मीडियावाला: खबरों की विशाल दुनिया में ख़ास मुकाम हासिल करने के सफल 3 साल

मीडियावाला: खबरों की विशाल दुनिया में ख़ास मुकाम हासिल करने के सफल 3 साल

मीडियावाला.इन।

ख़बरों की इस विशाल दुनिया में यदि किसी का नाम और चेहरा लोगों के जहन में छाप छोड़ सके तो यह उपलब्धि खास ही मानी जाएगी। आपके अपने मीडियावाला ने एक ख़ास मुकाम हासिल किया है मात्र तीन साल में और खबरों की दुनिया में हम यानी मीडियावाला तीन साल आज पूरे कर चौथे वर्ष में प्रवेश कर रहा है। 
देश के जाने माने वरिष्ठ पत्रकार सम्मानीय आलोक मेहता जी भी मानते हैं कि कई बार एजेंसियों से भी पहले मप्र ही नहीं देश दुनिया की खबरें ब्रेक करने में मीडियावाला आगे रहा है। उन्होंने इस सटीक गति की प्रशंसा करते हुए तीन वर्ष पूरे होने पर मीडियावाला को हार्दिक बधाइयां प्रेषित की हैं।
देश की पत्रकारिता के स्तंभ आलोक मेहता जी और मध्य प्रदेश में पत्रकारिता के पुरोधा रहे परम आदरणीय महेश श्रीवास्तव जी यदि मीडियावाला की वर्षगांठ के एक दिन पहले ही एक वीडियो क्लिप और पत्र लिखकर शुभकामनाएं प्रेषित करें तो हम उनके उत्साह की परिकल्पना कर सकते हैं।
आलोक जी के अनुसार मीडियावाला जिस तरीक़े से तीन वर्षों में आगे बढ़ा है उसके लिए निसंदेह वह बधाई का पात्र है। जिस तरह से वेबसाइट और वॉट्सऐप ग्रुप के ज़रिए देश ही नहीं विदेश तक जिसकी पहुँच हो और वह भी विद्युत की गति व सटीक ख़बरों के साथ, पूरी टीम को बधाई । यह तेज गति खबरों में ही नहीं  टिप्पणियों और लेखों में भी दिखती है। जहां एजेंसियों में सौ लोगों की टीम काम करती है वहां इनकी टीम उनको बराबर की टक्कर दे रही है।
 महेश जी का पत्र स्व:स्फूर्त भावनाओं का सागर है। वे अपने पत्र में तीन वर्ष पूर्व यानी 10 अप्रैल 2018  की स्मृतियों में टटोलते हैं जब तत्कालीन मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत साहब व अनेक गणमान्य व्यक्तियों ने मीडियावाला न्यूज़ पोर्टल का समारोहपूर्वक उद्घाटन किया था। तीन साल का समय वैसे तो जीवन को देखते हुए बहुत ही अल्प है लेकिन काम करने वाले लोगों के लिए ये एक युग होता है। मीडियावाला ने आपके प्यार भरे संरक्षण से जो शक्ति व ऊर्जा पाई है वो उसकी अमूल्य पूंजी है। यकीन मानिये, हम इस पूंजी को ताउम्र सहेजकर सुरक्षित रखेंगे।
महेश जी ने अपने पत्र में जिक्र किया है चूंकि मैं  मीडियावाला के प्रसवक्षण का भी साक्षी रहा हूँ, अतः इसकी प्रगति मुझे अधिक सुख प्रदान करती है। यह बात एक पिता ही अपने बालक के बारे में कह सकता है जो पूरी तरह निस्वार्थ भाव से जुड़ा होता है ।
महेश जी का मानना है कि पूत के लक्षण पालने में ही दिख जाते हैं और उन्होंने अपनी इस बात को सिद्ध करने के लिए माण्डू की उस यात्रा का ज़िक्र किया जिस समय मीडियावाला के प्रधान संपादक सुरेश तिवारी जनसंपर्क अधिकारी हुआ करते थे। वे लिखते हैं कि तभी मुझे उनके व्यक्तित्व में निहित संभावनाओं का अनुमान हो गया था। उनकी व्यवहार कुशलता और दायित्व निर्वाहन की योग्यता ने मुझे उसी वक़्त प्रभावित किया था।
एक कुशल पत्रकार के तौर पर महेश जी ने अपने पाठकों की आशंकाओं व जिज्ञासाओं को भी समझा और स्पष्ट किया कि मीडियावाला का प्रशंसक मैं केवल संबंधों के कारण नहीं हूं। इसमें कवर होने वाले प्रत्येक महत्वपूर्ण समाचार ही नहीं, कई पत्रकारों और बुद्धिजीवियों द्वारा किए गए विश्लेषण भी पठनीय होते हैं। मीडियावाला की सफलता के प्रमुख कारण महेश जी के अनुसार मीडियावाला के MD सुरेश तिवारी जी का सतत परिश्रम और मधुर सम्बन्ध ही है। उन्होंने इस मौक़े पर आशीर्वाद दिया और कामना की कि आपके नेतृत्व में मीडियावाला निरंतर प्रगति करता रहे। 
 मुझे यह कहने में कोई संकोच नहीं है कि
इतने कम समय में ही पोर्टल ने नई ऊंचाइयों और मंजिलों को प्राप्त कर लिया है। मीडियावाला के एमडी मित्र सुरेश तिवारी की परिकल्पना, युवाओं जैसी कठिन मेहनत और बेहतरीन प्लानिंग का ही नतीजा है कि यह न्यूज़ पोर्टल आज ब्यूरोक्रेसी व राजनीति से जुड़े लोगों के साथ ही आम आदमी के लिए सूचना का स्रोत बन गया है। हालांकि मुझे सुरेश तिवारी जी के साथ मीडियावाला के नेशनल हेड के तौर पर जुड़े हुए एक ही माह हुआ है पर इस एक माह में उनकी ऊर्जा देखकर कई बार मुझे एक बार फिर अपने अंदर झांकने की जरूरत महसूस हुई। कैसे वे सुबह से देर रात तक सिर्फ खबरों के बारे में ही सोचते हैं या कहे कि खबरों में ही जीते हैं। खबरों की सटीकता उनके लिए ज्यादा जरूरी है। वे खबरों की सटीकता की कीमत पर पहले परोसने के पक्षधर नहीं हैं। मैंने खुद देखा कई बड़ी व महत्वपूर्ण खबरों को उन्होंने इसलिए छोड़ दिया क्योंकि उसकी आधिकारिक पुष्टि कहीं से नहीं हो पा रही थी। यूट्यूब चैनल और मीडियावाला ऍप को भी इन्हीं कसौटियों पर कसते हुए लोकप्रिय बनाया जा रहा है। हम भी लोकल पहले फिर ग्लोबल के सिद्धांत पर अमल करते हैं। पाठकों का भरोसा हर कीमत पर बरकरार रहना चाहिए यानी हमने जो भी लिखा है वह रेत की नहीं पत्थर की लकीर होनी चाहिए। अगर आंकड़ों की बात करें तो आज हमारे यूनिक यूजर्स की संख्या  लगातार 6 फिगर्स में बनी हुई है। हमारा मानना है कि आंकड़ों से ज्यादा पोर्टल की विश्वसनीयता ज्यादा जरूरी है और हम उसी मापदंड पर हमेशा खरे उतरे हैं और  भविष्य में भी हमारा जोर इसी पर रहेगा।  

