कॉलम / नजरिया

चुनाव तो आप जीत ही जाएंगे, इधर भी देख लें

चुनाव तो आप जीत ही जाएंगे, इधर भी देख लें

मीडियावाला.इन। सामान्यतः घरों में देखा जाता है कि पहली पीढ़ी के लोग,अपनी नई या वर्तमान पीढ़ी के लोगों से कोई भी बात करते हैं,तो उन्हें पुराना,संदर्भहीन या अप्रासंगिक मानकर अनसुना कर दिया जाता है,या टाल...

तो क्या हमे भावी प्रधानमंत्री इसी ‘कसौटी’ पर चुनना होगा?

तो क्या हमे भावी प्रधानमंत्री इसी ‘कसौटी’ पर चुनना होगा?

क्या इस देश में प्रधानमंत्री बनने का एक जरूरी क्वालिफिकेशन अब तथ्यात्मक अज्ञानता बन गया है? यह सवाल इसलिए क्योंकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली में आयोजित अोबीसी सम्मेलन में देश का ज्ञान वर्द्धन करते हुए कहा...

मीडिया प्रबंधन के बहाने प्रभात की प्रदेश वापसी

मीडिया प्रबंधन के बहाने प्रभात की प्रदेश वापसी

कांग्रेस के दो प्रमुख नेताओं कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा लगातार किये जा रहे मीडिया आक्रमण और प्रभाव को देखते हुए भाजपा को अपने अनुभवी मीडिया विशेषज्ञ प्रभात झा को फिर से उनकी 20-25 साल पुरानी भूमिका में झोंकना...

जान को खतरा

जान को खतरा

आधी रात में कुछ ही वक्त बाकी होगा कि दोस्त का फोन आया। उठाते ही बोला, यार मेरी जान को खतरा है। मैंने पूछा, तुमसे अब किसे इतनी अदावत हो गई, जो तुम्हारी जान के पीछे पड़ेगा। वह बोला,...

उनके मन में है कि यह 'रिश्वत' है, और हममें 'दहशत' है

उनके मन में है कि यह 'रिश्वत' है, और हममें 'दहशत' है

मुस्कुराइए कि मध्यप्रदेश में किसानों का दस दिनी आंदोलन कल समाप्त हो गया है.यह,हम सब मध्यप्रदेशवासियों का भाग्य ही है कि इन दस दिनों में हमारी जिंदगी 'नरक'नहीं बनी.लेकिन,दहशत में जरूर रहिये,क्योंकि आंदोलन के नेताओं ने कहा है...

बिहार में शराबबंदी, तेलंगाना के कुत्ते और खैनी का खेल !

बिहार में शराबबंदी, तेलंगाना के कुत्ते और खैनी का खेल !

बिहार में लागू शराबबंदी कुछ-कुछ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ‘राजनीतिक चरित्र’ जैसी ही है। कुछ इधर, कुछ उधर। इस नीति के नतीजों के मद्देनजर हाल में नीतीश को कहना पड़ा कि वे शराबबंदी कानून की समीक्षा करेंगे, क्योंकि...

यात्रा संस्मरण - केप ऑफ़ गुड हॉप

यात्रा संस्मरण - केप ऑफ़ गुड हॉप

टेबल माउन्टेन देखने के बाद एक विशेष यात्रा अभी करनी थी जो हमें उस बिंदु या दुनिया के उस अंतिम छोर पर ले जाएगी जहाँ से पुर्तगाली यात्री वास्को डिगामा ने समुद्री मार्ग से भारत को खोजा था, यही...

‘अंगूठा छाप’ को उच्च शिक्षा मंत्री बना दें तो भी क्या बिगड़ेगा

‘अंगूठा छाप’ को उच्च शिक्षा मंत्री बना दें तो भी क्या बिगड़ेगा

मीडियावाला.इन। कर्नाटक के उच्च शिक्षा मंत्री सिर्फ आठवीं पास हैं। यह खुलासा भी खुद ‍उच्च शिक्षा मंत्री जी.टी. देवगौडा ने ही किया है। लेकिन इस खुलासे में खुशी के बजाए मलाल इस बात का है...

दाल में काला

दाल में काला

मीडियावाला.इन। मैं रजनीकांत का फैन नहीं हूं मगर उनकी फिल्में देख लेता हूं। खासकर हिंदी में डब। उसमें रजनीकांत की आयातित आवाज रजनी के आक्रामक किरदार काे और असरदार बनाती है-कूल SSSS। मगर काला नाम की फिल्म दाल...

