Thursday, January 23, 2020
देखनीय है ‘छपाक’

देखनीय है ‘छपाक’

मीडियावाला.इन।

मध्यप्रदेश में तो सरकार ने छपाक को टैक्स फ्री भी कर दिया है। वास्तव में छपाक दर्शनीय फिल्म है। इसलिए नहीं कि यह एसिड अटैक पर आधारित है, बल्कि इसलिए की इसमें अन्याय के विरुद्ध लड़ने की कोशिश करने वालों की जीत की कहानी है। फिल्म बताती है कि दुनिया में सबकुछ बुरा ही बुरा नहीं हो रहा है। न्याय व्यवस्था के प्रति यह फिल्म आस्था जगाती है कि देर से ही सही पर न्याय के लिए लड़ा जरूर जाना चाहिए। एसिड अटैक के बहाने इसमें समाज में महिलाओं के प्रति बदले की भावना, समाज के सकारात्मक सोच वाले लोगों की पहल और जातिगत हिंसा को भी छूने की कोशिश की गई है। कहानी के खलनायक की जाति से संबंधित दुष्प्रचार भी झूठा साबित होता है। किसी वर्ग की जाति या धर्म छुपाने की कोशिश नहीं की गई है। 

Image result for chhapaak poster

दीपिका पादुकोण की तारीफ इसलिए की जानी चाहिए कि उन्होंने एक ऐसी किरदार निभाने का साहस दिखाया, जो उनके वास्तविक जीवन से मेल नहीं खाता। किसी केलेण्डर गर्ल के लिए यह कोई आसान बात नहीं है। लक्ष्मी अग्रवाल के जीवन पर आधारित भूमिका को निभाने का फैसला करना जेएनयू में जाने से लाख गुना बड़ा कठिन और महत्वपूर्ण फैसला रहा होगा। एक ऐसे चरित्र को निभाना जिसे देखते ही लोग डर के मारे चीखने लगते हो। एक ऐसे चरित्र को पर्दे पर निभाना, जो जीवन के रोजमर्रा संघर्ष से जूझते हुए कानून में बदलाव की लड़ाई लड़ता हो, जिसके घर वाले भी पूरी तरह साथ नहीं दे पा रहे हो, आर्थिक परेशानियां अलग हो। फिल्म के एक दृश्य में एक एनजीओ के संचालक मित्र से वह कहती हैं कि तुम कोई सरकार हो कि मुझे तुमसे डर लगे। इस पात्र के बहाने मेघना बोस्की गुलजार ने बहुत कुछ कह दिया है। 

Image result for chhapaak poster

फिल्म में बहुत से बातें प्रतीकों में कही गई है। इंटरवल के पहले तक फिल्म की नायिका तेजाब से झुलसे अपने चेहरे को दुपट्टे में छुपाए रहती है। सेशन्स कोर्ट में उसके पक्ष में फैसला आने के बाद वह कोर्ट परिसर में आती है और खुशी से चीखते हुए अपना दुपट्टा हवा में उछाल देती है और इस तरह अपने चेहरे को समाज के सामने बाध्य कर देती है कि वह उसे सम्मानीय तरीके से स्वीकारे। एक छोटी सी नोंक-झोंक में वह अपने मित्र से रुठती है और अगले ही क्षण तेज हवा से टेबल पर रखी फाइल के तमाम दस्तावेज उड़कर कमरे में फेल जाते है और वे दोनों मिलकर जमीन पर बिखरे दस्तावेज उठाने लगते है। यहां लगता है कि मेघना गुलजार भी पर्दे पर मौजूद है। फिल्म का निर्देशन बहुत ही उम्दा है। साथ ही एडिटिंग, सिनेमाटोग्राफी, शंकर एहसान लाय का संगीत, गुलजार के गाने और अरिजित सिंह की आवाज सबकुछ अच्छा होते हुए भी कचोटता है। 

