Monday, September 23, 2019
एट्रोसिटी एक्ट लगने पर डॉक्टर ने लगाई फांसी, आयोग ने मांगी रिपोर्ट

एट्रोसिटी एक्ट लगने पर डॉक्टर ने लगाई फांसी, आयोग ने मांगी रिपोर्ट

मीडियावाला.इन। भोपाल,. मध्य प्रदेश के रीवा जिले के चुरहट सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के एक डॉक्टर द्वारा फांसी लगाकर जान दिए जाने की घटना पर संज्ञान लेते हुए मानवाधिकार आयोग ने पुलिस अधीक्षक से रिपोर्ट मांगी है. आयोग से प्राप्त जानकारी के अनुसार चुरहट सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ डॉ. शिवम मिश्रा के विरूद्ध उनके स्टॉफ की ही एक नर्स ने 15 दिन पहले एट्रोसिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया था. प्रारंभिक जांच में डॉक्टर द्वारा बदनामी के डर के कारण फांसी लगाकर आत्महत्या करने की बात सामने आई है. इस मामले पर मंगलवार को संज्ञान लेते हुए मध्यप्रदेश मानवाधिकार आयोग के सदस्य मनोहर ममतानी ने पुलिस अधीक्षक रीवा से एक माह में जांच प्रतिवेदन मांगा है.

पानी न मिलने पर आंदोलन की चेतावनी: दमोह जिले के पथरिया क्षेत्र के जल संकट से जूझ रहे ग्रामीणों ने आन्दोलन की चेतावनी दी है. आयोग ने इस संबंध में कलेक्टर एवं कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य अभियांत्रिकी, दमोह से बंद पड़े हैण्ड पम्पों को ठीक कराकर कार्यशील बनाये जाने और ग्रामवासियों की पेयजल समस्या के समाधान के लिए की गई कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है. आयोग ने इसके लिए एक माह का समय दिया है.

स्कूल के आधे बच्चों को नहीं मिल रहा खाना: शहडोल जिला मुख्यालय से सटे ग्राम विचारपुर में करोड़ों रूपये की लागत से शासकीय ज्ञानोदय विद्यालय का भवन बनाया गया है. इस स्कूल में करीब 325 छात्र-छात्राओं में से केवल आधे बच्चों को ही भोजन मिल पा रहा है. इस मामले में संज्ञान लेते हुए मानवाधिकार आयोग ने प्रमुख सचिव जनजातीय कार्य विभाग से दो माह में जांच प्रतिवेदन मांगा है.
 

0 comments      

Add Comment