आम लोगों ने भी IAS पर लगाया धर्मांतरण के लिए उकसाने का आरोप, कहा SIT ने बुलाया तो वह IAS के खिलाफ गवाही देगा

1160
ias mohmmad iftakharudhin

Lucknow: उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के अध्यक्ष IAS अधिकारी मोहम्मद इफ्तिखारुद्दीन के खिलाफ धर्म परिवर्तन के लिए उकसाने का वीडियो वायरल होने के बाद SIT ने आरोपों की जांच शुरू कर दी है। इसी बीच कानपुर के कल्याणपुर क्षेत्र में राजकीय उन्नयन बस्ती के पूर्व अध्यक्ष ने आरोप लगाया है कि IAS अधिकारी ने एक बार “उसे इस्लाम में परिवर्तित करने के लिए फुसलाया था।IAS मोहम्मद इफ्तिखारुद्दीन 1985 बैच के UP कैडर के IAS अधिकारी हैं।

राजकीय उन्नयन बस्ती के पूर्व अध्यक्ष निर्मल कुमार त्यागी ने संवाददाताओं को बताया कि अक्टूबर 2016 में तत्कालीन Divisional Commissioner मोहम्मद इफ्तिखारुद्दीन,IAS का काफिला कल्याणपुर पहुंचा और बस्ती के लोगों से कहा गया कि उन्हें यह जगह खाली करनी होगी, क्योंकि इस जमीन का इस्तेमाल मेट्रो परियोजना के लिए होना था।
त्यागी ने आरोप लगाया कि जब उन्होंने आयुक्त मोहम्मद इफ्तिखारुद्दीन, IAS से उनके घरों को न गिराने की गुहार लगाई, तो उनकी खराब वित्तीय स्थिति को ध्यान में रखते हुए, आयुक्त ने उन्हें पैसे देकर इस्लाम में परिवर्तित करने का लालच देना शुरू कर दिया था। त्यागी ने कहा, “जब आयुक्त यह सुझाव दे रहे थे, तो वहां मौजूद एक व्यक्ति ने उन्हें इस्लाम से संबंधित साहित्य देना शुरू कर दिया।”
उन्होंने आगे कहा, “बस्ती में धर्मांतरण के कई प्रयास किए गए। हालांकि, स्थानीय लोगों ने फैसला किया कि वे इस प्रस्ताव को स्वीकार नहीं करेंगे। जब उन्होंने बस्ती खाली करने के मुद्दे को लेकर अदालत का दरवाजा खटखटाया, तो संकट का समाधान हो गया।”पूछने पर उसने कहा कि अगर एसआईटी बुलाएगी तो वह उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के अध्यक्ष IAS अधिकारी मोहम्मद इफ्तिखारुद्दीन के खिलाफ गवाही देगा।