कॉलम / नजरिया

झाबुआ उपचुनाव दोनों पार्टियों के लिए 'अहम्' का मुद्दा!

झाबुआ उपचुनाव दोनों पार्टियों के लिए 'अहम्' का मुद्दा!

मीडियावाला.इन।   झाबुआ में चुनाव प्रचार थम गया! उपचुनाव के लिए दोनों प्रमुख प्रतिद्वंदी पार्टियों की सारी कवायद पूरी कर ली! बाकी जो प्रबंधन बचा है, वो आज रात पूरा हो जाएगा! कांग्रेस और भाजपा दोनों ने चुनाव जीतने...

बदला बदला सा इन्वेस्टर समिट नजर आया

बदला बदला सा इन्वेस्टर समिट नजर आया

मीडियावाला.इन। तीन साल पहले वो भी अक्टूबर के ही दिन थे जब इंदौर के ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर के हाल में सामने बैठे पत्रकारों के सामने उस समय के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दो दिन के इन्वेटस्टर समिट की समाप्ति...

कांग्रेस भूल गयी है सियासत खेलना

कांग्रेस भूल गयी है सियासत खेलना

मीडियावाला.इन। पिछले छह साल से देश में अनेक चुनाव देख रहा हूँ। अधिकाँश चुनावों में कांग्रेस की मात हो रही है। पिछले साल हुए तीन राज्यों के चुनाव अपवाद थे ।आम चुनावों के अलावा उप चुनावों में भी कांग्रेस...

हिंदुओं का नारीवाद

हिंदुओं का नारीवाद

मीडियावाला.इन।   सुश्री कुसुम मेहदेले,जो मंत्री के रूप मे विशेष सफल नहीं थी, ने एक महत्वपूर्ण ट्वीट में पूछा है कि पुरुष महिलाओं के लिए करवा चौथ का व्रत क्यों नहीं  रखते हैं।इस साधारण प्रश्न ने मुझे हिन्दू धर्म और समाज...

चौदहवीं और चौथ का चांद

चौदहवीं और चौथ का चांद

मीडियावाला.इन। चांद वैसे तो महीनेभर का साथी है, फिर चाहे वह पूर्णिमा का पूर्णचंद्र हो या फिर अमावस का रिक्त स्थान, लेकिन दो चांद हम अर्से से सीने से चिपटाए घूम रहे हैं। एक चौदहवीं का तो दूसरा चौथ...

प्रश्न विरोध की मर्यादा और स्तर का भी..!

प्रश्न विरोध की मर्यादा और स्तर का भी..!

मीडियावाला.इन। डाक्टर राममनोहर लोहिया के व्यक्तित्व के इतने आयाम हैं जिनका कोई पारावार नहीं। उनसे जुडा़ एक प्रसंग प्राख्यात समाजवादी विचारक जगदीश जोशी ने बताया था, जो विपक्ष के विरोध की मर्यादा और उसके स्तर के भी उच्च आदर्श...

गोपाल भार्गव के चुनावी भाषण के निहितार्थ समझिए!

गोपाल भार्गव के चुनावी भाषण के निहितार्थ समझिए!

मीडियावाला.इन। भाजपा के कुछ नेताओं ने कमलनाथ सरकार गिराने का शिगूफा छोड़कर ख़बरों में छाए रहने का अचूक फार्मूला ढूंढ लिया है! वे जानते हैं कि राजनीति के मंच से बोली गई, ये लाइनों के सुर्खियां बनने में देर...

भूख इंडेक्स

भूख इंडेक्स

मीडियावाला.इन।  GHI की रिपोर्ट में भारत को विश्व में भूख इंडेक्स में 102 वाँ स्थान मिला है।इस सर्वे में 117देश थे।इससे यह अनुमान लगाया जा सकता है कि भारत में भूख की स्थिति कितनी भया वह है। विगत...

रावण को जलाने  के बाद अब स्वयं दीपक बन जलना होगा सबको

रावण को जलाने के बाद अब स्वयं दीपक बन जलना होगा सबको

मीडियावाला.इन। तभी बुराईयों  के रावण का नाश  हो पायेगा। तभी लोक तंत्र को तमाशा बनने से रोका जा सके गा। तभी  सत्ता तंत्र को जनतंत्र  के प्रति जबावदेह  बनाया  जा सकेगा। रावण  को नहीं रावण वृत्ति को जलाना होगा।...

बीसीसीआई बनाम ‘बोर्ड ऑफ कंट्रोल फाॅर कजिन्स इन इंडिया’...!

बीसीसीआई बनाम ‘बोर्ड ऑफ कंट्रोल फाॅर कजिन्स इन इंडिया’...!

मीडियावाला.इन।फिल्म ‘मुगल-ए-आजम’ की मशहूर कव्वाली है-‘जब रात है ऐसी मतवाली फिर सुबह का आलम क्या होगा?’ देश के सबसे अमीर खेल संगठन बीसीसीआई ( बोर्ड ऑफ कंट्रोल फाॅर क्रिकेट इन इंडिया) के नए अध्यक्ष और पूर्व कप्तान सौरव...

