Blog

आनंद कुमार शर्मा

आनन्द शर्मा भारतीय प्रशासनिक सेवा के सेवा निवृत अधिकारी हैं, वर्तमान में वे मुख्यमंत्री के ओएसडी है   कविता, फ़िल्म समीक्षा, यात्रा वृतांत आदि अनेक विधाओं में फ़ेसबुकीय लेखन| विशेष तौर पर मीडिया वाला के लिए ताज़ा फ़िल्म समीक्षा के लिए चर्चित ।

जब बड़े बाबू ने सलाह दी वल्लभ भवन में कभी पोस्टिंग मत कराना

जब बड़े बाबू ने सलाह दी वल्लभ भवन में कभी पोस्टिंग मत कराना

मीडियावाला.इन। कुछ दिनों से मैं पाँचवीं मंज़िल पर बतौर ओ एस डी बैठ रहा हूँ | वल्लभ भवन (मंत्रालय) में मेरा आने का ये दूसरा मौक़ा है | इस बार भोपाल और वल्लभ भवन के बारे में कुछ पुराने...

एसपी सुरजीत सिंह की नजर में आ गए और अधूरी रह गई नकल करने की आस

एसपी सुरजीत सिंह की नजर में आ गए और अधूरी रह गई नकल करने की आस

मीडियावाला.इन। कोरोना महामारी के कारण जिस एक चीज़ ने समाज को सबसे ज़्यादा परेशान किया है, वो है बच्चों के स्कूल और कालेज का बन्द होना| छोटे से लेकर बड़े बच्चों तक सब का ये ऐसा नुक़सान...

बारिश के लिए तरह-तरह के जतन और थाईलैंड की लोक कथा

बारिश के लिए तरह-तरह के जतन और थाईलैंड की लोक कथा

मीडियावाला.इन। शुरुआत में ऐसा लगा जैसे मानसून जल्द आ गया| किसी ने कहा मानसून नहीं ये तो अरब सागर में उठे ताऊ ते तूफ़ान का असर है, फिर बंगाल की खाड़ी से यास तूफ़ान लगे लगे आ...

जब कलेक्टर साहब ने कहा विधायक जी को बता दो बच्चा फर्स्ट डिवीजन में पास है!

जब कलेक्टर साहब ने कहा विधायक जी को बता दो बच्चा फर्स्ट डिवीजन में पास है!

मीडियावाला.इन। कोई भी प्रोफ़ेशन हो इन्सान का उसके प्रति समर्पण कई बार उसके पारिवारिक दायित्वों पर भी असर डालता है, पर समाज के कई सँवर्गों के ऐसे लोगों के, ख़ास कर पुलिस विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों के...

मुझे कभी कभी ये लगता है, कि…

मुझे कभी कभी ये लगता है, कि…

मीडियावाला.इन। मुझे कभी कभी ये लगता है, कि प्रशासनिक सेवाओं में इतनी विविधता ना होती, तो शायद मैं इसकी यात्रा पूरी ही ना कर पाता| एकरसता से यदि आप बोर हो जाते हैं तो प्रशासनिक सेवाएँ आपका...

शेरनी: नाम के विपरीत कुछ फीकी फीकी सी है फिल्म

शेरनी: नाम के विपरीत कुछ फीकी फीकी सी है फिल्म

मीडियावाला.इन। आतिश का वो मशहूर शेर तो आप सब को याद ही होगा; “बड़ा शोर सुनते थे पहलू में दिल का , जो चीरा तो एक कतरा-ए-खूँ ना निकला” | नक्सल और चुनाव जैसे विषय पर सलीके...

चाहने वालों की चाहत का आलम

चाहने वालों की चाहत का आलम

मीडियावाला.इन। चाहने वाले किसे पसंद नहीं हैं , पर कभी कभी चाहने वालों की दीवानगी भी मुसीबत का कारण बन जाती है | खेल हो , राजनीति हो , साहित्य हो या फ़िल्मी स्क्रीन के सितारे हों ; यानी...

IAS: पैसा,पद,रुतबा और शोहरत, इन सबसे जुदा है सुख

IAS: पैसा,पद,रुतबा और शोहरत, इन सबसे जुदा है सुख

मीडियावाला.इन। जीवन में सफलता और सुख दोनों अलग अलग चीजें हैं | कई बार हम ये समझ बैठते हैं की कोई शख़्स बड़े पद में है या प्रसिद्धि के शिखर पर विराजमान है तो वो सुखी भी होगा पर...

Web Series: फ़ैमिली मैन 2

Web Series: फ़ैमिली मैन 2

मीडियावाला.इन। आम तौर पर फ़िल्मों या टी व्ही सिरीज़ में दिखाई जाने वाली कहानियों के नायक दुनियावी तकलीफ़ों से परे रहते हैं, एक से एक मुसीबतें और बाधाएँ, सब चुटकी बजाते ही हल हो जाती हैं फिर...

फिल्म समीक्षा: सन्दीप और पिंकी फ़रार

फिल्म समीक्षा: सन्दीप और पिंकी फ़रार

मीडियावाला.इन। ना जाने कैसा संयोग है की परिणिति चोपड़ा की ऐसी फ़िल्में जिनके नाम कुछ अजीब से हैं, वे इन अजीब नामों के बावजूद बढ़िया निकलती हैं | हंसी तो फँसी भी ऐसी ही फ़िल्म थी और...

