कांग्रेसी ‘जम्बो कल्चर’ बनाम भाजपाई ‘महाजम्बो कल्चर’...!

कांग्रेसी ‘जम्बो कल्चर’ बनाम भाजपाई ‘महाजम्बो कल्चर’...!

मीडियावाला.इन।

क्या सत्ता की मजबूरियां राजनीतिक संगठनों में ‘जम्बो कल्चर’ को बढ़ावा देती हैं? अगर मध्‍यप्रदेश में प्रदेश भाजपा की नई  कार्यसमिति और प्रदेश कांग्रेस की तीन साल से चली आ रही प्रदेश कार्यसमिति को देखें तो इस सवाल  का जवाब ‘हां’ में होगा। या यूं कहें कि राज्य के दो मुख्य राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों में अब जम्बो कार्यसमिति को लेकर एक दूसरे को पछाड़ने की होड़ लगी है। कमलनाथ के नेतृत्व वाली प्रदेश कांग्रेस कार्यकारिणी में तीन साल पहले जब 84 सदस्यों को शामिल किया गया था, तब भाजपाई उस पर हंसते थे। अब प्रदेश भाजपा की 403 सदस्यों वाली ‘महाजम्बो कार्यसमिति’ के कांग्रेसी मजे ले रहे हैं। कांग्रेस ने कटाक्ष कर से भारतीय जाति पार्टी तक बता दिया। लगता है ऐसी जम्बो कार्यसमितियों के गठन के पीछे भाव यही रहता है कि संगठन की रेल में सवार होने से कहीं कोई छूट न जाए। किसी कार्यकर्ता को यह अहसास न हो  कि सत्ता की मलाई उसे भले न मिल रही हो,  लेकिन पार्टी के जनरल कोच में खुरचन तो उसके हिस्से में आई ही समझो। यानी संगठन की कार्यसमिति न हुई, राजनीतिक रेवड़ी का भंडारा हो गया, जहां सब को कुछ न ‍कुछ टिकाना जरूरी है।

भाजपा में पिछले साल शामिल हुए सांसद ज्योतिरादित्य के भोपाल फेरे के ठीक पहले आधी रात को प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की लिस्ट ‍िजस तरह आनन-फानन में जारी हुई, फिर वापस ली गई। संशोधन के बाद पुन: जारी हुई, उससे संदेश यही गया कि यह बहुप्रतीक्षित सूची भी हड़बड़ी में ही बनाई और सुधारी गई है। यूं तो भाजपा सहित देश की हर राजनीतिक पार्टी जातीय गुणा भाग पर ही चलती हैं। लेकिन संगठन की घोषित सूचियों में सदस्यों की जाति के नाम का उल्लेख करने से अमूमन बचा जाता है, लेकिन प्रदेश भाजपा की पहली सूची सदस्यों के जातिगत उल्लेख के साथ लीक हो गई। गोया फलां जाति का होने से ही उसे संगठन में जगह मिली। और तो और जातियां लिखने में भी गल्तियां हुईं। बाद में उन्हें सुधारा गया। ऐसा क्यों और कैसे हुआ, इसको लेकर कई चर्चाएं हैं। कहा जा रहा है कि सिंधिया के आने के पहले संगठन की सूची फाइनल करने का प्लान था। यह भी कहा जा रहा है कि सूची तो पिछले साल दिसंबर में भी घोषित होनी थी पर कोविड के चलते उसमे देरी हुई। अब कोविड की तीसरी लहर का इंतजार तो नहीं ही किया जा सकता था। लिहाजा लिस्ट जारी  कर दी गई।

गौरतलब है कि प्रदेश भाजपा की वर्तमान प्रदेश कार्यसमिति 2016 में तत्कालीन प्रदेश अध्‍यक्ष स्व. नंदकुमार‍ सिंह चौहान के समय बनी थी। ऐसे में वर्तमान प्रदेश भाजपा अध्‍यक्ष वी.डी. शर्मा से कार्यकर्ताअो को अपेक्षा थी कि वो अपनी नई कार्यकारिणी जल्द घोषित करेंगे। पुरानी कार्यसमिति भाजपा के प्रदेश में सत्ता पर काबिज रहते बनी थी। उसने पिछले विधानसभा चुनाव में राज्य में सत्ता हाथ से जाती देखी और पिछले दरवाजे से वापस हाथ आते भी देखी। और ऐसा करने में सक्रिय भूमिका भी निभाई।   

