कहानी

बिटर पिल

बिटर पिल

मीडियावाला.इन। वेन इट स्नोज इन योर नोज़ यू कैच कोल्ड इन योर ब्रेन (‘हिम जब आपके नाक में गिरती है तो ठंडक आपके दिमाग़ को जा जकड़ती है’) –ऐलन गिंज बर्ग

पिंडदान

पिंडदान

मीडियावाला.इन। बाबू जी को गुजरे पांच वर्ष हो रहे थे । रामदयाल जी हर बार सोचते कि अगले पितृ-पक्ष में  'गया-जी'  जाकर पिंडदान करेंगे, लेकिन हर बार जाना टलता जाता ।   अब फिर श्राद्ध-पक्ष आने वाला था तो...

डिप्रेशन पर केन्द्रित कहानी :आदमख़ोर

डिप्रेशन पर केन्द्रित कहानी :आदमख़ोर

मीडियावाला.इन।  अक्सर आप अपने ड्राइंग-रूम के सोफ़े या बेड-रूम के बिस्तर की सुरक्षा में बैठ कर टी.वी.पर जंगली जानवरों पर बने कार्यक्रम देख कर खुश होते हैं । ये कार्यक्रम आपको सुंदर सपनों-से लगते हैं । टी.वी. स्क्रीन...

आवाज़ें

आवाज़ें

मीडियावाला.इन।  एक दिन शाम के धुंधलके में किसी पक्षी की आवाज़ सुनाई दी। जिज्ञासा मुझे बगीचे तक खींच ले गई। यह आवाज़ आज दूसरी बार सुनने में आई थी। एक दिन पहले भी इसी वक्त यह आवाज़ आई...

मोपांसा की बेहद चर्चित कहानी: Boule de Suif

मोपांसा की बेहद चर्चित कहानी: Boule de Suif

मीडियावाला.इन। कालजयी साहित्य कुछ कहानियाँ अपने विश्लेषण , विषय और सूक्ष्मता की बदौलत काल के दायरे से बाहर निकल जाती हैं लिहाजा कई पीढियां उन्हें पढ़ती , सोचती और चकित होती रहती हैं | स्त्री विषयों...

फैसला उल्लुओं के पक्ष में

फैसला उल्लुओं के पक्ष में

मीडियावाला.इन।  एक बार एक हंस और हंसिनी हरिद्वार के सुरम्य वातावरण से भटकते हुए, उजड़े वीरान और रेगिस्तान के इलाके में आ गये! हंसिनी ने हंस को कहा कि ये किस उजड़े इलाके में आ गये हैं ?? ...

भोपाल के आखिरी नवाब की कहानी, गद्दी दिलवाने किंग जॉर्ज को करना पड़ा था हस्तक्षेप

भोपाल के आखिरी नवाब की कहानी, गद्दी दिलवाने किंग जॉर्ज को करना पड़ा था हस्तक्षेप

मीडियावाला.इन। भोपाल रियासत के आखिरी नवाब हमीदुल्लाह खान का पूरा नाम सिकंदर सौलत इफ्तेखार उल मुल्क बहादुर हमीदुल्लाह खान था। उन्होंने अच्छी-खासी तालीम हासिल की थी और कुशल प्रशासक थे। 20 अप्रैल 1926 को उन्होंने गद्दी संभाली थी। सैफिया...

खेमा

खेमा

मीडियावाला.इन। बाबा के संग पहली बार किस्सा खड़ा तो किया था मैंने उन्नीस सौ पैंसठ में मगर उसकी तीक्ष्णता आज भी मेरे अन्दर हाथ-पैर मारती है और लंबे डग भर कर मैं समय लांघ जाता हूँ... लांघ...

दीदी का कमरा"

दीदी का कमरा"

मीडियावाला.इन।   राजी ने बेटे सुयश की शादी से पहले मकान में कुछ फेरबदल करने का प्रस्ताव रखा। उसकी की बात से बाप-बेटे दोनों ही असहमत थे। घर में चार बैडरूम, ड्रॉइंग रूम,रसोई, ऊपर जाने की सीढ़ियां और...

