Friday, February 28, 2020

कॉलम / नजरिया

मायावती और कांग्रेस के रिश्तों में दरार चुनाव में असर दिखाएगी!

मायावती और कांग्रेस के रिश्तों में दरार चुनाव में असर दिखाएगी!

मध्यप्रदेश में कांग्रेस को जो उम्मीद नहीं थी, वो हो गया। बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस से चार महीने से चल रही बातचीत तोड़कर 22 सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए। अब उनका एलान...

गुजर गई खुली आंखों से झूठ देखने की झिलमिल रात 

गुजर गई खुली आंखों से झूठ देखने की झिलमिल रात 

सरकारों ने इंट्रेस्ट ही नहीं दिखाया कि कपड़ा मिलें चालू रहें साल में एक दिन इंदौर में हजारों परिवार खुली आंखों से झूठ देखते हैं और आसपास से भी लोग इस झिलमिल करती रात के झूठ में सहभागी...

राजनीति में ‘मामा’ बनना ‘काका’ कहलाने से ज्यादा फायदेमंद क्यों ?

राजनीति में ‘मामा’ बनना ‘काका’ कहलाने से ज्यादा फायदेमंद क्यों ?

भारतीय राजनीति में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ही अकेले ‘मामा’ नहीं है, एक और राजनीतिक मामा पश्चिम बंगाल में भी हैं। ये हैं सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस सरकार के उत्तर बंगाल विकास मंत्री रबीन्द्रनाथ घोष। घोष ने हाल में...

भ्रष्टाचार अब व्यंग नहीं विमर्श का विषय

भ्रष्टाचार अब व्यंग नहीं विमर्श का विषय

शरद जोशी ने कोई पैतीस साल पहले हम भ्रष्टन के भ्रष्ट हमारे व्यंग्य निबंध रचा था। तब यह व्यंग्य था, लोगों को गुदगुदाने वाला। भ्रष्टाचारियों के सीने में नश्तर की तरह चुभने वाला। अब यह व्यंग्य, व्यंग्य नहीं रहा।...

'हरी' और 'पीली'के बाद अब 'सफ़ेद' क्रान्ति का संकट 

'हरी' और 'पीली'के बाद अब 'सफ़ेद' क्रान्ति का संकट 

हमारे देश में जब भी आम-आदमी के जीवन सुधारने का कोई भी सरकारी कार्यक्रम शुरू होता है,तो उसे 'क्रांति'का नाम दिया जाता है.कृषि उत्पादन बढाकर,देश को खाद्यान्न उत्पादन में आत्म-निर्भर बनाने के उद्देश्य से,पहले आई थी 'हरित क्रांति'.यह अलग-अलग...

मंटो , फिल्म समीक्षा

मंटो , फिल्म समीक्षा

सआदत हसन मंटो के जीवन पर तीन घण्टे की फ़िल्म बनाना भी बड़ा मुश्किल काम है , जिसका पूरा जीवन धारा के विपरीत बहने में निकला हो और भारत तथा पाकिस्तान दोनों ही देशों में जिसके लिखे पर मुक़दमे...

भव्‍य भाजपा : दीनदयाल के अंत्‍योदय के साथ आधुनिक भव्‍यता की कदमताल

भव्‍य भाजपा : दीनदयाल के अंत्‍योदय के साथ आधुनिक भव्‍यता की कदमताल

इटेलियन टाइल्‍स, महंगे झूमर और लाइट, परिसर और भवन के प्रवेश कक्ष में फव्वारा, पूरी तरह एयर कंडीशन्‍ड इमारत,सीसीटीवी कैमरे की निगरानी,400 कार्यकर्ताओं की बैठक क्षमता का ऑडिटोरियम, सह संगठन मंत्री समेत जिला,ग्रामीण अध्यक्ष के कक्ष, अतिथि विश्राम...

बंगाल का ‘राजनीतिक हिंदुत्व’ और कम्युनिस्टों की जाति उपेक्षा ?

बंगाल का ‘राजनीतिक हिंदुत्व’ और कम्युनिस्टों की जाति उपेक्षा ?

देश और खासकर मध्यप्रदेश में एट्रोसिटी एक्ट के विरोध और समर्थन के हो हल्ले के बीच एक दलित चिंतक के गंभीर आरोप( या स्थापना) पर लोगों का ज्यादा ध्यान नहीं गया। दलित राजनीतिक विचारक और एक्टिविस्ट कांचा इलैया...

रेफल कहीं मोदी को न ले डूबे ?

रेफल कहीं मोदी को न ले डूबे ?