इसकी तुलना अगर आज प्रतिपक्ष में बैठी कांग्रेस से करें तो वहां प्रदेश कार्यसमिति कमलनाथ की अध्‍यक्षता में 2018 में बनी थी, जो अब तक जारी है। उसमें 84 सदस्य हैं। इनमें 19 उपाध्यक्ष, 25 महामंत्री व 40 सचिव बनाए गए थे। इसमें पार्टी का गुटीय, जातीय व क्षेत्रीय संतुलन साधने की पूरी कोशिश की गई थी। इस कार्यसमिति ने बरसों बाद राज्य की सत्ता कांग्रेस के हाथ आते देखी तो सवा साल बाद फटी आंखो से सत्ता हाथ से फिसलते हुए भी देखी। यानी जिन हाथों ने राजदंड ग्रहण किया था, उन्हीं हाथो ने सत्ता का तर्पण भी कर डाला। तब कांग्रेस की इस  कार्यसमि‍ित को ‘जम्बो’ कहकर भाजपाइयों ने मजाक उड़ाया था। उन्हें शायद पता नहीं था कि तीन साल बाद उनकी किस्मत में तो ‘महाजम्बो कार्यस‍मिति लिखी है।  

कुलमिलाकर मध्यप्रदेश के राजनीतिक अखाड़े में असल मुकाबला इस बात को लेकर दिखता है कि किसकी कार्यसमिति ज्यादा बड़ी और भारी भरकम है। इस दौड़ में यकीनन भाजपा ने बाजी मार ली है। अंग्रेजी में जम्बो शब्द का अर्थ ‘वृहदाकार’ या ‘दैत्याकार’ होता है। अब राजनीतिक कार्यकर्ताअो के लिए ‘दैत्य’ शब्द का प्रयोग ठीक नहीं है ( तासीर की बात न करें) इसलिए ‘जम्बो’ शब्द ही ज्यादा शिष्ट लगता है।

सवाल पूछा जा सकता है कि राजनीतिक दलों की अपनी कार्यस‍मितियो को ‘जम्बो’ बनाने के पीछे कौन-सी विवशताएं और फैक्टर काम करते हैं? जैसे-जैसे पार्टी आकार और असर में बड़ी होती जाती है, वह जम्बो कल्चर में क्यों ढलने लगती है? इन प्रश्नो के उत्तर कुछ यूं  दिए जा सकते हैं। पहला तो यह कि कोई भी सियासी दल जैसे-जैसे आकार-प्रकार में बड़ा होता जाता है, उसके आंतरिक तनाव और दबाव भी उसी अनुपात में बढ़ते हैं। प्रबल सत्ताग्रह के चलते विचार, मू्ल्य, संस्कार, जैसे शब्द स्वत: ट्रेश में चले जाते हैं। सत्ता में आना, हरसंभव बने रहना और सत्ता का चरणोदक किसी न किसी रूप में कार्यकर्ताअों तक पहुंचाना ही परम उद्देश्य बन जाता है। या यूं कहें कि डिनर पार्टी में न बुला पाए तो कम से कम भंडारे का जनरल न्यौता तो मिल ही जाए। लिहाजा संगठन में भी ‘अपने भरोसे के’, पसंदीदा, मजबूरी में शामिल किए लोगों के साथ-साथ गुटीय, जातीय व क्षेत्रीय समीकरणों का ध्यान भी रखना पड़ता है। इस कवायद का नतीजा कई बार यह होता है कि ‘कमांडो टीम’ कब ‘वानर सेना’ में तब्दील हो जाती है, पता नहीं चलता। वैसे इस ‘जम्बो फार्मूले’ का प्रदेश की आबादी से कोई लेना-देना नहीं होता। अगर होता तो देश में सबसे ज्यादा 22 करोड़ जनसंख्या उत्तर प्रदेश की है, लेकिन वहां प्रदेश भाजपा कार्यसमिति में 323 सदस्य ही हैं, जबकि 8 करोड़ आबादी वाले मप्र की भाजपा कार्यसमिति में 403 सदस्य हैं। यूपी में तो 8 माह बाद ही विधानसभा चुनाव है, लेकिन एमपी में चुनाव को अभी ढाई साल है। ऐसे में तर्क‍ दिया जा सकता है कि यह प्रदेश भाजपा की दूरदर्शिता है कि उसने अगले विधानसभा चुनाव की तैयारी ( संगठन की दृष्टि से) अभी से शुरू कर दी है।  

