Wednesday, November 14, 2018
मी टू :भोपाल में शिक्षिका की पिटाई

मी टू :भोपाल में शिक्षिका की पिटाई

मीडियावाला.इन।

भोपाल। एमपी नगर स्थित मिलन रेस्टोरेंट के पास रविवार रात 8 बजे एक 25 वर्षीय शिक्षिका और उसके स्टूडेंट को सरेराह कार से निकालकर तीन युवकों ने जमकर मारपीट की। इतना ही नहीं आरोपितों ने उन्हें धमकाया कि अगर ज्यादा मी टू-मी टू पर रिपोर्ट की धमकी दी तो रेप करके फेंक दूंगा। इस घटना का सबसे शर्मनाक पहलू यह है कि 150 लोगों की भीड़ एक महिला और उसके छात्र को पिटता देखती रही, लेकिन उनको बचाने के लिए कोई सामने नहीं आया।

इस दौरान यहां कोई पुलिसकर्मी भी नहीं आया, जबकि घटना स्थल से महज 100 मीटर की दूरी पर ही एमपी नगर थाने की ज्योति टॉकीज पुलिस चौकी है। हालत ये है कि आचार संहिता के बावजूद पुलिस सड़कों पर नजर नहीं आ रही है। वारदात करने के बाद आरोपित आसानी से शिक्षिका को धमकाते हुए फरार हो गए। इस घटना को 24 घंटे से ज्यादा हो गया, लेकिन अब तक आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं।

एमपी नगर पुलिस के अनुसार रचना नगर गोविंदपुरा में रहने वाली 25 वर्षीय युवती जर्मन भाषा की शिक्षिका है। वह घर पर छात्रों को जर्मन लैग्वेज की कोचिंग देती है। वह अपनी ही एक कोचिंग के छात्र के साथ कार लेकर एमपीनगर में आइसक्रीम खाने आई थी। इसके बाद वह बाहर निकली तो मिलन रेस्टोरेंट के पास मल्टीलेवल पार्किंग का काम चल रहा था। इस दौरान काफी ट्रैफिक था। कार निकलने में दिक्क्त हो रही थी। तभी सामने एक आल्टो कार (एमपी 04 एचए 9676) शिक्षिका की कार के सामने आकर खड़ी हो गई।

शिक्षिका को बोर्ड आफिस की तरफ जाना था, लेकिन उनकी कार के पीछे काफी वाहन होने के कारण वह कार को रिवर्स नहीं कर पा रही थीं, जबकि आल्टो कार चालक अपनी कार को पीछे लेने को तैयार नहीं था। दो मिनट बाद आल्टो से एक युवक उतरा और शिक्षिका के बगल में बैठे छात्र की कॉलर पकड़कर कार की खिड़की से बाहर खींचने की कोशिश करने लगा। छात्र बाहर निकला तो उसके साथ मारपीट कर गले पर धारदार हथियार से चोट पहुंचाई, यह देखकर शिक्षिका भी बाहर निकल आई तो आरोपितों ने मिलकर उनको थप्पड़ मारे और उन्हें पार्किंग में खड़ी कार के ऊपर धकेल दिया। जब शिक्षका ने कहा कि मैं तुम लोगों की रिपोर्ट कर दूंगी तो आरोपितों ने झल्लाते हुए कहा कि ज्यादा मी टू-मी टू किया तो रेप करके फेंक दूंगा।

150 लोग तमाशा देखते रहे पर कोई बचाने नहीं आया

पीड़िता का कहना है कि घटना के समय करीब 150 लोग खड़े-खड़े तमाश दे रहे थे। एक आरोपित मारपीट का वीडियो बना रखा था। उसका साथी हंस रहा था। वह मदद के लिए गुहार लगा रही थी, लेकिन कोई आगे नहीं आया। शिक्षिका का फोन कार में रह गया था, वह पुलिस को फोन भी नहीं कर पा रही थीं। आरोपित उसके स्टूडेंट के साथ भी मारपीट कर रहे थे।naidunia sesabhar

0 comments      

Add Comment