़ चुनाव आयोग को भेजी और चुनाव आयोग ने उनके हिसाब से चुनाव की तारीखें घोषित की? कभी सुना है बंगाल में 7 फेज में चुनाव? तो वहीं टीएमसी ने भी रमजान के दौरान मतदान को लेकर सवाल खड़े किए हैं.

आरजेडी सांसद मनोज झा ने 'आजतक' से बातचीत में चुनाव आयोग की आलोचना करते हुए कहा, "ऐसा क्यों है कि आप (चुनाव आयोग) स्टैगरर्ड डेट्स दे रहे हैं? हमें संदेह हो रहा है कि जिस तरह से तारीखें घोषित की गई हैं उससे संसाधन संपन्न दल के पक्ष में चुनाव को झुकाने की कोशिश की गई है. संसाधन से संपन्न दल आज के तारीख में कौन हैं, यह समझने के लिए आपको रॉकेट साइंस नहीं चाहिए. प्रधानमंत्री के एक मंच पर करोड़ों रुपए का खर्च होता है."

विपक्षी दलों के आरोपों के बीच नजर डालते हैं उन राज्यों के चुनाव पर जिन्हें लेकर सवाल खड़े किए जा रहे हैं.

उत्तर प्रदेश-80 सीटें, 7 चरण

सीटों के लिहाज से देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में इस बार 7 चरण में चुनाव होने हैं. जबकि पिछली बार 6 चरण में मतदान हुए थे. हाल के दिनों में उत्तर प्रदेश के सियासी समीकरण तेजी से बदले हैं. एक दूसरे की धुर विरोधी समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का गठबंधन हाल की सबसे बड़ी खबर है. इसके अलावा हिंदी पट्टी के तीन राज्यों में सरकार बनाने वाली कांग्रेस के हौसले बुलंद हैं और पार्टी आक्रामक रुख अपनाते हुए यूपी के सियासी मैदान में उतरने जा रही है.

जानकारों की मानें तो पिछले लोकसभा चुनाव में यूपी की 71 सीटें जीतने वाली बीजेपी के सामने अपना प्रदर्शन दोहराने की चुनौती है.

पश्चिम बंगाल- 42 सीटें, 7 चरण

भारतीय जनता पार्टी ने पिछले कुछ सालों में पश्चिम बंगाल में अपनी सियासी जमीन का विस्तार किया. पिछले लोकसभा चुनाव में 2 सीटें जितने वाली बीजेपी को इस बार पश्चिम बंगाल से खासी उम्मीद है, इसके पीछे  वजह भी है क्योंकि पार्टी खुद को मुख्य विपक्षी दल के तौर पर स्थापित करने में कामयाब रही है. तो वहीं चुनावी रणनीतिकारों की मानें तो बीजेपी उत्तर और पश्चिम भारत में होने वाले संभावित नुकसान की भरपाई पूर्व और पूर्वोत्तर के राज्यों से करना चाहती है.

बिहार-40 सीटें, 7 चरण

बिहार की सीटें बीजेपी के कितना मायने रखती है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पिछले लोकसभा चुनाव में 22 सीटें जीतने वाली पार्टी ने 2 सीटें जीतने वाली जनता दल (यू) के गठबंधन में 17 सीटें दे दीं. इस बार एनडीए का कुनबा बिहार में मजबूत भी है क्योंकि पिछली बार अकेले चुनाव लड़ने वाले नीतीश कुमार इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ खड़े हैं. हालांकि एनडीए को एक घटक दल राष्ट्रीय लोक समता पार्टी का नुकसान हुआ है, लेकिन बीजेपी उससे बड़ी पार्टी अपने साथ लाने में कामयाब रही है. चूंकि राज्य में नीतीश कुमार की सरकार है लिहाजा राज्य और केंद्र दोनों के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर एनडीए को ही झेलनी पड़ेगी.

तो वहीं आरजेडी-कांग्रेस-आरएलएसपी, जीतन राम मांझी की हिंदुस्तान आवाम मोर्चा, शरद यादव की पार्टी के साथ विपक्ष भी मजबूती के साथ चुनौती देने के लिए तैयार बैठा है.

महाराष्ट्र-48 सीट, 4 चरण

महाराष्ट्र में इस बार 48 सीटों पर 4 चरण में मतदान होने हैं, जबकि साल 2014 का चुनाव 3 चरण में हुआ था, जबकि विधानसभा चुनाव मात्र 1 चरण में. गठबंधन में रहने के बावजूद राज्य और केंद्र सरकार का विरोध करने वाली शिवसेना ने आखिरकार बीजेपी से गठबंधन कर लिया है. इस गठबंधन में 25 सीटों पर बीजेपी और 23 सीटों पर शिवसेना का लड़ना तय हुआ है. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने इस बार महाराष्ट्र की 45 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है.

लेकिन एक सत्य यह भी है मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सरकार के 4 साल पूरे हो चुके हैं. तो वहीं राज्य का एक हिस्सा भयंकर सूखे की मार झेल रहा है. पिछले कुछ समय में राज्य में कई बड़े किसान आंदोलनों ने फडणवीस सरकार के खिलाफ माहौल बनाने की कोशिश की है. लिहाजा विपक्ष केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर का फायदा उठाना चाहेगा.

मध्य प्रदेश-29 सीट, 4 चरण

मध्य प्रदेश में इस बार 29 सीटों के लिए 4 चरण में मतदान होने हैं, जबकि पिछली बार 3 चरण में मतदान हुए थे. हाल में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी की 15 साल की सत्ता खत्म करते हुए कांग्रेस पार्टी सत्ता में काबिज हुई है. मध्य प्रदेश को बीजेपी के मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का गढ़ माना जाता है. गौर करने वाली बात यह भी है कि राज्य में सबसे अंतिम 4 चरण में मतदान होने जा रहे हैं.

बीजेपी के सामने चुनौती है कि हाल में बनी राज्य सरकार के खिलाफ को लहर नहीं है, तो वहीं लोकसभा चुनाव से पहले राज्य की कमलनाथ सरकार एक के बाद एक लोक लुभावन फैसले ले रही है.

ओडिशा-21 सीट, 4 चरण

लोकसभा चुनाव 2019 के लिहाज से ओडिशा बीजेपी के लिए खास महत्व रखता है. जहां पिछले कुछ सालों में पहली बार राज्य की बीजू जनता दल सरकार के खिलाफ एक लहर महसूस की जा सकती है. वैसे तो राज्य में कांग्रेस मुख्य विपक्षी दल है, लेकिन पार्टी की राज्य इकाई में वो आक्रामकता नहीं दिख रही जितनी बीजेपी में देखी जा सकती है. हाल में बीजेडी के बड़े नेता बीजेपी में शामिल भी हुए हैं, जिसमें सांसद बैजयंत जय पांडा शामिल हैं.

पिछले लोकसभा चुनाव में राज्य की 21 सीटों में से बीजेडी ने 20 सीटें जीती थीं, जबकि भारतीय जनता पार्टी को सुंदरगढ़ सीट पर कामयाबी हासिल हुई थी. तो वहीं कांग्रेस का खाता भी नहीं खुल सका था. इसके साथ ही राज्य में विधानसभा चुनाव भी साथ-साथ होने है लिहाजा मतदान जितने लंबे चरण तक हो बीजेपी के लिए उतना ही बेहतर है.

 

आजतक से साभार

0 comments      

Add Comment