Blog

डॉ. आर.एस. खरे

डॉ. आर.एस. खरे

जन्म तिथि- 15.04.1951

जन्म स्थान- टीकमगढ़ (म.प्र.) 

शिक्षा- एम.एस.सी. (वनस्पति विज्ञान)

एम.एड., पी.एच.डी. (शिक्षा)

शासकीय सेवा के प्रारंभिक वर्षों में व्याख्याता पद पर, तत्पश्चात् म.प्र. लोक सेवा आयोग से चयनित होने पर विभिन्न आदिवासी जिलों- सीधी, बैतूल, धार, झाबुआ, बस्तर, सरगुजा, इंदौर में जिला संयोजक, सहायक आयुक्त, उपायुक्त,

अपर आयुक्त आदिवासी विकास भोपाल के पद से अप्रैल 2011 में सेवा निवृत्त

एक वर्ष नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण में अपर संचालक पुनर्वास के पद पर संविदा नियुक्ति

2012 से 2017 पाँच वर्ष संत हिरदाराम कन्या महाविद्यालय बैरागढ़ में शिक्षा संकाय में विभागाध्यक्ष

वर्ष 1971-72 से व्यंग्य लेखन प्रारंभ किया| कुछ रचनाएँ 1972 से 74 के मध्य 'धर्मयुग', 'साप्ताहिक हिंदुस्तान' पत्रिका में प्रकाशित हुईं|

पिछले तीन वर्षों में पुनः लेखन प्रारंभ किया|

कुछ कहानियाँ- 'अक्षरा', 'सरिता', 'शिखर वार्ता' तथा 'स्पुतनिक' में प्रकाशित

कुछ व्यंग्य- 'व्यंग्य यात्रा', 'सरिता', 'अट्टहास' तथा 'स्पुतनिक' में प्रकशित 


डॉ0 आर0 एस0 खरे

11, सियाराम परिसर

सौम्या एनक्लेव, चूना-भट्टी 

भोपाल- 462016

07552420130/9827267006


अरूणोदय 

अरूणोदय 

मीडियावाला.इन। यह कहानी है अबूझमाड़ (बस्‍तर ) की एक आश्रम शाला के गुरू जी शिवप्रसाद जी की । पर उनके बादे में जानने के पहले उनकी अबूजा कार्य भूमि के बारे में कुछ जान लेना उचित होगा ।  ...

कदमताल "

कदमताल "

मीडियावाला.इन।   " मम्मा........... दादा जी को छींकें आ रही है।" छह वर्ष की पोती शिवानी आवाज लगाती दौड़कर किचेन में गई । उसे यह पता है कि सर्दी, जुकाम, खाँसी और बुखार कोराना महामारी के लक्षण...

पिंडदान

पिंडदान

मीडियावाला.इन। बाबू जी को गुजरे पांच वर्ष हो रहे थे । रामदयाल जी हर बार सोचते कि अगले पितृ-पक्ष में  'गया-जी'  जाकर पिंडदान करेंगे, लेकिन हर बार जाना टलता जाता ।   अब फिर श्राद्ध-पक्ष आने वाला था तो...