कॉलम / नजरिया

अब शाहीन बाग का राजनीतिक भविष्य क्या होगा?

अब शाहीन बाग का राजनीतिक भविष्य क्या होगा?

मीडियावाला.इन। देश की राजधानी नई दिल्ली में दो माह तक चले शाहीन बाग आंदोलन ने शांतिपूर्ण विरोध की एक यादगार इबारत भले लिख दी हो, लेकिन दिल्ली चुनाव के बाद इसके राजनीतिक भविष्य पर सवालिया निशान लग...

जुस्तजू जिसकी थी, उसको तो न पाया हमने

जुस्तजू जिसकी थी, उसको तो न पाया हमने

मीडियावाला.इन। संगीत की दुनिया में मोहम्मद जहूर हाशमी उर्फ़ खय्याम किसी परिचय के मोहताज कभी नहीं रहे! 'कभी-कभी' और 'उमराव जान' जैसी फिल्मों में कालजयी संगीत देकर खय्याम ने अपनी अलग पहचान बनाई थी! आज भी इन फिल्मों के...

कांग्रेस में गहराता असंतोष और हवाहवाई फैसले

कांग्रेस में गहराता असंतोष और हवाहवाई फैसले

मीडियावाला.इन।  कमलनाथ सरकार जिस दिन से बनी है, उसी दिन से उसके गिरने के दावे किए जा रहे हैं। भाजपा के नेता तो रोज ही सरकार गिराने के हथकंडे सोचते रहते हैं, पर उन्हें मौका नहीं मिल रहा! पर, कांग्रेस...

मोदीः पीछे न हटें, आगे बढ़ें

मोदीः पीछे न हटें, आगे बढ़ें

मीडियावाला.इन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में अपनी सरकार की कई उपलब्धियां गिनाईं, जो उन्हें गिनानी ही चाहिए, क्योंकि वह उनका चुनाव क्षेत्र है। इसमें शक नहीं कि गंगा की सफाई, तीर्थ-यात्री एक्सप्रेस और राममंदिर का निर्माण-कार्य आदि इस...

जी हां, मदरसों में हिंदू बच्चे व सरस्वती शिशु मंदिरों मुस्लिम विद्यार्थी...!

जी हां, मदरसों में हिंदू बच्चे व सरस्वती शिशु मंदिरों मुस्लिम विद्यार्थी...!

मीडियावाला.इन। नफरत और अविश्वास के गुबार में यह खबर उम्मीद जगाने वाली तो  कुछ हैरान और कुछ आश्वस्त करने वाली भी है। साथ में यह सवाल भी कि क्या सच में देश में ऐसा कुछ में हो रहा है,...

आंखों में घूरता सच और आंख बन्द किये बैठे हम

आंखों में घूरता सच और आंख बन्द किये बैठे हम

मीडियावाला.इन। अभी कुछ दिनों पहले ही, मैं एक पड़ौसी जिला मुख्यालय से रेल में बैठकर भोपाल की तरफ आ  रहा था। रेल के उसी डब्बे में उसी जिला मुख्यालय से पंजाब की तरफ जाने के लिये बड़ी संख्या में...

कांग्रेस के लिए जरूरी है सिंधिया, दिग्विजय और कमलनाथ की तिकड़ी

कांग्रेस के लिए जरूरी है सिंधिया, दिग्विजय और कमलनाथ की तिकड़ी

मीडियावाला.इन। क्या कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के हाल ही के बयानों को उनकी हताशा का प्रतीक माना जाए ? राजनैतिक हलकों में इन बयानों को लेकर अनेक प्रकार की चर्चाएं कल पड़ी हैं। क्या ज्योतिरादित्य पार्टी से...

खुद बदलो,बदला मत लो

खुद बदलो,बदला मत लो

मीडियावाला.इन। भाजपा दिल्ली में हार गयी,ये खबर पुरानी है।नई खबर ये है कि दिल्ली हारते ही केंद्र सरकार ने रसोई गैस के दाम 140  रूपये तक बढ़ा दिए ।सरकार को शायद लगा कि भाजपा केवल महिलाओं कि वजह से...

फिर उसी गांव में पांच साल बाद घँटी बजाना। .

फिर उसी गांव में पांच साल बाद घँटी बजाना। .

मीडियावाला.इन। ये हमारे चैनल के कार्यक्रम घंटी बजाओ का ही मजा है कि हम ना केवल खबर दिखाते हैं बल्कि उस खबर का पीछा करते हुये उसके असर पर भी नजर रखते हैं। यूं तो घंटी बजाओ मुहावरा नहीं...

अपराधी उम्मीदवारः अधूरा फैसला

अपराधी उम्मीदवारः अधूरा फैसला

मीडियावाला.इन। सर्वोच्च न्यायालय ने राजनीति को अपराधियों से मुक्त करने का जो आदेश जारी किया है, उसका स्वागत है लेकिन वह अधूरा है। यह तो ठीक है कि सभी राजनीतिक दल अपने उम्मीदवारों के अपराधों का विस्तार से ब्यौरा...