Image result for chhapaak

दीपिका पादुकोण के सामने अमोल की भूमिका में विक्रांत मेसी हैं, जिन्होंने कही भी दीपिका से कमतर अभिनय नहीं किया है। यह फिल्म दीपिका पादुकोण का प्रॉडक्शन भी है। इसकी घोषणा उन्होंने 24 दिसम्बर 2018 को टि्वटर पर की थी। राज कपूर की फिल्म सत्यम शिवन सुंदरम में भी नायिका का चेहरा असुंदर दिखाने की कोशिश की गई थी, क्योंकि जलने से नायिका का आधा चेहरा जल जाता है और वह अपनी पूरी फिल्म में आंचल से आधे चेहरे को छुपाए रहती है। इस फिल्म में ऐसा कुछ नहीं है। फिल्म की कहानी के अनुसार दीपिका के चेहरे सुंदर से बेहद वीभत्स और फिर 7 ऑपरेशनों के बाद धीरे-धीरे सामान्य से कुछ कम नजर आते है। अकीरा फिल्म में भी एसिड अटैक दिखाया गया था, लेकिन वहां नायिका सोनाक्षी सिन्हा एसिड अटैक करने वालों को सबक सिखाती है। 

छपाक देखनीय फिल्म है। पहली ही फुर्सत में देख डालिए। यह आपका मनोरंजन शायद न करें, पर सोचने-समझने में मदद करेगी। 

0 comments      

Add Comment


डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी

डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी जाने-माने पत्रकार और ब्लॉगर हैं। वे हिन्दी में सोशल मीडिया के पहले और महत्वपूर्ण विश्लेषक हैं। जब लोग सोशल मीडिया से परिचित भी नहीं थे, तब से वे इस क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। पत्रकार के रूप में वे 30 से अधिक वर्ष तक नईदुनिया, धर्मयुग, नवभारत टाइम्स, दैनिक भास्कर आदि पत्र-पत्रिकाओं में कार्य कर चुके हैं। इसके अलावा वे हिन्दी के पहले वेब पोर्टल के संस्थापक संपादक भी हैं। टीवी चैनल पर भी उन्हें कार्य का अनुभव हैं। कह सकते है कि वे एक ऐसे पत्रकार है, जिन्हें प्रिंट, टेलीविजन और वेब मीडिया में कार्य करने का अनुभव हैं। हिन्दी को इंटरनेट पर स्थापित करने में उनकी प्रमुख भूमिका रही हैं। वे जाने-माने ब्लॉगर भी हैं और एबीपी न्यूज चैनल द्वारा उन्हें देश के टॉप-10 ब्लॉगर्स में शामिल कर सम्मानित किया जा चुका हैं। इसके अलावा वे एक ब्लॉगर के रूप में देश के अलावा भूटान और श्रीलंका में भी सम्मानित हो चुके हैं। अमेरिका के रटगर्स विश्वविद्यालय में उन्होंने हिन्दी इंटरनेट पत्रकारिता पर अपना शोध पत्र भी पढ़ा था। हिन्दी इंटरनेट पत्रकारिता पर पीएच-डी करने वाले वे पहले शोधार्थी हैं। अपनी निजी वेबसाइट्स शुरू करने वाले भी वे भारत के पहले पत्रकार हैं, जिनकी वेबसाइट 1999 में शुरू हो चुकी थी। पहले यह वेबसाइट अंग्रेजी में थी और अब हिन्दी में है। 


डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी ने नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने पर एक किताब भी लिखी, जो केवल चार दिन में लिखी गई और दो दिन में मुद्रित हुई। इस किताब का विमोचन श्री नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के एक दिन पहले 25 मई 2014 को इंदौर प्रेस क्लब में हुआ था। इसके अलावा उन्होंने सोशल मीडिया पर ही डॉ. अमित नागपाल के साथ मिलकर अंग्रेजी में एक किताब पर्सनल ब्रांडिंग, स्टोरी टेलिंग एंड बियांड भी लिखी है, जो केवल छह माह में ही अमेजॉन द्वारा बेस्ट सेलर घोषित की जा चुकी है। अब इस किताब का दूसरा संस्करण भी आ चुका है।