कॉलम / नजरिया

कांग्रेस ने राम मंदिर पर हमेशा राजनीति ही की है, कमलनाथ और दिग्विजय सिंह भी तो यही कर रहे हैं

कांग्रेस ने राम मंदिर पर हमेशा राजनीति ही की है, कमलनाथ और दिग्विजय सिंह भी तो यही कर रहे हैं

मीडियावाला.इन। देश में सबसे अधिक राज करने वाली कांग्रेस लाख भाजपा पर राजनीति करने का आरोप लगाए, आरोप सही भी हो पर इतिहास में उसने भी राम मंदिर के मामले में अपनी राजनीति चमकाने का कोई अवसर...

मंदिर निर्माण का श्रेय इतिहास में किसके नाम दर्ज होगा ?

मंदिर निर्माण का श्रेय इतिहास में किसके नाम दर्ज होगा ?

मीडियावाला.इन। चौबीस जुलाई के दिन जब लगभग पांच लाख की आबादी वाले अयोध्या में मंदिर निर्माण के भूमि पूजन की तैयारियों के साथ-साथ शहर की कोई बीस मस्जिदों में मुस्लिम शुक्रवार की नमाज़ पढ़ते रहे थे, भारतीय जनता पार्टी...

उत्सव, शोक और तनाव के बीच देश

उत्सव, शोक और तनाव के बीच देश

मीडियावाला.इन। ऐसा कम ही होता है जब देश शोक में उत्सव और उत्सव में शोक, तनाव के बीच मनाता है. कल 5 अगस्त को ऐसा ही क्षण, ऐसा ही मंजर देश के सामने होगा. 5 अगस्त को...

कांग्रेस ने बदली रणनीति; अब साधेंगे गुटीय, क्षेत्रीय संतुलन

कांग्रेस ने बदली रणनीति; अब साधेंगे गुटीय, क्षेत्रीय संतुलन

मीडियावाला.इन। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ संगठन में नियुक्तियों के मसले पर रणनीति में बदलाव करेंगे। यह निर्णय पार्टी के कुछ नेताओं द्वारा की गई शिकायतों को ध्यान में रखकर लिया गया है। पहला, कमलनाथ अब ज्यादा नियुक्यिां नहीं करेंगे...

40 साल पहले का वह भयंकर रक्षाबंधन - मध्य प्रदेश SAF की सशस्त्र बग़ावत

40 साल पहले का वह भयंकर रक्षाबंधन - मध्य प्रदेश SAF की सशस्त्र बग़ावत

मीडियावाला.इन।  यह घटनाक्रम ठीक चालिस साल पहले, 1980 के रक्षाबंधन के दिन गुवाहाटी आसाम में मध्य प्रदेश की 13वीं बटालियन SAF की बग़ावत से संबंधित है, जब पूरी बटालियन ने हथियार उठा लिए थे।घटना से कुछ...

परदे पर भाई-बहन का स्नेह और यादगार गीत

परदे पर भाई-बहन का स्नेह और यादगार गीत

मीडियावाला.इन।  फिल्मों में त्यौहार मनाने की अलग ही परंपरा है। ब्लैक एंड व्हाइट फिल्मों के ज़माने से आज तक ये परंपरा निभाई जा रही है। परदे पर सबसे ज्यादा मनाया जाने वाला त्यौहार रहा है होली और सबसे...

राजनेता इतने गैर जिम्मेदार क्यों?....

राजनेता इतने गैर जिम्मेदार क्यों?....

मीडियावाला.इन। - राजनेताओं में एक हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जो कोरोना की भयावहता को ध्यान में रखकर लगातार अपील कर रहे हैं कि मुंह में मास्क लगाएं, दो गज की दूरी बनाकर रखें और बार-बार हाथ धोएं। मोदी खुद इसका...

कमलनाथ का समझोतावादी बयान

कमलनाथ का समझोतावादी बयान

मीडियावाला.इन।                                         प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी ने एक अत्यंत महत्वपूर्ण समझौतावादी  बयान दिया है। उनका कहना है कि अयोध्या मंदिर का देश की जनता वर्षों से प्रतीक्षा कर रही  थी और उसकी प्रबल इच्छा इसके...

उधर भाजपा के ‘राम’, इधर कांग्रेस के ‘कौशल्या’ और ‘हनुमान’?

उधर भाजपा के ‘राम’, इधर कांग्रेस के ‘कौशल्या’ और ‘हनुमान’?

मीडियावाला.इन। अयोध्या में राम मंदिर शिलान्यास की शुभ घड़ी जैसे-जैसे करीब आती जा रही है, वैसे-वैसे जहां समारोह‍ निमंत्रण सूची भी बढ़ती जा रही है, वहीं ‘राम परिवार’ का अघोषित सियासी बंटवारा भी होता जा रहा है।...

भारत के परम वैभव की यात्रा में राम मंदिर निर्माण बेहद महत्वपूर्ण

भारत के परम वैभव की यात्रा में राम मंदिर निर्माण बेहद महत्वपूर्ण

मीडियावाला.इन। किसी को यह अतिशयोक्तिपूर्ण लग सकता है, लेकिन भविष्य के भारत में त्रेता युग के बाद रामराज की एक बार फिर से शुरुआत के लिये 5 अगस्त 2020 का दिन उल्लेखनीय रहेगा। 500 साल तक जिस...

