Monday, September 23, 2019
विधायक को जूता मारने वाले शरद त्रिपाठी को मिल चुका है बेस्ट सांसद का अवॉर्ड

विधायक को जूता मारने वाले शरद त्रिपाठी को मिल चुका है बेस्ट सांसद का अवॉर्ड

मीडियावाला.इन।

प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय ने मारपीट मामले में विधायक और सांसद को तलब किया

  • मार्च 2018 में सांसद त्रिपाठी को किया गया था सम्मानित, पिता रह चुके हैं प्रदेश अध्यक्ष
  • शरद त्रिपाठी के लिए इमेज परिणाम

संत कबीर नगर.शरद त्रिपाठी भारत की सोलहवीं लोकसभा के सांसद हैं। २०१४ के चुनावों में वे उत्तर प्रदेश की सन्त कबीर नगर सीट से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़कर निर्वाचित हुए।  जिले के प्रभारी मंत्री आशुतोष टंडन के सामने अपने ही विधायक राकेश सिंह बघेल पर जूता चलाने वाले सांसद शरद त्रिपाठी बेस्ट सांसद का अवॉर्ड जीत चुके हैं।

 संत कबीरनगर से भारतीय जनता पार्टी के सांसद शरद त्रिपाठी ने अपनी ही पार्टी के विधायक राकेश बघेल को जूता से पीटने पर दुख जताया है. साथ ही कहा कि अगर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष उनको तलब करेंगे, तो वो अपना पक्ष रखेंगे.

शरद त्रिपाठी के लिए इमेज परिणाम

दरअसल, एक कार्यक्रम के दौरान बीजेपी सांसद शरद त्रिपाठी और विधायक राकेश बघेल के बीच जमकर मारपीट हुई थी. इस दौरान बीजेपी सांसद त्रिपाठी ने अपनी पार्टी के विधायक बघेल को जूतों से जमकर पीटा था. इस कार्यक्रम में संत कबीरनगर के जिलाधिकारी और योगी सरकार में मंत्री आशुतोष टंडन भी मौजूद रहे.

शरद त्रिपाठी के लिए इमेज परिणाम

जब दोनों बीजेपी नेताओं के बीच हुई मारपीट और गाली गलौज का वीडियो सामने आया, तो सांसद त्रिपाठी ने खेद जताया. उन्होंने कहा, ‘मैं इस घटना पर खेद जताता हूं और इसको लेकर मैं बहुत बुरा महसूस कर रहा हूं, जो भी हुआ, वो मेरे सामान्य व्यवहार के खिलाफ था. अगर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने मुझे तलब किया है, तो पूरे मामले मे मैं अपना पक्ष रखूंगा.’

फेम इंडिया श्रेष्ठ सांसद पुरस्कार-2018 की उम्मीद श्रेणी में सम्मान पाने वाले 25 सांसदों में त्रिपाठी ने पहला स्थान हासिल किया था। हालांकि, उन्होंने बुधवार को जिला योजना समिति की बैठक में हुई मारपीट घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। उधर, विधायक सिंह ने कहा कि वे प्रदेश नेतृत्व के सामने पूरी बात रखेंगे।

शरद त्रिपाठी के लिए इमेज परिणाम

2014 में पहली बार सांसद बने त्रिपाठी
मार्च 2018 में दिल्ली के विज्ञान भवन में फेम इंडिया श्रेष्ठ सांसद पुरस्कार-2018 का आयोजन किया गया था। इसमें 2014 के लोकसभा चुनाव में जीत के बाद पहली बार सदन पहुंचने वाले सांसद त्रिपाठी को उम्मीद श्रेणी में पहला स्थान मिला था। 

तीन घंटे तक कमरे में बंद रहे त्रिपाठी
मारपीट की घटना के बाद विधायक राकेश सिंह के समर्थकों के उग्र प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस ने सांसद त्रिपाठी को कलेक्ट्रेट के एक कमरे में सुरक्षित रखा। शाम पांच बजे से रात आठ बजे वे एक कमरे में कैद रहे। पुलिस ने उपद्रवियों को हटाने के बाद सांसद को सुरक्षित बाहर निकालकर गोरखपुर पहुंचाया।  

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष के बेटे हैं सांसद शरद

सांसद त्रिपाठी उत्तर प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रमापति त्रिपाठी के बेटे हैं। 2009 में पहली बार लोकसभा चुनाव लड़े थे, लेकिन हार गए थे। विधायक राकेश सिंह बघेल भी 2017 में ही पहली बार विधायक बने हैं।bhaskar.com/आजतक  से 

0 comments      

Add Comment