कॉलम / नजरिया

देश में किसान आंदोलन का भविष्य अब क्या?

देश में किसान आंदोलन का भविष्य अब क्या?

मीडियावाला.इन। देश की राजधानी नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर लाल किले की शर्मनाक घटना और ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा और उत्पात के बाद दो माह से जारी किसान आंदोलन का हश्र भी क्या शाहीनबाग की...

इस आंदोलन का ‘महात्मा गांधी’ कौन है?

इस आंदोलन का ‘महात्मा गांधी’ कौन है?

मीडियावाला.इन। दो महीने से चल रहे किसान आंदोलन को अब कहाँ के लिए किस रूट पर आगे चलना चाहिए? छह महीने के राशन-पानी और चलित चोके-चक्की की तैयारी के साथ राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर पहुँचे किसान...

हॉं! जिन्दा रहकर भी देश के लिए शहादत दी जा सकती है

हॉं! जिन्दा रहकर भी देश के लिए शहादत दी जा सकती है

मीडियावाला.इन। शीर्षक पढ़कर कुछ अजीब सा लगा न ? हमें बचपन से ही सिखाया गया है कि जरूरत पड़ने पर देश के लिए मर-मिटना देश की सर्वोच्‍च सेवा है। सही भी है, परंतु व्‍यवहार में सभी के...

' ट्रेक्टर-डेमोक्रेसी ' के मायने

' ट्रेक्टर-डेमोक्रेसी ' के मायने

मीडियावाला.इन। भारत के इतिहास में आज एक नया अध्याय जुड़ गया.आप इसे ' ट्रेक्टर -डेमोक्रेसी ' के नाम से पहचान सकते हैं. आजादी से पहले और आजादी के बाद भारत के किसानों के प्रतिरोध का ये सबसे बड़ा उदाहरण...

इस गणतंत्र दिवस पर जरा सोचिएगा!

इस गणतंत्र दिवस पर जरा सोचिएगा!

मीडियावाला.इन। "ऐसी कोई स्वतंत्रता नहीं हो सकती, जो अमूर्त और परम हो। सभी स्वतंत्रताएं तर्कसंगत सीमा का विषय होती हैं, और इसमें जिम्मेदारी भी निहित होती है। एक लोकतंत्र मे हर कोई जनता के प्रति...

नेतृत्व कमलनाथ का, छाए रहे दिग्विजय....

नेतृत्व कमलनाथ का, छाए रहे दिग्विजय....

मीडियावाला.इन। - केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ एवं आंदोलनरत किसानों के समर्थन में कांग्रेस ने भोपाल के प्रदर्शन में ताकत दिखाई। आंदोलन इस मायने में सफल रहा कि यह राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोर ले गया। वजह रही प्रदर्शनकारियों...

‘जय श्रीराम’ के विरोध से असल सियासी फायदा किसको ?

‘जय श्रीराम’ के विरोध से असल सियासी फायदा किसको ?

मीडियावाला.इन। ये जरा अलग तरह की राजनीति है। कार्यक्रम कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल में नेताजी सुभाषचंद्र बोस की 125 वीं जयंती पर उनके पुण्य स्मरण का था। मुख्‍य अतिथि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी थे। विशेष अतिथि राज्य की मुख्‍यमंत्री ममता...

मीडिया की आज़ादी और अंकुश की सीमा

मीडिया की आज़ादी और अंकुश की सीमा

मीडियावाला.इन। एक बार फिर गंभीर विवाद | प्रिंट , टी वी चैनल , सीरियल , फिल्म , सोशल मीडिया , को कितनी आज़ादी और कितना नियंत्रण ? सरकार , प्रतिपक्ष और समाज कभी खुश , कभी नाराज | नियम...

विक्टोरिया मेमोरियल पर कैसा सुभाष

विक्टोरिया मेमोरियल पर कैसा सुभाष

मीडियावाला.इन।          सुभाष चंद बोस की 125 वीं जयंती के उपलक्ष्य पर राष्ट्र का मुख्य कार्यक्रम कल कलकत्ता के एतिहासिक विक्टोरिया मेमोरियल के प्रांगण में मनाया गया।जैसा कि सुभाष चंद्र बोस के साथ होता आया है, वे इस अवसर पर...

मनोरंजन के नाम पर धार्मिक आस्था का मखौल!

मनोरंजन के नाम पर धार्मिक आस्था का मखौल!

मीडियावाला.इन। लॉकडाउन के दौरान जब सिनेमाघर बंद हो गए और फिल्म के शौकीनों के पास कोई विकल्प नहीं बचा, तब ओटीटी प्लेटफॉर्म की डिमांड बढ़ी! लोगों ने वेब सीरीज देखना शुरू किया और इसके साथ ही इसकी खामियों पर...

