Child Trapped in Borewell Has Not Come Out Yet : 160 फीट गहरे बोरवेल में फंसे मयंक को अभी बाहर नहीं निकाला जा सका!

मुख्यमंत्री ने मामले को लेकर हर संभव उपाय के निर्देश दिए, सूखे बोरवेल तत्काल बंद होंगे!

442

Child Trapped in Borewell Has Not Come Out Yet : 160 फीट गहरे बोरवेल में फंसे मयंक को अभी बाहर नहीं निकाला जा सका!

Rewa : सूखे बोरवेल में शुक्रवार को गिरे 6 साल के आदिवासी बच्चे मयंक को बाहर निकालने का काम जारी है। लेकिन, उसे अभी तक बाहर नहीं निकाला जा सका। शुक्रवार से आज तक चल रहा है। बोरवेल के पैरलल 60 फीट से अधिक खुदाई के बाद पानी निकल आया। बच्चा शुक्रवार को दोपहर करीब साढ़े 3 बजे 160 फीट गहरे बोरवेल में गिर गया था। मुख्यमंत्री ने भी मामले पर संज्ञान लेते हुए अधिकारियों को हर संभव उपाय करने के निर्देश दिए हैं। बच्चे की मां शीला का रो-रोकर बुरा हाल है। बच्चे की नानी निर्मला का कहना है कि हमें भगवान पर भरोसा है। बच्चा जल्दी बाहर आएगा।

यह घटना रीवा जिला मुख्यालय से करीब 90 किलोमीटर दूर जनेह थाना क्षेत्र के मनिका गांव का है। बच्चे का मयंक (6) पिता विजय आदिवासी है। वह खेत में बच्चों के साथ खेल रहा था। इसी दौरान खेत में ही खुले पड़े बोरवेल में गिर गया। रेस्क्यू टीम बोरवेल के पैरेलल 8 जेसीबी मशीन से खुदाई कर रही है। फिलहाल बच्चे का कोई मूवमेंट नहीं दिखाई दे रहा। बताया जा रहा है कि उसके ऊपर मिट्टी आने से वह और गहराई में चला गया है।
बच्चे की मां शीला आदिवासी अपनी मासूम बेटी को गोद में लेकर रातभर घटनास्थल पर बैठी रही। बच्चे के दादा हिन्चलाल को भी उसके सुरक्षित बाहर निकलने की उम्मीद है। वे कहते हैं कि भगवान पर भरोसा है।

मुख्यमंत्री ने भी संज्ञान लिया

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने रीवा में बोरवेल में गिरे बच्चे के रेस्क्यू ऑपरेशन की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि ‘रीवा जिले के मनिका गांव में एक बालक सूखे बोरवेल में खेलते खेलते गिर गया, ये बहुत ही दुःख की बात है। उन्होंने कहा कि हमने रेस्क्यू के लिए वहां टीम लगाई हुई है, लेकिन बारिश होने से मिट्टी गीली होने के कारण काफी कठिनाई आ रही है। प्रशासन पूरी ताकत के साथ हमारे बालक को बचाएगा, इस संबंध में जो भी जरूरत पड़ेगी वो सब करेंगे। हमारे विधायक सिद्धार्थ तिवारी मौके पर हैं। कलेक्टर, एसपी से मेरी बात हुई है।

WhatsApp Image 2024 04 13 at 2.00.57 PM

मुख्यमंत्री ने बताया कि रेस्क्यू टीम लगी हुई है, उम्मीद करेंगे कि हम सब मिलकर सफल हों। डॉ यादव ने कहा कि मैंने प्रशासन को पहले भी निर्देश दिए हैं। पुनः निर्देश दे रहा हूं कि किसी भी क्षेत्र में अगर खुले हुए बोरवेल हों, तो उनको तुरंत बंद कराएं। खासकर ऐसे सूखे बोरवेल जिनमें पानी नहीं आता। इससे जिंदगी का बहुत बड़ा नुकसान होता है। इससे बचना चाहिए। हम उम्मीद करेंगे कि आने वाले समय में ऐसी घटना न हो।