कॉलम / नजरिया

हाय हम अनूप न हुए

हाय हम अनूप न हुए

37 बरस छोटी शिष्या से प्रेम संबंधों का खुलासा कर अनूप जलोटा पूरे देश में एक नई लगन लगाने में कामयाब हो गए हैं। चाय-पान की दुकानों से लेकर सोशल मीडिया तक में हर कोई जलोटा के इस...

कांग्रेस की कट-आउट पा‍ॅलिटिक्स का ‘दिग्विजय’  एंगल

कांग्रेस की कट-आउट पा‍ॅलिटिक्स का ‘दिग्विजय’ एंगल

इसे कांग्रेस की ‘कट एंड आउट’ पाॅलिटिक्स का तल्ख अंजाम कहें कि भोपाल में हाल में आयोजित कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी  की सभा में ज्यादा चर्चा वरिष्ठ नेता और मप्र के पूर्व मुख्‍यमंत्री दिग्विजय...

आभासी दुनिया से निकलो..प्यारो

आभासी दुनिया से निकलो..प्यारो

छात्र जीवन में हम लोग राजनीति के बारे में खूब चर्चा करते थे। यह राजनीति कालेज और विश्वविद्यालय के परिसर के बाहर की भी होती थी। मँहगाई, बेरोजगारी समेत देश के वे तमाम मुद्दे जो उस समय उबाल...

‘टाइम’ मैगजीन का ‍बिकना और सूचना को ज्ञान में बदलना !

‘टाइम’ मैगजीन का ‍बिकना और सूचना को ज्ञान में बदलना !

अमूमन ऐसी खबरें अखबार के बिजनेस काॅलम की मानी जाती हैं, लेकिन ये खबर पूरे प‍त्रकारिता जगत को चौंकाने वाली थी कि अमेरिका की पहली साप्ताहिक पत्रिका और दुनिया में अपनी ‍विशिष्ट और खोजपरक रिपोर्टिंग के लिए मशहूर ‘टाइम’...

कांग्रेसी क्षत्रपों में खींचतान, भाजपा की चाल तो नहीं?

कांग्रेसी क्षत्रपों में खींचतान, भाजपा की चाल तो नहीं?

कांग्रेस और गुटबाजी मध्यप्रदेश में एक दूसरे पूरक हैं! जब भी कांग्रेस अपने चिर प्रतिद्वंदी भाजपा के खिलाफ कमर कसने की तैयारी करती थी, पार्टी तीन हिस्सों में बंटकर अपने-अपने सेनापतियों के पीछे खड़ी हो जाती थी। कांग्रेस के...

प्रेम की धारा...राधा

प्रेम की धारा...राधा

हर धारा कभी न कभी समुद्र में विलीन हो जाती है। जो बूंदें समुद्र के प्रेम में आकंठ डूबी होती हैं, उनके सामने यदा-कदा समुद्र खुद भी उपस्थित हो जाता है। प्रेम की धरती सिर्फ घूमती नहीं, वेग...

अष्टधातुई देवों से अलग एक जन नेता

अष्टधातुई देवों से अलग एक जन नेता

मीडियावाला.इन। पिछले दो दशकों में पहली बार ऐसा होगा जब श्रीनिवास तिवारी का जन्मदिन बिना उनकी मौजूदगी के आसन्न विपन्नता के बीच मनाया जाएगा। तिवारीजी काँग्रेस के कद्दावर नेता थे। विधानसभाध्यक्ष के रूप में उनके दस साल देश...

मस्जिद में मोदी, शिव की शरण में राहुल राजनीति की बदलती बयार

मस्जिद में मोदी, शिव की शरण में राहुल राजनीति की बदलती बयार

इक्कीसवी सदी में भारतीय राजनीति ने महत्वपूर्ण बदलाव देखे हैं। वक्त गवाह रहा है कि जनता ने इक्कीसवी सदी के शुरुआत में राजनीति के महानायक स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की विकासपरक राजनीति को देखा, परखा, सराहा और फिर...

पुणे नहीं ग्वालियर से शुरू हुआ था  गणेशोत्सव

पुणे नहीं ग्वालियर से शुरू हुआ था गणेशोत्सव

पुणे में इस समय गणेशोत्सव स्थापना की 125 वीं  जयंती मनाई जा रही है। जानते तो सभी यहीं है कि गणेशोत्सव की शुरूआत लोकमान्य तिलक ने 1893 में पुणे से की थी, लेकिन हकीकत यह है कि उससे काफी...

बॉलीवुड के तो बस एक ही बप्पा

बॉलीवुड के तो बस एक ही बप्पा

इन दिनों पूरे देश में गणेशोत्सव मनाया जा रहा है। लेकिन, मुंबई और बॉलीवुड में गणेशजी का ज्यादा ही महत्व है। सामाजिक समरसता के मकसद से मनाए जाने वाले इस पर्व ने न केवल समाज में अपनी छाप छोड़ी, बल्कि...

