Monday, December 09, 2019

Blog

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

  • डॉ॰ वेद प्रताप वैदिक (जन्म: 30 दिसम्बर 1944, इंदौर, मध्य प्रदेश) भारतवर्ष के वरिष्ठ पत्रकार, राजनैतिक विश्लेषक, पटु वक्ता एवं हिन्दी प्रेमी हैं। हिन्दी को भारत और विश्व मंच पर स्थापित करने की दिशा में सदा प्रयत्नशील रहते हैं। भाषा के सवाल पर स्वामी दयानन्द सरस्वती, महात्मा गांधी और डॉ॰ राममनोहर लोहिया की परम्परा को आगे बढ़ाने वालों में डॉ॰ वैदिक का नाम अग्रणी है।
  • वैदिक जी अनेक भारतीय व विदेशी शोध-संस्थानों एवं विश्वविद्यालयों में ‘विजिटिंग प्रोफेसर’ रहे हैं। भारतीय विदेश नीति के चिन्तन और संचालन में उनकी भूमिका उल्लेखनीय है। अपने पूरे जीवन काल में उन्होंने लगभग 80 देशों की यात्रायें की हैं।
  • अंग्रेजी पत्रकारिता के मुकाबले हिन्दी में बेहतर पत्रकारिता का युग आरम्भ करने वालों में डॉ॰ वैदिक का नाम अग्रणी है। उन्होंने सन् 1958 से ही पत्रकारिता प्रारम्भ कर दी थी। नवभारत टाइम्स में पहले सह सम्पादक, बाद में विचार विभाग के सम्पादक भी रहे। उन्होंने हिन्दी समाचार एजेन्सी भाषा के संस्थापक सम्पादक के रूप में एक दशक तक प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया में काम किया। सम्प्रति भारतीय भाषा सम्मेलन के अध्यक्ष तथा नेटजाल डाट काम के सम्पादकीय निदेशक हैं।
*कुछ दिन प्याज न खाएं*

*कुछ दिन प्याज न खाएं*

मीडियावाला.इन। आज कल प्याज की कीमतों ने लोगों की नाक में दम कर रखा है। आज की खबर है कि कुछ शहरों में प्याज की कीमत 160 रु. किलो तक चली गई है। भारत सरकार और प्रांतीय सरकारें लोगों...

प्रज्ञा को निकाल बाहर करें

मीडियावाला.इन। भोपाल से लोकसभा सदस्य प्रज्ञा ठाकुर ने एक बार फिर भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की दाल पतली करवा दी है। वह कहती है कि उसने शहीद उधमसिंह की देशभक्ति पर संदेह करने को गलत बताया...

इस सत्ता उलट-पुलट के अर्थ

मीडियावाला.इन। महाराष्ट्र में रातों-रात जो सत्ता-पलट हुआ था, वह अब सत्ता-उलट हो गया है। पहले अजित पवार का इस्तीफा हुआ। फिर देवेंद्र फड़नवीस का भी इस्तीफा हो गया। क्यों नहीं होता ? अजित पवार के उपमुख्यमंत्रिपद पर...

*मुंबई में रातों-रात तख्ता-पलट*

मीडियावाला.इन। अभी मैं दुबई में हूं। जैसे ही सुबह नींद खुली, मैं धक से रह गया। चार-पांच दिन पहले मैंने लिखा था कि मुंबई में भाजपा और राकांपा की सरकार भी बन सकती है। सारे देश ने...

ब्रिक्स में भारत की बुलंदी

मीडियावाला.इन। ब्राजील में हुआ ब्रिक्स सम्मेलन भारत की दृष्टि से काफी सार्थक रहा। इसमें पांच देशों- ब्राजील, भारत, चीन, रुस और दक्षिण अफ्रीका ने मिलकर जो संयुक्त वक्तव्य जारी किया है, उसमें वे सभी मुद्दे हैं, जिन्हें...

ये नेता नहीं, कुर्सीदास हैं

मीडियावाला.इन। भारतीय राजनीति के घोर अधःपतन का घिनौना रुप किसी को देखना हो तो वह आजकल के महाराष्ट्र को देखे। जो लोग अपने आप को नेता कहते हैं, वे क्या हैं ? वे सिर्फ कुर्सीदास हैं। कुर्सी के लिए...

हिंदू व मुस्लिमः दोनों जीत गए

मीडियावाला.इन। अयोध्या के राम मंदिर विवाद पर सर्वोच्च न्यायालय का जो फैसला आया है, उससे मैं बहुत प्रसन्न हूं। पहली बात तो यह कि यह फैसला सर्वसम्मति से आया है और फिर बड़ी बात यह कि देश...

चीन के चंगुल से बचा भारत

मीडियावाला.इन।   भारत ने थोड़ी हिम्मत दिखाई और वह चीन के चंगुल से बच निकला। पूर्वी एशिया के 16 देशों के संगठन (क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी) में यदि भारत हां में हां मिलाता रहता तो उसकी अर्थ व्यवस्था...

यह जासूसी कौन करवा रहा है ?

