Blog

कौशल किशोर चतुर्वेदी

कौशल किशोर चतुर्वेदी मध्यप्रदेश के जाने-माने पत्रकार हैं। इलेक्ट्रानिक और प्रिंट मीडिया में लंबा अनुभव है। फिलहाल एसीएन भारत के स्टेट हेड हैं। इससे पहले स्वराज एक्सप्रेस (नेशनल चैनल) में विशेष संवाददाता, ईटीवी में संवाददाता,न्यूज 360 में पॉलिटिकल एडीटर, पत्रिका में राजनैतिक संवाददाता, दैनिक भास्कर में प्रशासनिक संवाददाता, दैनिक जागरण में संवाददाता, लोकमत समाचार में इंदौर ब्यूरो चीफ, एलएन स्टार में विशेष संवाददाता के बतौर कार्य कर चुके हैं। इनके अलावा भी नई दुनिया, नवभारत, चौथा संसार सहित विभिन्न समाचार पत्रों-पत्रिकाओं में स्वतंत्र लेखन किया है।

जीता-हारा कोई हो पर ईवीएम तो जीत ही गई...

जीता-हारा कोई हो पर ईवीएम तो जीत ही गई...

मीडियावाला.इन। देश के पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव और कई राज्यों में हुए विधानसभा उपचुनाव में परिणामों ने यह साबित करने की पूरी कोशिश की है कि ईवीएम पर होने वाले हमले बेमानी हैं। सबसे अहम...

कभी खुद पे कभी हालात पे रोना आया...

कभी खुद पे कभी हालात पे रोना आया...

मीडियावाला.इन। कोरोना की मार ने आज जिस तरह हर व्यक्ति को आईना दिखाया है,उसके बाद यह पंक्तियां पूरी तरह से चरितार्थ हो रही हैं कि कभी खुद पे कभी हालात पे रोना आया...। किसी भी व्यक्ति को यह अंदाजा...

होलिका संग दहन हो जाना कोरोना ...और फिर कभी लौटकर न आना...

होलिका संग दहन हो जाना कोरोना ...और फिर कभी लौटकर न आना...

मीडियावाला.इन। पूरी दुनिया में पिछले डेढ़ साल से मची अफरातफरी...लाकडाउन, अर्थव्यवस्था ठप, बेसहारा हो भूख की कगार पर पहुंच चुके शहरों में बस रहे गरीब लोगों की दयनीय दशा और येन-केन प्रकारेण घर वापसी ... कोई पैदल...

नियम शिथिल कर शिव ने जीता पत्रकारों का दिल

नियम शिथिल कर शिव ने जीता पत्रकारों का दिल

मीडियावाला.इन। कोरोना की दस्तक के बीच मध्यप्रदेश में अपने मुख्यमंत्रित्व काल की चौथी पारी शुरु करने वाले शिवराज सिंह चौहान को प्रदेश के आम नागरिकों की तरह पत्रकार भी साल भर भौंचक्के होकर देखते रहे। सभी को...

सब अपने होने का अहसास कराते अब ...!

सब अपने होने का अहसास कराते अब ...!

मीडियावाला.इन। सीधी में हुए हादसे के बाद एक बार फिर परिवहन विभाग हरकत में है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीधी में अफसरों की परेड ली और आरटीओ सहित खराब सड़क और काम में लेटलतीफी के लिए...

सरकार,किसान और सुप्रीम कोर्ट ... प्रधानमंत्री कहीं नहीं !

सरकार,किसान और सुप्रीम कोर्ट ... प्रधानमंत्री कहीं नहीं !

मीडियावाला.इन। किसानों के आंदोलन को आखिरकार सुप्रीम कोर्ट के रास्ते ही सही सरकार को सम्मानपूर्वक समेटने का एक अवसर तो मिल ही गया। आगे जो होगा, सो होगा। फिलहाल तो कमेटी के बहाने ही सही सरकार और किसान दोनों...