सरदार सरोवर तेरी यही कहानी, आंसू ज्यादा कम भरा है पानी,,

सरदार सरोवर तेरी यही कहानी, आंसू ज्यादा कम भरा है पानी,,

पिछले साल के वो दिसंबर के दिन थे। जब हम गुजरात में विधानसभा चुनावों के दौरान गुजरात के गांव गलियों की खाक छान रहे थे। हमारे एमपी से लगे इलाके में पहले दौर का मतदान होना था। मुझको...

सैयदना से मुलाकात कर कांग्रेस की परेशानी बढ़ा गए मोदी

सैयदना से मुलाकात कर कांग्रेस की परेशानी बढ़ा गए मोदी

इंदौर कीर्ति राणा। बोहरा समाज के 53 वें धर्मगुरु- सैयदना आलीकदर मुफद्दल मौला वाअज फरमाने आए हुए हैं।उन्होंने या समाज ने तो इच्छा जाहिर की नहीं कि राजनीतिक दलों के प्लेरमुख उनसे मिलने आएं लेकिन प्रमुख राजनीतिक दलों...

जैसे उड़ि जहाज के पंछी..  साँच कहै ता..

जैसे उड़ि जहाज के पंछी.. साँच कहै ता..

एक मित्र सायकिल की दुकान पर मिल गए। बाहर उनकी चमचमाती कार खड़ी थी। मैंने पूछा-यहां कैसे? वो बोले- डाक्टर ने कहा सायकिल से चला करिए सो सायकिल से बचपन शुरू हुआ और अब बुढापा भी। दूकान वाले...

हिन्दी तुम किनके भरोसे हो..!

हिन्दी तुम किनके भरोसे हो..!

मीडियावाला.इन। दिलचस्प संयोग है कि हिन्दी पक्ष हर साल पितरपक्ष के साथ या आगे पीछे आता है। परंपरानुसार हम लगे हाथ हिन्दी के पुरखों को याद करके उनकी भी श्राद्ध और तर्पण कर लेते हैं। 

क्या हिंदू धर्म फर्जी बाबाअो का चरागाह बन गया है?

क्या हिंदू धर्म फर्जी बाबाअो का चरागाह बन गया है?

देश की राजधानी दिल्ली में हाल में पकड़े गए फर्जी बाबा आशु महाराज उर्फ गुरू घंटाल उर्फ आसिफ खान  की कहानी इसलिए नहीं चौंकाती कि यह भी धन लोलुपता, लंपटता और पीडि़त और धर्मभीरू हिंदुअों के भावनात्मक शोषण...

एक फिल्म, कई अफ़साने : 'मनमर्जियां'

एक फिल्म, कई अफ़साने : 'मनमर्जियां'

मीडियावाला.इन। 'मनमर्जियां' है तो अमृता प्रीतम को समर्पित, लेकिन इसमें मोहब्बत का स्तर फेसबुकिया है। यह ऐसी  फिल्म है, जो शुरू में जिस्म जैसी है, बीच में साई परांजपे की 'कथा' जैसी, आगे बढ़ने पर कुंदन शाह की 'क्या...

प्रश्नचिह्नित ‘हिंग्लिश’ को उत्तरपुस्तिका की भाषा बनाने का अहम फैसला !

प्रश्नचिह्नित ‘हिंग्लिश’ को उत्तरपुस्तिका की भाषा बनाने का अहम फैसला !

हिंदी दिवस के सालाना जश्न के मौके पर आई यह खबर हिंदी के शुद्धतावादियों के लिए तगड़ा झटका हो सकती है कि मप्र के आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय ने फैसला किया है कि अब विवि से एमबीबीएस ( यह डिग्री अभी...

देश में पहला मोहल्ला एप बनाने में भी इंदौर बना नंबर वन 

देश में पहला मोहल्ला एप बनाने में भी इंदौर बना नंबर वन 

संसार की ऐसी कोई समस्या नहीं जिसका हल गीता में न हो और ऐसी कोई जिज्ञासा नहीं जिसका समाधान गीता से न मिलता हो। बस जरूरत है भगवद गीता में डूबने की। एक बार, दो बार, तीन बार, लगातार गीता...

भला ऐसा समाजवाद और कहाँ..

भला ऐसा समाजवाद और कहाँ..

मीडियावाला.इन। जैसा कि पिछले साल "अगले बरस तू लौकर आ" का वायदा किया था, गणपत बप्पा घर-घर पधार गए। क्या महाराष्ट्र, क्या गुजरात, समूचा देश आज से गणपति मय गया।  बडे़ गणेशजी,...