अप्रेम कहानियां

अप्रेम कहानियां

मीडियावाला.इन।   1. वह उसी गली से निकलती, जिस गली में उसका घर था। आते-जाते कभी नजर पड़ जाती तो कभी नजर मिल भी जाती। एक दिन लड़के ने बात करने की कोशिश की, लेकिन ने झिड़क दिया।...

ज्यादा पास आना है, असल में दूर जाना

ज्यादा पास आना है, असल में दूर जाना

मीडियावाला.इन। अगर आप 1990 और 2020 के दो प्रेमी जोड़ों की टेंशन अपने सिर में डाउनलोड करना चाहते हैं, तो वेलेंटाइन्स डे पर यह कर सकते हैं। यह फिल्म ऐसे युवक-युवती की कहानी है, जो युवावस्था में केवल...

सुप्रीम कोर्ट का ताजा फैसला, चुनाव सुधार की दिशा में महत्वपूर्ण कदम

सुप्रीम कोर्ट का ताजा फैसला, चुनाव सुधार की दिशा में महत्वपूर्ण कदम

मीडियावाला.इन। चुनावों में दागी उम्मीदवारों को टिकट देकर मैदान में उतारने और उनकी जीत को सुनिश्चित करने के लिए राजनीतिक दलों को जो स्वतंत्रता हासिल थी, उसे सुप्रीम कोर्ट के ताजे और नए फैसले से परेशानी होने वाली है,...

किस्सा 'ख़ाली कुर्सी' का

किस्सा 'ख़ाली कुर्सी' का

मीडियावाला.इन। यह एक ख़ाली कुर्सी का किस्सा है जो अपने बनाए जाने के सौ साल बाद आज भी खाली ही है, कभी कोई इस पर बैठ नहीं सका। इसे बनाया तो था एक वक़्त दुनिया के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति...

प्रसंग गार्गी कॉलेज घटना  :लिंग पूजन का दर्शन और पौरुष का घटिया प्रदर्शन

प्रसंग गार्गी कॉलेज घटना :लिंग पूजन का दर्शन और पौरुष का घटिया प्रदर्शन

मीडियावाला.इन। गार्गी कॉलेज से लेकर बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी ही नहीं हर गली-नुक्कड़ की समस्या " शिव के बिना शव हूं। शिव के लिंग और सती की योनी का पूजन हिंदू संस्कार की जड़े हैं...जिसे घुट्टी में घोल कर पिलाया...

'राइट टू वाटर' यथार्थ के धरातल पर उतरे तो!

'राइट टू वाटर' यथार्थ के धरातल पर उतरे तो!

मीडियावाला.इन। मंंगलवार को भोपाल के मिंटो हाल (पुरानी विधानसभा) में पानी पर चर्चा हुई, भागीदारों में, मैं भी था। जलपुरुष के नाम से विख्यात राजेन्द्र सिंह राणा की पहल...

एक प्यार ऐसा भी ...सच्ची मोहब्बत की एक सच्ची दास्तान!

एक प्यार ऐसा भी ...सच्ची मोहब्बत की एक सच्ची दास्तान!

मीडियावाला.इन। शक्तिचंद 'बिमल' यही नाम बताया था उन्होंने मुझे पहली मुलाकात में! नाम अटपटा सा लगा, पर मैंने ध्यान नहीं दिया! करीब 4 साल पहले उनकी कंपनी के लीगल केस के सिलसिले में वो मुझसे मिलने आए। उसके बाद...

मुफ्त बांटने और कर्ज माफी जैसी राजनीतिक चालों से चुनावी तंत्र को मुक्त करने की जरूरत

मुफ्त बांटने और कर्ज माफी जैसी राजनीतिक चालों से चुनावी तंत्र को मुक्त करने की जरूरत

मीडियावाला.इन। क्या मुफ्त बांटने और कर्ज माफ करने की राजनीतिक चालों से भारतवर्ष का चुनावी तंत्र कभी अपने आप को अलग कर पाएगा? देश में हर राजनीतिक दल चुनाव जीतने के लिए जो हथकंडे अपनाता है, उनमें...

या मौला मुफ्तखोरी का हुनर हमें भी अता फरमा

या मौला मुफ्तखोरी का हुनर हमें भी अता फरमा

मीडियावाला.इन। बाजार के नियम कहते हैं, एक झूठ को 100 बार बोला जाए तो वह सच लगने लगता है। वे लोकतंत्र को भी बाजार बना बैठे और चीख-चीख कर एक ही बात दोहराने लगे। लेकिन खरीदार...

राम के मुकाबिल हनुमान को खड़ा करने का सियासी एंगल.....

राम के मुकाबिल हनुमान को खड़ा करने का सियासी एंगल.....

मीडियावाला.इन। दिल्ली राज्य के चुनाव नतीजों का यह नया और धार्मिक एंगल है। दिल्ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा चुनाव में अपनी आम आदमी पार्टी की लगातार दूसरी बार बंपर जीत का श्रेय दिल्ली की जनता...