अर्जुन या अभिमन्यु

अर्जुन या अभिमन्यु

मीडियावाला.इन। अंडर 19 टीम में पदार्पण के साथ देर-सवेर ही सही अर्जुन सचिन तेंदुलकर ने भारतीय टीम में एंट्री कर ली है। विराट कोहली ने ट्वीट के जरिये इसकी सूचना दी और उन्होंने भी यही...

खिलाडि़यों की कमाई में भी ‘नाल काटने’ की सरकारी जुर्रत...!

खिलाडि़यों की कमाई में भी ‘नाल काटने’ की सरकारी जुर्रत...!

मीडियावाला.इन। गनीमत है कि हरियाणा के मुख्यरमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने राज्य के खेल विभाग के उस मूर्खतापूर्ण आदेश पर फिलहाल रोक लगा दी है, जिसमें सरकार का इरादा खिलाडि़यों की विज्ञापनों और व्यावसायिक स्पर्द्धाअों में कमाए गए...

फायर ग़ायब बस ब्रांड बचे है तोगड़िया !

फायर ग़ायब बस ब्रांड बचे है तोगड़िया !

मीडियावाला.इन।  बच्चा बच्चा राम का जन्मभूमि के काम का और जो हिंदू हित की बात करेगा वही देश पर राज करेगा जैसे जोशीले नारों के साथ  प्रवीण तोगड़िया (अब जो अपने नाम का जिक्र करते हुए डॉ जोड़ना...

अनारक्षित वर्ग के बच्चों के साथ अन्याय क्यों?

अनारक्षित वर्ग के बच्चों के साथ अन्याय क्यों?

मीडियावाला.इन। अब यह तय हो गया है कि आगामी 9 जून को भोपाल में आयोजित समारोह में आरक्षित वर्ग के बच्चों को 75 प्रतिशत और अनारक्षित वर्ग के बच्चों को 85 प्रतिशत अंकों पर ही लेपटाप मिलेगा।...

प्रणब दा के आईनें में देशभक्ति और राष्ट्रवाद

प्रणब दा के आईनें में देशभक्ति और राष्ट्रवाद

मीडियावाला.इन। भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में विचारधारा की सहमति और असहमति पर संवाद करना कोई नई बात नहीं है। वर्षों की गुलामी से मुक्त करवाने के लिए  आजादी के दीवानों ने इसी संवाद के लिए संघर्ष किया और...

इशारों को अगर समझो

इशारों को अगर समझो

मीडियावाला.इन। आरएसएस मुख्यालय नागपुर में प्रणब मुखर्जी के वेजिटेरियन भाषण से कई लोगों को बड़ी निराशा हाथ लगी है। जितने गौर से पूरी दुनिया इस भाषण को सुन रही थी, सभी को उम्मीद थी कि...

मुखर जी प्रणब

मुखर जी प्रणब

इसके पहले कि मैं प्रणब मुखर्जी के आज संघ के मंच से कही बातों का विवेचन करूँ , कोई चार घंटे पूर्व मेरे इस आलेख के मूल तत्व पर एक नज़र गौर कीजिए.....प्रणब दा जहां अपनी हैसियत की...

इंडिया टुडे का 'मस्तराम' हो जाना 

इंडिया टुडे का 'मस्तराम' हो जाना 

इंडिया टुडे का मस्तराम होकर ड्राइंग रूम से बेड रूम की ओर जाना  अब इसे 'बोल्डनेस' कहा जाने लगा है इंडिया टुडे को क्या हो गया है? धंधे के लिए इस स्तर पर आना पड़ेगा, इसकी कल्पना पहले नहीं...

यात्रा संस्मरण - बफेलो सफारी

यात्रा संस्मरण - बफेलो सफारी

मीडियावाला.इन। सुदूर दक्षिण अफ्रीका में स्थित केप टाउन के जंगल मुझे खूब सघन या हरे भरे नहीं दिखे फिर भी वहाँ की वाइल्ड लाइफ बहुत अच्छी है|रॉबर्टने बताया था कि हमें सबेरे पाँच बजे निकलना...

प्रणब किसे धता बताएंगे आज- संघ, बीजेपी या कांग्रेस

प्रणब किसे धता बताएंगे आज- संघ, बीजेपी या कांग्रेस

मीडियावाला.इन। अब से कुछ ही घंटों में वह सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी आरएसएस प्रशिक्षण वर्ग के समापन कार्यक्रम में अपने बहुप्रतिक्षित उदबोधन में किसे धता बताएंगे। चूंकि प्रणब दा कांग्रेस के वरिष्ठ...