फिल्मों में हिंदू धर्म की विकृत व्याख्या नई बात नहीं!

फिल्मों में हिंदू धर्म की विकृत व्याख्या नई बात नहीं!

मीडियावाला.इन। अहमदाबाद के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम) के तत्कालीन प्रो धीरज शर्मा ने 2015 में एक अध्ययन किया था। इसमें उनका निष्कर्ष था कि बॉलीवुड की फिल्में हिंदू और सिख धर्म के खिलाफ लोगों के दिमाग में धीमा...

और फिर सड़कों पर डंडे खाती कांग्रेस.....

और फिर सड़कों पर डंडे खाती कांग्रेस.....

मीडियावाला.इन। भोपाल के जवाहर चौक पर कांग्रेस का छोटा सा मंच था और इस छोटे से मंच पर प्रदेश कांग्रेस के सभी बड़े नेता मौजूद थे। मौका था केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस का राजभवन...

चंचल को मिली , मां से प्रेरणा

चंचल को मिली , मां से प्रेरणा

मीडियावाला.इन। बेशक मंदिर मस्जिद तोड़ो.. जैसे लोकप्रिय गीत गाने वाले और भजनों से सब को आनंदित करने वाले नरेंद्र चंचल जी के अवसान का दुखद समाचार  मिला है।साल 1973 की  फिल्म बॉबी के  इस गीत से ही उनकी प्रतिभा सामने...

माता का बुलावा आया और चल दिए 'चंचल'

माता का बुलावा आया और चल दिए 'चंचल'

मीडियावाला.इन। माता के भजनों  लोकप्रिय गायक नरेंद्र चंचल का निधन हो गया। वैसे तो भजन गायकों की संख्या कम नहीं है, पर नरेंद्र चंचल की गिनती माता के भजनों के लिए की जाती रही है। अब वे...

भाजपा में एक और पीढ़ी को घर बैठाने की तैयारी!

भाजपा में एक और पीढ़ी को घर बैठाने की तैयारी!

मीडियावाला.इन। कुछ फैसलों को अपवाद के तौर पर छोड़ दें तो भाजपा में बदलाव का एक और दौर देखने को मिल रहा है। पहले मंत्रिमंडल में जमेजमाए नेताओं को नजरअंदाज कर नए चेहरों को मौका दिया गया।...

ख़ौफ़ के साए में एक लम्बी अमेरिकी प्रतीक्षा का अंत!

ख़ौफ़ के साए में एक लम्बी अमेरिकी प्रतीक्षा का अंत!

मीडियावाला.इन। बीस जनवरी, बुधवार की रात लगभग सवा दस बजे जब भारत के नागरिक सोने की तैयारी कर रहे थे वाशिंगटन में दिन के पौने बारह बज रहे थे।यही वह क्षण था जिसकी अमेरिका के करोड़ों नागरिक...

एक जख्मी राष्ट्र के नए नायक है बाइडन

एक जख्मी राष्ट्र के नए नायक है बाइडन

मीडियावाला.इन। दुनिया के सबसे अधिक ताकतवर माने जाने वाले अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडन ने जिन परिस्थितियों में देश सेवा की शपथ ली है वे एकदम विषम हैं. जो को अमेरिका के किसी भी अन्य राष्ट्रपति...

वरिष्ठ आईपीएस अफसरों पर एफआईआर को लेकर संशय

वरिष्ठ आईपीएस अफसरों पर एफआईआर को लेकर संशय

मीडियावाला.इन। मप्र के 3 वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों के खिलाफ काला धन के मामले में एफआईआर को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है। हालांकि दिल्ली में मुख्य सचिव ने 2 सप्ताह में कार्रवाई का भरोसा दिलाया था। बताया जाता...

सड़कों पर विचरण करती मौत

सड़कों पर विचरण करती मौत

मीडियावाला.इन। राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के कुशलगढ़ के रहने मजदूरों को मौत ने गुजरात में  सूरत से 60 किमी दूर कोसांबा इलाके में भी ढूंढ लिया.मौत एक ट्रक के रूप में आई और  20 लोगों को कुचल कुचल कर...

आस्थाओं के साथ खिलवाड़ का ‘तांडव’ तो जायज नहीं है..!

आस्थाओं के साथ खिलवाड़ का ‘तांडव’ तो जायज नहीं है..!

मीडियावाला.इन। विवा‍दित वेब सीरिज ‘तांडव’ में हिंदू देवी-देवताओं के अपमान का मामला जिस ढंग से बीजेपी ने उठाया है, उससे लगता है कि केन्द्र सरकार जल्द ही इस पर रोक लगा सकती है। उधर यूपी में ‘तांडव’...