कीर्तिमान बनना था पौधरोपण का, बन गया घोटाले का!

कीर्तिमान बनना था पौधरोपण का, बन गया घोटाले का!

मीडियावाला.इन।शिवराजसिंह की भाजपा सरकार ने मध्यप्रदेश में नर्मदा नदी के किनारों पर पौधारोपण करके विश्व कीर्तिमान बनाने का दावा किया गया था। 2 जुलाई 2017 को एक दिन में 7 करोड़ 10 लाख से ज्यादा पौधे लगाकर 'गिनीस बुक ऑफ़...

प्रहसन से प्रेरणा नहीं मिलती साहब

प्रहसन से प्रेरणा नहीं मिलती साहब

मीडियावाला.इन। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी को उनके सलाहकार लगातार हास्यास्पद स्थितियों में डालते रहते हैं ।प्रधानमंत्री जी को लोकप्रिय बनाने के लिए उनके सलाहकारों के जो भी प्रयास हो रहे हैं वे बेहद घटिया और शर्मनाक हैं ।हाल...

यह गरीबी को शिक्षा के जरिए हराने के उपायों का नोबेल पुरस्कार है..

यह गरीबी को शिक्षा के जरिए हराने के उपायों का नोबेल पुरस्कार है..

मीडियावाला.इन। पाकिस्तान की कंगाली पर गदगद होने, बौद्धिकता को बुद्धिहीनता की हद तक खारिज करने और अपनी ही आत्ममुग्ध दुनिया में रमने वाले हम भारतीयों के लिए यह खबर बहुत मायने न रखती हो, लेकिन दुनिया के लिए बहुत...

मामल्लपुरम का मर्म( चीन भारत वार्ता )

मामल्लपुरम का मर्म( चीन भारत वार्ता )

मीडियावाला.इन।   ऐतिहासिक महाबलीपुरम के समुद्र तट पर बंगाल की खाड़ी की लहरों के टकराने से उठने वाली प्रतिध्वनि भारतीय राजनयिक कौशल की घोषणा करती है। अपनी शक्ति और सामर्थ्य के अनरूप अथवा उससे अधिक अंतरराष्ट्रीय उपलब्धि प्राप्त करना...

'सांप-सीढ़ी'की 'गोटी'बन गया है गरीब किसान

'सांप-सीढ़ी'की 'गोटी'बन गया है गरीब किसान

मीडियावाला.इन। अभी तक हम सबने पढ़ रखा था कि महाभारत में अभिमन्यु के लिए एक 'चक्रव्यूह' बनाया गया था,जिसमें फंसकर वह मारा गया था.वास्तव में चक्रव्यूह सिर्फ दुश्मन ही नहीं बनाते.परिस्थितियां भी बनाती हैं.जिनमें फंसकर कोई भी वैसे ही...

देश में आर्थिक मंदी और रविशंकर का फिल्मी चश्मा...

देश में आर्थिक मंदी और रविशंकर का फिल्मी चश्मा...

मीडियावाला.इन। क्या देश में सचमुच आर्थिक मंदी है? अगर है तो वह सत्ताधीशों को क्यों नहीं दिख रही और नहीं है तो आम आदमी अपनी तंग जेब और काम-धंधों को लेकर इतना बेचैन क्यों है? यदि देश में...

रेलवे को ‘कुतरते’ बलशाली चूहे और चूहों की रेल...

रेलवे को ‘कुतरते’ बलशाली चूहे और चूहों की रेल...

मीडियावाला.इन। यकीन मानिए भारतीय रेल को आतंकियों के हमले से भी ज्यादा खतरा चूहों के आतंक का है और इस आतंक का कोई ठोस समाधान रेलवे आज तक नहीं खोज पाई है। चूहों से रेलवे और रेल यात्री कितने...

प्रियंका चोपड़ा का इमोशनल अत्याचार

प्रियंका चोपड़ा का इमोशनल अत्याचार

मीडियावाला.इन। जिंदगी में खुशियां ही सबकुछ नहीं होती। कभी पैसे खर्च करके भी रोने का मन करें, तो प्रियंका चोपड़ा की नई फिल्म हाजिर है। फिल्म देखकर लगा कि जायरा वसीम ने हिन्दी फिल्म दर्शकों पर बड़ा उपकार...

अंतत: वे राजमाता ही थीं

अंतत: वे राजमाता ही थीं

मीडियावाला.इन। ग्वालियर के लोगों के लिए श्रीमंत विजयाराजे सिंधिया हमेशा राजमाता ही रहीं । आज वे होतीं तो   सौ  साल  की होतीं ।मै जब 1972 में ग्वालियर आया तब राजमाता की राजनीति में उपस्थिति बेहद प्रभावी थी ।मेरा उनका...

चीन का नरम-गरम रवैया

चीन का नरम-गरम रवैया

मीडियावाला.इन। चीन के राष्ट्रपति शी चिन फिंग के ज्यों ही भारत आने की घोषणा हुई, कश्मीर के बारे में चीनी सरकार ने ऐसा बयान जारी कर दिया कि आज यदि भारत में इंदिराजी की सरकार होती तो चीनी राष्ट्रपति...