साहित्य

एमपी में कांग्रेस की सत्ता जाने और भाजपा की सत्ता आने के खेल को उजागर करती बृजेश राजपूत की पुस्तक  ' वो 17 दिन ' का पोस्टर रिलीज

एमपी में कांग्रेस की सत्ता जाने और भाजपा की सत्ता आने के खेल को उजागर करती बृजेश राजपूत की पुस्तक ' वो 17 दिन ' का पोस्टर रिलीज

मीडियावाला.इन। सीहोर। हमारा इतिहास सबसे प्राचीन है, इसको कोई मिटा नहीं सका है, यूरोप, चीन और अमेरिका आदि का इतिहास मात्र दो से तीन हजार वर्ष पूर्व का है। पुस्तक एक सोच व सच्चा हमसफर है। यह इंसान की...

बिटर पिल

बिटर पिल

मीडियावाला.इन। वेन इट स्नोज इन योर नोज़ यू कैच कोल्ड इन योर ब्रेन (‘हिम जब आपके नाक में गिरती है तो ठंडक आपके दिमाग़ को जा जकड़ती है’) –ऐलन गिंज बर्ग

पिंडदान

पिंडदान

मीडियावाला.इन। बाबू जी को गुजरे पांच वर्ष हो रहे थे । रामदयाल जी हर बार सोचते कि अगले पितृ-पक्ष में  'गया-जी'  जाकर पिंडदान करेंगे, लेकिन हर बार जाना टलता जाता ।   अब फिर श्राद्ध-पक्ष आने वाला था तो...

डिप्रेशन पर केन्द्रित कहानी :आदमख़ोर

डिप्रेशन पर केन्द्रित कहानी :आदमख़ोर

मीडियावाला.इन।  अक्सर आप अपने ड्राइंग-रूम के सोफ़े या बेड-रूम के बिस्तर की सुरक्षा में बैठ कर टी.वी.पर जंगली जानवरों पर बने कार्यक्रम देख कर खुश होते हैं । ये कार्यक्रम आपको सुंदर सपनों-से लगते हैं । टी.वी. स्क्रीन...

आवाज़ें

आवाज़ें

मीडियावाला.इन।  एक दिन शाम के धुंधलके में किसी पक्षी की आवाज़ सुनाई दी। जिज्ञासा मुझे बगीचे तक खींच ले गई। यह आवाज़ आज दूसरी बार सुनने में आई थी। एक दिन पहले भी इसी वक्त यह आवाज़ आई...

मोपांसा की बेहद चर्चित कहानी: Boule de Suif

मोपांसा की बेहद चर्चित कहानी: Boule de Suif

मीडियावाला.इन। कालजयी साहित्य कुछ कहानियाँ अपने विश्लेषण , विषय और सूक्ष्मता की बदौलत काल के दायरे से बाहर निकल जाती हैं लिहाजा कई पीढियां उन्हें पढ़ती , सोचती और चकित होती रहती हैं | स्त्री विषयों...

बस इतना कह देना  कि , हम भी इंसान हैं:देखिये विडिओ

बस इतना कह देना कि , हम भी इंसान हैं:देखिये विडिओ

मीडियावाला.इन। मेरी कविता समर्पित है ख़ाकी के अमर शहीद अनिल कोहली, देवेंद्र चन्द्रवंशी, यशवंत पाल, चन्द्रकांत एवं संदीप सुर्वे जैसे मातृभूमि पर प्राण न्योछावर करने वाले कर्मवीरों, अप्रतिम साहस के साथ रक्त रंजित होने वाले सरदार हरजीत सिंह जैसे शूरवीरों...

फैसला उल्लुओं के पक्ष में

फैसला उल्लुओं के पक्ष में

मीडियावाला.इन।  एक बार एक हंस और हंसिनी हरिद्वार के सुरम्य वातावरण से भटकते हुए, उजड़े वीरान और रेगिस्तान के इलाके में आ गये! हंसिनी ने हंस को कहा कि ये किस उजड़े इलाके में आ गये हैं ?? ...

भोपाल के आखिरी नवाब की कहानी, गद्दी दिलवाने किंग जॉर्ज को करना पड़ा था हस्तक्षेप

भोपाल के आखिरी नवाब की कहानी, गद्दी दिलवाने किंग जॉर्ज को करना पड़ा था हस्तक्षेप

मीडियावाला.इन। भोपाल रियासत के आखिरी नवाब हमीदुल्लाह खान का पूरा नाम सिकंदर सौलत इफ्तेखार उल मुल्क बहादुर हमीदुल्लाह खान था। उन्होंने अच्छी-खासी तालीम हासिल की थी और कुशल प्रशासक थे। 20 अप्रैल 1926 को उन्होंने गद्दी संभाली थी। सैफिया...

