Thursday, October 24, 2019
इलाहाबाद से किन्नर भवानी बाल्मीकि मैदान में....सदी के महानायक अमिताभ बच्चन भी यहां से जीतकर देश की सबसे बड़ी पंचायत 'संसद' में पहुंच चुके हैं

इलाहाबाद से किन्नर भवानी बाल्मीकि मैदान में....सदी के महानायक अमिताभ बच्चन भी यहां से जीतकर देश की सबसे बड़ी पंचायत 'संसद' में पहुंच चुके हैं

मीडियावाला.इन।

प्रयागराज। इस्लाम छोड़कर सनातन धर्म अपनाने वाली किन्नर अखाड़ा और महामंडलेश्वर भवानी मां वाल्मीकि लोकसभा चुनाव में इलाहाबाद से आम आदमी पार्टी (आप) के टिकट पर भाग्य आजमायेंगी। इलाहाबाद लोकसभा सीट से लाल बहादुर शास्त्री और विश्वनाथ प्रताप सिंह चुनाव जीतने के बाद देश के प्रधानमंत्री बने। इस सीट पर हेमवती नंदन बहुगुणा, डा. मुरली मनोहर जोशी, जनेश्वर मिश्र, जैसे दिग्गज नेता भी चुनाव लड़ चुके हैं। सदी के महानायक अमिताभ बच्चन भी यहां से जीतकर देश की सबसे बड़ी पंचायत 'संसद में पहुंच चुके हैं। महामंडलेश्वर ने शनिवार को कहा 'आप ने इलाहाबाद लोकसभा सीट से शुक्रवार को मुझे प्रत्याशी घोषित किया है। मुझे प्रयागराज की जनता ने चाहा है, इसीलिये मैने चुनाव लडऩे का मन बनाया। कुंभ में किन्नर अखाडे की पेशवाई को प्रयागराज की जनता ने जो मान, सम्मान दिया, उसे किन्नर समाज कभी भूल नहीं सकता। हम उनके आजीवन ऋणी रहेंगे। जब उस ऋण को अदा करने की बारी आयी तो कैसे पीछे रह सकती हूं। भवानी बाल्मीकि ने कहा कि सरकार बनने से पहले नेता आम जनता से वादा कर चुनाव जीतते है, लेकिन उसके बाद उन्हें भूल जाती है।

कोई सरकार किसी को रोटी नहीं देती। रोटी खाने के लिए खुद कमाना पडता है। देश में शिक्षा और स्वास्थ्य सबसे महत्वपूर्ण है। जीतने के बाद इसे लोगों तक पहुंचाने का पूरा प्रयास करूंगी।

उन्होंने 2०1० में हिंदू धर्म छोड़कर इस्लाम अपनाया था। वह 2०12 में हज यात्रा भी कर चुकी हैं। बाद में उन्होंने दोबारा हिंदू धर्म अपना लिया। धर्म बदलने के पीछे उन्होने बताया कि वह यह अनुभव करना चाहती थी कि इस्लाम धर्म के रीति-रिवाज क्या हैं।

एक सवाल के जवाब में उन्होने कहा कि उनके पास न तो बाहुबल है और न धन बल। अगर उनके पास कुछ है तो वह प्रयागराज की जनता के प्यार का बल है। मुझे किसी से लड़ाई नहीं लडनी जिसके लिए धनबल और बाहुबल की आवश्यकता हो। प्यार हम तब भी बांटते थे, बलैया लेते थे और जीत के बाद भी लोगों में प्यार बांटेंगे और उनके दु:ख- सुख में भागीदार बनकर हर प्रकार से उनकी परेशानियों का निराकरण करेंगे।

उन्होंने कहा कि न मेरा कोई घर है और न औलाद तो मैं किसे लिए भ्रष्टाचार के कीचड़ में फंसू। लोगों का सम्मान और प्यार ही मेरी थाती है। अगर प्रयागराज की जनता ने एक किन्नर पर इतना बड़ा भरोसा किया है तो उनके विश्वास को कभी ठोकर नहीं लगने दूंगी। प्रयागराज की जनता मेरे लिए कुछ कदम चलेगी तो मैं उसके लिए सैकडों कदम चलने को तैयार हूं।

किन्नर अखाडे की आचार्य महामण्डलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी के चुनाव लडऩे की योजना को पूर्ण विराम देते हुए उन्होने कहा कि आचार्य ने चुनाव लडने का इरादा त्याग कर धर्म के लिए जो कार्य कर रही है, उसे अनवरत आगे बढ़ाती रहेंगी। गौरतलब है कि इलाहाबाद सीट से चुनाव लडऩे वाली भावनी दूसरी किन्नर होंगी। इससे पहले वर्ष 1984 के लोकसभा चुनाव में कटरा निवासी किन्नर मोहम्मद जहूर ने भाग्य आजमाया था। उस चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर सदी के महानायक अमिताभ बच्चन से कद्दावर नेता हेमवती नंदन बहुगुणा को करारी शिकस्त झेलनी पड़ी थी। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इलाहाबाद लोकसभा सीट से पर्यटन मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा जोशी को अपना प्रत्याशी घोषित किया है।

Dailyhunt

 

0 comments      

Add Comment