लोगों की बेरहमी से पिटाई: प्रजातांत्रिक और संवैधानिक व्यवस्थाओं का खुलेआम उल्लंघन

लोगों की बेरहमी से पिटाई: प्रजातांत्रिक और संवैधानिक व्यवस्थाओं का खुलेआम उल्लंघन

मीडियावाला.इन। बड़वानी ज़िले के अंजड़ क़स्बे से एक अत्यंत हृदय विदारक घटना सामने आयी है। राज्य शासन के अनावश्यक और बेतुके लॉकडाउन के आदेशों का ज़मीनी स्तर पर किस प्रकार दुरुपयोग होता है, यह लोमहर्षक घटना उसका...

साफ्ट हिंदुत्व की ओर कांग्रेस

साफ्ट हिंदुत्व की ओर कांग्रेस

मीडियावाला.इन। पांच अगस्त को अयोध्या में होने वाले राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन कार्यक्रम को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। एक तरफ भाजपा देश भर में मंदिर निर्माण को लेकर राममय माहौल बनाने की कोशिश में है...

'राम' पर लड़ो मत- कांग्रेस बचाओ वरना...

'राम' पर लड़ो मत- कांग्रेस बचाओ वरना...

मीडियावाला.इन। अयोध्या में भगवान राम का मंदिर ना तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जीवन का लक्ष्य रहा और ना ही स्व.पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पृष्ठ भूमि में राम मंदिर की परिकल्पना का प्रतिबिम्ब दिखाई दिया। परन्तु इन दोनों...

आखिर किनके घर शीशे के हैं...राजनीति तुम बताओ तो ज़रा ..

आखिर किनके घर शीशे के हैं...राजनीति तुम बताओ तो ज़रा ..

मीडियावाला.इन। 1965 में रिलीज हुई यश चोपड़ा की फिल्म 'वक्त' में राजकुमार का डायलॉग "चिनॉय सेठ, जिनके घर शीशे के हों वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते..." आज भी लोग नहीं भूले। और ख़ास तौर पर राजनेता तो...

सरकार-संगठन आईसीयू में, कांग्रेस भी भयभीत

सरकार-संगठन आईसीयू में, कांग्रेस भी भयभीत

मीडियावाला.इन। कोरोना संक्रमितों की लगातार बढ़ती संख्या और वीवीआईपी के कोराना पॉजीटिव निकलने के कारण लापरवाह राजनेताओं की रफ्तार पर ब्रेक लगा है। हालात इस कदर बिगड़े हैं कि सरकार को भोपाल में 10 दिन का लॉकडाउन...

मंडाले न सही, म्यांमार में लगेगी लोकमान्य तिळक की तस्वीर

मंडाले न सही, म्यांमार में लगेगी लोकमान्य तिळक की तस्वीर

मीडियावाला.इन। आज एक अगस्त को लोकमान्य तिळक के महाप्रयाण  का शताब्दी वर्ष है। ऐसे महान महामना को याद करना हर हिंदुस्तानी का फर्ज है। यह और बात है कि हम हमारे महापुरुषों को सिरे से भूलते जा...

राम मंदिर और मोदी: फर्क ‘संवैधानिक मर्यादा’ व ‘लोक मर्यादा’ का....

राम मंदिर और मोदी: फर्क ‘संवैधानिक मर्यादा’ व ‘लोक मर्यादा’ का....

मीडियावाला.इन। यह महज संयोग नहीं है कि अयोध्या में मर्यादा पुरूषोत्तम राम के मंदिर के शिलान्यास पर संवैधानिक मर्यादाअों के पालन और उनके औचित्य पर सवाल उठ रहे हैं। देश के प्रधानमंत्री के इस आयोजन में जाने से संवैधानिक...

शौचालय में ऊर्जा क्यों खपा रहे हैं मंत्री जी

शौचालय में ऊर्जा क्यों खपा रहे हैं मंत्री जी

मीडियावाला.इन। पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक और प्रदेश के कैबिनेट मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर सचमुच जनसेवा के लिए राजनीति में काम कर रहे हैं लेकिन वे भूल जाते हैं कि उन्हें जो काम सौंपा गया...

मुस्लिम महिलाओं को 'तीन तलाक़'  से मुक्ति की पहली वर्षगांठ!

मुस्लिम महिलाओं को 'तीन तलाक़' से मुक्ति की पहली वर्षगांठ!

मीडियावाला.इन। भारत में 'तीन तलाक' की जड़ें बरसों से काफी गहरी थीं। लम्बी कानूनी और संवैधानिक प्रक्रिया के बाद केंद्र सरकार इस प्रथा को पिछले साल ख़त्म कर सकी। कारण कि अनजाने में या पितृसत्तात्मक समाज के प्रभाव से...

नई शिक्षा नीतिः कुछ नई शंकाएं

नई शिक्षा नीतिः कुछ नई शंकाएं

मीडियावाला.इन। नई शिक्षा नीति में मातृभाषाओं को जो महत्व दिया गया है, कल मैंने उसकी तारीफ की थी लेकिन उसमें भी मुझे चार व्यावहारिक कठिनाइयां दिखाई पड़ रही हैं। *पहली*, यदि छठी कक्षा तक बच्चे...