साहित्य

बहुत देर कर दी आज

बहुत देर कर दी आज

मीडियावाला.इन। बहुत देर कर दी है आज  सुब्ह की किरणों की दस्तक ने। पंछी की कलरव ने यूं तो आहट दी है घर चौखट पे। लेकिन पुष्प तभी बोलेगे पल्लव की सुगंध खोलेगें जब किरणों की गरमी पाकर...

एकला चलो रे:रबींद्रनाथ टैगोर की श्रेष्ठ  कविताएं

एकला चलो रे:रबींद्रनाथ टैगोर की श्रेष्ठ कविताएं

मीडियावाला.इन।  आज  की परिस्थिति में इन कविताओं में जीवन सन्देश बहुत प्रासंगिक है ----------- गुरुदेव रबींद्रनाथ टैगोर बंग साहित्य के ही नहीं, विश्व साहित्य की महान विभूति है   उनकी जीवन दृष्टि अद्भुत थी. 26 मई, 1921 को स्टाकहोम में दिए...

पर हे मेरे प्रभु..... ज़रा आहिस्ता

पर हे मेरे प्रभु..... ज़रा आहिस्ता

मीडियावाला.इन। हे मेरे प्रभु.... तेरा जादू चल गया। इस जहान की सड़कें खाली हो गईं हैं। सारे आलम में शुद्ध हवा का झोंका चल रहा है। सारे पेड़ पोधे हवा में झूम रहे हैं। समुंदर में चलने वाली बड़े...

खेमा

खेमा

मीडियावाला.इन। बाबा के संग पहली बार किस्सा खड़ा तो किया था मैंने उन्नीस सौ पैंसठ में मगर उसकी तीक्ष्णता आज भी मेरे अन्दर हाथ-पैर मारती है और लंबे डग भर कर मैं समय लांघ जाता हूँ... लांघ...

कपड़े के मीटर से तय होती मर्यादा

कपड़े के मीटर से तय होती मर्यादा

मीडियावाला.इन। कपड़े के मीटर से तय होती मर्यादा आधा मीटर खिड़की पर लगाया जाता लड़की झांकती थी जहां से डेढ मीटर फ्राक में लगता ढाई मीटर दुपट्टे का जिसमें हर दिन लगाई जाती बाप की इज्जत घर के मान...

IAS ओपी श्रीवास्तव और भारती  श्रीवास्तव के ग्रंथ 'शब्दमानस' का विमोचन मुरारी बापू करेंगे

IAS ओपी श्रीवास्तव और भारती श्रीवास्तव के ग्रंथ 'शब्दमानस' का विमोचन मुरारी बापू करेंगे

मीडियावाला.इन। भोपाल: आईएएस ओ पी श्रीवास्तव और उनकी पत्नी भारती द्वारा लिखित ग्रंथ "शब्दमानस" का विमोचन परम पूज्य संत मोरारी बापू 29 जनवरी बुधवार को प्रातः 9:30 बजे "विश्व...

किसी नदी के निर्जन किनारे पर

किसी नदी के निर्जन किनारे पर

मीडियावाला.इन। किसी नदी के निर्जन किनारे पर चाहती हूँ किसी नदी के निर्जन किनारे पर बैठी रही हूँ देर तक पानी में पैर डाले तट के सौन्दर्य को निहारती मैं चाहती हूँ किसी पत्थर पर टिक कर...

मुझे सदियों से गुम सिर्फ अपनी हँसी सहेजनी है

मुझे सदियों से गुम सिर्फ अपनी हँसी सहेजनी है

मीडियावाला.इन। मुझमें नहीं इतना धैर्य कि पी जाऊं अस्मिता और परोसूं वजूद ! मैं ऐसी ही हूँ अब तक बताया नहीं था तुम्हें बस इतना है दोष. यह सच भी क्या सच ! कि ऐसा सौंदर्य मुझमें जो बनाये...

दीदी का कमरा"

दीदी का कमरा"

मीडियावाला.इन।   राजी ने बेटे सुयश की शादी से पहले मकान में कुछ फेरबदल करने का प्रस्ताव रखा। उसकी की बात से बाप-बेटे दोनों ही असहमत थे। घर में चार बैडरूम, ड्रॉइंग रूम,रसोई, ऊपर जाने की सीढ़ियां और...

कुल्टा ,कलंकिनी , कुलछिनी कोई फर्क नहीं पड़ता

कुल्टा ,कलंकिनी , कुलछिनी कोई फर्क नहीं पड़ता

मीडियावाला.इन। मुझे तुम्हारी गालियों से डर नहीं लगता तुम्हारे तमगे पहनकर निकलने से भी डरना बंद दिया है मैंने कुल्टा ,कलंकिनी , कुलछिनी या रंडी कोई फर्क नहीं पड़ता तुम्हारी गढ़ी ये गालियां अब अर्थ नहीं पैदा करतीं कोई...