लाक डाउन

लाक डाउन

मीडियावाला.इन। अब न है इतवार कोई  हो जिसका इंतज़ार मन करता । हफ्ते भर की धकन उतारें ऐसा अब न अवसर बनता । हर दिन ऐक समान लग रहा  सब की अब बस एक चाह है । मुक्ती...

बहुत देर कर दी आज

बहुत देर कर दी आज

मीडियावाला.इन। बहुत देर कर दी है आज  सुब्ह की किरणों की दस्तक ने। पंछी की कलरव ने यूं तो आहट दी है घर चौखट पे। लेकिन पुष्प तभी बोलेगे पल्लव की सुगंध खोलेगें जब किरणों की गरमी पाकर...

एकला चलो रे:रबींद्रनाथ टैगोर की श्रेष्ठ  कविताएं

एकला चलो रे:रबींद्रनाथ टैगोर की श्रेष्ठ कविताएं

मीडियावाला.इन।  आज  की परिस्थिति में इन कविताओं में जीवन सन्देश बहुत प्रासंगिक है ----------- गुरुदेव रबींद्रनाथ टैगोर बंग साहित्य के ही नहीं, विश्व साहित्य की महान विभूति है   उनकी जीवन दृष्टि अद्भुत थी. 26 मई, 1921 को स्टाकहोम में दिए...

पर हे मेरे प्रभु..... ज़रा आहिस्ता

पर हे मेरे प्रभु..... ज़रा आहिस्ता

मीडियावाला.इन। हे मेरे प्रभु.... तेरा जादू चल गया। इस जहान की सड़कें खाली हो गईं हैं। सारे आलम में शुद्ध हवा का झोंका चल रहा है। सारे पेड़ पोधे हवा में झूम रहे हैं। समुंदर में चलने वाली बड़े...

खेमा

खेमा

मीडियावाला.इन। बाबा के संग पहली बार किस्सा खड़ा तो किया था मैंने उन्नीस सौ पैंसठ में मगर उसकी तीक्ष्णता आज भी मेरे अन्दर हाथ-पैर मारती है और लंबे डग भर कर मैं समय लांघ जाता हूँ... लांघ...

कपड़े के मीटर से तय होती मर्यादा

कपड़े के मीटर से तय होती मर्यादा

मीडियावाला.इन। कपड़े के मीटर से तय होती मर्यादा आधा मीटर खिड़की पर लगाया जाता लड़की झांकती थी जहां से डेढ मीटर फ्राक में लगता ढाई मीटर दुपट्टे का जिसमें हर दिन लगाई जाती बाप की इज्जत घर के मान...

IAS ओपी श्रीवास्तव और भारती  श्रीवास्तव के ग्रंथ 'शब्दमानस' का विमोचन मुरारी बापू करेंगे

IAS ओपी श्रीवास्तव और भारती श्रीवास्तव के ग्रंथ 'शब्दमानस' का विमोचन मुरारी बापू करेंगे

मीडियावाला.इन। भोपाल: आईएएस ओ पी श्रीवास्तव और उनकी पत्नी भारती द्वारा लिखित ग्रंथ "शब्दमानस" का विमोचन परम पूज्य संत मोरारी बापू 29 जनवरी बुधवार को प्रातः 9:30 बजे "विश्व...

किसी नदी के निर्जन किनारे पर

किसी नदी के निर्जन किनारे पर

मीडियावाला.इन। किसी नदी के निर्जन किनारे पर चाहती हूँ किसी नदी के निर्जन किनारे पर बैठी रही हूँ देर तक पानी में पैर डाले तट के सौन्दर्य को निहारती मैं चाहती हूँ किसी पत्थर पर टिक कर...

मुझे सदियों से गुम सिर्फ अपनी हँसी सहेजनी है

मुझे सदियों से गुम सिर्फ अपनी हँसी सहेजनी है

मीडियावाला.इन। मुझमें नहीं इतना धैर्य कि पी जाऊं अस्मिता और परोसूं वजूद ! मैं ऐसी ही हूँ अब तक बताया नहीं था तुम्हें बस इतना है दोष. यह सच भी क्या सच ! कि ऐसा सौंदर्य मुझमें जो बनाये...

दीदी का कमरा"

दीदी का कमरा"

मीडियावाला.इन।   राजी ने बेटे सुयश की शादी से पहले मकान में कुछ फेरबदल करने का प्रस्ताव रखा। उसकी की बात से बाप-बेटे दोनों ही असहमत थे। घर में चार बैडरूम, ड्रॉइंग रूम,रसोई, ऊपर जाने की सीढ़ियां और...