‘टच मी नॉट’

‘टच मी नॉट’

मीडियावाला.इन। मुहल्ले की नई बहार थी वह. सबकी तरह आलोक को भी बहुत भाने लगी थी. वह चाहता था यह बसंत ठहर जाए. उसके घर में न सही, उसके आसपास. खूशबू आती रहे दूर से ही मगर, सामने हो...

स्पर्श

स्पर्श

मीडियावाला.इन। रूबल मुँह में उनका चश्मा दबाए आया और उनके पास पलंग पर रख दिया। सावित्री उसे देखती रहीं और रूबल भी उन्हें देखते हुए खड़ा रहा। रूबल की आँखों में हमेशा की तरह एक तरलताए मित्रता...

जुगाली

जुगाली

मीडियावाला.इन। “वनमाला के दाह-कर्म पर हमारा बहुत पैसा लग गया, मैडम|” अगले दिन जगपाल फिर मेरे दफ़्तर आया, “उसकी तनख्वाह का बकाया आज दिलवा दीजिए|” वनमाला मेरे पति वाले सरकारी कॉलेज में लैब असिस्टेंट रही थी तथा कॉलेज में...

दुनिया की सबसे करुण प्रेमकथा !

दुनिया की सबसे करुण प्रेमकथा !

मीडियावाला.इन। आज हम आपको दुनिया की सबसे करूण प्रेमकथा के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में जानकर शायद आप भी चौंक जाएंगे । इस प्रेमकथा का नायक प्राचीन आयरलैंड का एक योद्धा ओईसीन है । ओईसीन...

फेसबुकिया मॉम

फेसबुकिया मॉम

मीडियावाला.इन। कहानी  अगस्त माह का पहला रविवार है | सुबह-सुबह का झुटपुटा है | अभी वृक्ष सोये पड़े हैं | डालियाँ पंछियों की चहचहाहट सुनने के लिए आतुर हैं लेकिन कहीं कोई आवाज़ नहीं केवल एक आवाज़ को छोड़कर...

पुराना पता

पुराना पता

मीडियावाला.इन। ‘इन दीज न्यू टाउन्ज वन कैन फाइन्ड द ओल्ड हाउजिस ओनली इन पीपल’ (‘इन नये शहरों में पुराने घर हमें केवल लोगों के भीतर ही मिल सकते हैं।’) इलियास कानेसी वह मेरा पुराना मकान है... उस सोते का उद्गम...

विदाई

विदाई

मीडियावाला.इन। विदाई कल से दुलारी ने काम पर जाना छोड़ दिया था| उसके ब्याह को केवल पाँच दिन रह गए थे| वह सोचने लगी कम से कम पाँच दिन तो वह भी रानी महारानी की तरह आराम से...

विदूषक

विदूषक

मीडियावाला.इन। 2 जुलाई सुशील सिद्धार्थ के जन्म दिन पर उनकी  चर्चित कहानी दिवंगत सुशील  हिंदी गद्य और कविता लेखक, आलोचक, संपादक और व्यंग्यकार थे। वह एक पत्रकार और स्तंभकार और कई पत्रिकाओं के सह-संपादक थे। उनकी...

बापवाली !

बापवाली !

मीडियावाला.इन।बापवाली ! “बाहर दो पुलिस कांस्टेबल आए हैं,” घण्टी बजने पर बेबी ही दरवाज़े पर गयी थी, “एक के पास पिस्तौल है और दूसरे के पास पुलिस रूल. रूल वाला आदमी अपना नाम मीठेलाल बताता है. कहता है,...

प्रेतयोनि 

प्रेतयोनि 

मीडियावाला.इन "दीदी, दीदी... उठो, उठो! बाबूजी बुला रहे हैं तुम्हे बालकनी में।" छोटी बहन चिंकी ने अधीर हो उसे बाँह पकड़कर झिंडोड़ने की कोशिश की। बड़ी मुश्किल से चिंकी की झिंझोड़न व...

मेमने की चीख

मेमने की चीख

मीडियावाला.इन। रात आधी से अधिक बीत गई है, पर चौधरी बिस्तर  पर करवट ही बदल रहे हैं | भुलई काका के खखारने की आवाज आई तो चौधरी उठकर बिस्तर पर बैठ गये | कोई अन्य दिन रहा होता तो भुलई...