कृषि बिलों की आड़ में बोले शिवराज...चौथी पारी में तूफ़ानी होगा राजकाज ...

कृषि बिलों की आड़ में बोले शिवराज...चौथी पारी में तूफ़ानी होगा राजकाज ...

मीडियावाला.इन। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की चौथी पारी अब कठोर फैसलों से सराबोर रहेगी। मंगलवार को भेल दशहरा मैदान में मुख्यमंत्री शिवराज ने यह संकेत दे दिए। वे अलग ही अंदाज़ में नज़र आए और उन्होंने साफ़ कर दिया...

देशहित पर सर्वसहमति से फ़ैसले कब लिए जाएँगे ?

देशहित पर सर्वसहमति से फ़ैसले कब लिए जाएँगे ?

मीडियावाला.इन। किसानों के मुद्दे पर सरकार और विपक्ष आमने-सामने हैं तो किसान सरकार के विरोध में दिल्ली के चारों तरफ़ डेरा डाले हुए हैं। मुद्दा है किसानों से संबंधित तीन बिलों का। सरकार इन्हें किसान हितैषी बता रही है...

किसान सकारात्मक हो मानेंगे बात ... या सरकार नकारात्मक हो करेगी आघात ...!

किसान सकारात्मक हो मानेंगे बात ... या सरकार नकारात्मक हो करेगी आघात ...!

मीडियावाला.इन। केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच बैठकों का दौर जारी है लेकिन बात बन नहीं पा रही है। किसानों का हठ है कि तीनों कृषि क़ानून रद्द किए जाएं तो केंद्र सरकार का मानना है कि जिन...

नौ माह बाद विधानसभा होगी स्पीकर के हवाले ... ,तैयार बैठे हैं मंत्री बनने वाले ...

नौ माह बाद विधानसभा होगी स्पीकर के हवाले ... ,तैयार बैठे हैं मंत्री बनने वाले ...

मीडियावाला.इन। आख़िरकार अब यह तय हो गया है कि मध्‍यप्रदेश की पन्‍द्रहवीं विधानसभा का अष्टम् सत्र 28 दिसम्‍बर, 2020 से 30 दिसम्‍बर 2020 तक आहूत हो रहा है। विधानसभा सचिवालय द्वारा अधिसूचना जारी होने के बाद स्थिति पूरी तरह...

कोरोना तुम बताओ तो ... तुमने छला या तुम छले गए ...?

कोरोना तुम बताओ तो ... तुमने छला या तुम छले गए ...?

मीडियावाला.इन। मध्य प्रदेश में एक बार फिर कोरोना के बढ़ते मरीज़ों ने सरकार को चिंता में डाल दिया है।मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा दो लाख की तरफ़ तेज़ी से बढ़ रहा है तो मौतों का आंकड़ा भी...

पर्यटन कैबिनेट, गौ कैबिनेट, कृषि कैबिनेट ... कैबिनेट का क़द कम या विषय विशेष पर ज्यादा फ़ोकस ...?

पर्यटन कैबिनेट, गौ कैबिनेट, कृषि कैबिनेट ... कैबिनेट का क़द कम या विषय विशेष पर ज्यादा फ़ोकस ...?

मीडियावाला.इन। मध्य प्रदेश सरकार ने ग़ौ धन के संरक्षण एवं संवर्द्धन तथा समग्र रूप से निर्णय लेने एवं योजना बनाने के लिए गौ कैबिनेट का गठन किया है। इसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अलावा पाँच अन्य मंत्री गृह...

सत्र की तरफ़ निगाहें ... इंतज़ार शपथ और मंत्रिमंडल विस्तार का ...

सत्र की तरफ़ निगाहें ... इंतज़ार शपथ और मंत्रिमंडल विस्तार का ...

मीडियावाला.इन। विधानसभा चुनावों में जीत का परचम फहराने वाले विधायकों की निगाह अब विधानसभा पर टिकी हैं। शीतकालीन सत्र होता है या नहीं? यह बड़ा सवाल है। अगर शीतकालीन सत्र सांकेतिक हुआ तब नवनिर्वाचित 28 विधायकों के शपथ का...

