Wednesday, January 22, 2020

Blog

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

  • डॉ॰ वेद प्रताप वैदिक (जन्म: 30 दिसम्बर 1944, इंदौर, मध्य प्रदेश) भारतवर्ष के वरिष्ठ पत्रकार, राजनैतिक विश्लेषक, पटु वक्ता एवं हिन्दी प्रेमी हैं। हिन्दी को भारत और विश्व मंच पर स्थापित करने की दिशा में सदा प्रयत्नशील रहते हैं। भाषा के सवाल पर स्वामी दयानन्द सरस्वती, महात्मा गांधी और डॉ॰ राममनोहर लोहिया की परम्परा को आगे बढ़ाने वालों में डॉ॰ वैदिक का नाम अग्रणी है।
  • वैदिक जी अनेक भारतीय व विदेशी शोध-संस्थानों एवं विश्वविद्यालयों में ‘विजिटिंग प्रोफेसर’ रहे हैं। भारतीय विदेश नीति के चिन्तन और संचालन में उनकी भूमिका उल्लेखनीय है। अपने पूरे जीवन काल में उन्होंने लगभग 80 देशों की यात्रायें की हैं।
  • अंग्रेजी पत्रकारिता के मुकाबले हिन्दी में बेहतर पत्रकारिता का युग आरम्भ करने वालों में डॉ॰ वैदिक का नाम अग्रणी है। उन्होंने सन् 1958 से ही पत्रकारिता प्रारम्भ कर दी थी। नवभारत टाइम्स में पहले सह सम्पादक, बाद में विचार विभाग के सम्पादक भी रहे। उन्होंने हिन्दी समाचार एजेन्सी भाषा के संस्थापक सम्पादक के रूप में एक दशक तक प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया में काम किया। सम्प्रति भारतीय भाषा सम्मेलन के अध्यक्ष तथा नेटजाल डाट काम के सम्पादकीय निदेशक हैं।

मस्जिद में हिंदू विवाह

मीडियावाला.इन। केरल के कायमकुलम कस्बे के मुसलमानों ने सांप्रदायिक सदभाव की ऐसी मिसाल कायम की है, जो शायद पूरी दुनिया में अद्वितीय है। उन्होंने अपनी मस्जिद में एक हिंदू जोड़े का विवाह करवाया। निकाह नहीं, विवाह ! विवाह याने...

कहां चीन और कहां भारत?

कहां चीन और कहां भारत?

मीडियावाला.इन। आज चीन की प्रति व्यक्ति आय के आंकड़े देखकर मेरे दिमाग में कई सवाल एक साथ उठते रहे। चीन की प्रति व्यक्ति आय 10 हजार डाॅलर से ज्यादा है जबकि भारत की प्रति व्यक्ति आय 2000 डाॅलर के...

कश्मीरः सही काम गलत ढंग से

मीडियावाला.इन। कश्मीर के कुछ नेताओं को उनके अपने बंगलों में रखा जा रहा है, इंटरनेट की सुविधा कुछ अन्य जिलों में बढ़ाई जा रही है और सबसे बड़ी बात यह कि 36 केंद्रीय मंत्रियों को जम्मू-कश्मीर के लगभग 60...

केरल से सीखे सारा देश

मीडियावाला.इन। केरल में कल-परसों ऐसा काम हुआ है, जो पूरे देश में बड़े पैमाने पर होना चाहिए। कोची के समुद्रतट के किनारे चार गगनचुंबी भवनों को कुछ ही सेकेंड में जमीदोज़ कर दिया गया। ये भवन 17 से 19...

कश्मीर:अदालत की सफ़ाई

मीडियावाला.इन। कश्मीर के सवाल पर सर्वोच्च न्यायालय का जो फैसला आया है, उस पर विपक्षी दल क्यों बहुत खुश हो रहे हैं, यह समझ में नहीं आता। क्या अदालत ने सब गिरफ्तार नेताओं की रिहाई के आदेश...

अब भारत की भूमिका ज्यादा जरुरी

मीडियावाला.इन। ईरानी सेनापति कासिम सुलेमानी की हत्या के बाद अमेरिका और ईरान के बीच युद्ध छिड़ जाने की जो आशंका थी, वह अभी तक आशंका ही है, यह संतोष का विषय है। ईरान ने एराक के अमेरिकी सैनिक अड्डों...

ये अस्पताल हैं या कब्रिस्तान ?

मीडियावाला.इन। भारत में सरकारी अस्पतालों की कितनी दुर्दशा है, इस पर मैं पहले भी लिख चुका हूं। लेकिन इधर राजस्थान में कोटा के जेके लोन अस्पताल में सौ से भी ज्यादा बच्चों की मौत ने पूरे देश का ध्यान...

ईरानः भारत की भूमिका ?

मीडियावाला.इन। ईरानी सेनापति कासिम सुलेमानी की हत्या को डोनाल्ड ट्रंप कितना ही जरुरी और सही ठहराएं लेकिन यह काम एक अघोषित युद्ध की तरह ही है। सुलेमानी ईरान के सिर्फ बड़े सैनिक अफसर भर ही नहीं थे। वे सर्वोच्च...

