Sunday, October 20, 2019
मध्य प्रदेश -विहिप कार्यकर्ता की हत्या.. भाजपा ने उठाया कानून व्यवस्था पर सवाल

मध्य प्रदेश -विहिप कार्यकर्ता की हत्या.. भाजपा ने उठाया कानून व्यवस्था पर सवाल

मीडियावाला.इन।

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने मंदसौर में बुधवार को विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता की हत्या के मामले में प्रदेश की कानून-व्यवस्था पर सवाल खड़े किए हैं। दोनों नेताओं ने मुख्यमंत्री कमलनाथ सरकार से जवाब मांगा है।

चौहान ने बुधवार देररात ट्वीट कर इस घटना पर सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, 'मंदसौर में आज विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता युवराज सिंह की दिनदहाड़े हत्या कर दी गई। यह हत्या किसी व्यक्ति की नहीं बल्कि कानून और व्यवस्था की हत्या है। प्रदेश में अब कहीं कानून और व्यवस्था दिखाई नहीं देती। आये दिन लोग गोलियों से भूने जा रहे हैं और मध्यप्रदेश सरकार कुम्भकर्णी निद्रा में सो रही है। यह स्थिति असह्य है। क्या यही वक्त है बदलाव का? क्या प्रदेश में इसीलिए सरकार बदली? मेरी मांग है कि इस घटना के पीछे के अपराधी तुरंत पकड़े जाएं। हम हाथ पर हाथ धरे नहीं बैठ सकते हैं, सरकार हमारे धैर्य की परीक्षा न ले।'

राकेश सिंह ने घटना की निंदा करते हुए सरकार पर हमला बोला है। सिंह ने ट्वीट कर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए सरकार पर हत्याओं के लिए परमिट जारी करने का आरोप लगाया है। राकेश सिंह ने ट्वीट कहा- 'आज मंदसौर में विश्व हिंदू परिषद के पदाधिकारी श्री युवराज सिंह की दिनदहाड़े हत्या हो जाना हृदय विदारक है। प्रदेश में जब से @OfficeOfKNath सरकार आई है अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हो गए हैं कि वे जिसे चाहें, जब चाहें, जहां चाहें सैकड़ों लोगों की भीड़ में मौत की नींद सुला सकते हैं। #MadhyaPradesh में न कानून व्यवस्था बची है और न ही अपराधियों के मन में कानून और पुलिस का खौफ बचा है। प्रदेश में किसी की जान लेना इतना आसान हो गया है कि उसे देखकर मन में यह सवाल उठने लगा है कि कहीं यह सरकार अब हत्याओं के लिए भी तो परमिट जारी नहीं करने लगी?'

राकेश सिंह ने भाजपा नेताओं और हिंदूवादी संगठन के कार्यकर्ताओं को टारगेट करने का आरोप लगाते हुए कहा कि '@OfficeOfKNath सरकार को सत्ता में आए 10 महीने हुए हैं, लेकिन इस दौरान प्रदेश हत्यारों का अड्डा बन गया है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार इस दौरान प्रदेश में 1271 हत्याएं हो चुकी हैं। आम लोगों के साथ-साथ @BJPyMP और हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं को चुन-चुनकर निशाना बनाया जा रहा है। लेकिन @OfficeOfKNath सरकार और उसकी पुलिस इन हत्यारों के खिलाफ कार्रवाई की बजाय कहीं उन्हें संरक्षण प्रदान कर रही है, तो कहीं सरकार के मंत्री और @INCMP नेता अपने बयानों से इन हत्याओं को जायज ठहराने की हास्यास्पद कोशिश करते दिखाई देते हैं।@BJPyMP @OfficeOfKNath सरकार की इन कोशिशों को कभी कामयाब नहीं होने देगी और #MadhyaPradesh की जनता के साथ मिलकर अपराधियों और सरकार के गठजोड़ के खिलाफ सड़कों पर संघर्ष करेगी।'

Source-रॉयल बुलेटिन

0 comments      

Add Comment