जनता जीती, लोकतंत्र जीता...जीता मध्यप्रदेश...

जनता जीती, लोकतंत्र जीता...जीता मध्यप्रदेश...

मीडियावाला.इन। मंगलवार को हुए मतदान और मंगलवार को हुई मतगणना के बाद मध्यप्रदेश की राजनैतिक तस्वीर साफ़ हो गई है। मध्य प्रदेश की राजनीति को स्थायित्व की संजीवनी मिल गई है। अब यह तय हो गया है कि प्रदेश...

मध्यप्रदेश की राजनीति को स्थायित्व की संजीवनी मिलने का दिन है आज ...

मध्यप्रदेश की राजनीति को स्थायित्व की संजीवनी मिलने का दिन है आज ...

मीडियावाला.इन। मध्यप्रदेश की राजनीति का अहम दिन आख़िर आ ही गया। स्थायित्व के लिए तड़प रही मध्यप्रदेश की राजनीति को आज संजीवनी मिलने का दिन है। यह संजीवनी रामभक्त हनुमान ही देने वाले हैं मंगलवार के दिन।हालाँकि...

तूफ़ान के बाद का सन्नाटा है साहब ... या सन्नाटे के बाद आने वाला है तूफ़ान ...?

तूफ़ान के बाद का सन्नाटा है साहब ... या सन्नाटे के बाद आने वाला है तूफ़ान ...?

मीडियावाला.इन। 3 नवंबर को मतदान के बाद अब दावों का दौर जारी है। जीत-हार के क़यास के बीच दोनों दल ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतने का दम भर रहे हैं। आने वाला मंगल किस दल के लिए मंगलकारी होगा...

नहीं है हार-जीत का, चुनाव है यह साख-सीख का ...

नहीं है हार-जीत का, चुनाव है यह साख-सीख का ...

मीडियावाला.इन। मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए आज मतदान का दिन है। यह उपचुनाव साधारण नहीं हैं। चुनाव में प्रत्याशियों की हार-जीत तो होती ही रहती है और इस उपचुनाव में भी मुख्य...

मतदाता जो न कराए सो कम है...कुत्ता, कमीना, पापी, नंगा-भूखा और क्या बचा ...?

मतदाता जो न कराए सो कम है...कुत्ता, कमीना, पापी, नंगा-भूखा और क्या बचा ...?

मीडियावाला.इन। मध्य प्रदेश में होने वाले 28 विधानसभा उपचुनाव में नेताओं ने सारी मर्यादाएं तोड़ दी है। मतदाताओं के सामने विरोधियों को नीचा दिखाने के लिए जहाँ उन्हें कई स्तरहीन संज्ञाएँ दी गई तो मतदाताओं को रिझाने और...

भ्रम दूर करेंगे यह उपचुनाव ... मतदाता की कड़ी परीक्षा

भ्रम दूर करेंगे यह उपचुनाव ... मतदाता की कड़ी परीक्षा

मीडियावाला.इन। परिणाम कुछ भी हों लेकिन प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर तीन नवम्बर को मतदान करने वाले मतदाता कड़ी परीक्षा देने जा रहे हैं। आज चुनाव प्रचार का आख़िरी दिन है और इसके बाद व्यक्तिगत तौर पर मतदाताओं...

जब रोने लगे गांधी ... बोले बहुत दर्द होता है दुर्दशा देखकर ...

जब रोने लगे गांधी ... बोले बहुत दर्द होता है दुर्दशा देखकर ...

मीडियावाला.इन। गांधी शब्द पढ़कर बहुत लोगों के मन में बहुत कुछ चलने लगा होगा, ख़ास तौर से देश की दुर्दशा से जोड़कर।दुर्दशा के लिए कोई एक ज़िम्मेदार नहीं होता, सामूहिक ज़िम्मेदारी होती है। पूर्वाग्रहों को दूर करें भाई, दरअसल...