कॉलम / नजरिया

मनोरंजक है आयुष्मान की ‘ड्रीम गर्ल’

मनोरंजक है आयुष्मान की ‘ड्रीम गर्ल’

मीडियावाला.इन। ड्रीम गर्ल कहते ही हेमा मालिनी की छवि सामने आती है, लेकिन एकता कपूर की इस ड्रीम गर्ल को देखने के बाद शायद आयुष्मान खुराना का चेहरा सामने आने लगे। फिल्म का एक डायलॉग है कि जब...

मेहनतकशों के मंसूबों ने किया इंद्रदेव का घमंड पानी पानी

मेहनतकशों के मंसूबों ने किया इंद्रदेव का घमंड पानी पानी

मीडियावाला.इन। इंदौर हर साल ऐसा होता ही है कि चल समारोह से पहले गणेश जी की विदाई बेला में सड़क धोने, पांव पखारने की अपनी ड्यूटी पूरी करने इंद्रदेव आते ही हैं।गुरुवार की दोपहर तो जैसे पानी डराने के...

कश्मीर और विश्व

कश्मीर और विश्व

मीडियावाला.इन। मोदी ने कश्मीर से धारा 370 हटाकर एक साहसिक क़दम उठाया है। भारतीय संविधान में स्वयं यह लिखा था कि यह धारा अस्थाई है। मोदी और शाह की जोड़ी ने बड़ी चतुराई से देश की राजनीति को भाँप...

शहर के प्रस्तावित मास्टर प्लान को कमलनाथ समझेंगे पहली बार

शहर के प्रस्तावित मास्टर प्लान को कमलनाथ समझेंगे पहली बार

मीडियावाला.इन। इंदौर । मुख्यमंत्री कमलनाथ का पहला गंभीर दौरा 14 सितंबर को प्रस्तावित है।वे करीब 6घंटे शहर में रहेंगे लेकिन इंदौर के प्रस्तावित मास्टर प्लान को समझने के लिए 30 मिनट का ही समय दिया है। इस दौरान भी...

आरक्षणः संघ की घुटनेटेकू मुद्रा

आरक्षणः संघ की घुटनेटेकू मुद्रा

मीडियावाला.इन। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और सत्तारुढ़ भाजपा की एक ताजा समन्वय गोष्ठी में यह विचार उछला कि संघ जातीय आरक्षण का स्पष्ट समर्थन करता है। यह गहरे विवाद का विषय इसलिए बन गया कि संघ के मुखिया मोहन भागवत...

गुटबाजी की गर्मी से दोफाड़ होती कांग्रेस !

गुटबाजी की गर्मी से दोफाड़ होती कांग्रेस !

मीडियावाला.इन। मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी, तब लगा था कि पार्टी के तीनों क्षत्रप सामंजस्य से पाँच साल सरकार चला लेंगे! शुरू में ऐसा लगा भी, पर धीरे-धीरे सामंजस्य का शिखर दरकने लगा! क्षत्रप खुद तो दिल की...

कॅरियर के मझधार में युवा आईएएस के नौकरियां छोड़ने के मायने !

कॅरियर के मझधार में युवा आईएएस के नौकरियां छोड़ने के मायने !

मीडियावाला.इन। देश में मोदी राज की दूसरी पारी में एक के बाद एक आईएएस अधिकारियो द्वारा नौकरी से इस्तीफे की घटनाएं चौंकाने वाली इसलिए है कि अगर राष्ट्र आजादी  के बाद सर्वाधिक चमकीले दौर में प्रवेश कर गया है...

'खतरे की घंटी है'खेतों में जवानों की कमी

'खतरे की घंटी है'खेतों में जवानों की कमी

मीडियावाला.इन। अपने देश में कई समस्याएं जानते-बूझते और साफ़ साफ़ देखते हुए आती हैं.हम भी बड़ी मासूमियत और सहूलियत से उनकी तरफ से आँखें फेर लेते हैं. ऐसी ही एक समस्या है खेती से नौजवानों का...

बैंकों की कठिन होती डगर

बैंकों की कठिन होती डगर

मीडियावाला.इन। जनता और जनता में शामिल मै सरकार के हर कदम का समर्थन करने का जब-जब मन बनाता हूँ सरकार एक न एक काम ऐसा कर देती है कि ये सपना चकनाचूर हो जाता है ।नए मोटर व्हीकल क़ानून का...

शिव परिवार का अनूठा  लोकतांत्रिक समाजवाद

शिव परिवार का अनूठा लोकतांत्रिक समाजवाद

मीडियावाला.इन। गणपत बप्पा घर-घर बिराज गए। क्या महाराष्ट्र, क्या गुजरात, समूचा देश गणपतिमय है। बडे़ गणेशजी, छोटे गणेशजी, मझले गणेशजी।  गणेशजी जैसा सरल और कठिन देवता और कौन? लालबाग के राजा के गल्ले में एक अरब का चढावा आया।...

शेहला मसूद : एक बेवजह किया गया कत्ल

शेहला मसूद : एक बेवजह किया गया कत्ल

मीडियावाला.इन। वो आठ साल पुरानी अगस्त की ही तो बात थी जब अन्ना आंदोलन के दौरान भोपाल में हुआ मर्डर देश भर की सुर्खियों में लंबे वक्त तक रहा। जी हां वो मर्डर था शेहला मसूद का। जिसे दिन...