रिटायर हो रहे अधिकारी की एक ही चिंता: आखिर कहां हो सेटल

रिटायर हो रहे अधिकारी की एक ही चिंता: आखिर कहां हो सेटल

मीडियावाला.इन। सरकारी नौकरी में शासकीय सेवक की जैसे जैसे उम्र बढती है और शासकीय सेवा का समय कम होता रहै वैसे वैसे एक प्रश्न मन में बड़ा उथल पुथल मचाने लग जाता है कि आखिर रिटायर होने के बाद...

IAS अफसर और बाबाओं का जंजाल

IAS अफसर और बाबाओं का जंजाल

मीडियावाला.इन। मुझे लगता है केवल अपने देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में लोगों को अपना भविष्य जानने की दिलचस्पी रहती है , और इसके लिए ज्योतिषी , हस्त रेखा शास्त्री और टेरो कार्ड रीडर समेत अनेक क़िस्म...

पति महाशय भले ही बड़े अफसर हो लेकिन बीवी की नजर में तो निखट्टू ही रहेंगे

मीडियावाला.इन। आदमी सारे जमाने में सफलता के झंडे गाड़ ले , बड़ा से बड़ा काम कर ले , पुरस्कार पा ले या कोई मुकाम हासिल कर ले पर घर में इसका एहतराम हासिल कर सके , ये थोड़ा मुश्किल...

आख़िरकार आज वो दिन आ गया है जिसका हर नौकरीपेशा के जीवन में आना लाज़िमी…

आख़िरकार आज वो दिन आ गया है जिसका हर नौकरीपेशा के जीवन में आना लाज़िमी…

मीडियावाला.इन। आख़िरकार आज वो दिन आ गया है जिसका हर नौकरीपेशा के जीवन में आना लाज़िमी है , यानी रिटायरमेंट का दिन | चौतीस वर्ष पाँच माह छह दिन पहले शुरू हुआ सफ़र आज अपने मुक़ाम पर आ गया...

इमरजेंसी काल में रुखसाना सुल्ताना और संजय गांधी पर लिखी कविताओं के निहितार्थ

इमरजेंसी काल में रुखसाना सुल्ताना और संजय गांधी पर लिखी कविताओं के निहितार्थ

मीडियावाला.इन। अंग्रेज़ी में एक कहावत है , “रीड बिटवीन दी लाइन” , याने वो पढ़ो जो नहीं लिखा गया है और जो लिखे में ही कहीं छिपा है | बहुधा शायरो और कवियों की रचनाओं में ही कई निहितार्थ...

मामूली सी शर्त जीत कर जब हमने रेडिसन में उड़ाई पार्टी

मामूली सी शर्त जीत कर जब हमने रेडिसन में उड़ाई पार्टी

मीडियावाला.इन। राज्य प्रशासनिक सेवा से भर्ती हुए प्रशासनिक अधिकारियों को भारतीय प्रशासनिक सेवा में पदोन्नति के साथ इंडक्शन प्रोग्राम में भाग लेना ज़रूरी है, इतना ज़रूरी की इसके करे बिना आपका भा. प्र.से.में कॉन्फ़र्मेशन नहीं होता है| सरल शब्दों...

वैलेंटाइन डे स्पेशल-बात करना तो दूर लड़कियों को देखकर सांस फूल जाया करती थी...

वैलेंटाइन डे स्पेशल-बात करना तो दूर लड़कियों को देखकर सांस फूल जाया करती थी...

मीडियावाला.इन।     आज वेलेण्टाइन डे है , हमारे किशोर अवस्था के दिनों और जहां हम रहा करते थे उसके क़स्बाइ माहौल में वेलेण्टाइन डे के बारे में कोई नहीं जानता था | ऐसा नहीं है की प्रेम नहीं था...

एमपी में छिपे है ख़ज़ाने की तरह कई दर्शनीय स्थल,जो आपको चमत्कृत कर देंगे, यहां मनाइए नए साल का जश्न

एमपी में छिपे है ख़ज़ाने की तरह कई दर्शनीय स्थल,जो आपको चमत्कृत कर देंगे, यहां मनाइए नए साल का जश्न

मीडियावाला.इन। नये साल के आग़ाज़ के जश्न के लिए यदि शिमला कुल्लू मनाली या उदयपुर , मुन्नार जैसी आपकी इक्षित जगहें भर चुकी हों तो निराश होने की ज़रूरत नहीं है , मध्यप्रदेश में अभी भी कई छिपे हुए...

वन्स ए डिप्टी कलेक्टर आल्वेज़ डिप्टी कलेक्टर

वन्स ए डिप्टी कलेक्टर आल्वेज़ डिप्टी कलेक्टर

मीडियावाला.इन। हम जब नौकरी में बतौर डिप्टी कलेक्टर भर्ती हुए तब पदोन्नति के मौक़े बड़े सीमित थे | आइ ए एस में जाने का अवसर , जो बहुत कम ख़ुशनसीबों को हासिल होता , के अलावा क्रमोन्नती के कोई...

पत्रकार, प्रशासन, और प्रजातंत्र

पत्रकार, प्रशासन, और प्रजातंत्र

मीडियावाला.इन। कई बार लोग मुझसे पूछते हैं कि आप इतनी पुरानी बातें कैसे याद रख पाते हैं? ऐसे मित्रों से मेरा कहना है की उम्र के इस पड़ाव पर पुरानी यादों की जुगाली ही इस सबको एक...