मीडिया वाला के नेशनल हेड होने के नाते मैं सभी के स्नेह, प्यार और विश्वास के प्रति आभार व्यक्त करता हूं और यह विश्वास दिलाता हूं कि मीडियावाला आने वाले समय में और भी बेहतर करने की भरसक कोशिश करता रहेगा। मीडिया वाला के पाठको के साथ-साथ  हमारे सभी लेखकों, कई जिलों में स्थित प्रतिनिधियों, और मित्रों के प्रति भी शुक्रिया अदा करता हूं जिन्होंने मीडियावाला की सशक्त आवाज को बुलंद करने में हमारी मदद की। इस मौके पर सुरेश तिवारी जी की धर्मपत्नी स्वाति जी और बिटिया रुचि के नाम का विशेष रूप से उल्लेख करना चाहता हूं। मीडियावाला की सफलता दोनों मां बेटी का योगदान प्रमुख रहा है। मीडियावाला की पूरी टीम
को इस सफल मौके पर हार्दिक बधाइयां और शुभकामनाएं

देखिए वीडियो: क्या कह रहे हैं देश के जाने-माने पत्रकार आलोक मेहता जी

देखिए पत्रकारिता के पुरोधा महेश श्रीवास्तव जी का पत्र

0 comments      

Add Comment


सुदेश गौड़

श्री सुदेश गौड़ मध्यप्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार हैं। वे दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर, नई दुनिया, राष्ट्रीय सहारा सहित देश के प्रतिष्ठित समाचार पत्रों में महत्वपूर्ण दायित्वों का निर्वहन कर चुके हैं। वे नवदुनिया भोपाल के संपादक भी रहे हैं। वर्तमान में वे प्रदेश के अग्रणी न्यूज़ पोर्टल मीडिया वाला के नेशनल हेड हैं।

email-id ; gaursudesh@gmail.com

Whatsapp- 8959366888