विदेश नीतिः नरम-गरम, दोनों

मीडियावाला.इन। कई लोग पूछ रहे हैं कि विदेश नीति के हिसाब से पिछला साल कैसा रहा ? मैं कहूंगा कि खट्टा-मीठा और नरम-गरम दोनों रहा। कश्मीर के पूर्ण विलय को चीन के अलावा सभी महाशक्तियों ने भारत का आतंरिक...

नया सेना-प्रधानः कुछ सवाल?

नया सेना-प्रधानः कुछ सवाल?

मीडियावाला.इन। भारत को आजाद हुए 72 साल हो गए लेकिन देश के सेना प्रमुख या सेनापति या सेनाध्यक्ष या प्रधान सेनापति की नियुक्ति अब हो रही है। इस महत्वपूर्ण पहल के लिए नरेंद्र मोदी सरकार को बधाई!...

हिंदू या भारतीय, क्या कहें ?

मीडियावाला.इन। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत के हिंदू-संबंधी बयान पर भाजपा की कुछ सहयोगी पार्टियों ने असहमति व्यक्त की है और विरोधी दल पूछ रहे हैं कि यदि संघ सभी भारतीयों को हिंदू मानता है तो उसने...

सारे मुसलमान भी हिंदू ही हैं

मीडियावाला.इन। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक श्री मोहन भागवत ने आज वही बात खुले-आम कह दी है, जो मैं बरसों से कहता रहा हूं। यह वह बात है, जिस पर मैं गहन चर्चा विगत संघ-प्रमुख गुरु गोलवलकर, देवरसजी, रज्जू...

भाय-भाय, क्यों करें हाय-हाय ?

मीडियावाला.इन। झारखंड में भाजपा की हार से यदि यह भाय-भाय पार्टी कोई सबक नहीं लेगी तो अब इसे हाय-हाय करने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचेगा। हिंदी इलाके में जन्मी, पली, बढ़ी भाजपा पार्टी (भाय-भाय पार्टी) का अब हिंदी...

भारत-अमेरिका: नए आयाम

मीडियावाला.इन। हमारे रक्षामंत्री राजनाथसिंह और विदेश मंत्री जयशंकर की यह अमेरिका-यात्रा दोनों देशों के संबंधों में कुछ नए आयाम जोड़ रही है। अब दोनों देश जब शस्त्र-निर्माण में आपसी सहयोग करेंगे तो गैर-सरकारी शस्त्र-निर्माताओं को वे गोपनीय...

ट्रंप-विरोधी नौटंकी

मीडियावाला.इन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ऐसे तीसरे राष्ट्रपति हैं, जिन पर वहां की संसद महाभियोग चलाएगी। उनके पहले 1868 में एंड्रू जाॅन्सन और 1998 में बिल क्लिंटन पर यह बड़ा मुकदमा चल चुका है। ये दोनों...

मुशर्रफ को सजा-ए-मौत गलत

मुशर्रफ को सजा-ए-मौत गलत

मीडियावाला.इन। जनरल परवेज मुशर्रफ को देशद्रोह के अपराध में सजा-ए-मौत हो गई। यह अनहोनी है। क्यों है ? क्योंकि आज तक किसी पाकिस्तान की अदालत की यह हिम्मत नहीं हुई कि वह अपने किसी फौजी तानाशाह को देशद्रोही कहे...

कहां सावरकर और कहां राहुल?

मीडियावाला.इन। हमारे आजकल के नेताओं से यह आशा करना कि वे नेहरु, लोहिया, श्यामाप्रसाद मुखर्जी, विनोबा, अटलबिहारी वाजपेयी और नरसिंहराव की तरह पढ़े-लिखे होंगे, उनके साथ अन्याय करना होगा। वे सत्ता में हों या विपक्ष हों, उनका...

लंदन में दोस्ताना सरकार

लंदन में दोस्ताना सरकार

मीडियावाला.इन। ब्रिटेन के आम चुनाव में कंजर्वेटिव पार्टी के नेता बोरिस जाॅनसन की विजय का भारत स्वागत करता है, क्योंकि लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कोर्बिन के मुकाबले जॉनसन ने भारत और ब्रिटेन के भारतीयों के प्रति काफी मैत्रीपूर्ण...

इन मौतों का जिम्मेदार कौन ?

इन मौतों का जिम्मेदार कौन ?

मीडियावाला.इन। दिल्ली की एक अनाज मंडी के इलाके में लगी आग के कारण 43 लोग मारे गए। इस भयंकर हत्याकांड पर जो राजनीतिक दंगल चल रहा है, वह जले पर नमक के समान है। भाजपा और आप पार्टी के...

*कुछ दिन प्याज न खाएं*

*कुछ दिन प्याज न खाएं*

मीडियावाला.इन। आज कल प्याज की कीमतों ने लोगों की नाक में दम कर रखा है। आज की खबर है कि कुछ शहरों में प्याज की कीमत 160 रु. किलो तक चली गई है। भारत सरकार और प्रांतीय सरकारें लोगों...