Blog

अजय बोकिल

जन्म तिथि : 17/07/1958, इंदौर

शिक्षा : एमएस्सी (वनस्पतिशास्त्र), एम.ए. (हिंदी साहित्य)

पता : ई 18/ 45 बंगले,  नार्थ टी टी नगर भोपाल

मो. 9893699939

अनुभव :

पत्रकारिता का 33 वर्ष का अनुभव। शुरूआत प्रभात किरण’ इंदौर में सह संपादक से। इसके बाद नईदुनिया/नवदुनिया में सह संपादक से एसोसिएट संपादक तक। फिर संपादक प्रदेश टुडे पत्रिका। सम्प्रति : वरिष्ठ संपादक ‘सुबह सवेरे।‘

लेखन : 

लोकप्रिय स्तम्भ लेखन, यथा हस्तक्षेप ( सा. राज्य  की नईदुनिया) बतोलेबाज व टेस्ट काॅर्नर ( नवदुनिया) राइट क्लिक सुबह सवेरे।

शोध कार्य : 

पं. माखनलाल  चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विवि में श्री अरविंद पीठ पर शोध अध्येता के  रूप में कार्य। शोध ग्रंथ ‘श्री अरविंद की संचार अवधारणा’ प्रकाशित।

प्रकाशन : 

कहानी संग्रह ‘पास पडोस’ प्रकाशित। कई रिपोर्ताज व आलेख प्रकाशित। मातृ भाषा मराठी में भी लेखन। दूरदर्शन आकाशवाणी तथा विधानसभा के लिए समीक्षा लेखन।  

पुरस्कार : 

स्व: जगदीश प्रसाद चतुर्वेदी उत्कृष्ट युवा पुरस्कार, मप्र मराठी साहित्य संघ द्वारा जीवन गौरव पुरस्कार, मप्र मराठी अकादमी द्वारा मराठी प्रतिभा सम्मान व कई और सम्मान।

विदेश यात्रा : 

समकाालीन हिंदी साहित्य सम्मेलन कोलंबो (श्रीलंका)  में सहभागिता। नेपाल व भूटान का भ्रमण।

नई शिक्षा नीति और सामाजिक सोच में कितना तालमेल है ?

नई शिक्षा नीति और सामाजिक सोच में कितना तालमेल है ?

मीडियावाला.इन। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के संदर्भ में कहा कि ये शिक्षा नीति सभी के परामर्श से तैयार की गई है। यह कोई सर्कुलर नहीं बल्कि महायज्ञ है, जो नए देश की नींव रखेगा और...

एक याद उस ‘ईंट’ की, जो राम रथ यात्रा ने रखी थी....!

एक याद उस ‘ईंट’ की, जो राम रथ यात्रा ने रखी थी....!

मीडियावाला.इन। अयोध्या में राम मंदिर शिलान्यास के साथ ही तीन दशकों का वो ऐतिहासिक चक्र अपनी पूर्णता को प्राप्त करने की दिशा में आगे बढ़ेगा, जिसकी पहली -धार्मिक-राजनीतिक र्ईंट- 1990 में भाजपा के तत्कालीन अध्यक्ष लालकृष्ण आडवाणी ने रखी...

उधर भाजपा के ‘राम’, इधर कांग्रेस के ‘कौशल्या’ और ‘हनुमान’?

उधर भाजपा के ‘राम’, इधर कांग्रेस के ‘कौशल्या’ और ‘हनुमान’?

मीडियावाला.इन। अयोध्या में राम मंदिर शिलान्यास की शुभ घड़ी जैसे-जैसे करीब आती जा रही है, वैसे-वैसे जहां समारोह‍ निमंत्रण सूची भी बढ़ती जा रही है, वहीं ‘राम परिवार’ का अघोषित सियासी बंटवारा भी होता जा रहा है।...

राम मंदिर और मोदी: फर्क ‘संवैधानिक मर्यादा’ व ‘लोक मर्यादा’ का....

राम मंदिर और मोदी: फर्क ‘संवैधानिक मर्यादा’ व ‘लोक मर्यादा’ का....

मीडियावाला.इन। यह महज संयोग नहीं है कि अयोध्या में मर्यादा पुरूषोत्तम राम के मंदिर के शिलान्यास पर संवैधानिक मर्यादाअों के पालन और उनके औचित्य पर सवाल उठ रहे हैं। देश के प्रधानमंत्री के इस आयोजन में जाने से संवैधानिक...

पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या सामाजिक सुरक्षा की भी हत्या है..

पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या सामाजिक सुरक्षा की भी हत्या है..

मीडियावाला.इन। देश की राजधानी दिल्ली से सटे गाजियाबाद में दिन-दहाड़े पत्रकार विक्रम जोशी की बेखौफ हत्या इस बात का प्रमाण है कि अभिव्यक्ति की आजादी तो ‍दूर पुलिस में जायज शिकायत करना भी किसी की जान लेने...

शरद पवार: राम मंदिर पर सही सवाल या सत्ता बचाने नई चाल ?

शरद पवार: राम मंदिर पर सही सवाल या सत्ता बचाने नई चाल ?

मीडियावाला.इन। अयोध्या में राम मंदिर शिलान्यास के कुछ घंटों पहले देश के बुजुर्ग नेता शरद पवार ने यह बयान देकर मोदी सरकार पर तीखा हमला किया कि कुछ लोग सोचते हैं कि राम मंदिर निर्माण से कोरोना खत्म हो...

क्या विकास का ‘एनकाउंटर’ ब्राह्मणों के साथ ‘नाइंसाफी’ है?

क्या विकास का ‘एनकाउंटर’ ब्राह्मणों के साथ ‘नाइंसाफी’ है?

मीडियावाला.इन। जिस तरह होली की बुझती अंगार से घर का चूल्हा सुलगाने की लोक परंपरा है, कुछ उसी तरह राजनीति भी लाशों पर जातीय सियासत के शोले भड़काने से नहीं चूकती। ताजा उदाहरण यूपी में अपराधी डाॅन विकास दुबे...

चीन पर ‘डिजीटल स्ट्राइक’ और हमारा ‘डिजीटल राष्ट्रवाद’...

चीन पर ‘डिजीटल स्ट्राइक’ और हमारा ‘डिजीटल राष्ट्रवाद’...

मीडियावाला.इन।       प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रविवार को ‘मन की बात’ से साफ हो गया था कि लद्दाख में हमारी गलवान घाटी में घुसे चीन को...

निशाने पर पीटीआई और कुछ संजीदा सवाल...

निशाने पर पीटीआई और कुछ संजीदा सवाल...

मीडियावाला.इन। संयोग ही कहें कि तीन दिन पहले जब हम देश में आपातकाल के दौरान अभिव्यक्ति की आजादी और लोकतं‍त्र को कुचलने के खिलाफ लड़ी गई लड़ाई के तराने सुन रहे थे, उसी बीच यह खबर आई कि देश...

ब्यूटी बाजार: ‘लवली’ को ‘ फेयर’’ को अलग करने का दबाव..!.

ब्यूटी बाजार: ‘लवली’ को ‘ फेयर’’ को अलग करने का दबाव..!.

मीडियावाला.इन। अमेरिका से उठे अश्वेतों के नस्लवाद विरोधी आंदोलन का एक सकारात्मक असर भारतीयों के गोरेपन के (दुर्) आग्रह पर भी होता दीख रहा है। इस देश में लगभग आधी सदी से महिलाअों के रंग को निखारने का दावा...

कोरोनिल’ के बहाने बाबा रामदेव को मोदी सरकार का ‘दिव्य’ झटका ?

कोरोनिल’ के बहाने बाबा रामदेव को मोदी सरकार का ‘दिव्य’ झटका ?

मीडियावाला.इन। कोरोना महामारी की कथित रामबाण दवा ‘दिव्य कोरोनिल टैबलेट’ पर रोक लगाकर मोदी सरकार ने बाबा रामदेव को तगड़ा झटका दे दिया है। इससे भड़के बाबा ने ट्वीट किया ट्वीट किया कि आयुर्वेद का विरोध एवं नफरत करने...

इस बार ‘आम’ भी कुछ सहमा-सहमा सा है..!

मीडियावाला.इन। गलवान घाटी मामले में चीन की ‘शाब्दिक ठुकाई’ करने वालों को इस बात का अंदाज नहीं है कि चीन हमे अब आम उत्पादन और निर्यात के क्षेत्र में भी कड़ी चुनौती दे रहा है। अभी हम आम की...

चीनी माल के जाल से निकलने हमारे युवा कितने तैयार हैं?