लड़ाकू विमान रेफल के सौदे ने अब बड़ा खतरनाक मोड़ ले लिया है। फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने इसी विमान से मोदी सरकार पर बम बरसा दिए हैं। वह विमान बनने के बाद भारत आएगा या नहीं,...

समाज पर अत्याचार करने वालों के खिलाफ कब बनेगा कानून!

समाज पर अत्याचार करने वालों के खिलाफ कब बनेगा कानून!

एससी-एसटी एट्रोसिटी एक्ट में केंद्र सरकार के फैसले ने पूरे समाज को आंदोलित कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद एससी-एसटी के विरोध को दबाने की जगह केंद्र सरकार ने यह जताने की कोशिश की थी...

अगर मंटो को पढ़ा है तब तो इसे देखना बनता ही है

अगर मंटो को पढ़ा है तब तो इसे देखना बनता ही है

ये नवाज़ुद्दीन भी गज़ब है! मांझी में पूरा दशरथ मांझी लगा और sureमंटो में वह मंटो लगता है जब बोलता है - आखिर में तो अफ़साने ही रह जाते हैं और रह जाते हैं...

हिलते तख्त का कंपन अब महसूस होने लगा है

हिलते तख्त का कंपन अब महसूस होने लगा है

एट्रोसिटी एक्ट को लेकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की घोषणा के बाद लगता है कि हिलते तख्त  का कंपन अब महसूस किया जाने लगा है। उम्मीद जगी है कि केंद्र सरकार भी इस कथित एक्ट के सख्त प्रावधानों पर फिर...

बत्ती चालू मीटर गुल

बत्ती चालू मीटर गुल

  हमारे यहाँ शायद ही कोई ऐसा हो जो बिजली की दिक़्क़तों से दो चार ना हुआ हो पर इसपे कोई मनोरंजक और उद्देश्यपूर्ण फ़िल्म भी बन सकती है ऐसा कल्पना में...

सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी बरसी पर राजनीतिक बवाल क्यों...?

सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी बरसी पर राजनीतिक बवाल क्यों...?

एलअोसी के उस पार भारतीय सेना द्वारा की गई सफल सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी बरसी सेना सहित पूरे भारत के लिए गर्व और आत्मावलोकन का अवसर होनी  चाहिए थी, लेकिन अगर यह प्रसंग भी राजनीतिक बवाल का मुद्दा...

विकास की पोल खोलती बत्ती गुल

विकास की पोल खोलती बत्ती गुल

बत्ती गुल मीटर चालू' फिल्म एक ऐसी कार की तरह है,जिसके हॉर्न को छोड़कर सबकुछ बजता है।  कुछ अच्छे संवाद, गाने, लोकेशन और शाहिद कपूर का डांस के स्टेप्स अच्छे हैं, लेकिन टॉयलेट वाली प्रेम कहानी के नारायण...

इस धुएँ को कल की आग समझिए..!

इस धुएँ को कल की आग समझिए..!

पहले तीन सच्चे किस्से फिर आगे की बात  एक  यह सचमुच हैरत में ड़ालने वाली बात थी। सत्ताधारी दल के राज्यमंत्री दर्जा प्राप्त एक महाशय ने जो ग्लानिपूर्वक सुनाया उसे आप पढ़े- मेरा ड्राइवर अनुसूचित...

गाय को राष्ट्र्माता घोषित कराने ‘आॅक्सीजन’ का अजब तर्क !

गाय को राष्ट्र्माता घोषित कराने ‘आॅक्सीजन’ का अजब तर्क !

कम से कम इस मामले में उत्तराखंड की भाजपा सरकार ने मोदी सरकार से लीड ले ली है। वहां की विधानसभा ने गाय को ‘राष्ट्रमाता’ घोषित करने का  प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित कर केन्द्र सरकार को भेज दिया...

संघ प्रमुख से 215 सवाल

संघ प्रमुख से 215 सवाल

मैं इस बहस में नहीं पडऩा चाहता कि क्या वजह थी, जिसके कारण संघ प्रमुख मोहन भागवत को इस तरह संगठन की विचारधारा, सोच-समझ पर बात करने के लिए आगे आना पड़ा। मेरा मन उन 215 सवालों पर...

देश में जातीय टकराव उफान पर

देश में जातीय टकराव उफान पर

देश मे जातीय टकराव उफान पर है। गत २० मार्च को सुप्रीम कोर्ट के दो जजों की बेंच ने एस सी एस टी प्रिवेंशन आफ एट्रोसिटी एक्ट मे गिरफ़्तारी की प्रक्रिया मे कुछ नये प्रावधान कर दिये। गिरफ़्तारी के...