Sunday, October 20, 2019
देवास में अवैध खनन के बाद खुले छोड़े गए गढ्ढे में डूबे 5 बच्चे, CM कमलनाथ ने दिया जांच का आदेश

देवास में अवैध खनन के बाद खुले छोड़े गए गढ्ढे में डूबे 5 बच्चे, CM कमलनाथ ने दिया जांच का आदेश

मीडियावाला.इन।

देवास. देवास ज़िले के खजुरिया कनका गांव में बड़ा हादसा हो गया. यहां अवैध खनन के बाद खुले छोड़ दिए गए पानी से भरे गढ्ढे में 5 बच्चे डूब गए. सीएम कमलनाथ ने इस हादसे की जांच का आदेश देते हुए पीड़ित परिवारों को 4 लाख की मदद का एलान किया है.
नहाने गए थे बच्चे.                                         

 देवास जिले की सोनकच्छ तहसील से 12 किमी दूर खजुरिया कनका गांव है. यहां त्योहार के मौके पर मातम पसर गया. यहां तलैया में 5 बच्चे डूब गए. उनमे से 4 की मौत की खबर है. पांचवें बच्चे का अभी पता नहीं चल पाया है. बताया जा रहा है कि 7 बच्चे तालाब में नहाने गए थे उसी दौरान ये हादसा हो गया.


 

पीड़ित परिवार को मदद
ख़बर मिलते ही कलेक्टर डॉ. श्रीकांत पांडेय और एसपी चंद्रशेखर सोलंकी घटनास्थल पर पहुंच गए. तालाब की पाल तोड़ने के लिए 2 जेसीबी मशीनें बुलायी गयी हैं. गांव वालों का कहना है इलाके में अवैध खनन की वजह से ये हादसा हुआ है.अवैध खनन के बाद गढ्ढे खुले छोड़ दिए जाते हैं. उनमें बारिश का पानी भरने के कारण ये हादसा हुआ. कलेक्टर ने ज़िला प्रशासन की ओर से पीड़ित परिवार को चार-चार लाख रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा की है. 

सीएम ने जताया शोक- 

सीएम कमलनाथ ने देवास में हुए हादसे की जांच का आदेश दे दिया है. ट्वीटर पर अपने शोक संदेश में सीएम ने लिखा-देवास ज़िले के खजूरिया कनका गांव में  5 बच्चों की डूबने से मौत बेहद अफसोसजनक है. पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी शोक संवेदनाएँ।घटना की जाँच के आदेश।

ये दिल को झकझोर देने वाला हादसा है. उन्होंने पीड़ित परिवार के प्रति शोक संवेदना व्यक्त करते हुए लिखा इस हादसे में जिसकी भी लापरवाही या दोष सामने आएगा, उसे बख़्शा नहीं जाएगा. सीएम ने मृतक बच्चों के परिवार को 4-4 लाख की आर्थिक सहायता देने के निर्देश दिए.  

 

लोक निर्माण  मंत्री श्री सज्जन वर्मा 

देवास जिले के सोनकच्छ तहसील के ग्राम खजूरिया कनिका में तालाब में नहाने के समय 5 बच्चों की मौत होने की घटना की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे| 

बच्चों के परिवारों को 4- 4 लाख रुपए की शासन की ओर से सहायता प्रदान की जाएगी|  घटना की जांच एडीएम स्तर के अधिकारी से कराने के निर्देश दिए|

 

0 comments      

Add Comment