91 बैच के 4 IPS अफसर ADG वरुण कपूर, उपेंद्र जैन, आलोक रंजन और प्रज्ञा रिचा इसी साल DG रैंक में होंगे पदोन्नत

एक-एक महीने के अंतराल पर होंगे पदोन्नत

1304
VRS of 96 Batch IPS Officer Accepted

91 बैच के 4 IPS अफसर ADG वरुण कपूर, उपेंद्र जैन, आलोक रंजन और प्रज्ञा रिचा इसी साल DG रैंक में होंगे पदोन्नत

भोपाल: मध्य प्रदेश पुलिस के 4 ADG स्तर के IPS अफसर एक-एक महीने के अंतराल पर पदोन्नत होकर DG बनेंगे। चारों ही अफसर वर्ष 1991 बैच के IPS अफसर हैं।

प्राप्त जानकारी अनुसार मई, जून, जुलाई और अगस्त में DG रेंक के चार अफसर रिटायर हो रहे हैं। जैसे-जैसे ये अफसर रिटायर होंगे वैसे वैसे 1991 बैच के इन अफसरों को DG स्केल मे पदोन्नति मिल जाएगी।

images 2024 05 16T123001.733

इंदौर में आरएपीटीसी में पदस्थ अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक वरुण कपूर अगले महीने पदोन्नत होने जा रहे हैं। वे एक जून को स्पेशल डीजी के पद पर पदोन्नत होंगे। उनके एक महीने बाद एक जुलाई को उपेंद्र जैन भी स्पेशल डीजी बनेंगे। जैन अभी पुलिस हाउसिंग कॉरपोरेशन के MD के पद पर पदस्थ हैं। दोनों ही अफसर वर्ष 1991 बैच के आईपीएस हैं। वहीं एक अगस्त को आलोक रंजन भी पदोन्नत होकर डीजी बनेंगे। वे अभी पुलिस मुख्यालय की प्रबंध शाखा में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक के पद पर पदस्थ हैं। वहीं महिला सुरक्षा की अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक प्रज्ञा रिचा श्रीवास्तव एक सितम्बर को पदोन्नत होकर डीजी बनेंगी।

दरअसल 31 मई को स्पेशल डीजी अनुराधा शंकर सिंह रिटायर हो रही है। वहीं स्पेशल डीजी शिकायत अशोक अवस्थी 30 जून को रिटायर हो रहे हैं। ये दोनों ही अफसर वर्ष 1990 बैच के आईपीएस अफसर हैं। इन दोनों अफसरों के बाद संजय कुमार झा 31 जुलाई को रिटायर होंगे। वहीं 31 अगस्त को सुषमा सिंह रिटायर होंगी। संजय कुमार झा और सुषमा सिंह वर्ष 1989 बैच के IPS अफसर हैं।

*प्रदेश में हैं DG रैंक के 12 पद* 

मध्य प्रदेश में डीजी रैंक के 12 पद स्वीकृत हैं। इसमें से पांच पद कॉडर के हैं, जबकि पांच पद एक्स कॉडर के हैं। कॉडर के पांच पदों में डीजीपी के अलावा डीजी पुलिस प्रशिक्षण, डीजी होमगार्ड, डीजी जेल और डीजी पुलिस हाउसिंग कॉरपोरशन का पद है। इसके बाद पांच एक्स कॉडर के पद पर प्रदेश सरकार अपने अनुसार इन अफसरों को स्पेशल डीजी के तौर पर पदस्थ कर देगी है। प्रदेश में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशकों की संख्या ज्यादा होने के चलते पिछले कुछ वर्षों से दो पद प्रदेश सरकार ने डीजी के लिए स्वीकृत किए हैं। हालांकि बीच में करीब आठ महीने तक इन पदों को स्वीकृति नहीं मिली थी, लेकिन बाद में यह स्वीकृति मिल गई थी। प्रदेश सरकार द्वारा दो अतिरिक्त पद स्वीकृत करने से अब यहां पर 12 अफसर डीजी के पद पर पदस्थ रहते हैं।