यूं किसी भी राजनीतिक दल की कार्यसमिति घोषित होते ही पार्टी में असंतोष और नाराजी का गुबार उठता ही है। मसलन फलां को जगह नहीं मिली तो फलां को किस काबिलियत पर जगह मिली? चाहे वरिष्ठ हो या कनिष्ठ, भाषण झाड़ने वाला हो या दरी बिछाने वाला, हर कार्यकर्ता की उम्मीद रहती है कि कम से कम संगठन में कोई जगह उसे मिल जाए। वो अपनी गाड़ी पर कोई पदप्लेट तो लगा सके। प्रदेश भाजपा की नई कार्यसमिति पर भी सवाल उठ रहे हैं, लेकिन अध्‍यक्ष को दूरंदेशी से काम लेना पड़ता है। सीमित विकल्पों में से ही चुनना पड़ता है। व्यक्तिगत राजी-नाराजी से संगठन का रथ आगे नहीं बढ़ता। उधर कांग्रेस तो सदा सियासी जिम्नास्टिक्स में जीती आई है। वहां आंतरिक संतुलन की हर कोशिश नए असंतुलन को जन्म देती है। इसलिए ‘जम्बो कल्चर’ वहां स्थायी संस्कृति में तब्दील हो चुका है। भाजपा में अभी तक ऐसा नहीं था।  लेकिन अब भाजपा ने भी संगठन में ‘महाजम्बो कल्चर’  की नींव रखकर कांग्रेस को एक नया हाथ दिखाया है। आगे-आगे देखिए होता है क्या ?

अजय बोकिल

जन्म तिथि : 17/07/1958, इंदौर

शिक्षा : एमएस्सी (वनस्पतिशास्त्र), एम.ए. (हिंदी साहित्य)

पता : ई 18/ 45 बंगले,  नार्थ टी टी नगर भोपाल

मो. 9893699939

अनुभव :

पत्रकारिता का 33 वर्ष का अनुभव। शुरूआत प्रभात किरण’ इंदौर में सह संपादक से। इसके बाद नईदुनिया/नवदुनिया में सह संपादक से एसोसिएट संपादक तक। फिर संपादक प्रदेश टुडे पत्रिका। सम्प्रति : वरिष्ठ संपादक ‘सुबह सवेरे।‘

लेखन : 

लोकप्रिय स्तम्भ लेखन, यथा हस्तक्षेप ( सा. राज्य  की नईदुनिया) बतोलेबाज व टेस्ट काॅर्नर ( नवदुनिया) राइट क्लिक सुबह सवेरे।

शोध कार्य : 

पं. माखनलाल  चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विवि में श्री अरविंद पीठ पर शोध अध्येता के  रूप में कार्य। शोध ग्रंथ ‘श्री अरविंद की संचार अवधारणा’ प्रकाशित।

प्रकाशन : 

कहानी संग्रह ‘पास पडोस’ प्रकाशित। कई रिपोर्ताज व आलेख प्रकाशित। मातृ भाषा मराठी में भी लेखन। दूरदर्शन आकाशवाणी तथा विधानसभा के लिए समीक्षा लेखन।  

पुरस्कार : 

स्व: जगदीश प्रसाद चतुर्वेदी उत्कृष्ट युवा पुरस्कार, मप्र मराठी साहित्य संघ द्वारा जीवन गौरव पुरस्कार, मप्र मराठी अकादमी द्वारा मराठी प्रतिभा सम्मान व कई और सम्मान।

विदेश यात्रा : 

समकाालीन हिंदी साहित्य सम्मेलन कोलंबो (श्रीलंका)  में सहभागिता। नेपाल व भूटान का भ्रमण।

0 comments      

Add Comment