पत्रकारों को एक्सक्लूसिव खबर देने वाले, सबके चहेते वरिष्ठ आईपीएस एनके त्रिपाठी,आज जन्मदिन पर विशेष

पत्रकारों को एक्सक्लूसिव खबर देने वाले, सबके चहेते वरिष्ठ आईपीएस एनके त्रिपाठी,आज जन्मदिन पर विशेष

मीडियावाला.इन। मेरे प्रशासनिक सेवा काल में ऐसे कुछ ही लोग आए हैं जिनका मेरे जीवन पर एक अलग प्रभाव पड़ा है , श्री एन के त्रिपाठी साहब उनमें से एक हैं।  ये एक संयोग ही था कि...

शिक्षानीति को चौराहे की कुतिया बनाने वाले!

शिक्षानीति को चौराहे की कुतिया बनाने वाले!

मीडियावाला.इन। तीज त्योहारों की तरह हर साल शिक्षक दिवस भी आता है। पूजाआराधना में जैसे गोबर की पिंडी को गणेश मानकर पूज लिया जाता है वैसे ही एक दिन के लिए सभी गोबर गणेश बन जाते हैं। यह एक...

साधना के अभिनय का वो यादगार दौर

साधना के अभिनय का वो यादगार दौर

मीडियावाला.इन।  भारत के विभाजन से अनेक पंजाबी,सिंधी,उर्दू भाषी मुम्बई आ बसे।इनमें बहुत से फ़िल्म जगत में रोजगार तलाशने में लग गए।ऐसा ही एक परिवार था शिवदासानी परिवार।शेवाराम और लीलादेवी के बिटिया सायन की कच्चे मकानों की बस्ती से निकलकर...

उमंग के इस राजनीतिक दुस्साहस के निहितार्थ को समझिए!

उमंग के इस राजनीतिक दुस्साहस के निहितार्थ को समझिए!

मीडियावाला.इन। मध्यप्रदेश में धार जिले की धारदार राजनीति हमेशा चौंकाती रही है! न सिर्फ कांग्रेस में, बल्कि भाजपा में भी इस जिले से कई मुखर नेता निकले! लेकिन, किसी ने भी अपनी पार्टी का नुकसान करने और राजनीतिक बदतमीजी...

होल्कर महाराजाओं के क्रिकेट प्रेम से ही भारतीय टेस्ट टीम का पहला कप्तान इंदौर से बना

होल्कर महाराजाओं के क्रिकेट प्रेम से ही भारतीय टेस्ट टीम का पहला कप्तान इंदौर से बना

मीडियावाला.इन। डॉ स्वरूप वाजपेयी ने इंदौरी क्रिकेट के स्वर्णिम काल के रोचक किस्से सुनाए  इंदौर कीर्ति राणा।रियासत काल से खेले जाने वाले क्रिकेट को होल्कर रियासत में मिली ऊंचाई ऐतिहासिक है।होल्कर महाराजाओं में यशवंतराव द्वितीय का क्रिकेट प्रेम...

अध्यक्ष के लिए सिंधिया का नाम आने पर किसके पेट में दर्द उठा?

अध्यक्ष के लिए सिंधिया का नाम आने पर किसके पेट में दर्द उठा?

मीडियावाला.इन।  इन दिनों मध्यप्रदेश की कांग्रेस में घमासान मचा है। प्रदेश में पार्टी के नए मुखिया का नाम तय होना है, जो आसान नहीं लग रहा! प्रदेश कांग्रेस में गुटबाजी चरम पर है! ऐसी स्थिति में एक सर्वमान्य...

मेरे अँगने में तुम्हारा क्या काम है ?

मेरे अँगने में तुम्हारा क्या काम है ?

मीडियावाला.इन। भोजपुरी फिल्मों के नायक रविकिशन हमारे चंबल में राजयसभा सांसद प्रभाद झा के बेटे की पैरवी करने आये तो सबको हैरानी हुई ।भाजपा वालों की तो भवें तन गयीं ।तनना ही चाहिए ।ग्वालियर चाम्ब्ल में दूसरों...

अध्यक्ष के रास्ते सिंधिया की मुख्यमंत्री बनने की ख्वाहिश

अध्यक्ष के रास्ते सिंधिया की मुख्यमंत्री बनने की ख्वाहिश

मीडियावाला.इन। ज्योतिरादित्य सिंधिया की बेचैनी और छटपटाहट अब छुपाये नहीं छुप पा रही । वे केवल मप्र कांग्रेस अध्यक्ष तक रुकना नहीं चाहते , बल्कि असल मंशा श्यामला हिल्स स्थित नव श्रृंगारित मुख्यमंत्री आवास में एक-दो साल रहना चाहते...

कैसे होगी गफलत में भविष्य की तैयारी

कैसे होगी गफलत में भविष्य की तैयारी

मीडियावाला.इन। सितम्बर का महीना आते ही हम पूरी शिद्दत से अपने देश की शिक्षा व्यवस्था,शिक्षकों की जिम्मेदारियों और उनके प्रति हमारे व्यवहार और दायित्वों की चर्चा करने लगते हैं . जो बरसों से होता चला आ रहा है,वही इस...