मीडियावाला.इन। इस्राइल की एनएसओ नामक एक साॅफ्टवेयर कंपनी की एक जबर्दस्त तिकड़म अभी-अभी पकड़ी गई है। इस कंपनी ने दुनिया के लगभग आधा दर्जन देशों के 1400 लोगों के फोन टेप करने उनके व्हाट्साप  संदेशों को इकट्ठा कर लिया...

कश्मीर में हिंसा

कश्मीर में हिंसा

मीडियावाला.इन। कश्मीर के हाल देखने के लिए इधर से 23 यूरोपीय सांसद श्रीनगर पहुंचे और उधर कुलगाम में आतंकवादियों ने पांच मजदूरों की हत्या कर दी। इस खबर के आगे मोदी की सउदी यात्रा और बगदादी की हत्या की...

जनता के ये बगावती तेवर

मीडियावाला.इन भारत में तो आज हम दीवाली मना रहे हैं लेकिन दुनिया के कई देशों में जनता की बगावत का आज सबसे बड़ा दिन है। हमारे पड़ौसी पाकिस्तान में जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम के नेता फजलुर रहमान ने आज से इमरान...

कनाडा में सिखों का बोलबाला

मीडियावाला.इन। इस समय सारी दुनिया में प्रवासी भारतीय रह रहे हैं लेकिन किसी गोरे या पश्चिमी देश में भारतीयों का ऐसा बोलबाला कभी कायम नहीं हुआ है, जैसा आजकल कनाडा में हो रहा है। कनाडा में एक भारतीयों की...

भाजपा: बिना ब्रेक की गाड़ी

मीडियावाला.इन। हरयाणा और महाराष्ट्र के चुनावों के जो ‘एक्जिट पोल’ आए हैं, वे क्या बता रहे हैं ? दोनों राज्यों में कांग्रेस का सूंपड़ा साफ है। विरोधी दल बुरी तरह से पटकनी खा रहे हैं। हरयाणा की 90 सीटों...

चीन का नरम-गरम रवैया

मीडियावाला.इन। चीन के राष्ट्रपति शी चिन फिंग के ज्यों ही भारत आने की घोषणा हुई, कश्मीर के बारे में चीनी सरकार ने ऐसा बयान जारी कर दिया कि आज यदि भारत में इंदिराजी की सरकार होती तो चीनी राष्ट्रपति...

काला धन खत्म यों होगा*

मीडियावाला.इन। स्विटजरलैंड ने भारत सरकार को उन सब खातों की जानकारी सौंप दी है, जो भारतीयों ने उसके बैंकों में खोल रखे हैं। ऐसा नहीं है कि वे सभी खाते काले धन के होंगे या आतंकी धन या ठगी-धन...

*शेख हसीना की हसीन-यात्रा*

*शेख हसीना की हसीन-यात्रा*

मीडियावाला.इन। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की इस बार जैसी भारत-यात्रा रही, वैसी सभी पड़ौसी देशों के प्रधानमंत्रियों की होती रहे तो यह दक्षिण एशिया का पिछड़ा हुआ इलाका अगले 10 साल में यूरोप से भी आगे निकल सकता...

भ्रष्ट अफसर: यह सजा काफी नहीं

भ्रष्ट अफसर: यह सजा काफी नहीं

मीडियावाला.इन। मोदी सरकार के पहली बार आते ही भ्रष्ट अफसरों के खिलाफ कार्रवाई शुरु की गई थी  लेकिन फिर सरकार ढीली पड़ गई लेकिन खुशी की बात है कि अब नई सरकार आते ही उसने भ्रष्ट अफसरों के...

भाजपा अपनी इज्जत बचाए

भाजपा अपनी इज्जत बचाए

मीडियावाला.इन। भाजपा के पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद और उनके कालेज की एक छात्रा के मामले ने भाजपा की छवि को धूल में मिलाकर रख दिया है। जो पार्टी अपनी चाल, चेहरे और चरित्र पर गर्व करती थी, क्या...

*क्या-क्या अदाएं हैं हमारे ट्रंपजी की*

*क्या-क्या अदाएं हैं हमारे ट्रंपजी की*

मीडियावाला.इन। ह्यूस्टन में नरेंद्र मोदी और डोनाल्ड ट्रंप की संयुक्त सभा ने जो जलवा पैदा किया है, उससे इन दोनों नेताओं के अंदरुनी और बाहरी विरोधी-सभी हतप्रभ हैं। दोनों नेता प्रचार-कला के महापंडित हैं। दोनों एक-दूसरे के गुरु-शिष्य और...

*महाराष्ट्र और हरयाणा में क्या होगा ?*

*महाराष्ट्र और हरयाणा में क्या होगा ?*

मीडियावाला.इन। अब से ठीक एक महीने बाद महाराष्ट्र और हरयाणा में चुनाव होंगे। इन दोनों राज्यों में पहली बार भाजपा के मुख्यमंत्री पांच साल पहले बने थे। पिछले पांच वर्षों में इन राज्यों में भाजपा के मुख्यमंत्रियों क्रमशः देवेंद्र...