चीनी माल के जाल से निकलने हमारे युवा कितने तैयार हैं?

मीडियावाला.इन। चीन की दबंगई और गलवान घाटी में 20 भारतीय सैनिकों की शहादत के बाद देश में चीनी सामान के बहिष्कार की मुहिम और तेज हो गई है। केन्द्र और कुछ राज्य सरकारों ने चीनी कंपनियों और...

क्यों न भाजपा ये ‘वर्चुअल रैलियां’ पूरी तरह रद्द कर दे..

क्यों न भाजपा ये ‘वर्चुअल रैलियां’ पूरी तरह रद्द कर दे..

मीडियावाला.इन। हर घड़ी चुनावी मोड़ में जीने वाली विश्व की सबसे बड़ी और देश में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने लद्दाख के गलवान घाटी में शहीद हुए सैनिकों के सम्मान में अपनी डिजीटल (वर्चुअल) रैलियां दो दिन...

यहां वो ‘सुशांत’ ही टिक पाते हैं जो भीतर से ‘प्रशांत’ भी हों...

यहां वो ‘सुशांत’ ही टिक पाते हैं जो भीतर से ‘प्रशांत’ भी हों...

मीडियावाला.इन। युवा फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत कितने महान कलाकार थे, इस सवाल को अलग रखें तो उनकी दुर्भाग्यपूर्ण आत्महत्या के बाद दो बातें साफ तौर पर उभर कर आ रही हैं। पहला तो ये कि सुशांत बाॅलीवुड में...

अफसरों के ‘घुटने टेकने’ का फलितार्थ और राजनीतिक चौघड़िया...

अफसरों के ‘घुटने टेकने’ का फलितार्थ और राजनीतिक चौघड़िया...

मीडियावाला.इन। ‘घुटने टेकना’ यूं तो हिंदी का एक मुहावरा है, लेकिन राजनीतिक और प्रशासनिक संदर्भ में इसके अर्थ अलग होते हैं यानी घुटने किसने टेके, कब टेके और किसके आगे टेके, इसी से उसका फलितार्थ तय होता...

‘मोदी गमछे’ को लेकर दो भाजपाशासित राज्यों में पर ‘ठनी’...!

‘मोदी गमछे’ को लेकर दो भाजपाशासित राज्यों में पर ‘ठनी’...!

मीडियावाला.इन। ये ‘गमछा प्रकरण’ जितना चौंकाने वाला है, उतना ही दिलचस्प भी है। खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी नहीं सोचा होगा कि जनता को मास्क पहनने का संदेश देने के लिए उन्होंने जिस गमछे से मुंड ढांका था,...

लाॅक डाउन में ‘पारले जी’ या ‘बिस्किट ऑफ इंडिया’... !

लाॅक डाउन में ‘पारले जी’ या ‘बिस्किट ऑफ इंडिया’... !

मीडियावाला.इन। इन दिनों ‘स्वदेशी’ के हल्ले के बीच जिन्होंने बिना किसी नारे या शोर गुल के सचमुच ‘स्वदेशी’ और ‘आत्मनिर्भरता’ के झंडे गाड़े हैं, उनमें से पारले-जी बिस्किट का नाम प्रमुख है। क्या ही संयोग है कि...

यहां डीजीपी की चिट्ठी, वहां मिनीपोलिस में पुलिस की ही ‘छुट्टी’...

यहां डीजीपी की चिट्ठी, वहां मिनीपोलिस में पुलिस की ही ‘छुट्टी’...

मीडियावाला.इन। दो खबरें लगभग साथ आईं। संदर्भ अलग-अलग थे। लेकिन दोनों में अंतर्संम्बध है। पहली खबर मप्र की है, जहां राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) विवेक जौहरी को पुलिस मुख्‍यालय में तैनात 29 आईपीएस अफसरों  की ‘काम...

देश का नाम याचिका से नहीं, जनाकांक्षा से बदलता है...

देश का नाम याचिका से नहीं, जनाकांक्षा से बदलता है...

मीडियावाला.इन। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को देश का नाम बदल कर ‘इंडिया’ से ‘भारत’ करने सम्बन्धी याचिका को खारिज कर ठीक ही किया। कोर्ट ने कहा कि इस याचिका की काॅपी सम्बन्धित मं‍त्रालय में भेंजे। इसका फैसला वहीं होगा।...