इन्दौर की राहत की पेंटिंग्स को देखने पहुंचे फिल्मी सितारे

इन्दौर की राहत की पेंटिंग्स को देखने पहुंचे फिल्मी सितारे

मीडियावाला.इन। मुम्बई/इन्दौर . इन्दौर शहर की आर्टिस्ट राहत काज़मी की पेंटिंग्स इंडियन आर्ट फेस्टिवल में देखने बॉलीवुड के सितारे पहुंचे. मुम्बई में वर्ली के नेहरू सेंटर में 'इंडिया आर्ट फेस्टिवल' प्रदर्शनी के शुभारंभ में बॉलीवुड और देश की कई...

मैं भी रंडी होना चाहती हूँ.

मैं भी रंडी होना चाहती हूँ.

मीडियावाला.इन। कवि ,समाज सेवी अनुपमा तिवाडी की फेसबुक वाल से  एक कविता  ,जिसका अन्य  भाषाओँ में अनुवाद हो रहा है -यहाँ जस की तस कविता मराठी और नेपाली  अनुवाद के साथ  दे रहे है  अनुपमा की वाल से ---------...

भोपाल लिटरेचर फेस्ट  ; जयराम रमेश ने पर्यावरण, देवदत्त पटनायक ने बिजनेस के आधुनिक पहलुओं पर चर्चा की

भोपाल लिटरेचर फेस्ट ; जयराम रमेश ने पर्यावरण, देवदत्त पटनायक ने बिजनेस के आधुनिक पहलुओं पर चर्चा की

मीडियावाला.इन। भोपाल. दूसरा 'हार्टलैंड स्टोरीज: भोपाल लिट्रेचर एंड आर्ट फेस्टिवल-2020' (बीएलएफ) शुक्रवार से भारत भवन में शुरू हो गया। समारोह का उद्घाटन शाम 5.30 बजे मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किया। हालांकि भारत भवन के तीन सभागार- अंतरंग, वागार्थ और बहिरंग...

‘टच मी नॉट’

‘टच मी नॉट’

मीडियावाला.इन। मुहल्ले की नई बहार थी वह. सबकी तरह आलोक को भी बहुत भाने लगी थी. वह चाहता था यह बसंत ठहर जाए. उसके घर में न सही, उसके आसपास. खूशबू आती रहे दूर से ही मगर, सामने हो...

स्पर्श

स्पर्श

मीडियावाला.इन। रूबल मुँह में उनका चश्मा दबाए आया और उनके पास पलंग पर रख दिया। सावित्री उसे देखती रहीं और रूबल भी उन्हें देखते हुए खड़ा रहा। रूबल की आँखों में हमेशा की तरह एक तरलताए मित्रता...

कटारे को श्रीलाल शुक्ल 'इफ्को' सम्मान

कटारे को श्रीलाल शुक्ल 'इफ्को' सम्मान

मीडियावाला.इन। मेरे पास खुश होने के अवसर आते-जाते रहते हैं ,लेकिन आज मै बहुत अधिक खुश हूँ क्योंकि अग्रज लेखक महेश कटारे को इस वर्ष के श्रीलाल शुक्ल इफ्को सम्मान से अलंकृत किये जाने की खबर आ गयी है...

अंतरराष्ट्रीय कला एवं साहित्य उत्सव 'विश्वरंग' 4 नवंबर से 10 नवंबर तक

अंतरराष्ट्रीय कला एवं साहित्य उत्सव 'विश्वरंग' 4 नवंबर से 10 नवंबर तक

मीडियावाला.इन। भोपाल। 4 नवंबर से 10 नवंबर तक भोपाल में पहला अंतरराष्ट्रीय कला एवं साहित्य उत्सव 'विश्वरंग'आयोजित होने जा रहा है, जिसकी गतिविधियां मंटो हॉल, भारत भवन और रवींद्र भवन में होंगी। कार्यक्रम का शुभारंभ विश्वविद्यालय परिसर में सुबह...

साहित्य आजतक: सावरकर को लेकर बुद्धिजीवियों में हुई गर्मागर्म बहस

साहित्य आजतक: सावरकर को लेकर बुद्धिजीवियों में हुई गर्मागर्म बहस

मीडियावाला.इन। हिंदुत्व की विचारधारा के जनक विनायक दामोदर सावरकर को लेकर फिलहाल राजनीतिक-वैचारिक विभाजन बहुत ज्यादा है. कुछ लोगों के लिए वह राष्ट्रवादी सेनानी हैं तो कुछ उन्हें अंग्रेजों से माफी मांगने वाला अवसरवादी कहते हैं. आखिर सावरकर को...

जुगाली

जुगाली

मीडियावाला.इन। “वनमाला के दाह-कर्म पर हमारा बहुत पैसा लग गया, मैडम|” अगले दिन जगपाल फिर मेरे दफ़्तर आया, “उसकी तनख्वाह का बकाया आज दिलवा दीजिए|” वनमाला मेरे पति वाले सरकारी कॉलेज में लैब असिस्टेंट रही थी तथा कॉलेज में...

दुनिया की सबसे करुण प्रेमकथा !

दुनिया की सबसे करुण प्रेमकथा !

मीडियावाला.इन। आज हम आपको दुनिया की सबसे करूण प्रेमकथा के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में जानकर शायद आप भी चौंक जाएंगे । इस प्रेमकथा का नायक प्राचीन आयरलैंड का एक योद्धा ओईसीन है । ओईसीन...